Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

Samandar Shayari in Hindi
Samandar Shayari in Hindi

Samandar Shayari in Hindi

समन्दर पर शायरी

दोस्तों समन्दर पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “समन्दर” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “समन्दर” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

इलाही कश्ती-ए-दिल बह रही है किस समंदर में

निकल आती हैं मौजें हम जिसे साहिल समझते हैं

~असर सहबाई

 

जर्फ पैदा कर समंदर की तरह

वसअतै खामोशियां गहराईयां।

 

हूरों की तलब और मय ओ सागर से नफ़रत

जाहिद तेरे इरफान से कुछ भूल हुई है

 

कितने ही लोग प्यास की शिद्दत से मर चुके,

मैं सोचता रहा के समंदर कहाँ गये !! – राहत इंदौरी

 

मैं खोलता हूँ सदफ़ मोतियों के चक्कर में

मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते हैं

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

 

पहाड़ों की ढलानों पर,दरख्तो भरी वादियाँ के साए में,झील के किनारे,घर के ख़्वाब में- सब दिख रहा है- समंदर,बर्क,नसीम और…वो तिल.

 

आओ सजदा करें आलमे मदहोशी में

लोग कहते हैं कि सागर को खुदा याद नहीं।

 

मैं दरिया भी किसी गैर के हाथों से न लूं

एक कतरा भी समन्दर है अगर तू देदे!

 

सब हवाएं ले गया मेरे समंदर की कोई

और मुझ को एक कश्ती बादबानी दे गया

 

 

ग़मों के नूर में लफ़्जों को ढालने निकले

गुहरशनास समंदर खंगालने निकले

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा,

कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा !! ~BashirBadr

 

तेरी अज़मत है तू चाहे तो समंदर दे दे,

माँगने वाले का कासा नहीं जाता

 

समंदर ने कहा मुझको बचा लो डूबने से,

मैं किनारे पे समन्दर लगा के आया हूँ

 

तू समन्दर है तो क्यूँ आँख दिखाता है मुझे,

औस से प्यास बुझाना अभी आता है मुझे

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

जिसको देखूँ तेरे दर का पता पूछता है,

क़तरा क़तरे से समंदर का पता पूछता है

 

ज़िक्र करते हैं तेरा नाम नहीं लेते हैं

हम समंदर को जज़ीरा नहीं होने देते

 

क़दम दर क़दम ज़िन्दगी,दौरे इम्तिहान है

कहीं सहरा कहीं समन्दर,कहीं गर्दिशे अय्याम है

 

वो बहने के लिये कितना तड़पता रहता है लेकिन

समंदर का रुका पानी कभी दरिया नहीं बनता

 

रख हौंसला के वो मंज़र भी आएगा,

प्यासे के पास चलकर समंदर भी आएगा !!

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

जब चल पड़े सफ़र को तो फिर हौंसला रखो,

सहरा कहीं, कहीं पे समंदर भी आएंगे।

 

कह देना समन्दर से हम ओस के मोती हैं

दरिया की तरह तुम से मिलने नहीं आएंगे!

 

उन आँसुओं का समंदर है मेरी आँखों में

जिन आँसुओं में है ठहराव भी, रवानी भी

 

तेरी अज़मत है तू चाहे तो समंदर दे दे

माँगने वाले का कासा नहीं देखा जाता

 

कितने तूफ़ान दिल में समेटे खड़ा हूँ मैं,

डर हैं लेहरों में उतरा तो समन्दर ना दहल जाए।

 

बे-इरादा टकरा गए थे लेहरों से हम,

समन्दर ने कसम खा ली हमे डुबोने की

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

किसी की मस्त निगाहों में डूब जा गालिब

बहुत ही हंसी समन्दर है खुदकुशी के लिए!

 

उसके रुखसार पे इक अश्क की आवारागर्दी

हमने याकूत के सीने पे समन्दर देखा!

 

आग में डाल या समन्दर मे

आग तेरी हैं बेङियां तेरी!

 

बहते दरिया में बे सूद है गौहर की तलाश

अब सदफ दिल के समंदर में उतारे जायें!

 

प्यार इक बहता दरिया है

झील नहीं कि जिसको किनारे बाँधके बैठे रहते हैं

सागर भी नहीं कि जिसका किनारा नहीं होता

बस दरिया है,बह जाता है..

गुलज़ार

 

कोई अपनी ही नजर से तो हमें देखेगा,

एक कतरे को समन्दर नजर आयें कैसे.!!

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

प्यार छिपा है ख़त में इतना

जितने सागर में मोती

चूम ही लेता हाथ तुम्हारा

पास जो मेरे तुम होती

-इंदीवर

 

मैंने समय से रोक के

तेरा पता पुछा है

नीली नदी से कह के

सागर तले ढूंढा है…(1/1)

-गुलज़ार

 

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा

इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा

 

ऐ ख़ुदा रेत के सहरा को समंदर कर दे

या छलकती हुई आँखों को भी पत्थर कर दे

 

एक दिल है कि जो प्यासा है समंदर की तरह

दो निगाहें जो घटाओं के सिवा कुछ भी नहीं.!!

 

एक समंदर जो मेरे काबू में है

और इक कतरा है जो संभलता नही,

एक जिंदगी है जो तुम्हारे बगैर बितानी है

और इक लमहा है जो गुजरता नहीं ।

 

 

Samandar Shayari in Hindi समन्दर पर शायरी

ऐ ख़ुदा रेत के सेहरा को समंदर कर दे

या छलकती हुई आँखों को भी पत्थर कर दे

 

हर घड़ी ख़ुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा

मै हि कश्ती हूँ मुझी में है समंदर मेरा

 

Samandar Shayari in Hindi, Samandar Hindi Shayari, Samandar Shayari, Samandar whatsapp status, Samandar hindi Status, Hindi Shayari on Samandar, Samandar whatsapp status in hindi,

Sagar Shayari in Hindi, Sagar Hindi Shayari, Sagar Shayari, Sagar whatsapp status, Sagar hindi Status, Hindi Shayari on Sagar, Sagar whatsapp status in hindi,

समन्दर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, समन्दर स्टेटस, समन्दर व्हाट्स अप स्टेटस,समन्दर पर शायरी, समन्दर शायरी, समन्दर पर शेर, समन्दर की शायरी

सागर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, सागर स्टेटस, सागर व्हाट्स अप स्टेटस,सागर पर शायरी, सागर शायरी, सागर पर शेर, सागर की शायरी


HINGLISH

Samandar Shayari in Hindi

समन्दर पर शायरी

samandar shayari in hindisamandar shayari in hindisamandar par shaayaree doston samandar par sher o shaayaree ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “samandar” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “samandar” par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

ilaahee kashtee-e-dil bah rahee hai kis samandar mennikal aatee hain maujen ham jise saahil samajhate hain~asar sahabaeejarph paida kar samandar kee tarahavasatai khaamoshiyaan gaharaeeyaan.hooron kee talab aur may o saagar se nafaratajaahid tere iraphaan se kuchh bhool huee haikitane hee log pyaas kee shiddat se mar chuke,main sochata raha ke samandar kahaan gaye !! –

raahat indaureemain kholata hoon sadaf motiyon ke chakkar memmagar yahaan bhee samandar nikalane lagate hainsamandar shayari in hindi samandar par shaayaree pahaadon kee dhalaanon par,darakhto bharee vaadiyaan ke sae mein,jheel ke kinaare,ghar ke khvaab mein- sab dikh raha hai- samandar,bark,naseem aur…vo til.aao sajada karen aalame madahoshee menlog kahate hain ki saagar ko khuda yaad nahin.main dariya bhee kisee gair ke haathon se na loonek katara bhee samandar hai agar too dede!sab havaen le gaya mere samandar kee koeeaur mujh ko ek kashtee baadabaanee de gayaagamon ke noor mein lafjon ko dhaalane nikaleguharashanaas samandar khangaalane nikalesamandar shayari in hindi samandar par shaayaree aankhon mein raha dil mein utarakar nahin dekha,kashtee ke musaafir ne samandar nahin dekha !! ~

bashirbadrteree azamat hai too chaahe to samandar de de,maangane vaale ka kaasa nahin jaataasamandar ne kaha mujhako bacha lo doobane se,main kinaare pe samandar laga ke aaya hoontoo samandar hai to kyoon aankh dikhaata hai mujhe,aus se pyaas bujhaana abhee aata hai mujhesamandar shayari in hindi samandar par shaayaree jisako dekhoon tere dar ka pata poochhata hai,qatara qatare se samandar ka pata poochhata haizikr karate hain tera naam nahin lete hainham samandar ko jazeera nahin hone deteqadam dar qadam zindagee,daure imtihaan haikaheen sahara kaheen samandar,

kaheen gardishe ayyaam haivo bahane ke liye kitana tadapata rahata hai lekinasamandar ka ruka paanee kabhee dariya nahin banataarakh haunsala ke vo manzar bhee aaega,pyaase ke paas chalakar samandar bhee aaega !!samandar shayari in hindi samandar par shaayaree jab chal pade safar ko to phir haunsala rakho,sahara kaheen, kaheen pe samandar bhee aaenge.kah dena samandar se ham os ke motee haindariya kee tarah tum se milane nahin aaenge!un aansuon ka samandar hai meree aankhon menjin aansuon mein hai thaharaav bhee, ravaanee bheeteree azamat hai too chaahe to samandar de demaangane vaale ka kaasa nahin dekha jaataakitane toofaan dil mein samete khada hoon main,dar hain leharon mein utara to samandar na dahal jae.be-iraada takara gae the leharon se ham,samandar ne kasam kha lee hame dubone keesamandar shayari in hindi samandar par shaayaree kisee kee mast nigaahon mein doob ja gaalibabahut hee hansee samandar hai khudakushee ke lie!usake rukhasaar pe ik ashk kee aavaaraagardeehamane yaakoot ke seene pe samandar dekha!aag mein daal ya samandar meaag teree hain beniyaan teree!bahate dariya mein be sood hai gauhar kee talaashab sadaph dil ke samandar mein utaare jaayen!

pyaar ik bahata dariya haijheel nahin ki jisako kinaare baandhake baithe rahate hainsaagar bhee nahin ki jisaka kinaara nahin hotaabas dariya hai,bah jaata hai..gulazaarakoee apanee hee najar se to hamen dekhega,ek katare ko samandar najar aayen kaise.!!samandar shayari in hindi samandar par shaayaree pyaar chhipa hai khat mein itanaajitane saagar mein moteechoom hee leta haath tumhaaraapaas jo mere tum hotee-indeevaramainne samay se rok ketera pata puchha haineelee nadee se kah kesaagar tale dhoondha hai…(1/1)-gulazaaramere junoon ka nateeja zaroor nikalegaisee siyaah samandar se noor nikalegaai khuda ret ke sahara ko samandar kar deya chhalakatee huee aankhon ko bhee patthar kar deek dil hai ki jo pyaasa hai samandar kee tarahado nigaahen jo ghataon ke siva kuchh bhee nahin.!!ek samandar jo mere kaaboo mein haiaur ik katara hai jo sambhalata nahee,ek jindagee hai jo tumhaare bagair bitaanee haiaur ik lamaha hai jo gujarata nahin ।samandar shayari in hindi

samandar par shaayaree ai khuda ret ke sehara ko samandar kar deya chhalakatee huee aankhon ko bhee patthar kar dehar ghadee khud se ulajhana hai muqaddar meraamai hi kashtee hoon mujhee mein hai samandar meraasamandar shayari in hindi, samandar hindi shayari, samandar shayari, samandar whatsapp status, samandar hindi status, hindi shayari on samandar, samandar whatsapp status in hindi,sagar shayari in hindi, sagar hindi shayari, sagar shayari, sagar whatsapp status, sagar hindi status, hindi shayari on sagar, sagar whatsapp status in hindi,samandar hindee shaayaree, hindee shaayaree, samandar stetas, samandar vhaats ap stetas,samandar par shaayaree, samandar shaayaree, samandar par sher, samandar kee shaayareesaagar hindee shaayaree, hindee shaayaree, saagar stetas, saagar vhaats ap stetas,saagar par shaayaree, saagar shaayaree, saagar par sher, saagar kee shaayaree