Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी
Rukhsar Shayari in Hindi रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

Rukhsar Shayari in Hindi

रुखसार गालों पर हिंदी शायरी

 

हसीन रुखसार और गालों पर श्रृंगार रस में डूबी हुई कुछ मादक हिंदी और उर्दू शायरी

Hindi and Urdu Poetry Shayari on Rukhsar. (List of all Topics)

 

 

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा,

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा !!

****

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

***

बड़ी इतराती फिरती थी वो अपने हुस्न-ऐ-रुखसार पर

मायूस बैठी है जबसे देखि है तस्वीर कार्ड-ऐ-आधार पर

***

समेट लो भूली बिसरी यादें अपनी

सूखे पेड़ की टहनियों सी बेजान लगती हैं

चाँद के रुखसार पे खराशें पड़ती है इनसे

***

देखकर तुझे वो मेरे रुखसार पर रुके है___

मुद्दतो बाद नज़ाकत से अश्क़ उतरे है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Rukhsar-Galon Par Status Pictures – Rukhsar-Galon Par dp Pictures – Rukhsar-Galon Par Shayari Pictures

छेड़ती हैं कभी लब को कभी तेरे रुखसार को जालिम

तुने अपनी जुल्फो को बड़ा सिर पर चड़ा रक्खा है

***

ये रुखसार पीले से लगते हैं ना

उदासी की हल्दी है हट जाएगी

तमन्ना की लाली को पकने तो दो

ये पतझड़ की छाँव छंट जाएगी”. Gulzar

***

अब मैं समझा तेरे रुखसार पे तिल का मतलब,

दौलत-ए-हुस्न पे दरबान बैठा रखा है.

***

सीख मुझसे आतिश- फिशां में गुल- फिशां होना

युहीं नही रुखसार पे तजल्ली ओ जलाल आता है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

जिन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है

जुल्फ-ओ-रुखसार की जन्नत ही नहीं कुछ और भी है ।।।

***

 

हुज़ूर आरिज़ ओ रुखसार क्या तमाम बदन

मेरी सुनो तो मुजस्सिम गुलाब हो जाये।

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी जो फूल बन जाये कभी रुखसार हो जाये

***

क्यूँ पोंछते हो रुखसार से अरक को बार बार ,

शबनम के क़त्रे से गुलों में और निखार आता है !

**

आँसुओं में डूबा उनका चेहरा है कुछ इस तरह

गुलों के रुखसार पे ओस ज्यूं बिखरी हुई है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

ठहर जाती है हर नजर तेरे रुखसार पर आकर..

सनम तेरे चेहरे में कशिश कुछ ऐसी है..

***

गेसू की रंगत से चलकर रुखसार की रंगत पर आई,

रफ़्ता रफ़्ता रिसते रिसते अब रात भी रुखसत पर आई ।

***

“मैं तेरे रुखसार का रंग हूँ…

जितना तुम खुश रहोगे, उतना मैं सवर जाऊँगा !!”

***

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा

*** Rukhsar Shayari in Hindi

तेरे रुखसार पर ढलते ये शाम के किस्से..

ख़ामोशी में पढ़ा हुआ कोई कलमा हो जैसे..

***

तुम्हारा रुखसार जैसे कोई किताबी कहानी है

देख कर मन मचल उठे,क्या खूब जवानी है

***

आओ हुस्न-ए-यार की बातें करें

ज़ुल्फ़ की, रुखसार की बातें करें !! “चिराग हसन हसरत

*** Rukhsar Shayari in Hindi

जवानी हुस्न मैखाने लबो रुखसार बिकते हैं

हया के आईने अब तो सरेबाजार बिकते हैं

***

तेरे रुखसार पे ना गिरे कोई गम का आँसू..

खुदा तेरी हर दुआ को तेरी तक़दीर बना दे..!!

 

 

***

तुम आगोश-ऐ-तसव्वुर में भी आया न करो…

मेरी आहों से ये रुखसार कुम्हला न जाये कहीं…….. ~कैफ़ी आज़मी

***

हमने उसके लब-ओ-रुखसार को छू कर देखा

हौसले आग को गुलज़ार बना देते हैं ~काबिल_अजमेरी

*** Rukhsar Shayari in Hindi

उसकी ज़ुलफें थीं, लब-ओ-रुखसार थे, और हाथ मेरे,

कट गये रात के लमहे.. यूं ही शरारत करते करते..!

***

तुने देखी है वो पेशानी वो रुखसार वो होंठ

ज़िंदगी जिसके तसव्वुर में लुटा दी हमने ~Faiz

***

पत्थर दिल ऐसे की रस्म-ए-वफ़ा की खुशबू

न उनसे न उनके लब-ओ-रुखसार से आती है ।

***

ज़ुल्फ़े रुखसार पे , मदहोशी का वो आलम जान !!!

मरमरी बाँहों की वो आरज़ू , याद है मुझे वो रात !!!

***

तेरा चेहरा तेरी आँखे तेरे रुखसार का जादू

मुझे महसूस करके देख मेरे प्यार का जादू

***

दीदार की ख्वाहिश में हम लिखने लगे ग़ज़ल.

क्या पता रुखसार से परदा हटा दो कब.

*** Rukhsar Shayari in Hindi

तेरे हिसार-ए-रुखसार से निकलें तो सोचें…

ये शोखी खफा की है या फिर हया की है

***

रुखसार पर लाली बिखरी हुई यूं हया से शायद मेरे सवाल का जवाब अच्छा है

तेरे गेसुओ से उलझने को एक उम्र बाकी है शायद मेरे उलझने का ये जाल अच्छाहै

***

रुखसार पे ज़ुल्फ़ के आलम से रश्क़ करे महताब…

वाह परीज़ात हुस्न, चर्ख-आलम हुआ बजा इश्क़

***

लब-ए-रुखसार की बातें, गुल-ए-गुलनार का मौसम,

हज़ारों ख्वाहिशों जैसा तुम्हारी याद का मौसम !!

*** Rukhsar Shayari in Hindi

 

कोई आँसू.. कोई दिल…. कुछ भी नहीं… कितनी सुनसान है ये राहगुज़र..

कोई रुखसार तो चमके, कोई बिजली तो गिरे l

***

“ढूंडी है यूं ही शौक़ ने आसा’इश-ए-मंज़िल

रुखसार के ख़म में, कभी काकुल की शिकन में”

***

तल्ख़ी वक़्त की देती रहे बेरुखी रुखसार पे…

वो ख़यालों में आज भी, बेलौस मुस्कुराती हैं,

***

तरस गई है निगाहे उनके दिदार ए रुखसार को।

और,वौ हे की ख्वाबो मे भी नकाब मे आते है।।

***

आज फिर माहताब को दिलकशी से मुस्कुराते देखा..

पड़ी जब किरणें आफताब की उनके रुखसार पर

***

अल्लाह बनाता हमें मोती तेरी नथ का

बोसा कभी रुखसार का लेते कभी लब का !!

**

मुद्दत से उनके रुखसार की धूप नही आई..

इसीलिये मेरे घर में नमी सी रहती है.

*** Rukhsar Shayari in Hindi

शोला ए हुस्न से न जल जाए चेहरे का नक़ाब

इसलिए रुखसार से परदे को हटा रक्खा है

***

जब बिखरेगा तेरे रुखसार पर तेरी आँखों का पानी,

तुझे एहसास तब होगा कि मोहब्बत किसे कहते हैं

***

सहा जाता नहीं हमसे की किसी और का ताल्लुक भी हो तुम से..

दिल चाहता है हवा से भी कह दूँ की तेरे रुखसार से हट के गुजरे..!!!

***

रुसवाईयां रुखसत हो रही हैं एक एक करके मेरे रुखसार से,

देखो आज फिर से मुझे मेरे महबूब ने सीने से लगाया है

*** Rukhsar Shayari in Hindi

सेब खिलते हैं किसी के गालों पर

इस बरस बाग़ में गुलाब कहाँ ~बशीर_बद्र

***

 

Search Tags

Rukhsar Shayari in Hindi, Rukhsar Shayari, Rukhsar Hindi Shayari, Rukhsar Shayari, Rukhsar whatsapp status, Rukhsar hindi Status, Hindi Shayari on Rukhsar, Rukhsar whatsapp status in hindi, रुखसार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, रुखसार, रुखसार स्टेटस, रुखसार व्हाट्स अप स्टेटस, रुखसार पर शायरी, रुखसार शायरी, रुखसार पर शेर, रुखसार की शायरी,

गालों, गालों पर स्टेटस, गालों पर व्हाट्स अप स्टेटस, गालों पर शायरी, गालों शायरी, गालों पर शेर, गालों की शायरी,


Hinglish

Rukhsar gaalon ki tareef Shayari in english font 

 

rukhsar shayari in hindi rukhasar galon par hindi shayari hasen rukhasar aur galon par shrrngar ras mein doobe hue kuchh madak hindi aur urdoo shayari unake rukhasar par dhalakate hue ansoo tauba,main ne shabanam ko bhe sholon pe machalate dekha !!***

*nazar us husn par thahare to akhir kis tarah thaharekabhe vo fool ban jae to kabhe rukhasar ban jae**

*bade itarate firate the vo apane husn-ai-rukhasar paramayoos baithe hai jabase dekhi hai tasver kard-ai-adhar par

***samet lo bhoole bisare yaden apanesookhe ped ke tahaniyon se bejan lagate hainchand ke rukhasar pe kharashen padate hai inase*

**dekhakar tujhe vo mere rukhasar par ruke hai___muddato bad nazakat se ashq utare hai**

* rukhsar shayari in hindichhedate hain kabhe lab ko kabhe tere rukhasar ko jalimatune apane julfo ko bada sir par chada rakkha hai***

ye rukhasar pele se lagate hain naudase ke halde hai hat jaegetamanna ke lale ko pakane to doye patajhad ke chhanv chhant jaege”. gulzar*

**ab main samajha tere rukhasar pe til ka matalab,daulat-e-husn pe daraban baitha rakha hai.**

*sekh mujhase atish- fishan mein gul- fishan honayuhen nahe rukhasar pe tajalle o jalal ata hai**

* rukhsar shayari in hindijindage sirf mohabbat nahin kuchh aur bhe haijulf-o-rukhasar ke jannat he nahin kuchh aur bhe hai …*

**huzoor ariz o rukhasar kya tamam badanamere suno to mujassim gulab ho jaye.***

nazar us husn par thahare to akhir kis tarah thaharekabhe jo fool ban jaye kabhe rukhasar ho jaye**

*kyoon ponchhate ho rukhasar se arak ko bar bar ,shabanam ke qatre se gulon mein aur nikhar ata hai

**ansuon mein dooba unaka chehara hai kuchh is tarahagulon ke rukhasar pe os jyoon bikhare hue hai**

* rukhsar shayari in hindithahar jate hai har najar tere rukhasar par akar..sanam tere chehare mein kashish kuchh aise hai..**

*gesoo ke rangat se chalakar rukhasar ke rangat par ae,rafta rafta risate risate ab rat bhe rukhasat par ae .**

*“main tere rukhasar ka rang hoon…jitana tum khush rahoge, utana main savar jaoonga !!”**

*unake rukhasar par dhalakate hue ansoo taubamain ne shabanam ko bhe sholon pe machalate dekha**

* rukhsar shayari in hinditere rukhasar par dhalate ye sham ke kisse..khamoshe mein padha hua koe kalama ho jaise..***

tumhara rukhasar jaise koe kitabe kahane haidekh kar man machal uthe,kya khoob javane hai**

*ao husn-e-yar ke baten karenzulf ke, rukhasar ke baten karen !! “chirag hasan hasarat***

rukhsar shayari in hindijavane husn maikhane labo rukhasar bikate hainhaya ke aene ab to sarebajar bikate hain**

*tere rukhasar pe na gire koe gam ka ansoo..khuda tere har dua ko tere taqader bana de..!!*

**tum agosh-ai-tasavvur mein bhe aya na karo…mere ahon se ye rukhasar kumhala na jaye kahen…….. ~kaife azame**

*hamane usake lab-o-rukhasar ko chhoo kar dekhahausale ag ko gulazar bana dete hain ~kabil_ajamere**

* rukhsar shayari in hindiusake zulafen then, lab-o-rukhasar the, aur hath mere,kat gaye rat ke lamahe.. yoon he shararat karate karate..!**

*tune dekhe hai vo peshane vo rukhasar vo honth zindage jisake tasavvur mein luta de hamane ~faiz*

**patthar dil aise ke rasm-e-vafa ke khushaboon unase na unake lab-o-rukhasar se ate hai .***

zulfe rukhasar pe , madahoshe ka vo alam jan !!!maramare banhon ke vo arazoo , yad hai mujhe vo rat !!!*

**tera chehara tere ankhe tere rukhasar ka jadoomujhe mahasoos karake dekh mere pyar ka jadoo**

*dedar ke khvahish mein ham likhane lage gazal.kya pata rukhasar se parada hata do kab.***

rukhsar shayari in hinditere hisar-e-rukhasar se nikalen to sochen…ye shokhe khafa ke hai ya fir haya ke hai*

**rukhasar par lale bikhare hue yoon haya se shayad mere saval ka javab achchha haitere gesuo se ulajhane ko ek umr bake hai shayad mere ulajhane ka ye jal achchhahai*

**rukhasar pe zulf ke alam se rashq kare mahatab…vah parezat husn, charkh-alam hua baja ishq**

*lab-e-rukhasar ke baten, gul-e-gulanar ka mausam,hazaron khvahishon jaisa tumhare yad ka mausam !!***

rukhsar shayari in hindikoe ansoo.. koe dil…. kuchh bhe nahin… kitane sunasan hai ye rahaguzar..koe rukhasar to chamake, koe bijale to gire l*

**”dhoonde hai yoon he shauq ne asaish-e-manzilarukhasar ke kham mein, kabhe kakul ke shikan mein”**

*talkhe vaqt ke dete rahe berukhe rukhasar pe…vo khayalon mein aj bhe, belaus muskurate hain,*

**taras gae hai nigahe unake didar e rukhasar ko.aur,vau he ke khvabo me bhe nakab me ate hai..**

*aj fir mahatab ko dilakashe se muskurate dekha..pade jab kiranen afatab ke unake rukhasar par**

*allah banata hamen mote tere nath kabosa kabhe rukhasar ka lete kabhe lab ka !!**muddat se unake rukhasar ke dhoop nahe ae..iseliye mere ghar mein name se rahate hai.***

rukhsar shayari in hindishola e husn se na jal jae chehare ka naqabisalie rukhasar se parade ko hata rakkha hai

***jab bikharega tere rukhasar par tere ankhon ka pane,tujhe ehasas tab hoga ki mohabbat kise kahate hain*

**saha jata nahin hamase ke kise aur ka talluk bhe ho tum se..dil chahata hai hava se bhe kah doon ke tere rukhasar se hat ke gujare..!!!**

*rusavaeyan rukhasat ho rahe hain ek ek karake mere rukhasar se,dekho aj fir se mujhe mere mahaboob ne sene se lagaya hai**

* rukhsar shayari in hindiseb khilate hain kise ke galon paris baras bag mein gulab kahan ~basher_badr***