Tanhai Hindi Shayari तन्हाई हिंदी शायरी

Tanhai Hindi Shayari
Tanhai Hindi Shayari तन्हाई

Tanhai Hindi Shayari

Here you can get the best collection of Tanhai Sad Shayari, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Tanhai Hindi Shayari to your facebook friends.
You can send them as text SMS based on Tanhai Shayari SMS for someone.These Hindi sher on Tanhai is excellent in expressing your Emotions and Love & Pain.
For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari.

तन्हाई हिंदी शायरी

तन्हाई पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस तन्हाई हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। तन्हाई के दर्द पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।
सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं Hindi Shayari

**************************************************

Tanhai Hindi Shayari

ए मेरे दिल , कभी तीसरे की उम्मीद भी ना किया कर ,

सिर्फ तुम और मैं ही हैं इस दश्त-ए-तन्हाई में …

***

“थकन, टूटन, उदासी, ऊब, तन्हाई, अधूरापन ,

तुम्हारी याद के संग इतना लम्बा कारवाँ क्यूँ है ..?”

***

किस से कहु, अपनी तन्हाई का आलम.

लोग चहरें के हसी देख, बहुत खुश समझते हैं.

***

खौफ अब खत्म हुआ सबसे जुदा होने का..

अपनी तन्हाई में हम अब मसरूफ  बहुत रहते हैं..

***

कोसते रहते हैं अपनी जिंदगी को उम्रभर

भीड़ में हंसते हैं मगर तन्हाई में रोया करते हैं

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Tanhai Status Pictures – Tanhai dp Pictures – Tanhai Shayari Pictures

इश्क के नशे मे डूबे तो जाना हमने फ़राज़……\ के दर्द मे तन्हाई नही होती तन्हाई मे दर्द होता हैं…\\

***

कांटो सी चुभती है तन्हाई अंगारों सी सुलगती है तन्हाई कोई आ कर हम दोनों को ज़रा हँसा दे मैं रोती हूँ तो रोने लगती है तन्हाई..

***

ऐ सनम तू साथ है मेरे मेरी हर तन्हाई में

कोई गम नहीं की तुमने वफ़ा नहीं की

इतना ही बहुत है की तू शामिल है मेरी तबाही में।

*** Tanhai Hindi Shayari Sad Shayari

तन्हाई की आग में कहीं जल ही न जाऊँ,

के अब तो कोई मेरे आशियाने को बचाले।

***

“इन उदास कमरों के.. कोनों की गीली तन्हाई.. …

वक़्त की धूप के साथ सूख ही जायेगी…!!

***

जब भी तन्हाई में उनके बगैर जीने की बात आयी

उनसे हुई हर एक मुलाकात मेरी यादों में दौड आई

***

कहने को साथ अपने इक दुनिया चलती है…

पर छुपके इस दिल में तन्हाई पलती है…!!

***

मोहब्बत के रास्ते कितने भी मखमली क्यो ना हो…

खत्म तन्हाई के खंड़हरो मेँ ही होते है।

***

कुछ लोग जमाने में ऐसे भी तो होते हैं..

महफिल में तो हंसते हैं तन्हाई में रोते हैं.

***

हमारे चले जाने के बाद„ ये समुंदर भी पूछेगा तुमसे…

कहा चला गया वो शख्स„

जो तन्हाई मे आ कर„ बस तुम्हारा ही नाम लिखा करता था…!!!

*** Tanhai Hindi Shayari Sad Shayari

रिश्ते तो नहीं रिश्तों की परछाई मिली…

ये कैसी भीङ है बस यहाँ तन्हाई मिली….

***

बचपन में जहां चाहा हंस लेते थे,

जहां चाहा रो लेते थे पर अब मुस्कान को तमीज़ चाहिए

और आंसुओं को तन्हाई

***

ख्वाब ख्याल, मोहब्बत, हक़ीक़त, गम और तन्हाई,

ज़रा सी उम्र मेरी किस-किस के साथ गुज़र गयी !!!

***

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे, तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर; ए दिल! तुझे दुश्मनों की पहचान कहाँ,.

***

करोगे याद एक दिन प्यार के ज़माने को

चले जाएँगे जब हम ना वापिस आने को

चलेगा जब महफ़िल मे ज़िक्र हमारा

तो तुम भी तन्हाई ढूँढोगे आँसू बहाने को

*** Tanhai Hindi Shayari Sad Shayari

कभी मुस्कुराया करते थे हम भी दिल खोल के … आज-कल तो तन्हाई हम पे गुजर -बसर कर रही हैं

***

उनके जाने के बाद,तन्हाई का सहारा मिला है

इसकी आगोश में आये, फिर निकलना नही आया

***

आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये .. तन्हाई मैं तुझे हम पास बुला कर रोये कई बार पुकारा इस दिल मैं तुम्हें और हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोय

***

हम थोड़ी सी जगह मांगी थी उनके दिल में “मुसाफिर” की तरह, उन्होंने तो तन्हाई का एक पूरा शहर मेरे नाम कर दिया

***

अपनी तन्हाई से खूब जमती है…. यही लेती है मेरी खबर अक्सर…!

***

कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी

हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आती है

***

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते.. मेरी तन्हाई पर मुस्कुराते रहे … मैं बहुत दूर तक यूँ ही चलती रही … तुम बहुत देर तक याद आते रहे….

***

तेरी खुशबू का पता करती है… मुझपे एहसान हवा कपती है  शब ए तन्हाई मे अक्सर… गुफ्तगू तुझसे रहा करती है

***

तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है यूँ तो रातों को नींद नही आती पर रातों को सो कर भी जाग जाना इश्क़ है

***

जिससे दुर हो जाए मेरे ग़म ! मौन रह कर भी तेरे दिल की गहराई तक फैली उस तन्हाई से बात कर सकूं !

*** Tanhai Hindi Shayari Sad Shayari

मैं, जो उजालों का ताजिंदगी, बेइंतिहा मुरीद रहा हूँ, आज तन्हाई की कीमत पे, खुद,अँधेरे खरीद रहा हूँ !

***

तेरे ख्याल में डूब के अक्सर अच्छी लगी तन्हाई !!

***

वो उँगलियों पे गिनते हैं ज़ुल्म जिनका कुछ हिसाब नही

तुम नहीं, गम नहीं, शराब नहीं ऐसी तन्हाई का जवाब नही

***

फिर कहीं दूर से एक बार सदा दे मुझको, मेरी तन्हाई का एहसास दिला मुझको..
***

एहतियातन देखता चल अपने साये की तरफ, इस तरह शायद तुझे एहसास ए तन्हाई न हो..

*** Tanhai Hindi Shayari

देख रात कहती हैं, आजकल मोहब्बत बिकती हैं

… . . . जो खरीद नहीं पाता, उसको बस तन्हाई मिलती हैं…

***

तन्हाई का दौर था हर घड़ी सुनापन था__ एक तुम आयी और तन्हाई को दूर करके एक अनजाना एहसास दे गयी__ और फिर ज़िन्दगी आसान हो गयी__

***

तेरा ख्याल, बिछड़ने का ग़म, कि तन्हाई कोई तो है जो मुझे उस तरफ बुलाता है …

***

तन्हाई इस कदर रास आ गयी है…… अब मुझे कि, अपना साया भी साथ हो तो….साहिब भीड़ सी लगती है….

***

आप हों, हम हों, मय-ए-नाब हो, तन्हाई हो दिल में रह रह के ये अरमान चले आते हैं

***

जब मुलाकात ना थी तब तो कोई बात ना थी , अब ये तन्हाई के दिन कैसे गुजारे जाएं …. !!

***

तन्हाई थी मगर दूर तक,..ख़ामोशियों का शोर था उसे पुकारता कैसे जो मेरा, होके भी कहीं ओर था

***

आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये तन्हाई मैं तुझे हम पास बुला कर रोये कई बार पुकारा इस दिल मैं तुम्हें और हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोय

***

मेरी तन्हाई मार डालेगी दे दे कर तानें मुझको , एक बार आ जाओ इसे तुम खामोश कर दो…

***

कुछ देर बैठी रही पास, और फिर उठ कर चली गई

गुरुर तो देखो तन्हाई का ये भी बेवफ़ा हो कर चली गई

*** Tanhai Hindi Shayari Sad Shayari

अब आ भी जाओ … कि आता है वफा पर इल्जाम चाँदनी रात की डसती हुई तन्हाई है … !!

***


tanhai hindi shayari in roman Hinglish

**************************************************

tanhai hindi shayari e mere dil , kabhe tesare ke ummed bhe na kiya kar ,sirf tum aur main he hain is dasht-e-Tanhai mein …***”

thakan, tootan, udase, oob, Tanhai, adhoorapan ,tumhare yad ke sang itana lamba karavan kyoon hai ..?”***

kis se kahu, apane Tanhai ka alam.log chaharen ke hase dekh, bahut khush samajhate hain.***

khauf ab khatm hua sabase juda hone ka..apane Tanhai mein ham ab masaroof bahut rahate hain..***

kosate rahate hain apane jindage ko umrabharabhed mein hansate hain magar Tanhai mein roya karate hain***

ishk ke nashe me doobe to jana hamane faraz……\ ke dard me Tanhai nahe hote Tanhai me dard hota hain…\\***

kanto se chubhate hai Tanhai angaron se sulagate hai Tanhai koe a kar ham donon ko zara hansa de main rote hoon to rone lagate hai Tanhai..***

ai sanam too sath hai mere mere har Tanhai menkoe gam nahin ke tumane vafa nahin keitana he bahut hai ke too shamil hai mere tabahe mein।***

tanhai hindi shayari  sad shayari Tanhai ke ag mein kahen jal he na jaoon,ke ab to koe mere ashiyane ko bachale.***”

in udas kamaron ke.. konon ke gele Tanhai.. …vaqt ke dhoop ke sath sookh he jayege…!!***

jab bhe Tanhai mein unake bagair jene ke bat ayeunase hue har ek mulakat mere yadon mein daud ae***

kahane ko sath apane ik duniya chalate hai…par chhupake is dil mein Tanhai palate hai…!!***

mohabbat ke raste kitane bhe makhamale kyo na ho…khatm Tanhai ke khandaharo men he hote hai.***

kuchh log jamane mein aise bhe to hote hain..mahafil mein to hansate hain Tanhai mein rote hain.***

hamare chale jane ke bad„ ye samundar bhe poochhega tumase…kaha chala gaya vo shakhs„jo Tanhai me a kar„ bas tumhara he nam likha karata tha…!!!***

tanhai hindi shayari  sad shayari rishte to nahin rishton ke parachhae mile…ye kaise bhen hai bas yahan Tanhai mile….***

bachapan mein jahan chaha hans lete the,jahan chaha ro lete the par ab muskan ko tamez chahieaur ansuon ko Tanhai***

khvab khyal, mohabbat, haqeqat, gam aur Tanhai,zara se umr mere kis-kis ke sath guzar gaye !!!***

har vaqt ka hansana tujhe barbad na kar de, Tanhai ke lamhon mein kabhe ro bhe liya kar; e dil! tujhe dushmanon ke pahachan kahan,.***

karoge yad ek din pyar ke zamane kochale jaenge jab ham na vapis ane kochalega jab mahafil me zikr hamarato tum bhe Tanhai dhoondhoge ansoo bahane ko***

tanhai hindi shayari  sad shayari kabhe muskuraya karate the ham bhe dil khol ke … aj-kal to Tanhai ham pe gujar -basar kar rahe hain***

unake jane ke bad,Tanhai ka sahara mila haiisake agosh mein aye, fir nikalana nahe aya***

aj tere yad ham sene se laga kar roye .. Tanhai main tujhe ham pas bula kar roye kae bar pukara is dil main tumhen aur har bar tumhen na pakar ham roy***

ham thode se jagah mange the unake dil mein “musafir” ke tarah, unhonne to Tanhai ka ek poora shahar mere nam kar diya***

apane Tanhai se khoob jamate hai…. yahe lete hai mere khabar aksar…!***

kitane ajeb hai mere andar ke Tanhai bhehajaro apane hai magar yad sirf vo he ate hai***

ajanabe shahar ke ajanabe raste.. mere Tanhai par muskurate rahe … main bahut door tak yoon he chalate rahe … tum bahut der tak yad ate rahe….***

tere khushaboo ka pata karate hai… mujhape ehasan hava kapate hai shab e Tanhai me aksar… guftagoo tujhase raha karate hai***

Tanhai main muskurana bhe ishq hai is bat ko sab se chhupana bhe ishq hai yoon to raton ko nend nahe ate par raton ko so kar bhe jag jana ishq hai***

jisase dur ho jae mere gam ! maun rah kar bhe tere dil ke gaharae tak faile us Tanhai se bat kar sakoon !***

tanhai hindi shayari  sad shayari main, jo ujalon ka tajindage, beintiha mured raha hoon, aj Tanhai ke kemat pe, khud,andhere khared raha hoon !***

tere khyal mein doob ke aksar achchhe lage Tanhai !!***

vo ungaliyon pe ginate hain zulm jinaka kuchh hisab nahetum nahin, gam nahin, sharab nahin aise Tanhai ka javab nahe***

fir kahen door se ek bar sada de mujhako, mere Tanhai ka ehasas dila mujhako..***

ehatiyatan dekhata chal apane saye ke taraf, is tarah shayad tujhe ehasas e Tanhai na ho..***

tanhai hindi shayari dekh rat kahate hain, ajakal mohabbat bikate hain… . . . jo khared nahin pata, usako bas Tanhai milate hain…***

Tanhai ka daur tha har ghade sunapan tha__ ek tum aye aur Tanhai ko door karake ek anajana ehasas de gaye__ aur fir zindage asan ho gaye__***

tera khyal, bichhadane ka gam, ki Tanhai koe to hai jo mujhe us taraf bulata hai …***

“Tanhai is kadar ras a gaye hai…… ab mujhe ki, apana saya bhe sath ho to….sahib bhed se lagate hai….***

ap hon, ham hon, may-e-nab ho, Tanhai ho dil mein rah rah ke ye araman chale ate hain***

jab mulakat na the tab to koe bat na the , ab ye Tanhai ke din kaise gujare jaen …. !!***

Tanhai the magar door tak,..khamoshiyon ka shor tha use pukarata kaise jo mera, hoke bhe kahen or tha***

aj tere yad ham sene se laga kar roye Tanhai main tujhe ham pas bula kar roye kae bar pukara is dil main tumhen aur har bar tumhen na pakar ham roy***

mere Tanhai mar dalege de de kar tanen mujhako , ek bar a jao ise tum khamosh kar do…***

kuchh der baithe rahe pas, aur fir uth kar chale gaegurur to dekho Tanhai ka ye bhe bevafa ho kar chale gae***

tanhai hindi shayari  sad shayari ab a bhe jao … ki ata
kuchh der baithe rahe pas, aur fir uth kar chale gaegurur to dekho Tanhai ka ye bhe bevafa ho kar chale gae***

tanhai hindi shayari  sad shayari ab a bhe jao … ki ata hai vafa par iljam chandane rat ke dasate hue Tanhai hai … !!

 

1 thought on “Tanhai Hindi Shayari तन्हाई हिंदी शायरी”

  1. ZINDAGI SE APNA HAR DARD CHUPA LENA KUSHI NA SAHI GHAM KO GLE LGA LENA KOI AGAR KAHE MOHABBAT AASAN HAI TO HUSE NOOR ALAM KA TUTA HUA DIL DIKA DENA I HATE LOVE

    Reply

Leave a Comment