अल्ट्रा वायलेट रेडिएशन क्या होता है इसके क्या नुकसान हैं?

अल्ट्रा वायलेट विकिरण क्या होता है?

What is Ultraviolet Radiation hindi

अल्ट्रावॉयलेट विकिरण विद्युत चुंबकीय किरणों का ही एक रूप है, इन किरणों की तरंगधैर्य बैगनी प्रकाश से कम होती है इसलिए इन्हें पराबैगनी प्रकाश कहते हैं. सूर्य से आने वाले प्रकाश के स्पेक्ट्रम में यह दृश्य प्रकाश के बैगनी रंग के पास होती हैं, अल्ट्रावायलेट किरणें विद्युत चुंबकीय तरंगों का ही एक रूप है, इनकी तरंगधैर्य (वेवलेंथ) 10 nm से लेकर 400 nm तक होती है. पराबैंगनी प्रकाश की किरणें एक्स-रे और दृश्य प्रकाश के बीच स्थित होती है.

अल्ट्रा वायलेट रेडिएशन, Ultraviolet Radiation ke effects hindi, अल्ट्रा वायलेट विकिरण, What is Ultraviolet Radiation hindi, sunburn hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों का दुष्प्रभाव, Effects of ultraviolet on Humans hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों के जीवो पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on animals, अल्ट्रावायलेट किरणों का पौधों पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on plants

सूर्य से आने वाले प्रकाश का 10% हिस्सा पराबैगनी अल्ट्रावॉयलेट तरंगों का होता है,  कुछ खास तरह की लाइटें, मर्करी वेपर लैंप, इलेक्ट्रिक आर्क, आदि से भी उत्पन्न की जा सकती है, अल्ट्रावॉयलेट किरने कई प्रकार के रासायनिक परिवर्तन उत्पन्न कर सकतीं हैं तथा यह कई पदार्थों में चमक पैदा कर देती हैं. पराबैगनी किरणों के प्रभाव की वजह से कई प्रदार्थ और जीव चमकने लगते हैं.

सूर्य से आने वाली हानिकारक अल्ट्रा वायलेट किरणों  के 90 % भाग को ओजोन परत के द्वारा रोक लिया जाता है. ओजोन परत की सम्पूर्ण जानकारी 

दृश्य प्रकाश की तुलना में यह पेड़ पौधों और जीव को ज्यादा प्रभावित करती है, दृश्य प्रकाश पेड़ पौधों और जीवो को केवल गर्म करता है जबकि  अल्ट्रावॉयलेट विकिरण पेड़ पौधों और जीवो में कई तरह के रासायनिक परिवर्तन कर उत्पन्न सकते हैं.

सनबर्न  सूर्य के प्रकाश में अधिक समय तक रहने से झुलस  जाने की बीमारी सबसे प्रमुख है, यह अल्ट्रावॉयलेट किरणों के दुष्प्रभाव की वजह से ही होती है.

मनुष्य पर अल्ट्रावायलेट किरणों का दुष्प्रभाव

Effects of ultraviolet on Humans hindi

मनुष्य के स्वास्थ्य पर अल्ट्रावायलेट किरणों का दुष्प्रभाव पड़ता है, हालांकि अल्ट्रावायलेट किरणें हमारे शरीर में विटामिन डी बनाने में सहायता प्रदान करती है, विटामिन डी हमारे शरीर के लिए अत्यावश्यक विटामिन है. वैज्ञानिक बताते हैं कि 5 से 15 मिनट तक सप्ताह में दो बार हल्की धूप में बैठने से हमारा शरीर पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी बना लेता है, लेकिन अगर हम ज्यादा समय धूप में बिताते हैं तो इससे हमारे शरीर को नुकसान पहुंचता है.

ज्यादा समय तक धूप में बैठने से सबसे पहले नुकसान हमारी आंखों के रेटीना को होता है, इसके बाद हमारी त्वचा और प्रतिरक्षा तंत्र अल्ट्रावॉयलेट किरणों से प्रभावित होते हैं. अल्ट्रावायलेट किरणों से त्वचा झुलस जाती है तथा इससे त्वचा के कैंसर का खतरा भी उत्पन्न हो जाता है, यह विकिरण हमारी कोशिकाओं के डीएनए को सीधा नुकसान पहुंचा सकते हैं अल्ट्रावायलेट किरणें पहले से हो रहे त्वचा रोगों में वृद्धि भी कर सकती हैं.

अल्ट्रावायलेट किरणों के जीवो पर प्रभाव

Effects of Ultraviolet radiation on animals

कई प्रकार के जीव जैसे कि पक्षी, रेप्टाइल्स, कीड़े, तथा मधुमक्खियां पराबैगनी प्रकाश को देख सकते हैं, मनुष्य की आंखें पराबैंगनी प्रकाश को नहीं देख पाती, कीट पतंगे, अल्ट्रावॉयलेट प्रकाश को देख कर अपने मार्ग का निर्धारण करते हैं, कई जीवों का मूत्र अल्ट्रावायलेट प्रकाश पर देखने पर चमकने लगता है जिससे शिकारी पक्षी अपने शिकार को आसानी से ढूंढ लेते हैं, अल्ट्रा वायलेट प्रकाश के इसी गुण का उपयोग करके पेस्ट कंट्रोल करने वाले इसका इस्तेमाल करतें हैं. इस प्रकाश से कीट पतंगों को पिंजरों की तरफ आकर्षित किया जा सकता है.

अल्ट्रावायलेट किरणों का पौधों पर प्रभाव

Effects of Ultraviolet radiation on plants

अल्ट्रा वायलेट रेडिएशन, Ultraviolet Radiation ke effects hindi, अल्ट्रा वायलेट विकिरण, What is Ultraviolet Radiation hindi, sunburn hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों का दुष्प्रभाव, Effects of ultraviolet on Humans hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों के जीवो पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on animals, अल्ट्रावायलेट किरणों का पौधों पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on plants

बहुत कम मात्रा में अल्ट्रावॉयलेट विकिरण पौधों में फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया में सहायता प्रदान करती है किंतु अधिक मात्रा में अल्ट्रावायलेट किरणें पौधों के लिए नुकसानदायक होती है इससे पौधों के आकार में कमी होती है तथा कई फसलें बर्बाद हो सकती हैं कुछ पौधे ऐसे हैं जिन्हें अधिक अल्ट्रावायलेट किरणें नुकसान पहुंचाती हैं, जिससे कि उनमें फल और फूल का उत्पादन कम हो जाता है तथा कुछ पौधों की प्रजातियां ऐसी हैं जोकि अल्ट्रावॉयलेट किरणों के प्रभाव में आकर बीमारी से ग्रसित हो जाती हैं,  अल्ट्रावॉयलेट किरणें पौधों की कोशिकाओं के डीएनए में परिवर्तन कर सकती हैं इसलिए अधिक मात्रा में अल्ट्रावायलेट किरणें पेड़ पौधों और फसलों के लिए नुकसानदायक है.

वे कौन से जीव हैं जो अल्ट्रा वायलेट प्रकाश देख सकतें हैं 

मधु मक्खियाँ, तितली, रेन डियर, बिच्छु, सायमन मछली, तथा पक्षियों की कुछ प्रजातीयां अल्ट्रा वायलेट प्रकाश देख सकती है. बिच्छु अल्ट्रा वोइलेट प्रकाश में चमकते हैं पर वैज्ञानिक नहीं जानते की एसा क्यों होता है?

ultraviolet light

वायलेट रेडिएशन, Ultraviolet Radiation ke effects hindi, अल्ट्रा वायलेट विकिरण, What is Ultraviolet Radiation hindi, sunburn hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों का दुष्प्रभाव, Effects of ultraviolet on Humans hindi, अल्ट्रावायलेट किरणों के जीवो पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on animals, अल्ट्रावायलेट किरणों का पौधों पर प्रभाव, Effects of Ultraviolet radiation on plants

 

 

 

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply