Zindagi Hindi Shayari ज़िन्दगी हिंदी शायरी

Zindagi Hindi Shayari ज़िन्दगी हिंदी शायरी

zindagi hindi shayari
Zindagi Hindi Shayari ज़िन्दगी हिंदी शायरी

Zindagi Hindi Shayari

ज़िन्दगी हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Zindagi, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Zindagi Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Zindagi is excellent in expressing your emotions.

For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

ज़िन्दगी पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस ज़िन्दगी हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। ज़िन्दगी लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

****

ज़िन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,

शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे है… ”

***

ज़रूरी तो नहीं के शायरी वो ही करे जो इश्क में हो,

ज़िन्दगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दिया करती है।

***

अकेले ही गुज़रती है ज़िन्दगी

लोग तसल्लियां तो देते हैं , पर साथ नहीं…!!

***

जीवन की सुबह में कभी सांझ न हो

जो मिल न सके रब से वो मांग न हो

खूब चमकें सितारे खुशियों के

ज़िन्दगी कभी अमावस का चाँद न हो

***

सही वक़्त पर पिए गए “कड़वे घूंट”

अक़्सर ज़िन्दगी “मीठी” कर दिया करते है”

***

रास्ता तू ही और मंज़िल तू ही, चाहे जितने भी चलूँ मैं कदम,

… … तुझसे ही तो मुस्कुराहटें मेरी, तुझ बिन ज़िन्दगी भी है सूनी..!!

***

तकदीरें बदल जाती हैं, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;

वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है ‘तकदीर’ को इल्ज़ाम देते देते….
***
 
ये ज़िन्दगी जो मुझे कर्ज़दार करती रही,
कभी अकेले में मिले तो हिसाब करूँ
***
 
धीरे धीरे उम्र कट जाती है, जीवन यादों की पुस्तक बन जाती है, कभी किसी की याद बहुत तड़पाती है और कभी यादों के सहारे ज़िन्दगी कट जाती है..
***
 
दो रोज़ तुम मेरे पास रहो.. दो रोज़ मैं तुम्हारे पास रहुं.. चार दिन की ज़िन्दगी है.. ना तुम उदास रहो.. ना मैं उदास रहुं….
***
 
“दहशत” सी होने लगी है इस सफ़र से अब तो…
ए-ज़िन्दगी___ कहीं तो पहुँचा दे„„„ख़त्म होने से पहले…
***
 
फटी जेब सी ज़िन्दगी, सिक्को से दिन… लो आज फिर ..इक गिर कर गुम हो गया..!!
***
 
मेरी ज़िन्दगी में खुशियाँ तेरे बहाने से है, आधी तुझे सताने से है, आधी तुझे मनाने से है..
***
 
चाहा है तुझ को तेरी तग़ाफ़ुल के बावजूद;
ज़िन्दगी तू याद करेगी कभी हमें
***
 
मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है
ज़िन्दगी की लेकिन सिर्फ सांसें लेने को `जीना` तो नहीं कहते!
***
 
बाद मुद्दत के यह घडी आई आप आये तो ज़िन्दगी आई
इश्क मर-मर के कामयाब हुआ आज एक ज़र्रा आफताब हुआ
***
 
कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िन्दगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी !
***
 
ज़िन्दगी की जरूरतें समझिए वक्त कम है फरमाइश लम्बी हैं झूठ-सच,जीत- हार की बातें छोड़िये, दास्तान बहुत लम्बी है.
***
 
ज़िन्दगी एक हसीन ख्वाब है जिसमें जीने की चाहत होनीचाहिये गम खुद ही खुशी में बदल जायेंगे सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनीचाहिये
***
 
कुछ ज़रूरतें पूरी तो कुछ ख्वाहिशें अधूरी,
इन्ही सवालों के जवाब हैं ज़िन्दगी !!
***
 
लम्हों की खुली किताब हैं ज़िन्दगी, ख्यालों और सांसों का हिसाब हैं ज़िन्दगी,
***
 
फिर कोई मोड़ लेने वाली है ज़िन्दगी शायद …
अब के फिर हवाओं में, एक बे-करारी है….
***
 
ज़िन्दगी की राहों में.. ऐसा अक्सर होता है..
फैसला जो मुश्किल हो वो ही बेहतर होता है..!!
***
 
सुबह तो खुशनुमा थी, क्यों शाम मुझे फिर तनहा छोड़ गयी, ……… ……… मंजिल दिखी ही थी, कि ज़िन्दगी फिर रास्ता मोड़ गयी..!!
***
 
यादो की कसक..साँसों की थकन..आँखों में नमी सी है. ज़िन्दगी तुझमे सब है, फिर काहे की कमी सी है…
 
***
 
डूबती हैं ज़िन्दगी,ग़म के सागर में कभी
बच निकलने की तुम्ही,बस आस लगते हो मुझे
***
 
आरज़ू,हसरत,तमन्ना और ख़ुशी कुछ भी नही,
ज़िन्दगी में तू नही तो ज़िन्दगी कुछ भी नही…
***
 
हाथ पकड़ कर रोक लेते अगर, तुझपर ज़रा भी ज़ोर होता मेरा,
ना रोते हम यूँ तेरे लिये, अगर हमारी ज़िन्दगी में तेरे सिवा कोई ओर होता…
***
 
शिकायत तो बहुत है तुझसे ऐ ज़िन्दगी, पर चुप इसलिए हूं कि जो दिया तूने वो भी बहुतों को नसीब नहीं होता
***
 
इन्तिहा आज इश्क की कर दी, आप के नाम ज़िन्दगी कर दी, था अँधेरा गरीब खाने में, आप ने आ के रोशनी कर दी,
***
 
ख़्वाबों से मुझको और न बहला सकेगी रहने दे ज़िन्दगी..! तेरा जादू उतर गया..।।
***
मुझे रात दिन ये ख्याल है•वो नज़र से मुझको गिरा ना दें•मेरी ज़िन्दगी का दिया कहीं•ये ग़मो की आंधी बुझा ना दें
 
***
तेरी मुहब्बत की तलब थी तो हाथ फैला दिए वरना, हम तो अपनी ज़िन्दगी के लिए भी दुआ नहीं करते…
***
 
उस के चहरे पर लिखे है दिल के अफ़साने कई, वो किताबे-ज़िन्दगी का इक सुनहरा बाब है.!
 
 
Search Tags
Zindagi Shayari, Zindagi Hindi Shayari, Zindagi Shayari, Zindagi whatsapp status, Zindagi hindi Status, Hindi Shayari on Zindagi, Zindagi whatsapp status in hindi, ज़िन्दगी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ज़िन्दगी, ज़िन्दगी स्टेटस, ज़िन्दगी व्हाट्स अप स्टेटस
—–
Hinglish
 

zindagi par hindi shayari

 
zindagi par hindi shaayaree ka sabase achchha sangrah yahaan upalabdh hai, aap is zindagi hindi shaayaree ko apane hindi vaahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya aap is behatareen hindi shaayaree ko apane doston ko phesabuk par bhee bhej sakaten hain. zindagi laphz par hindi ke yah sher, bhaavanaon ko vyakt karane mein aapakee madad kar sakaten hain.sabhee hindi shaayaree kee list yahaan hain. “zindagi ka phalasapha bhee kitana ajeeb hai,shaamen katatee nahin, aur saal guzarate chale ja rahe hai… “***
 
zarooree to nahin ke shaayaree vo hee kare jo ishk mein ho,zindagi bhee kuchh zakhm bemisaal diya karatee hai.***
 
akele hee guzaratee hai zindagi…log tasalliyaan to dete hain , par saath nahin…!!***
 
jeevan kee subah mein kabhee saanjh na hojo mil na sake rab se vo maang na hokhoob chamaken sitaare khushiyon kezindagi kabhee amaavas ka chaand na ho***
 
sahee vaqt par pie gae “kadave ghoont”aqsar zindagi “meethee” kar diya karate hai”***
 
raasta too hee aur manzil too hee, chaahe jitane bhee chaloon main kadam,… … tujhase hee to muskuraahaten meree, tujh bin zindagi bhee hai soonee..!!***
 
takadeeren badal jaatee hain, jab zindagi ka koee makasad ho;varna zindagi kat hee jaatee hai takadeer ko ilzaam dete dete….***
 
ye zindagi jo mujhe karzadaar karatee rahee,kabhee akele mein mile to hisaab karoon***
 
dheere dheere umr kat jaatee hai, jeevan yaadon kee pustak ban jaatee hai, kabhee kisee kee yaad bahut tadapaatee hai aur kabhee yaadon ke sahaare zindagi kat jaatee hai..***
 
do roz tum mere paas raho.. do roz main tumhaare paas rahun.. chaar din kee zindagi hai.. na tum udaas raho.. na main udaas rahun….***”
 
dahashat” see hone lagee hai is safar se ab to…e-zindagi___ kaheen to pahuncha de„„„khatm hone se pahale…***
 
phatee jeb see zindagi, sikko se din… lo aaj phir ..ik gir kar gum ho gaya..!!***
 
meree zindagi mein khushiyaan tere bahaane se hai, aadhee tujhe sataane se hai, aadhee tujhe manaane se hai..***
 
chaaha hai tujh ko teree tagaaful ke baavajood;e zindagi too yaad karegee kabhee hamen***
 
marata nahin koee kisee ke bagair ye hakeekat haizindagi kee lekin sirph saansen lene ko `jeena` to nahin kahate!***
 
baad muddat ke yah ghadee aaee aap aaye to zindagi aaeeishk mar-mar ke kaamayaab hua aaj ek zarra aaphataab hua***
 
kuchh is tarah fakeer ne zindagi kee misaal dee,mutthee mein dhool lee aur hava mein uchhaal dee !***
 
zindagi kee jarooraten samajhie vakt kam hai pharamaish lambee hain jhooth-sach,jeet- haar kee baaten chhodiye, daastaan bahut lambee hai.***
 
zindagi ek haseen khvaab hai jisamen jeene kee chaahat honeechaahiye gam khud hee khushee mein badal jaayenge sirph muskuraane kee aadat honeechaahiye***
 
kuchh zarooraten pooree to kuchh khvaahishen adhooree,inhee savaalon ke javaab hain zindagi !!***
 
lamhon kee khulee kitaab hain zindagi, khyaalon aur saanson ka hisaab hain zindagi,***
 
phir koee mod lene vaalee hai zindagi shaayad …ab ke phir havaon mein, ek be-karaaree hai….***
 
zindagi kee raahon mein.. aisa aksar hota hai..phaisala jo mushkil ho vo hee behatar hota hai..!!***
 
subah to khushanuma thee, kyon shaam mujhe phir tanaha chhod gayee, ……… ……… manjil dikhee hee thee, ki zindagi phir raasta mod gayee..!!***
 
yaado kee kasak..saanson kee thakan..aankhon mein namee see hai. zindagi tujhame sab hai, phir kaahe kee kamee see hai…***
 
doobatee hain zindagi,gam ke saagar mein kabheebach nikalane kee tumhee,bas aas lagate ho mujhe***
 
aarazoo,hasarat,tamanna aur khushee kuchh bhee nahee,zindagi mein too nahee to zindagi kuchh bhee nahee…***
 
haath pakad kar rok lete agar, tujhapar zara bhee zor hota mera,na rote ham yoon tere liye, agar hamaaree zindagi mein tere siva koee or hota…***
 
shikaayat to bahut hai tujhase ai zindagi, par chup isalie hoon ki jo diya toone vo bhee bahuton ko naseeb nahin hota***
 
intiha aaj ishk kee kar dee, aap ke naam zindagi kar dee, tha andhera gareeb khaane mein, aap ne aa ke roshanee kar dee,***
 
khvaabon se mujhako aur na bahala sakegee rahane de zindagi..! tera jaadoo utar gaya….***
 
mujhe raat din ye khyaal hai•vo nazar se mujhako gira na den•meree zindagi ka diya kaheen•ye gamo kee aandhee bujha na den***
 
teree muhabbat kee talab thee to haath phaila die varana, ham to apanee zindagi ke lie bhee dua nahin karate…***
 
us ke chahare par likhe hai dil ke afasaane kaee, vo kitaabe-zindagi ka ik sunahara baab hai.!saiarchh tags
 
zindagi shayari, zindagi hindi shayari, zindagi shayari, zindagi whatsapp status, zindagi hindi status, hindi shayari on zindagi, zindagi whatsapp status in hindi, zindagi hindi shaayaree, hindi shaayaree, zindagi, zindagi stetas, zindagi vhaats ap stetas

1 thought on “Zindagi Hindi Shayari ज़िन्दगी हिंदी शायरी”

Leave a Reply