खौफ़ ए इलाही – Taqwa and Fear of Allah in Hindi-2

खौफ़ ए इलाही (Taqwa and Fear of Allah in Hindi-2)

(हुज्जतुल इस्लाम इमाम मोहम्मद गज़ाली र.अ. की किताब मुकाशफतुल क़ुलूब से हिंदी अनुवाद)

Color Codes –  कुरआन मजीदहदीसे पाककौल (Quotes).

 

जनाब अल्लामा अबुल्लैस रहमतुल्लाह अलैह कहते हैं की सातवें आसमान पर अल्लाह के ऐसे फ़रिश्ते हैं की उन्हें अल्लाह ताआला  ने जब से पैदा किया है तभी से सजदे में हैं और अल्लाह ताआला  के खौफ़ से बहुत ज्यादा खौफज़दा हैं क़यामत के दिन जब वह सजदे से सर उठाएंगे तो कहेंगे “ए अल्लाह तू पाक है, हम तेरी कमा हक्क़हू इबादत नही कर सके.”

अल्लाह ताआला  का फरमान है

“वह फ़रिश्ते अपने रब से डरते हैं और जिस चीज़ का उन्हें हुक्म दिया गया है वही कहते हैं और एक पल भी मेरी नाफ़रमानी में नहीं गुजारतें हैं.”

रसूल ए अकरम सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम ने इरशाद फ़रमाया

“जब कोई बंदा अल्लाह के खौफ से कांपता है तो उस के गुनाह उस के बदन से ऐसे झड जाते हैं जैसे दरख़्त को हिलाने से उस के पत्ते झड जाते हैं”

 

गुनाह से रुक जाने वाले नौजवान का किस्सा 

एक नौजवान एक औरत की मोहब्बत में गिरफ्तार हो गया, वह औरत किसी काफिले के साथ बाहर सफ़र पर निकल गयी. जवान को जब मालूम पड़ा तो वह भी उसी काफिले के साथ चल पड़ा, जब काफिला जंगल में पहुंचा तो रात हो गयी रात को उन्होंने वहीँ पड़ाव किया, जब सब सो गए तो वह नौजवान चुपके से उस औरत के पास पहुंचा और कहने लगा मैं तुझ से बहुत मोहब्बत करता हूँ और इसीलिए में इस काफिले के साथ आ रहा हूँ, औरत बोली जाकर देखो कोई जाग तो नहीं रहा है, जवान ने जाकर सारे काफिले को देखा और वापस आकर कहा की सब लोग बे खबर सो रहे हैं, औरत ने पुछा, अल्लाह ताआला  के बारे में तुम्हारा क्या ख्याल है? क्या वह भी सो रहा है ? जवान बोला की अल्लाह ताआला  तो न कभी सोता है ना कभी उसे ऊँघ आती है. तब वह औरत बोली लोग सो गए तो क्या हुआ , अल्लाह तो जाग रहा है, हमें देख रहा है, उस से डरना हम पर फ़र्ज़ है, जवान ने जैसे ही यह बात सुनी, खुदा के डर से कांपने लगा और बुरे इरादे से तौबा करके घर वापस चला गया, कहते हैं की जब वह जवान मरा तो किसी ने उसे ख्वाब में देखा और पुछा? सुनाओ तुम पर क्या गुज़री ? जवान ने जवाब दिया मैं ने अल्लाह ताआला  के खौफ से एक गुनाह छोड़ा था, अल्लाह ताआला  ने उसी वजह से मेरे तमाम गुनाहों को बख्श दिया.

 

बनी इस्राईल के एक ताजिर का किस्सा 

किताब मजम उल लताइफ  में है की बनी इस्राईल में एक कसीरुल औलाद वाला आबिद इन्सान था,उसे तंगदस्ती ने आ घेरा, जब बहुत परेशान हुआ तो अपनी औरत से कहा जाओ, किसी से कुछ मांग कर लाओ, औरत ने एक ताजिर (व्यापारी) के यहाँ जाकर खाने का सवाल किया, ताजिर ने कहा अगर तुम मेरी इच्छा पूरी कर दो तो जो चाहे ले सकती हो, औरत बेचारी चुपचाप खाली हाथ घर लौट आई, बच्चों ने जब माँ को खाली हाथ आते देखा तो भूक से चिल्लाने लगे और कहने लगे अम्मी हम भूक से मर रहें हैं हमें कुछ खाने को दो! औरत दोबारा उसी ताजिर के यहाँ लौट गई और खाने का सवाल किया, ताजिर ने फिर वही बात की जो पहले कह चुका था.

औरत रजामंद हो गयी मगर जब दोनों तन्हाई में पहुंचे तो औरत खौफ से कांपने लगी. ताजिर ने पुछा किस से डरती हो? उस ने कहा में उस रब्बे लम यज़ल के खौफ से कांपती हूँ जिस ने हमें पैदा किया. तब ताजिर बोला जब तुम इतनी तंगदस्ती और गरीबी में भी खुदा का खौफ रखती हो तो मुझे भी अल्लाह के आजाब से डरना चाहिए, यह कहा और औरत को बहुत सा माल और सामान देकर इज्ज़त के साथ रवाना किया.

अल्लाह ताआला  ने उस वक्त के पैगम्बर मूसा अलैहिस्सलाम पर वह्यी भेजी की उस बन्दे के पास जाओ और सलाम कह दो और कहना की मैंने उस के तमाम गुनाहों को माफ़ कर दिया है, मूसा अलैहिस्सलाम अल्लाह के हुक्म के मुताबिक उस ताजिर के पास आये और पुछा क्या तुमने कोई अज़ीम नेकी का काम किया हैं, जिस की वजह से अल्लाह ताआला  ने तुम्हारे तमाम गुनाहों को माफ़ कर दिया? जवाब ने ताजिर ने ऊपर बयां किया हुआ सारा किस्सा कह सुनाया.

हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम फरमाते हैं की अल्लाह का फरमान है

“मैं अपने किसी बन्दे पर दो खौफ और दो अमन जमा नहीं करता, जो शख्श  दुनिया में मेरे अजाब से डरता है मैं उसे आखिरत में बे खौफ कर दूंगा लेकिन जो दुनिया में मेरे अजाब से बे खौफ रहता है मै उसे आखिरत में खौफ जदा करूँगा”

अल्लाह ताआला  का इरशाद है

“तुम लोगो से नहीं मुझ से डरो”

और यह भी फ़रमाया की

“अगर तुम मोमिन हो तो लोगो से नहीं, मुझ से डरो.”

 

हज़रत उमर रज़िअल्लाहो अन्हो और अल्लाह का खौफ

हज़रत उमर रज़िअल्लाहो अन्हो जब कुरआन मजीद की कोई आयत सुनते तो खौफ से बेहोश हो जाते. एक दिन एक तिनका हाथ में लेकर कहा काश में एक तिनका होता, कोई काबिले ज़िक्र चीज़ ना होता, काश मुझे मेरी माँ पैदा ना करती, और खुदा के डर से आप इतना रोया करते थे की आप के चेहरे पर आंसुओ के बहने की वजह से दो काले निशान पड़ गए थे.

हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम ने फ़रमाया

“जो शख्स अल्लाह के खौफ से रोता है वह जहन्नम में हरगिज़ दाखिल नहीं होगा, उसी तरह  जैसे की दूध दुबारा अपने थनों में नहीं जाता.”

दकाइकुल अख़बार  में है की क़यामत के दिन एक ऐसे इन्सान को लाया जायेगा जब उसके आमाल तोले जायेंगे तो बुराइयों का पलड़ा भारी हो जायेगा चुनाचे उसे जहन्नम में डालने का हुक्म मिलेगा, उस वक़्त उसकी पलकों का एक बाल अल्लाह की बारगाह में अर्ज़ करेगा की ए रब्बे ज़ुल जलाल तेरे रसूल सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम ने फ़रमाया था जो अल्लाह के डर से रोता है, अल्लाह ताआला  उस पर जहन्नम की आग हराम कर देता है और में तेरे खौफ से रोया था, अल्लाह ताआला  का दरियाए रहमत जोश में आएगा और उस शख्स को एक रोने वाले बाल के बदले जहन्नम से बचा लिया जायेगा, उस वक़्त जिब्रील अलेहिस्सलाम पुकारेंगे “फलां बिन फलां एक बाल के बदले नजात पा गया”

 

खौफे खुदा से रोने वाले आप के गुनाहगार उम्मतियों के आंसू

हिदायतुल हिदाया में है की क़यामत के दिन जब जहन्नम को लाया जायेगा तो उस से हैबतनाक आवाजें निकलेंगी जिस की वजह से लोग उस पर से गुजरने में घबराएंगे.

जब लोग जहन्नम के करीब आयेंगे तो उस से सख्त गर्मी और खौफनाक आवाजें सुनेगे जो पांच सो साल के सफ़र की दूरी से सुनाई देती होंगी, जब हर नबी नफ्सी नफ्सी और हुज़ूर मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम उम्मती उम्मती कह रहे होंगे उस वक़्त जहन्नुम से एक बहुत बुलंद आग निकलेगी और हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम की उम्मत की तरफ बढ़ेगी, आपकी उम्मत उस से बचने के लिए कहेगी “ए आग तुझे नमाज़ियों, सदक़ा देने वालों, रोज़ादारों और खौफ ए खुदा रखने वालों का वास्ता वापस चली जा” मगर आग बराबर बढती चली जाएगी तब हज़रत जिब्रील अलेहिस्सलाम यह कहते हुए की आग आपकी उम्मत की तरफ बढ़ रही है, आपकी खिदमत में पानी का एक प्याला पेश करेंगे और अर्ज़ करेंगे, ए अल्लाह के नबी, इस से आग पर छींटे मारिये, आप आग पर पानी के छींटे मारेंगे तो आग फ़ौरन बुझ जाएगी उस वक़्त आप सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम जिब्रील अलेहिस्सलाम से उस पानी की बारे में पूछेंगे, जिब्रील कहेंगे हुज़ूर, यह खौफे खुदा से रोने वाले आप के गुनाहगार उम्मतियों के आंसू थे, मुझे हुक्म दिया गया की मै यह पानी आपकी खिदमत में पेश करूँ और आप उस से जहन्नम की आग को बुझा दें.

 

हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैह व सल्लम दुआ माँगा करते थे की

“ए अल्लाह मुझे एसी आँखें अता फरमा जो तेरे खौफ से रोने वाली हों”

“ ए मेरी दोनों आँखों मेरे गुनाहों पर क्यों नहीं रोती हो? मेरी उम्र बर्बाद हो गयी और मुझे मालूम भी नहीं हुआ” (– इमाम गजाली र.अ. मुकाशफतुल कुलूब)

हदीस शरीफ में है “कोई एसा बंदा ए मोमिन नहीं जिसकी आँखों से खौफे खुदा से मक्खी के पर के बराबर आंसू बहे और उस की गर्मी उस के चेहरे पर पहुंचे और उसे कभी जहन्नुम की आग छुए”

जनाब मोहम्मद बिन अल मुन्ज़र र.अ. जब अल्लाह के खौफ से रोते तो अपनी दाढ़ी और चेहरे पर आंसू मला करते और कहते “मेने सुना है की वजूद के जिस हिस्से पर आंसू लग जायेंगे उसे जहन्नम की आग नहीं छुएगी”.

हर मोमिन के लिए ज़रूरी है की वह अल्लाह से डरता रहे और अपने आप को नफ्स की ख्वाइशों से रोकता रहे.

अल्लाह का फरमान है

“पस जिस किसी ने नाफ़रमानी की और दुनिया की ज़िन्दगी को सब कुछ जाना उस का ठिकाना जहन्नम है और जो अपने रब के सामने खड़े रहने के मकाम से डरा और अपने नफ्स को ख्वाईशात से रोक दिया तो उस की पनाहगाह जन्नत है.

 

जन्नत में मोमिनों को अल्लाह का दीदार 

जो इन्सान अल्लाह के अजाब से बचना चाहे और सवाब और रहमत का उम्मीदवार हो, उसे चाहिए की दुनिया की मुसीबतों पर सब्र करे. अल्लाह की इबादत करता रहे और गुनाहों से बचता रहे.

ज़हरुर रियाज़  में एक हदीस है की जब जन्नती जन्नत में दाखिल होंगे तो फ़रिश्ते उनके सामने तरह तरह की नेमतें पेश करेंगे उनके लिए फर्श बिछायेंगे, मिम्बर रखे जायेंगे,और उन्हें मुख्तलिफ किस्म के खाने और फल पेश किये जायेंगे, उस वक़्त जन्नती हैरान बैठे होंगे, अल्लाह ताआला  फरमाएगा ए मेरे बन्दों हैरान क्यों हो? यह जन्नत ताज्जुब की जगह नहीं है, उस वक़्त मोमिन अर्ज़ करेंगे या अल्लाह तूने एक वादा किया था जिस का वक़्त आ पहुंचा है, तब फरिश्तों को हुक्मे इलाही होगा की इनके चेहरों से पर्दा उठा लो! फ़रिश्ते अर्ज़ करेंगे की यह तेरा दीदार केसे करेंगे हालाँकि यह गुनाहगार थे? उस वक़्त फरमाने इलाही होगा की तुम हिजाब उठा दो, यह ज़िक्र करने वाले, सजदा करने वाले और मेरे खौफ से रोने वाले थे,और मेरे दीदार के उमीदवार थे. उस वक़्त परदे उठा लिए जायेंगे और जन्नती अल्लाह का दीदार होते ही सजदे में गिर जायेंगे, अल्लाह फरमाएगा सर उठा लो! यह जन्नत दारे-अमल नहीं दारे जज़ा है और वह अपने रब को बे कैफ देखेंगे,

अल्लाह ताआला  फरमाएगा “मेरे बन्दों तुम पर सलामती हो, मैं तुम से राज़ी हूँ, क्या तुम मुझ से राज़ी हो? जन्नती अर्ज़ करेंगे ए हमारे रब ! हम केसे राज़ी नहीं होंगे हालाँकि तूने हमें वह नेमते दी जिनको ना किसी आंख ने देखा, ना किसी कान ने सुना और ना ही किसी दिल में उसका तसव्वुर गुज़रा और यही उस फरमाने इलाही का मक़सूद है की अल्लाह उन से राज़ी हुआ और वह अल्लाह से राज़ी हुए.

-इमाम मोहम्मद गज़ाली र.अ., किताब मुकाशफतुल क़ुलूब

tags-

Allah ka khouf, Allah se Darna,  Taqwa and Fear of Allah in Hindi, Gunah se ruk jana, bani Israel ka kissa, jannat me Allah ka deedar, ummatiyon ke aansu

Net In Hindi.com