150 Motivational Shayari, Inspirational shayari

150 Motivational Shayari, Inspirational shayari

150 मोटिवेशनल शायरी प्रेरणादायक शायरी

Hi Friends, we are presenting very encouraging Motivational Shayari, Inspirational Shayari for you in this page, here are more than 150 Motivational Shayari to encourage you and inspire you.There may come a time when you feel very low and discouraged, in those moments read these motivational shayari and you will see that your bad mood changed. After reading these motivational shayari, you will feel better and inspired, you will get your confidence and enthusiasm back after reading these motivational shayari. Please share this page with your Friends.

Motivational shayari for students

motivational shayari for students who are facing tough exam and challenges, these motivational words can be very helpful and  encouraging. Here are some  motivational shayari in urdu, but words are easy, you can easily understand that.

हेलो दोस्तों, इस पेज पर हम आपके लिए प्रेरक, इन्करेजिंग मोटिवेशनल शायरी प्रस्तुत कर रहे हैं, यहाँ हमने आपको प्रेरणा देने और उत्साह से भरने के लिए 50 से ज्यादा मोटिवेशनल शायरी का संग्रह किया है, हर व्यक्ति के जीवन में कभी ना कभी एसा समय आता है जब वह मायूस हो जाता है, इसे पलों में आप इस पेज पर आकर इस मोटिवेशनल शायरी को पढ़िए, आप देखेंगे की आपका मूड किसी जादू की तरह ठीक हो जायेगा. इस मोटिवेशनल शायरी को पढ़कर आप बहुत अच्छा महसूस करेंगे और आप पाएंगे की आपका आत्म विश्वास और उत्साह लौट आया है,

यह मोटिवेशनल शायरी स्टूडेंट्स के लिए और हर उस इन्सान के लिए फायदेमंद है जो जीवन में एग्जाम या कठिन संघर्ष का सामना कर रहा है, इसमें कुछ मोटिवेशनल शायरी उर्दू के शब्दों के साथ भी है, पर शब्द आसां हैं इसलिए आपको समझने में कोई कठिनाई नहीं होगी .

Loading...

अगर आपको यह मोटिवेशनल शायरी अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर कीजिये.

************************

उठो तो ऐसे उठो की फख्र हो हर बुलंदी को

झुको तो ऐसे झुको बंदगी भी नाज़ करे

आँखों में मंजिले थी गिरे और सँभलते रहे

आंधियों में क्या दम था चिराग हवा में भी जलते रहे

परिंदों को मंजिल मिलेगी यक़ीनन ये फैले हुए उनके पर बोलते हैं

अक्सर वो लोग खामोश रहते हैं ज़माने में जिनके हुनर बोलते हैं

शाम सूरज को ढलना सिखाती है, शमा परवाने को जलना सिखाती है

गिरने वाले को होती तो है तकलीफ पर, ठोकरों ही इन्सान को चलना सिखाती हैं.

मत सोच की तेरा सपना क्यों पूरा नहीं होता

हिम्मत वालों का इरादा कभी अधुरा नहीं होता

जिस इन्सान के करम अच्छे होते हैं

उसके जीवन में कभी अँधेरा नहीं होता

बुलंद हो अज्म तो तारे भी तोड़ सकता है.

कठिन नही है कोई काम आदमी के लिए.

***

तूफान कर रहा था मेरे अज्म^ का तवाफ*,

दुनिया समझ रही थी कश्ती भंवर में है !!

ईन्सान की अज्म से जब दुर किनारा होता है,

टुटी हुई किश्ती का भगवान सहारा होता है।

“है अगर अज्म तो खुद ढूँढ ले अपनी मंजिल –

क्यों किसी गैर से मंजिल का पता मांगे है #सराजोद्दीन_सराज

अज्म क़ामिल हो तो कश्ती लबे साहिल होगी

हौसला चाहिए हर तूफ़ान से टकराने का

हकीकत बनाना है एक फसाने को ,

अज्म दिखाना है अपना जमाने को ,

जब मौत भी दस्तक दे कर पलट गई ,

तो अब बचा ही क्या है आजमाने को …

मैं अपना अज्म लेकर मंजिलों की सिम्त निकला था

150 Motivational Shayari, Inspirational shayari

मशक्कत हाथ पे रक्खी थी, किस्मत घर पे रक्खी थी

न हमसफ़र न कोई रहबर ज़रूरी है

सफ़र के वास्ते अज्म ए सफ़र ज़रूरी है

मेरे हमसफ़र मुझे छोड़ के जो चले गए तो भी क्या हुआ

मेरा हमसफ़र , मेरा हमनशीं , मेरा अज्म है मेरा वकार है

बख्शा है ठोकरों ने संभलने का हौसला…!
हर हादसा अक्ल को गहराई दे गया…!!~Shakil Ahmed

हर गम ने, हर सितम ने,नया होंसला दिया,

150 Motivational Shayari Inspirational shayari

मुझको मिटाने वालो ने, मुझको बना दिया !

चल सफर शुरू करे नए साल की

कश्ती भी है होंसला भी है डर नहीं

ज़रा भी तूफ़ान का दोस्त भी है भरोसा भी है !!

जो सफर की शुरुआत करते हैं,

वो मंज़िल को पार करते हैं,

एकबार चलने का होंसला तो रखो,

मुसाफिरों का तो रस्ते भी इंतज़ार करते हैं।

जिन्दगी में कभी किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो!!

इतना होंसला जरुर रखना कि दिन बुरा था जिन्दगी नहीं

रख होंसला ,किस्मत भी साथ देगी ,किनारा भी आएगा,

देखे है जो ख़्वाब तूने ,उनका सवेरा भी आएगा।

गर्दीशों से ड़रकर तू होंसला ना हार ज़िन्दगी,

देख लेना लौटकर फिर आएगी बहार ज़िन्दगी ।.

जब होंसला बना लिया हे ऊँची उड़ान का,

फिर फ़िज़ूल हे कद देखना आसमान का।

तू पँख ले ले मुझे सिर्फ़ होंसला दे दे..

फिर आँधियों को मेरा नाम और पता दे दे

मंजिल दूर दिखती है पर

पहुँचने की कोशिश करो

मुश्किलें बहुत होती है पर

हटाने की कोशिश करो

हौंसला कम न होने दो

उसे हासिल करने की कोशिश करो

उम्मीद ख़त्म न होने दो

हकीक़त में बदलने की कोशिश करो !!

सिर्फ़ हंगामा खड़ा करना मिरा मक़्सद नहीं

मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

~दुष्यंत कुमार

हो गए कोशिश में अपनी काम वाले कामयाब

और नाकारा मुक़द्दर का गिला करते रहे

~ख़लीलुर्रहमान राज़

जिसने संसार को बदलने की कोशिश की​

​वो हार गया​ ​और​ ​जिसने खुद को बदल लिया​

वो जीत गया।

कोशिश भी कर, उमीद भी रख, रास्ता भी चुन

फिर इस के बाद थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर

~निदा फ़ाज़ली

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है

मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की

#गुलज़ार

चलो इक और कोशिश कर के देखें

यूँही घुट घुट के मर जाना नहीं है

#बिलक़ीस_ज़फ़ीरुल_हसन

कोशिश हज़ार करती रहें तेज़ आँधियाँ

लेकिन वो एक पत्ता अभी तक हिला न था

********************************

खेल ज़िंदगी के तुम खेलते रहो यारो

हार जीत कोई भी आख़िरी नहीं होती

ऐ वक़्त होगा एक दिन तेरा मेरा हिसाब

मेरी जीत जाने कब से तुझ पे उधार है

मैदाँ में हार जीत का यूँ फ़ैसला हुआ

दुनिया थी उनके साथ हमारा ख़ुदा हुआ

– Jamil Malik

मैदाँ की हार जीत तो क़िस्मत की बात है

टूटी है किसके हाथ में तलवार देखना

– Nida Fazli

दुनिया न जीत पाओ तो हारो न आप को

थोड़ी बहुत तो ज़ेहन में नाराज़गी रहे

#NidaFazli

रात को जीत तो पाता नहीं लेकिन ये चराग़

कम से कम रात का नुक़सान बहुत करता है

#इरफ़ान_सिद्दीक़ी

कच्चे घड़े ने जीत ली नद्दी चढ़ी हुई

मज़बूत कश्तियों को किनारा नहीं मिला

#मुस्तफ़ा_ज़ैदी

हम नहीं कुछ भी मगर मारका-ए-इश्क़ की ख़ैर

जीत मक़्सूम हुई उस की जिधर हो गए हम #Pirzada

************

मुक़ाबिल आएँगे हर बार ताज़ा हौसला ले कर

तुझे हम आज़माइश में सितम-ईजाद रक्खेंगे

गुज़री है आज़माइश-ए-महर-ओ-वफ़ा में उम्र

फ़ुर्सत मुझे मिली न कभी इम्तिहान से

#दाग़

हर मुश्किल बदल जाती है आसानी की सूरत में,

अगर दिल आजमाइश के लिये तैयार हो जाये

********

इतना भी ना-उम्मीद दिल-ए-कम-नज़र न हो

मुमकिन नहीं कि शाम-ए-अलम की सहर न हो

कहने को लफ्ज दो हैं उम्मीद और हसरत,

लेकिन निहाँ इसी में दुनिया की दास्ताँ है

दिल ना-उम्मीद तो नहीं नाकाम ही तो है,

लंबी है गम की शाम मगर शाम ही तो है।

~फैज़

उम्मीद में बैठे हैं मंज़िल की राह में,

तू पुकारे तो हौंसलों को इलहाम मिले।

बरखा की स्याह रात में उम्मीद की तरह

निर्भीक जुगनुओं का चमकना भी देखिये.!!

****

कहो नाखुदा से उठा दे वह लंगर,

मैं तूफां की जिद देखना चाहता हूँ !!

हमारी ज़िद है कि दीवानगी ना छोड़ेंगे,

ना तुम भी कोई कसर रखना आज़माने में….

बड़ी काम आई लगन इश्क़ में

मैं गिर-गिर के ख़ुद हि संभलता रहा.!!

मिल सके आसानी से, उसकी ख्वाहिश किसको हैं?

ज़िद तो उसकी है…जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं

****

सियाह रात नहीं लेती नाम ढलने का,

यही तो वक़्त है सूरज तेरे निकलने का !! -शहरयार

वक़्त की चाल का अंदाज़ा तो नहीं मुझे मगर,

वक़्त के साथ टकराने की कोशिश करूँगा मैं सदा।

दुआ की न पूछो की कितनी है कुदरत

उठा के हाथ देखो बदलती है किस्मत।*

*************

Hinglish

utho to aise utho ki phakhr ho har bulandi ko

jhuko to aise jhuko bandagi bhi naaz kare

aankhon mein manjile thi gire aur sanbhalate rahe

aandhiyon mein kya dam tha chiraag hava mein bhi jalate rahe

parindon ko manjil milegi yaqinan ye phaile hue unake par bolate hain

aksar vo log khaamosh rahate hain zamaane mein jinake hunar bolate hain

shaam sooraj ko dhalana sikhaati hai, shama paravaane ko jalana sikhaati hai

girane vaale ko hoti to hai takaliph par, thokaron hi insaan ko chalana sikhaati hain.

mat soch ki tera sapana kyon poora nahin hota

himmat vaalon ka iraada kabhi adhura nahin hota

jis insaan ke karam achchhe hote hain

usake jivan mein kabhi andhera nahin hota

buland ho ajm to taare bhi tod sakata hai.

kathin nahi hai koi kaam aadami ke lie.

***

toophaan kar raha tha mere ajm^ ka tavaaph*,

duniya samajh rahi thi kashti bhanvar mein hai !!

insaan ki ajm se jab dur kinaara hota hai,

tuti hui kishti ka bhagavaan sahaara hota hai.

“hai agar ajm to khud dhoondh le apani manjil –

kyon kisi gair se manjil ka pata maange hai #saraajoddin_saraaj

ajm qaamil ho to kashti labe saahil hogi

hausala chaahie har toofaan se takaraane ka

hakikat banaana hai ek phasaane ko ,

ajm dikhaana hai apana jamaane ko ,

jab maut bhi dastak de kar palat gai ,

to ab bacha hi kya hai aajamaane ko …

main apana ajm lekar manjilon ki simt nikala tha

mashakkat haath pe rakkhi thi, kismat ghar pe rakkhi thi

na hamasafar na koi rahabar zaroori hai

safar ke vaaste ajm e safar zaroori hai

mere hamasafar mujhe chhod ke jo chale gae to bhi kya hua

mera hamasafar , mera hamanashin , mera ajm hai mera vakaar hai

bakhsa hai thokaron ne sanbhaalane ka honsala….

har khyaal ko geharai de gaya.. ~shakaiail ahmaid

har gam ne, har sitam ne,naya honsala diya,

mujhako mitaane vaalo ne, mujhako bana diya !

chal saphar shuroo kare nae saal ki

kashti bhi hai honsala bhi hai dar nahin

zara bhi toofaan ka dost bhi hai bharosa bhi hai !!

jo saphar ki shuruaat karate hain,

vo manzil ko paar karate hain,

ekabaar chalane ka honsala to rakho,

musaaphiron ka to raste bhi intazaar karate hain.

jindagi mein kabhi kisi bure din se roobaroo ho jao to!!

itana honsala jarur rakhana ki din bura tha jindagi nahin

rakh honsala ,kismat bhi saath degi ,kinaara bhi aaega,

dekhe hai jo khvaab toone ,unaka savera bhi aaega.

gardishon se darakar too honsala na haar zindagi,

dekh lena lautakar phir aaegi bahaar zindagi ..

jab honsala bana liya he oonchi udaan ka,

phir fizool he kad dekhana aasamaan ka.

too pankh le le mujhe sirf honsala de de..

phir aandhiyon ko mera naam aur pata de de

manjil door dikhati hai par

pahunchane ki koshish karo

mushkilen bahut hoti hai par

hataane ki koshish karo

haunsala kam na hone do

use haasil karane ki koshish karo

ummid khatm na hone do

hakiqat mein badalane ki koshish karo !!

sirf hangaama khada karana mira maqsad nahin

meri koshish hai ki ye soorat badalani chaahie

~dushyant kumaar

ho gae koshish mein apani kaam vaale kaamayaab

aur naakaara muqaddar ka gila karate rahe

~khalilurrahamaan raaz

jisane sansaar ko badalane ki koshish ki​

​vo haar gaya​ ​aur​ ​jisane khud ko badal liya​

vo jit gaya.

koshish bhi kar, umid bhi rakh, raasta bhi chun

phir is ke baad thoda muqaddar talaash kar

~nida faazali

ek hi khvaab ne saari raat jagaaya hai

main ne har karavat sone ki koshish ki

#gulazaar

chalo ik aur koshish kar ke dekhen

yoonhi ghut ghut ke mar jaana nahin hai

#bilaqis_zafirul_hasan

koshish hazaar karati rahen tez aandhiyaan

lekin vo ek patta abhi tak hila na tha

********************************

khel zindagi ke tum khelate raho yaaro

haar jit koi bhi aakhiri nahin hoti

ai vaqt hoga ek din tera mera hisaab

meri jit jaane kab se tujh pe udhaar hai

maidaan mein haar jit ka yoon faisala hua

duniya thi unake saath hamaara khuda hua

– jamaiail malik

maidaan ki haar jit to qismat ki baat hai

tooti hai kisake haath mein talavaar dekhana

– nid fazli

duniya na jit pao to haaro na aap ko

thodi bahut to zehan mein naaraazagi rahe

#nidafazli

raat ko jit to paata nahin lekin ye charaag

kam se kam raat ka nuqasaan bahut karata hai

#irafaan_siddiqi

kachche ghade ne jit li naddi chadhi hui

mazaboot kashtiyon ko kinaara nahin mila

#mustafa_zaidi

ham nahin kuchh bhi magar maaraka-e-ishq ki khair

jit maqsoom hui us ki jidhar ho gae ham #pirzad

************

muqaabil aaenge har baar taaza hausala le kar

tujhe ham aazamaish mein sitam-ijaad rakkhenge

guzari hai aazamaish-e-mahar-o-vafa mein umr

fursat mujhe mili na kabhi imtihaan se

#daag

har mushkil badal jaati hai aasaani ki soorat mein,

agar dil aajamaish ke liye taiyaar ho jaaye

********

itana bhi na-ummid dil-e-kam-nazar na ho

mumakin nahin ki shaam-e-alam ki sahar na ho

kahane ko laphj do hain ummid aur hasarat,

lekin nihaan isi mein duniya ki daastaan hai

dil na-ummid to nahin naakaam hi to hai,

lambi hai gam ki shaam magar shaam hi to hai.

~phaiz

ummid mein baithe hain manzil ki raah mein,

too pukaare to haunsalon ko ilahaam mile.

barakha ki syaah raat mein ummid ki tarah

nirbhik juganuon ka chamakana bhi dekhiye.!!

****

kaho naakhuda se utha de vah langar,

main toophaan ki jid dekhana chaahata hoon !!

hamaari zid hai ki divaanagi na chhodenge,

na tum bhi koi kasar rakhana aazamaane mein….

badi kaam aai lagan ishq mein

main gir-gir ke khud hi sambhalata raha.!!

mil sake aasaani se, usaki khvaahish kisako hain?

zid to usaki hai…jo mukaddar mein likha hi nahin

****

siyaah raat nahin leti naam dhalane ka,

yahi to vaqt hai sooraj tere nikalane ka !! -shaharayaar

vaqt ki chaal ka andaaza to nahin mujhe magar,

vaqt ke saath takaraane ki koshish karoonga main sada.

dua ki na poochho ki kitani hai kudarat

utha ke haath dekho badalati hai kismat.*

Search Tags

Motivational Shayari, Motivational Hindi Shayari, Motivational Shayari, Motivational whatsapp status, Motivational hindi Status, Hindi Shayari on Motivational, Motivational whatsapp status in hindi, 

मोटिवेशनल हिंदी शायरी,  मोटिवेशनल स्टेटस, मोटिवेशनल  व्हाट्स अप स्टेटस,

Inspirational Shayari, Inspirational Hindi Shayari, Inspirational Shayari, Inspirational whatsapp status, Inspirational hindi Status, Hindi Shayari on Inspirational, Inspirational whatsapp status in hindi,

इन्स्पिरेशनल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, इन्स्पिरेशनल स्टेटस, इन्स्पिरेशनल  व्हाट्स अप स्टेटस