Dil Shayari दिल शायरी

Dil Shayari
Dil Shayari – दिल शायरी

Dil Shayari

Here you can get the best collection of Dil Shayari, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Dil Shayari to your facebook friends.
You can send them as text SMS on Dil Shayari SMS for someone.
These Hindi sher on Dil is excellent in expressing your emotions and love.
For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari.

दिल शायरी

दिल शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस दिल हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी दिल शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। दिल लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं। सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*****************************************************

 

Loading...

दिल के लिये हयात का पैगाम बन गईं
बैचैनियाँ सिमट के तेरा नाम बन गईं

***

ज़रूरी तो नहीं जो ख़ुशी दे उसी से प्यार हो।
क्योकि…
सच्ची मोहब्बत अक्सर दिल तोड़ने वालो से
ही होती है….!!

***

दिल टूटा है सम्भलने में कुछ वक्त तो लगेगा,

हर चीज़ इश्क़ तो नहीं कि एक पल में हो जाये।

***

गलत सुना था कि, इश्क आँखों से होता है..

दिल तो वो भी ले जाते है, जो पलकें तक नही उठाते.!

***

आज भी एक सवाल छिपा है,
दिल के किसी कोने में…….
क्या कमी रह गई थी,
तेरा होने में….?

***

मुझे आदत नहीं यूँ हर किसी पे मर मिटने की…!

पर तुझे देख कर दिल ने सोचने तक की मोहलत ना दी ।।

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

तेरा नाम था आज किसी अजनबी की जुबान पे …

बात तो जरा सी थी, पर दिल ने बुरा मान
लिया …

***

आज फिर दिल ने इक तमन्ना की,
आज फिर दिल को हमने समझाया…

***

“” इस दिल को अगर तेरा एहसास नही होता ….
तू दूर भी रहकर यूं दिल के पास नही होता ….
इस दिल ने तेरी चाहत कुछ ऐसे बसा ली है ….
इक लम्हा भी तुझ बिन कुछ खास नही होता ..

***

टूटा तारा देख कर दिल ने कहा मांग ले तू फ़रियाद कोई,
मैंने कहा जो खुद टूट रहा है, कैसे पूरी करेगा वो मुराद कोई..टूटा तारा देख

***

मैने सो बार कहा दिल से कि भूल जाओ उसे..
दिल ने सो बार कहा कि तु दिल से नही कहता …!!!

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

जब दिल ने तड़पना छोड़ दिया,
जलवों ने मचलना छोड़ दिया

पोशाक बहारों ने बदली,
फूलों ने महकना छोड़ दिया

***

ख्वाब दिल ने तुझे पाने के देख लिये…..
वरना खुशमिजाज हुआ करते थे,
हम भी कभी

***

दिल ने सोचा था उसे टूट कर चाहेंगे,
सच में चाहा भी बहुत टूटे भी बहुत.

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

गुजरा फिर यादों का झोंका ,
दिल ने फिर साँसों को रोका….

***

तेरे लिए इस दिल ने कभी बुरा नही चाहा ।
हां……. यह और बात है कि
……………… मुझे साबित करना नही आया।

***

दिल ने एक उम्मीद बरकरार रखी है….ऐ दोस्तों….,

कही पढ़ लिया था कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है…!!

***

दिल ने आज फिर तेरे दीदार की ख़्वाहिश रखी है,
फुरसत मिले तो ख्वाब में आ जाना…

***

आज किसी ने बातों बातों में, 
जब उन का नाम लिया
दिल ने जैसे ठोकर खाई, 
दर्द ने बढ़कर थाम लिया

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

नहीं में इक़रार महबूब के दिल ने पाया।
उसके नहीं से करार दिल को आया।।
एक नहीं ने मंजिले मोहब्बत को आसाँ बनाया।
नहीं ने दिल की सोई हुई उमंगो को फिर से जगाया।।

***

टूटे हुए दिल ने भी उसके लिए दुआ मांगी,
मेरी साँसों ने हर पल उसकी ख़ुशी मांगी,
न जाने कैसी दिल्लगी थी उस बेवफा से,
के मैंने आखिरी ख्वाहिश में भी उसकी वफ़ा मांगी

***

मैंने कहा वो अजनबी है ।
दिल ने कहा ये दिल की लगी है ।।
मैंने कहा वो सपना है ।
दिल ने कहा फिर भी अपना है ।।
मैंने कहा वो दो पल की मुलाकात है ।
दिल ने कहा ये सदियों का साथ है ।।
मैंने कहा वो मेरी भूल है ।
दिल ने कहा फिर भी कबूल है ।।
मैंने कहा वो मेरी हार है ।
दिल ने कहा यही तो प्यार है ।।

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

दिल ने ना जाने कब ….दर्द से , 
दोस्ती कर ली …
हम तो बस …………….
खामोश निगाहो से ….
ज़िंदगी के कहकहे देखते रहे ….

***

अभी तक मौजूद हैं इस दिल पर तेरे कदमों के निशान, हमने तेरे बाद किसी को इस राह से गुजरने नहीं दिया…

***

क़भी चुपके से मुस्कुरा कर देखना, दिल पर लगे पहरे हटा कर देख़ना,
ये ज़िन्दग़ी तेरी खिलखिला उठेगी, ख़ुद पर कुछ लम्हें लुटा कर देखना |

***

मेरी चाहत देखनी है तो मेरे दिल पर अपना दिल रखकर देख ….. तेरी धडकने न बड़ जाये तो मेरी महोब्बत ठुकरा देना

***

एक कहानी सी दिल पर लिखी रह गयी

वो नज़र जो मुझे देखती रह गयी

रंग सारे ही कोई चुरा ले गया

मेरी तस्वीर अधूरी पड़ी रह गयी …

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

धडकनो को भी रास्ता दे दीजिए जनाब * * * * *आप तो सारे दिल पर कब्जा किए बैठे है

***

मेरे दिल पर जितने तीर
अपनों के लगते जायेगे !!
मेरी कलम में अश्क
उतने ही भरते जायेगे !!
उतारूँगा जिस दिन
इन अश्को को कोरे कागज पर !!
कशम उस खुदा की यारो
मेरे दुश्मन भी मुझे पाने की
चाहत में !!
तड़प-तड़प कर मर जायेगे !!

***

दिल पर हम बेवज़ह इल्ज़ाम लगाते हैं , धोखा तो अक्सर धड़कन दिया करती है I

***

तेरी आँखों में हमे जाने क्या नज़र आया! तेरी यादों का दिल पर सरुर है छाया!

***

पत्थर तो बहुत मारे थे लोगो ने मुझे,,,लेकिन जो दिल पर आ के लगा वो किसी अपने ने मारा था,,,

***

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर

***

दिल पर भी आओ एक नज़र डालते चलें.. शायद छुपे हुए हों यहीं दिन बहार के

***

कुछ नशा तो आपकी बात का है कुछ नशा तो आधी रात का है हमे आप यूँ ही शराबी ना कहिये इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

तुम आओ और कभी दस्तक दो इस दिल पर, प्यार उम्मीद से कम निकले तो सज़ा-ऐ-मौत दे देना……..

***

दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना क्योकि दोस्ती जरा सी नादान होती है

***

ना जाने वो कौनसी बात थी जो ज़हन में आती रही समझा नहीं कुछ दिल पर दिनभर मुझे रुलाती रही

***

वो फैसले कर लेते है .. और हम मजबूर है यह जिंदगी ना सही दिल पर हुक्म तो उनका है .

***

दिमाग पर ज़ोर देकर गिनते हो गलतियां मेरी….. कभी दिल पर हाथ रख के पूछना कि कसूर किसका है…..!!!!!

***

तेरे आशियाने में मेरा नाम न था, पर मेरे दिल पर सिर्फ़ तेरा ही नाम था ।

***

तमन्ना हो अगर मिलने की ,, तो हाथ रखो दिल पर … हम धड़कनों में मिल जायेंगे

***

ना हम रहे दिल लगाने के काबिल ना दिल रहा ग़म उठाने के काबिल लगे उसकी यादों के जो ज़ख़्म दिल पर ना छोड़ा उसने फिर मुस्कुराने के काबिल

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

वार दिल पर जालीम बे-हिसाब करती है, वोह बिखरा कर जुल्फें, हिजाब करती है

***

कुछ ख्वाब सुहाने टूट गए, कुछ यार पुराने रूठ गए., कुछ जख्म लगे थे इस दिल पर., कुछ अंदर से हम टूट गए,

***

चंद चेहरे लगेंगे अपने से , खुद को पर बेक़रार मत करना , आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर? हम न कहते थे प्यार मत करना…”

***

मेरे दिल में ज़्यादा देर तक रुकता नहीं कोई, लोग कहते हैं मेरे दिल पर साया है तेरा…

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

इश्क़ करना है तो फिर हद से गुज़ारना होगा… लहू लहू हो जाए दिल पर आँख न भरने पाए

***

दिल पर जो यादगार रहे उस के मक्र की ऐसा भी कोई नक़्श बना लेना चाहिए

***

उनकी दिल्लगी तो देखो…हमारे दिल पर भारी है… वो तो चल दिए हंसकर, यहाँ बरसात जारी है…!!!

*** (Dil Shayari दिल शायरी)

नज़रों से ना देखो हमें.. तुम में हम छुप जायेंगे.. अपने दिल पर हाथ रखो तुम.. हम वही तुम्हें मिल जायेंगे..!

***

ठान लिया था कि अब और इश्क पर नहीं लिखेंगे.. पर उनका दिल पर दस्तक हुई और अल्फ़ाज़ बग़ावत कर बैठे….

***


 


Hinglish

dil shayri

dil shaayaree ka sabase achchha sangrah yahaan upalabdh hai, aap is dil hindee shaayaree ko apane hindee vaahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya aap is behatareen hindee dil shaayaree ko apane doston ko phesabuk par bhee bhej sakaten hain. dil laphz par hindee ke yah sher, aapake pyaar aur bhaavanaon ko vyakt karane mein aapakee madad kar sakaten hain. sabhee hindee shaayaree kee list yahaan hain. hindi shayari*****************************************************

dil ke liye hayaat ka paigaam ban gaeembaichainiyaan simat ke tera naam ban gaeen***

zarooree to nahin jo khushee de usee se pyaar ho.kyoki…sachchee mohabbat aksar dil todane vaalo sehee hotee hai….!!***

dil toota hai sambhalane mein kuchh vakt to lagega,har cheez ishq to nahin ki ek pal mein ho jaaye.***

galat suna tha ki, ishk aankhon se hota hai..dil to vo bhee le jaate hai, jo palaken tak nahee uthaate.!**

*aaj bhee ek savaal chhipa hai,dil ke kisee kone mein…….kya kamee rah gaee thee,tera hone mein….?***

mujhe aadat nahin yoon har kisee pe mar mitane kee…!par tujhe dekh kar dil ne sochane tak kee mohalat na dee ..***

(dil shayari dil shaayaree)tera naam tha aaj kisee ajanabee kee jubaan pe …baat to jara see thee, par dil ne bura maanaliya …**

*aaj phir dil ne ik tamanna kee,aaj phir dil ko hamane samajhaaya…***””

is dil ko agar tera ehasaas nahee hota ….too door bhee rahakar yoon dil ke paas nahee hota ….is dil ne teree chaahat kuchh aise basa lee hai ….ik lamha bhee tujh bin kuchh khaas nahee hota ..***

toota taara dekh kar dil ne kaha maang le too fariyaad koee,mainne kaha jo khud toot raha hai, kaise pooree karega vo muraad koee..toota taara dekh**

*maine so baar kaha dil se ki bhool jao use..dil ne so baar kaha ki tu dil se nahee kahata …!!!***

(dil shayari dil shaayaree)jab dil ne tadapana chhod diya,jalavon ne machalana chhod diyaaposhaak bahaaron ne badalee,phoolon ne mahakana chhod diya**

*khvaab dil ne tujhe paane ke dekh liye…..varana khushamijaaj hua karate the,ham bhee kabhee***

dil ne socha tha use toot kar chaahenge,sach mein chaaha bhee bahut toote bhee bahut.***

(dil shayari dil shaayaree)gujara phir yaadon ka jhonka ,dil ne phir saanson ko roka….**

*tere lie is dil ne kabhee bura nahee chaaha .haan……. yah aur baat hai ki……………… mujhe saabit karana nahee aaya.***

“dil ne ek ummeed barakaraar rakhee hai….ai doston….,kahee padh liya tha ki sachchee mohabbat lautakar aatee hai…!!***dil ne aaj phir tere deedaar kee khvaahish rakhee hai,phurasat mile to khvaab mein aa jaana…***

aaj kisee ne baaton baaton mein, jab un ka naam liyaadil ne jaise thokar khaee, dard ne badhakar thaam liya***

(dil shayari dil shaayaree)nahin mein iqaraar mahaboob ke dil ne paaya.usake nahin se karaar dil ko aaya..ek nahin ne manjile mohabbat ko aasaan banaaya.nahin ne dil kee soee huee umango ko phir se jagaaya..***

toote hue dil ne bhee usake lie dua maangee,meree saanson ne har pal usakee khushee maangee,na jaane kaisee dillagee thee us bevapha se,ke mainne aakhiree khvaahish mein bhee usakee vafa maangee***

mainne kaha vo ajanabee hai .dil ne kaha ye dil kee lagee hai ..mainne kaha vo sapana hai .dil ne kaha phir bhee apana hai ..mainne kaha vo do pal kee mulaakaat hai .dil ne kaha ye sadiyon ka saath hai ..mainne kaha vo meree bhool hai .dil ne kaha phir bhee kabool hai ..mainne kaha vo meree haar hai .dil ne kaha yahee to pyaar hai ..***

(dil shayari dil shaayaree)dil ne na jaane kab ….dard se , dostee kar lee …ham to bas …………….khaamosh nigaaho se ….zindagee ke kahakahe dekhate rahe ….***

abhee tak maujood hain is dil par tere kadamon ke nishaan, hamane tere baad kisee ko is raah se gujarane nahin diya…**

*qabhee chupake se muskura kar dekhana, dil par lage pahare hata kar dekhana,ye zindagee teree khilakhila uthegee, khud par kuchh lamhen luta kar dekhana |***

meree chaahat dekhanee hai to mere dil par apana dil rakhakar dekh ….. teree dhadakane na bad jaaye to meree mahobbat thukara dena***

ek kahaanee see dil par likhee rah gayee vo nazar jo mujhe dekhatee rah gayee rang saare hee koee chura le gaya meree tasveer adhooree padee rah gayee …***

(dil shayari dil shaayaree)dhadakano ko bhee raasta de deejie janaab * * * *

*aap to saare dil par kabja kie baithe hai***

mere dil par jitane teerapanon ke lagate jaayege !!meree kalam mein ashkutane hee bharate jaayege !!utaaroonga jis dinin ashko ko kore kaagaj par !!kasham us khuda kee yaaromere dushman bhee mujhe paane keechaahat mein !!tadap-tadap kar mar jaayege !!

dil par ham bevazah ilzaam lagaate hain , dhokha to aksar dhadakan diya karatee hai i***

teree aankhon mein hame jaane kya nazar aaya! teree yaadon ka dil par sarur hai chhaaya!***

patthar to bahut maare the logo ne mujhe,,,lekin jo dil par aa ke laga vo kisee apane ne maara tha,,,***

aur to kaun hai jo mujh ko tasallee deta haath rakh detee hain dil par teree baaten aksar***

dil par bhee aao ek nazar daalate chalen.. shaayad chhupe hue hon yaheen din bahaar ke***

kuchh nasha to aapakee baat ka hai kuchh nasha to aadhee raat ka hai hame aap yoon hee sharaabee na kahiye is dil par asar to aap se mulaakaat ka hai***

(dil shayari dil shaayaree)tum aao aur kabhee dastak do is dil par, pyaar ummeed se kam nikale to saza-ai-maut de dena……..***

dostee har chahare kee meethee muskaan hotee hai dostee hee sukh dukh kee pahachaan hotee hai rooth bhee gaai ham to dil par mat lena kyoki dostee jara see naadaan hotee hai***

na jaane vo kaunasee baat thee jo zahan mein aatee rahee samajha nahin kuchh dil par dinabhar mujhe rulaatee rahee**

*vo phaisale kar lete hai .. aur ham majaboor hai yah jindagee na sahee dil par hukm to unaka hai .***

dimaag par zor dekar ginate ho galatiyaan meree….. kabhee dil par haath rakh ke poochhana ki kasoor kisaka hai…..!!!!!***

tere aashiyaane mein mera naam na tha, par mere dil par sirf tera hee naam tha .***

tamanna ho agar milane kee ,, to haath rakho dil par … ham dhadakanon mein mil jaayenge***

na ham rahe dil lagaane ke kaabil na dil raha gam uthaane ke kaabil lage usakee yaadon ke jo zakhm dil par na chhoda usane phir muskuraane ke kaabil***

(dil shayari dil shaayaree)vaar dil par jaaleem be-hisaab karatee hai, voh bikhara kar julphen, hijaab karatee hai***

kuchh khvaab suhaane toot gae, kuchh yaar puraane rooth gae., kuchh jakhm lage the is dil par., kuchh andar se ham toot gae,***

chand chehare lagenge apane se , khud ko par beqaraar mat karana , aakhirash dillagee lagee dil par? ham na kahate the pyaar mat karana…”***

mere dil mein zyaada der tak rukata nahin koee, log kahate hain mere dil par saaya hai tera…***

(dil shayari dil shaayaree)ishq karana hai to phir had se guzaarana hoga… lahoo lahoo ho jae dil par aankh na bharane pae***

dil par jo yaadagaar rahe us ke makr kee aisa bhee koee naqsh bana lena chaahie***

unakee dillagee to dekho…hamaare dil par bhaaree hai… vo to chal die hansakar, yahaan barasaat jaaree hai…!!!***

(dil shayari dil shaayaree)nazaron se na dekho hamen.. tum mein ham chhup jaayenge.. apane dil par haath rakho tum.. ham vahee tumhen mil jaayenge..!***

thaan liya tha ki ab aur ishk par nahin likhenge.. par unaka dil par dastak huee aur alfaaz bagaavat kar baithe….

 

 

Leave a Reply