fareb shayari dhokha shayari

फ़रेब शायरी धोखा शायरी Fareb Shayari hindi

Fareb Shayari, Dhoka shayari

फ़रेब शायरी (धोका शायरी)

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on fareb, Dhoka shayari, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Dhoka Shayari to your facebook friends. These Hindi shayari on dhohkha  is excellent in expressing your emotions.

For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

फ़रेब शायरी (धोका शायरी)  का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस फ़रेब शायरी (धोका शायरी) Fareb Shayari को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। धोका और विश्वासघात पर हिंदी के यह शेर, भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं

फ़रेब शायरी (धोका शायरी) के बारे में अपने विचार …शायरी नीचे कमेंट्स में ज़रूर बताएं ….

*************************************************************************

प्यार करो तो हमेशा मुस्कुरा के,

किसी को धोका ना दो अपना बना के,

कर लो याद जब तक हम ज़िंदा है,

फिर ना कहना की चले गये दिल मे यादें बसा के…

बड़े वसूक़ से दुनिया फ़रेब देती रही

बड़े ख़ुलूस से हम ए’तिबार करते रहे

~शोकत वास्ती

चमक चमक के सितारो मुझे फ़रेब न दो

तुम अपनी रात गुज़ारो मुझे फ़रेब न दो

~शहज़ाद अहमद

 क़दम क़दम फ़रेब है हर राह है दुश्वार,

पाओं में सौ बेड़ियाँ जैसे चलना क़ुसूर है !!

तिरे वा’दों पे कहाँ तक मिरा दिल फ़रेब खाए,

कोई ऐसा कर बहाना मिरी आस टूट जाए !! -फ़ना निज़ामी कानपुरी

हम को लुत्फ़ आता है अब फ़रेब खाने में

आज़माएँ लोगों को, ख़ूब आज़माने में

~आलम ख़ुर्शीद

ये भी फ़रेब से हैं कुछ दर्द आशिक़ी के

हम मर के क्या करेंगे क्या कर लिया है जी के

~असग़र गोंडवी

 आया न एक बार अयादत को तू मसीह

सौ बार मैं फ़रेब से बीमार हो चुका

~AmeerMinai

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Dhoka Status Pictures – Dhoka dp Pictures – Dhoka Shayari Pictures

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया,

तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के !! -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

शोबदा-बाज़ी* किसी की न चलेगी हम पर

तंज़ ओ दुश्नाम** को कहते हो लतीफ़ा समझें

– Bilqis Zafirul Hasan

यक़ीन उसी के वादे पे लाना पड़ेगा

ये धोका तो दानिस्ता खाना पड़ेगा

~मुनीर_भोपाली

फ़रेब खाने को पेशा बना लिया हम ने

जब एक बार वफ़ा का फ़रेब खा बैठे

~अहमद_नदीम_क़ासमी

दुनिया फ़रेब दे के हुनरमंद हो गई

मैं एतेमाद करके गुनाहगार हो गया

~अदम

बरसों फ़रेब खाते रहे दूसरों से हम

अपनी समझ में आए बड़ी मुश्किलों से हम

इक इक क़दम फ़रेब-ए-तमन्ना से बच के चल

दुनिया की आरज़ू है तो दुनिया से बच के चल

~शकील_बदायुनी

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया

तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के

~Faiz

‏جن کا مقصد فریب ہوتا ہے

وہ بڑی سادگی سے ملتے ہیں

जिन का मक़्सद फ़रेब होता है

वो बड़ी सादगी से मिलते हैं

‏यूँ दीजिए फ़रेब-ए-मोहब्बत कि उम्र भर

मैं ज़िंदगी को याद करूँ ज़िंदगी मुझे

~ShakeelBadayuni

जुदाइयाँ हों तो ऐसी कि उम्र भर न मिलें

फ़रेब दो तो ज़रा सिलसिले बढ़ा के मुझे

~अहमद_फ़राज़

हर इक शिकस्त-ए-तमन्ना पे मुस्कुराते हैं

वो क्या करें जो मुसलसल फ़रेब खाते हैं

~राज़_मुरादाबादी

 ज़हे करिश्मा कि यूँ दे रक्खा है हम को फ़रेब,

कि बिन कहे ही उन्हें सब ख़बर है क्या कहिए !! -मिर्ज़ा ग़ालिब

ऐ मुझ को फ़रेब देने वाले

मैं तुझ पे यक़ीन कर चुका हूँ

~अतहर_नफ़ीस

बड़े वसूक़ से दुनिया फ़रेब देती है,

बड़े ख़ुलूस से हम ऐतबार करते हैं !!

ये और बात कि मंज़िल-फ़रेब था लेकिन

हुनर वो जानता था हम-सफ़र बनाने का

~SaleemAhmad

माना ये ज़िंदगी है फ़रेबों का सिलसिला

देखो किसी फ़रेब के जौहर कभी कभी

 समझ लिया था कभी एक सराब को दरिया,

पर एक सुकून था हमको फ़रेब खाने में !! ~JavedAkhtar

तेरे वादों पे कहाँ तक मेरा दिल फ़रेब खाए

कोई ऐसा कर बहाना, मेरी आस टूट जाए

~FanaNizami

अब न बहल सकेगा दिल अब न दिए जलाइए

इश्क़ ओ हवस हैं सब फ़रेब आप से क्या छुपाइए

~AhmadMushtaq

फ़ासला नज़रों का धोका भी तो हो सकता है

वो मिले या न मिले हाथ बढा कर देखो

-निदा फ़ाजली

इस कदर भुखा हु दोस्तों

के आज कल ‘धोका‘ भी खा लेता हु…!

‘हमने तो समझा था फूल खिले

चुन-चुन के देखा तो काँटे मिले

ये अनोखा जहां,हरदम धोका यहाँ

इस वीराने में कैसी बहार’ ‏

 

************************

Dhoka shayari in roman hinglish 

fareb shayari (Dhoka shayari) ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is fareb shayari (Dhoka shayari) faraib shayari ko apane hindi whatsapp status  ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behatarin hindi shayari ko apane doston ko facebook par bhi bhej sakaten hain. Dhoka aur vishvasaghat par hindi ke yah sher, bhavanaon ko vyakt karane mein apaki madad kar sakaten hain
fareb shayari (Dhoka shayari) ke bare mein apane vichar …shayari niche kaments mein zaroor bataen ….

pyar karo to hamesha muskura ke,
kisi ko Dhoka na do apana bana ke,
kar lo yad jab tak ham zinda hai,
fir na kahana ki chale gaye dil me yaden basa ke…

bade vasooq se duniya fareb deti rahi
bade khuloos se ham etibar karate rahe
~shokat vasti

chamak chamak ke sitaro mujhe fareb na do
tum apani rat guzaro mujhe fareb na do
~shahazad ahamad

qadam qadam fareb hai har rah hai dushvar,
paon mein sau bediyan jaise chalana qusoor hai !!

tire vadon pe kahan tak mira dil fareb khae,
koi aisa kar bahana miri as toot jae !! -fana nizami kanapuri

ham ko lutf ata hai ab fareb khane mein
azamaen logon ko, khoob azamane mein
~alam khurshid

ye bhi fareb se hain kuchh dard ashiqi ke
ham mar ke kya karenge kya kar liya hai ji ke
~asagar gondavi

aya na ek bar ayadat ko too masih
sau bar main fareb se bimar ho chuka
~amaiairminai

duniya ne teri yad se begana kar diya,
tujh se bhi dil-fareb hain gam rozagar ke !! -faiz ahamad faiz

shobada-bazi* kisi ki na chalegi ham par
tanz o dushnam** ko kahate ho latifa samajhen

  • bilqis zafirul hasan

    yaqin usi ke vade pe lana padega
    ye Dhoka to danista khana padega
    ~munir_bhopali

    fareb khane ko pesha bana liya ham ne
    jab ek bar vafa ka fareb kha baithe
    ~ahamad_nadim_qasami

duniya fareb de ke hunaramand ho gai
main etemad karake gunahagar ho gaya
~adam

barason fareb khate rahe doosaron se ham
apani samajh mein ae badi mushkilon se ham

ik ik qadam fareb-e-tamanna se bach ke chal
duniya ki arazoo hai to duniya se bach ke chal
~shakil_badayuni

duniya ne teri yad se begana kar diya
tujh se bhi dil-fareb hain gam rozagar ke
~faiz

‏jn ka mqshd fryb ہwt ہے
wہ bڑy sadgy sے mltے ہyں
jin ka maqsad fareb hota hai
vo badi sadagi se milate hain

‏yoon dijie fareb-e-mohabbat ki umr bhar
main zindagi ko yad karoon zindagi mujhe
~shakaiailbadayuni

judaiyan hon to aisi ki umr bhar na milen
fareb do to zara silasile badha ke mujhe
~ahamad_faraz

har ik shikast-e-tamanna pe muskurate hain
vo kya karen jo musalasal fareb khate hain
~raz_muradabadi

zahe karishma ki yoon de rakkha hai ham ko fareb,
ki bin kahe hi unhen sab khabar hai kya kahie !! -mirza galib

ai mujh ko fareb dene vale
main tujh pe yaqin kar chuka hoon
~atahar_nafis

bade vasooq se duniya fareb deti hai,
bade khuloos se ham aitabar karate hain !!

ye aur bat ki manzil-fareb tha lekin
hunar vo janata tha ham-safar banane ka
~salaiaimahmad

mana ye zindagi hai farebon ka silasila
dekho kisi fareb ke jauhar kabhi kabhi

samajh liya tha kabhi ek sarab ko dariya,
par ek sukoon tha hamako fareb khane mein !! ~javaidakhtar

tere vadon pe kahan tak mera dil fareb khae
koi aisa kar bahana, meri as toot jae
~fananizami

ab na bahal sakega dil ab na die jalaie
ishq o havas hain sab fareb ap se kya chhupaie
~ahmadmushtaq

fasala nazaron ka Dhoka bhi to ho sakata hai
vo mile ya na mile hath badha kar dekho
-nida fajali

is kadar bhukha hu doston
ke aj kal Dhoka bhi kha leta hu…!
hamane to samajha tha fool khile
chun-chun ke dekha to kante mile
ye anokha jahan,haradam Dhoka yahan
is virane mein kaisi bahar ‏