Kabir ke dohe in Hindi

Hindi Quotes – Kabir ke dohe in Hindi

अति का भला न बोलना, अति की भली न चुप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।

कबीर के दोहे

ना तो बहुत अधिक बोलना अच्छा है और ना ही ज़रुरत से ज़्यादा चुप रहना ही ठीक है ,
जैसे बहुत अधिक बारिश भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धुप भी अच्छी नहीं होती,
मतलब हर चीज़ की अति बुरी होती है।

Kabir ke dohe in Hindi

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply