shayari on khamoshi

Shayari on Khamoshi  Khamoshiyan Shayari

खामोशी पर शायरी Shayari on Khamoshi  

Shayari on Khamoshi  : Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Khamoshi, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Khamoshi Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Khamoshi is excellent in expressing your emotions and love. For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

Shayari on Khamoshi   : ख़ामोशी पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस ख़ामोशी हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। ख़ामोशी लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं। खामोशियाँ पर शायरी का यहाँ सबसे अच्छा कलेक्शन है.

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

******

मेरी आवाज़ किसी शोर में गर डूब गई

मेरी खामोशी बहुत दूर सुनाई देगी..

~गुलज़ार

 

चेहरा पढ़ कर देखोगे तो जानोगे

ख़ामोशी का क्या क्या मतलब होता है

~इनआम आज़मी

 

ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना

बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता

~जावेद अख़्तर

 

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ

उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

~गुलज़ार

 

रंग दरकार थे हम को तेरी ख़ामोशी के

एक आवाज़ की तस्वीर बनानी थी हमें

~नाज़िर_वहीद

shayari on khamoshi
shayari on khamoshi

जैसे इक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी

आज मिरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Khamoshi Status Pictures – Khamoshi dp Pictures – Khamoshi Shayari Pictures

ख़ामोशी के दल-दल में

कब से मेरे पाँव फँसे हैं !

                      ~गुलज़ार

खामोशी पर शायरी Shayari on Khamoshi

 

कोई जब पूछ बैठेगा ख़ामोशी का सबब तुमसे,

बहुत समझाना चाहोगे मगर समझा ना पाओगे !!

 

ख़ामोशी का हासिल भी इक लम्बी सी ख़ामोशी थी

उन की बात सुनी भी हम ने अपनी बात सुनाई भी

~GulzarTranslate Tweet

 

होने को वो जैसा भी हो, हम हैं तो वो होगा

ख़ामोशी ही ख़ामोशी है इस बात से आगे

~जमील_मज़हरी

 

ख़ामोशी का राज़ खोलना भी सीखो

आँखों की ज़बाँ से बोलना भी सीखो

~सूफ़ी_तबस्सुम

 

मुँह की बात सुने हर कोई दिल के दर्द को जाने कौन

आवाज़ों के बाज़ारों में ख़ामोशी पहचाने कौन

~NidaFazli

 

हम लबों से कह न पाये उन से हाल-ए-दिल कभी

और वो समझे नहीं ये ख़ामोशी क्या चीज़ है

~NidaFazli ~

खामोशी पर शायरी Shayari on Khamoshi

 

रगों में ज़हर-ए-ख़ामोशी उतरने से ज़रा पहले

बहुत तड़पी कोई आवाज़ मरने से ज़रा पहले

 

तन्हाइयों से परहेज़ कुछ यूँ भी है,

की ख़ामोशी में तेरी आवाज़ सुनाई देती है !! ~पाकीज़ा

 

 ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना

बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता

 

ख़ामोशी के कुएँ में उतरो कभी

रेत ही रेत पड़ी है ख़स्ता आवाज़ों की

मुर्दा लफ़्ज़ों के कंकर हैं

काई लगी है दीवारों पर…

~गुलज़ार

 

मुँह की बात सुने हर कोई दिल के दर्द को जाने कौन,

आवाज़ों के बाज़ारों में ख़ामोशी पहचाने कौन !! -निदा फ़ाज़ली

खामोशी पर शायरी Shayari on Khamoshi

 

ये पानी ख़ामोशी से बह रहा है

इसे देखें कि इस में डूब जाएँ

~अहमद_मुश्ताक़

 

हम लबों से कह न पाए उनसे हाल-ए-दिल कभी

और वो समझे नहीं ये ख़ामोशी क्या चीज़ है -निदा फ़ाज़ली

 

जो सुनता हूँ सुनता हूँ मैं अपनी ख़मोशी से

जो कहती है कहती है मुझ से मेरी ख़ामोशी

~BedamShahWarsi

 

यार सब जमा हुए रात की ख़ामोशी में

कोई रो कर तो कोई बाल बना कर आया

~अहमद_मुश्ताक़

 

किताबों से ये हुनर सिखा है हमने,

सब कुछ छिपाए रखो खुद में,

मगर ख़ामोशी से…!!!

-गुलज़ार

 जिन्हों ने सजाये यहा मेले

सुख दुख संग संग झेले

वही चुनकर खामोशी

यूँ चले जाये अकेले कहा..

बस एक एहसास की ख़ामोशी है-गूँजती है

बस एक तकमील का अँधेरा है-जल रहा है

गुलज़ार

 

मेरी आवाज किसी शोर में गर डूब गयी

मेरी ख़ामोशी बहुत दुर सुनाई देगी

-गुलज़ार

 

प्यार कोई बोल नहीं

प्यार आवाज नहीं

इक ख़ामोशी है,सुनती है,कहा करती है..!

-गुलज़ार

 

इस ख़ामोशी को मेरी कमज़ोरी मत समझना,

कलम झटकता हु तो सियाही अब भी दुर तक जाती है !

-गुलज़ार

 

मुहँ की बात सुने है कोई

दिल के दर्द को जाने कौन।

आवाजों के बाज़ारों में

ख़ामोशी पहचाने कौन?

-निदा फाजली

 

 है कुछ तो बात ‘मोमिन’ जो छा गई ख़ामोशी

किस बुत को दे दिया क्यूँ बुत से बन गए हो ~Momin

 

ख़ामोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है

तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है

 

ख़ामोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है

 तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है

खामोशी पर शायरी Shayari on Khamoshi

Shad Azimabadi

 

————–

Hinglish Font me Khamoshi Shayari, Khamoshiyon par Shayari

Khamoshi par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is Khamoshi hindi shayari ko apane hindi vahatsepp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behatarin hindi shayari ko apane doston ko phesabuk par bhi bhej sakaten hain. Khamoshi laphz par hindi ke yah sher, apaki bhavanaon ko vyakt karane mein apaki madad kar sakaten hain. Khamoshiyan par shayari ka yahan sabase achchha kalekshan hai.

sabhi hindi shayari ki list yahan hain. hindi shayari

 

meri avaz kisi shor mein gar doob gai

meri khamoshi bahut door sunai degi..

~gulazar

 

chehara padh kar dekhoge to janoge

khamoshi ka kya kya matalab hota hai

~inam azami

 

galat baton ko khamoshi se sunana hami bhar lena

bahut hain faede is mein magar achchha nahin lagata

~javed akhtar

 

kitani lambi khamoshi se guzara hoon

un se kitana kuchh kahane ki koshish ki

~gulazar

 

rang darakar the ham ko teri khamoshi ke

ek avaz ki tasvir banani thi hamen

~nazir_vahid

 

jaise ik toofan se pahale ki khamoshi

aj miri basti mein aisa sannata hai

 

khamoshi ke dal-dal mein

kab se mere panv phanse hain !

                      ~gulazar

koi jab poochh baithega khamoshi ka sabab tumase,

bahut samajhana chahoge magar samajha na paoge !! 2/4

 

khamoshi ka hasil bhi ik lambi si khamoshi thi

un ki bat suni bhi ham ne apani bat sunai bhi

~gulzartranslatai twaiait

 

hone ko vo jaisa bhi ho, ham hain to vo hoga

khamoshi hi khamoshi hai is bat se age

~jamil_mazahari

 

khamoshi ka raz kholana bhi sikho

ankhon ki zaban se bolana bhi sikho

~soofi_tabassum

 

munh ki bat sune har koi dil ke dard ko jane kaun

avazon ke bazaron mein khamoshi pahachane kaun

~nidafazli

 

ham labon se kah na paye un se hal-e-dil kabhi

aur vo samajhe nahin ye khamoshi kya chiz hai

~nidafazli ~rip

 

ragon mein zahar-e-khamoshi utarane se zara pahale

bahut tadapi koi avaz marane se zara pahale

 

tanhaiyon se parahez kuchh yoon bhi hai,

ki khamoshi mein teri avaz sunai deti hai !! ~pakiza

 

 galat baton ko khamoshi se sunana hami bhar lena

bahut hain faede is mein magar achchha nahin lagata

 

khamoshi ke kuen mein utaro kabhi

ret hi ret padi hai khasta avazon ki

murda lafzon ke kankar hain

kai lagi hai divaron par…

~gulazar

munh ki bat sune har koi dil ke dard ko jane kaun,

avazon ke bazaron mein khamoshi pahachane kaun !! -nida fazali

 

ye pani khamoshi se bah raha hai

ise dekhen ki is mein doob jaen

~ahamad_mushtaq

 

ham labon se kah na pae unase hal-e-dil kabhi

aur vo samajhe nahin ye khamoshi kya chiz hai -nida fazali

 

jo sunata hoon sunata hoon main apani khamoshi se

jo kahati hai kahati hai mujh se meri khamoshi

~baidamshahwarsi

 

yar sab jama hue rat ki khamoshi mein

koi ro kar to koi bal bana kar aya

~ahamad_mushtaq

 

kitabon se ye hunar sikha hai hamane,

sab kuchh chhipae rakho khud mein,

magar khamoshi se…!!!

-gulazar

 jinhon ne sajaye yaha mele

sukh dukh sang sang jhele

vahi chunakar khamoshi

yoon chale jaye akele kaha..

bas ek ehasas ki khamoshi hai-goonjati hai

bas ek takamil ka andhera hai-jal raha hai

gulazar

 

meri avaj kisi shor mein gar doob gayi

meri khamoshi bahut dur sunai degi

-gulazar

 

pyar koi bol nahin

pyar avaj nahin

ik khamoshi hai,sunati hai,kaha karati hai..!

-gulazar

 

is khamoshi ko meri kamazori mat samajhana,

kalam jhatakata hu to siyahi ab bhi dur tak jati hai !

-gulazar

 

muhan ki bat sune hai koi

dil ke dard ko jane kaun.

avajon ke bazaron mein

khamoshi pahachane kaun?

-nida phajali

 

 hai kuchh to bat momin jo chha gai khamoshi

kis but ko de diya kyoon but se ban gae ho ~momin

 

khamoshi se musibat aur bhi sangin hoti hai

tadap ai dil tadapane se zara taskin hoti hai

 

khamoshi se musibat aur bhi sangin hoti hai

 tadap ai dil tadapane se zara taskin hoti hai

shad azimabadi

*****

 

Search Tags

Khamoshi Shayari, Khamoshi Hindi Shayari, Khamoshi Shayari, Khamoshi whatsapp status, Khamoshi hindi Status, Hindi Shayari on Khamoshi, Khamoshi whatsapp status in hindi,

ख़ामोशी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ख़ामोशी, ख़ामोशी स्टेटस, ख़ामोशी व्हाट्स अप स्टेटस, ख़ामोशी पर शायरी, ख़ामोशी शायरी, ख़ामोशी पर शेर, ख़ामोशी की शायरी,

खामोशियाँ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, खामोशियाँ, खामोशियाँ स्टेटस, खामोशियाँ व्हाट्स अप स्टेटस, खामोशियाँ पर शायरी, खामोशियाँ शायरी, खामोशियाँ पर शेर, खामोशियाँ की शायरी,