Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी
Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

 

बहार के खुशनुमा और खिलते हुए फूलों के सुहाने मोसम पर शायरीl,

Hindi Shayari on Spring season.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी

*****************************************************************************

 

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

~Faraz

***

फिर उसके बाद वही बासी मंजरों के जुलूस,

बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है।

~राहत_इंदौरी

****

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

****

वो गुलबदन कभी निकला जो सैर ए सहरा को

तो अपने साथ हवा ए बहार कर लेगा।

***

Bahaar Status Pictures – Bahaar dp Pictures – Bahaar Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Bahaar Status Pictures – Bahaar dp Pictures – Bahaar Shayari Pictures

दरीचे जहन के मै बन्द कर नहीं सकता

दिमाग अपना मुझे पुर बहार करना है।

*** Bahaar Shayari in Hindi

तुम ने हम जैसे मुसाफ़िर भी न देखे होंगे

जो बहारों से चले और ख़िज़ाँ तक पहुँचे

~इक़बाल अज़ीम

***

तुम कहो तो   .. बहार बनकर

सब मौसमों को मात देदूं। ?

***

और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे

कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे

~गोपालदास नीरज

*** Bahaar Shayari in Hindi

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !! Bi

***

कोई एसी बजमे बहार हो जहाँ मैं यकीं दिला सकूं

कि तेरा नाम है फसले गुल कि तुझी से हैं ये करामतें

***

जला के दाग़-ए-मुहब्बत ने दिल को ख़ाक किया

बहार आई मेरे बाग में ख़िज़ां की तरह

~दाग़

***

उग रहा है दरो दीवार में सबजा गालिब

हम बयाबां में हैं और घर में बहार आई है

~galib

***

हमीं से रंग-ए-गुलिस्ताँ हमीं से रंग-ए-बहार

हमीं को नज़्म-ए-गुलिस्ताँ पे इख़्तियार नहीं ~साहिर

***

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

*** Bahaar Shayari in Hindi

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

मुझे उस जुनूँ की है जुस्तुजू जो चमन को बख़्श दे रंग ओ बू

जो नवेद-ए-फ़स्ल-ए-बहार हो मुझे उस नज़र की तलाश है

***

 

आमद से पहले तेरी सजाते कहाँ से फूल,

मौसम बहार का तो तेरे साथ आया है !!

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

अपना बर्बाद आशियाँ देखते हैं तो याद आता है,

बहारें भी उजाड़ देती हैं तिनकों से बने घरौंदों को।

~पाकीज़ा

***

ढाएगा सौ क्यामतें , तौबा की ख़ैर हो

दौर-ए-बहार में ये उमड़ना सहाब का

*** Bahaar Shayari in Hindi

उरूज पर है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहाँ से होता है

***

 

यूँ ही शायद दिल-ए-वीराँ में बहार आ जाए,

ज़ख़्म जितने मिलें सीने पे सजाते चलिए !!

***

इश्क़ में दिल के इलाक़े से गुजरती है बहार,

दर्द अहसास तक आए तो नमी तक पहुँचे

***

जब हम रुकें तो साथ रुके शम-ए-बेकसी,

जब तुम रुको बहार रुके, चाँदनी रुके !!

****

काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बाँ,

ये भी गुलों के साथ पले हैं बहार में !!

 

*** Bahaar Shayari in Hindi

मौसम-ए-बहार है अम्बरीं ख़ुमार है

किस का इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !! -अदम

***

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

***

कांटा समझ के मुझ से न दामन बचाइए,

गुजरी हुई बहार की इक यादगार हूँ !!

***

न खिजाँ में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रौशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गए,कहीं बुझ गए !!

***

नाम भी लेना है जिस का इक जहान-ए-रंग-ओ-बू

दोस्तो उस नौ-बहार-ए-नाज़ की बातें करो !!

***

ना गुल खिले हैं, ना उन से मिले, ना मय पी है,

अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~faiz

*** Bahaar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

जो देख लेगा हर बशर् उसको खुद में ही कहीं,

तो मज़हबी इमारतों के बहार फ़कीर कोई होगा नहीं।

***

बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं,

फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में।

***

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

*** Bahaar Shayari in Hindi

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,

चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !!

***

खुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तज़ू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है !! -~Gulzar

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है 1/2- ~रहबर

***

देख जिंदा से परे रंगे चमन जोशे बहार

रकस करना है तो पावं की जंजीर न देख!

*** Bahaar Shayari in Hindi

लेके अपनी-अपनी किस्मत आए थे गुलशन में गुल

कुछ बहारों मे खिले और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए

~राजेश रेड्डी

***

मौसम-ए-गुल में तो आ जाती है काँटों पे बहार

बात तो जब है ख़िजाँ में गुल-ए-तर पैदा कर

~फ़ना निज़ामी

***

देख जा आ के महक़ते हुए ज़ख्मों की बहार

मैंने अब तक तेरे गुलशन को सजा रक्खा है.!!

***

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

*** Bahaar Shayari in Hindi

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

***

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

*** Bahaar Shayari in Hindi

आ कहीं मिलते हैं हम ताक़ि बहारें आ जाएँ।।

इससे पहले कि ता’अल्लुक़ में दरारें आ जाएँ..!!

***

 

Search Tags

Bahaar Shayari in Hindi, Bahaar Hindi Shayari, Bahaar par Shayari, Bahaar whatsapp status, Bahaar hindi Status, Hindi Shayari on Bahaar, Bahaar whatsapp status in hindi, Bahaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Spring Shayari, Spring Hindi Shayari, Spring Shayari, Spring whatsapp status, Spring hindi Status, Spring whatsapp status in hindi, Spring Shayari in Hindi Font

 बहार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहार, बहार स्टेटस, बहार व्हाट्स अप स्टेटस, बहार पर शायरी, बहार शायरी, बहार पर शेर, बहार की शायरी,


Bahaar Shayari in Roman Hinglish

 

pyar mein ek hi mausam hai baharon ka mausamalog mausam ki tarah fir kaise badal jate hain~faraz**

 

*fir usake bad vahi basi manjaron ke juloos,bahar chand hi lamhe bahar rahati hai.~rahat_indauri***

 

*jo tum muskura do baharen hanse, sitaron ki ujali kataren hansejo tum muskura do nazaren hanse, javan dhadakanon ke ishare hanse***

 

*vo gulabadan kabhi nikala jo sair e sahara koto apane sath hava e bahar kar lega.*

 

**dariche jahan ke mai band kar nahin sakatadimag apana mujhe pur bahar karana hai.**

 

* bahar shayari in hinditum ne ham jaise musafir bhi na dekhe hongejo baharon se chale aur khizan tak pahunche~iqabal azim

 

***tum kaho to .. bahar banakarasab mausamon ko mat dedoon. ?*

 

**aur ham khade-khade bahar dekhate rahekaravan guzar gaya gubar dekhate rahe~gopaladas niraj***

 

bahar shayari in hindikhar bhi zist-e-gulistan hain,fool hi hansil-e-bahar nahin !! bi***

 

koi esi bajame bahar ho jahan main yakin dila sakoonki tera nam hai fasale gul ki tujhi se hain ye karamaten**

 

*jala ke dag-e-muhabbat ne dil ko khak kiyabahar ai mere bag mein khizan ki tarah~dag***

 

ug raha hai daro divar mein sabaja galibaham bayaban mein hain aur ghar mein bahar ai hai~galib*

 

**hamin se rang-e-gulistan hamin se rang-e-baharahamin ko nazm-e-gulistan pe ikhtiyar nahin ~sahir*

 

**shiddat se baharon ke intezar mein sab haimpar fool mohabbat ke to khilane nahin dete**

 

* bahar shayari in hindiun ki ulfat ka yakin ho un ke ane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahar-e-intazar**

 

*mujhe us junoon ki hai justujoo jo chaman ko bakhsh de rang o boojo naved-e-fasl-e-bahar ho mujhe us nazar ki talash hai**

 

*amad se pahale teri sajate kahan se fool,mausam bahar ka to tere sath aya hai !!***

 

un ki ulfat ka yakin ho un ke ane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahar-e-intazar**

 

*apana barbad ashiyan dekhate hain to yad ata hai,baharen bhi ujad deti hain tinakon se bane gharaundon ko.~pakiza*

 

**dhaega sau kyamaten , tauba ki khair hodaur-e-bahar mein ye umadana sahab ka*

 

** bahar shayari in hindiurooj par hai chaman mein bahar ka mausamasafar shuroo khizan ka yahan se hota hai*

 

**yoon hi shayad dil-e-viran mein bahar a jae,zakhm jitane milen sine pe sajate chalie !!*

 

**ishq mein dil ke ilaqe se gujarati hai bahar,dard ahasas tak ae to nami tak pahunche*

 

**jab ham ruken to sath ruke sham-e-bekasi,jab tum ruko bahar ruke, chandani ruke !! ***

 

*kanton ko mat nikal chaman se o bagaban,ye bhi gulon ke sath pale hain bahar mein !!*

 

** bahar shayari in hindimausam-e-bahar hai ambarin khumar haikis ka intizar hai gesuon ko kholie !! -adam***

 

fir dekh usaka rang nikharata hai kis tarah,doshije- khijan ko khitab-e-bahar de !! -adam*

 

**kanta samajh ke mujh se na daman bachaie,gujari hui bahar ki ik yadagar hoon !!**

 

*na khijan mein hai koi tiragi, na bahar mein koi raushani,ye najar-najar ke charag hai, kahin jal gae,kahin bujh gae !!*

 

**nam bhi lena hai jis ka ik jahan-e-rang-o-boodosto us nau-bahar-e-naz ki baten karo !!**

 

*na gul khile hain, na un se mile, na may pi hai,ajib rang mein abake bahar guzari hai.~faiz**

 

* bahar shayari in hindilutf jo us ke intazar mein haivo kahan mausam-e-bahar mein hai !!***

 

jo dekh lega har bashar usako khud mein hi kahin,to mazahabi imaraton ke bahar fakir koi hoga nahin.**

 

*be mausam barasat se andaza lagata hoon main,fir kisi masoom ka dil tuta hai mausam-e-bahar mein.*

 

**ulfat ke maron se na poochhon alam intazar kapatajhad si hai zindagi, khyal hai bahar ka.*

 

** bahar shayari in hindiaj hai vo bahar ka mausam,fool todoon to hath jam ae !!**

 

*ik nau-bahar-e-naz ko take hai fir nigah,chehara furog-e-may se gulistan kiye hue !!*

 

**khushaboo gunche talash karati haibite rishte talash karati haiapane mazi ki justazoo mein baharapile patte talash karati hai !! -~gulzar**

 

*apane lie bhi mausame gul hai bahar hai,jab se suna hai unako mera intazar hai 1/2- ~rahabar***

 

dekh jinda se pare range chaman joshe bahararakas karana hai to pavan ki janjir na dekh!***

 

bahar shayari in hindileke apani-apani kismat ae the gulashan mein gulakuchh baharon me khile aur kuchh khizan mein kho gae~rajesh reddi**

 

*mausam-e-gul mein to a jati hai kanton pe baharabat to jab hai khijan mein gul-e-tar paida kar~fana nizami***

 

dekh ja a ke mahaqate hue zakhmon ki baharamainne ab tak tere gulashan ko saja rakkha hai.!!**

 

*ye khijan ki zard si shal mein ji udas ped ke pas haiye tumhare ghar ki bahar hai ise ansuo se hara karo***

 

bahar shayari in hindipalakon se ansuon ki qataron ko ponchh lopatajhad ki bat thik nahin hai bahar mein.!!**

 

*kaun se nam se tabir karoon is root ko..fool murajhaen hain zakhmon pe bahar ai hai..!!**

 

* bahar shayari in hindia kahin milate hain ham taqi baharen a jaen..isase pahale ki talluq mein dararen a jaen..!!***

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!