Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी
Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी

Kajal Shayari in Hindi

काजल पर शायरी

आँखों के खूबसूरत काजल पर शेर ओ शायरी,

Hindi Poetry on the Kajal of Eyes

 

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******

 

गाँव छोड़ा तो कई आँखों में काजल फैला

शहर पहुँचा तो किसी माथे पे झूमर झूमा #बशीर_बद्र

***

“काँपती लौ, ये स्याही, ये धुआँ, ये काजल

उम्र सब अपनी इन्हें गीत बनाने में कटी

कौन समझे मेरी आँखों की नमी का मतलब

ज़िन्दगी गीत थी पर जिल्द बंधाने में कटी” (नीरज)

***

तेरी आँखों में समा जाऊँगा काजल की तरह,

तू ढूँढती रह जायेगी मुझे पागल की तरह,,

***

काजल लगे नैनो मे डोरे हुए गुलाबी

कैफियते अंजाम तमाम शहर हुआ शराबी

***

शाम की लाली रात का काजल सुबह की तक़दीर हो तुम

हो चलता फिरता ताजमहल सांसे लेता कश्मीर हो तुम

*** Kajal Shayari in Hindi

आईना नज़र लगाना चाहे भी तो कैसे लगाए,

काजल लगाती है वो आईने में देखकर।

***

गीली मेंहदी रोई होगी, छुपके घर के कोने में!

ताजा काजल छूटा होगा, चुपके-चुपके रोने में!

***

उसका लिक्खा हुआ हर शख्स नहीं पढ़ सकता

वो मिला लेता है काजल में हमेशा आँसू

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

काजल  Status Pictures – काजल dp Pictures – काजल Shayari Pictures

**

 

वो जो अफसाना-ए-ग़म सुन सुन के हंसा करते थे

इतना रोए कि सब आंख का काजल निकला

*** Kajal Shayari in Hindi

ज़रा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,

दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है !~Munavvar Rana

***

तेरे मासूम चहरे पर, अदा अच्छी लगती है।

जिस घडी तु हंस दे, वो दुआ सच्ची लगती है।।

तेरी आँखों में काजल, इक लकीर सी बनाता है।

समंदर पर, ये नक्काशी अच्छी लगती है।।

***

एक मायने में आँखों की हद है ये काजल,

पर तुम्हारी आँखों में हसीन बेहद है ये काजल

***

बांटू ना किसी से साया भी तेरा..

काजल जहाँ वहाँ तेरा बसेरा

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल रखो आँखों में, इंतज़ार ना रखो।

खूबसूरत हो तुम, खूबसूरत रहो। बेक़रार न लगो।

***

बादलों से गिरके एक काजल का कतरा होठों पे तेरे तिल बन के सज गया

नज़र लगे ना तुमको किसी की होटों से निकली थी दुआ आसमानों ने सुन लिया

***

 

अलसायी सुबह, फैले हुए काजल में, बिखरे हुए आँचल में,

बचाते बचाते छिपाते छिपाते नुमायां होती है कविता कोई रात की

*** Kajal Shayari in Hindi

रात की चादर पर बूंदे ओस की मोती सी सुबह के आँचल में गर्मी सूरज सी

सब बिखर गया स्याह काजल की तरह ख्वाब यूँ टूटे …..पंखुड़ियां लगी रोती सी

 

हम को तो जान से प्यारी है तुम्हारी आंखे

हाय काजल भरी मदहोश ये प्यारी आंखे

***

चांदनी रात भी जल जाये जब तू काजल लगा के आए

ये दिल भी मेरा हलचल मचाये जब तू काजल लगा के आए

***

गीले लब़~कातिल निगाहें गज़ब का काजल~गुलाबी हो़ठ

पगली तु ही बता ये दिल तुम पे न मरता तो क्या करता

***

काजल,आँखे ,जुल्फ़े,झुमका,चेहरा,बिंदिया

हाये दिल हार गए हम तुम्हे बेनकाब देखकर…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

 

बहुत रोई हुई लगती है आँखें

मेरी ख़ातिर ज़रा काजल लगा लो

***

बसे हो काजल की तरह नैनो मे बन के सपने

रचे हो मेहँदी की तरह हाथो बन के लकीरे

सजे हो लाली की तरह होठो पे बन के मुस्कराहटें

***

लग जाएगी नज़र दुनिया की, जान लो

लगा लो काजल चेहरे पर, गुजारिश मान लो।

***

आंख से बिछड़े काजल को तहरीर बनाने वाले

मुश्किल में पड़ जाएंगे तस्वीर बनाने वाले।

***

वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा

हथेली पे इस के हिना महकी महकी ~Hasrat

***

आज फिर हुस्न-ए-दिलारा की वही धज होगी

वो ही ख़्वाबिदा सी आँखें, वो ही काजल की लकीर

*** Kajal Shayari in Hindi

 

हाथ से मेहँदी न बिखरी, आँखों का काजल सलामत

ये भी कोई बात थी, सखी पिया मिलन की रात थी

***

शायद किसी रोज तुम समझ पाओ इस दिल की बेकरारी

और तुम्हारी आंखों के काजल का कोई बहुत गहरा रिश्ता है

***

काजल लगाकर आप महफ़िल के अन्दाज़ को अपना बनाने लगे,

हम तो गाने लगे आपके लिए मोहब्बत में ग़ज़ल

जैसे आप चाँद बनके हमारे लिए रोशनी फैलाने लगे.

***

काजल की क़िस्मत क्या कहिये, नैनों में तूने बसाया

आँचल की क़िस्मत क्या कहिये, तूने अंग लगाया हैं

*** Kajal Shayari in Hindi

काजल बिंदियॉ, कंगन झुमके, ये मेरे ख़ज़ाने हैं,

दिल पंछी बनके उड़ जाता है, हम खोये खोये रहते हैं,,

***

काजल लागे किरकरो, सुरमा सहा ना जाए !

जिन नैनंन में साजन बसे,दूजा कौन समाये !!

***

 

जो बरस जाये वही बादल अच्छे हैं,

जो निगाहों को सजा दे वही काजल सच्चे हैं,

सयानों ने कुछ इस कदर बर्बाद कर दी है दुनिया,

हमें पागल ही रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं…!!

***

उस की आँखों में भी काजल फैल रहा है

मैं भी मुड़ के जाते जाते देख रहा हूँ ~जावेद_अख़्तर

***

मुहब्बत की बेनूर ख्वाहिशें और……तेरा गम

हम बिखर से गये….आँखों से काजल की तरह ”

*** Kajal Shayari in Hindi

हाँ, एक और शाम रंगीन हुई है तुम्हारे आँचल की तरह…

और देखो, सुरमयी रंग सजा है तुम्हारे काजल की तरह…

***

महिफल मे आज फिर क़यामत की रात हो गई,

हमने लगाया अपने आखो मे काजल और बिन बादल बरसात हो गई.

***

 

जिसे भी देख लो तुम, वो हुआ एक पल में दीवाना,

तिलिस्मी है बहोत सनम, तुम्हारी आँखों का काजल !!

***

गुलाब से गुलाब का रंग तेरे गालों पे आया; तेरे नैनों ने काली घटा का काजल लगाया;

जवानी जो तुम पर चढ़ी तो नशा मेरी आँखों में आया।

*** Kajal Shayari in Hindi

मेहंदी रची हथेली मेरी ……मेरे काजल वाले नैन रे …….

पिया पल पल तुझे पुकारते होकर बैचेन रे

***

ये नैना ये काजल ये जुल्फे ये आँचल खूबसूरत सी हो

तुम ग़ज़ल कभी दिल हो कभी धड़कन कभी शोला कभी शबनम

तुम्ही ही हो तुम मेरी हमदम

***

हौंसला तुझ में न था मुझसे जुदा होने का;

वरना काजल तेरी आँखों का न यूँ फैला होता।

***

 

जो बनाई है तिरे काजल से तस्वीरे-मुहब्बत,

अभी तो प्यार के रंग से सजाया ही कहाँ है.

***

एक बार इशारा तो कर दे दिल और जिगर तो कुछ भी नहीं

मै खुद को जला सकता हूँ, तेरी आँखों के काजल के लिये…।

***

न रोओ आँख का काजल, निकल कर छूट जायेगा !

ये दिल तेरे अश्क बूंदों में, फिसल कर टूट जायेगा !!

***

याद है अब तक तुझसे बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे…

तू ख़ामोश खडी थी लेकिन बातें करता था काजल…!!!

*** Kajal Shayari in Hindi

संभालकर ज़रा रखियेगा कदम फूल बिखरे है मगर ठेस लग जायेगी

ये काजल लगाने का क्या फायदा रूप ऐसा है नज़र लग जायेगी !!!!

***

बावरा हुआ जाता हूँ तेरी अखियों में इश्क देखकर,,,

मेरी उम्मीदों का मक़सद तेरी आँखों का काजल ही तो है..!

***

 

Search Tags

Kajal Shayari, Kajal Hindi Shayari, Kajal par Shayari, Kajal whatsapp status, Kajal hindi Status, Hindi Shayari on Kajal, Kajal whatsapp status in hindi, Ankhon ke kajal par shayari,

काजल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, काजल, काजल स्टेटस, काजल व्हाट्स अप स्टेटस, काजल पर शायरी, काजल शायरी, काजल पर शेर, काजल की शायरी, Ankhon ke kajal par shayari


Hinglish

Kajal Shayari in english font 

 

ankhon ke khoobasoorat kajal par sher o shayari,hindi poaitry on thai kajal of aiyais

ganv chhoda to kai ankhon mein kajal failashahar pahuncha to kisi mathe pe jhoomar jhooma #bashir_badr***

“kanpati lau, ye syahi, ye dhuan, ye kajalumr sab apani inhen git banane mein katikaun samajhe meri ankhon ki nami ka matalabazindagi git thi par jild bandhane mein kati” (niraj)***

teri ankhon mein sama jaoonga kajal ki tarah,too dhoondhati rah jayegi mujhe pagal ki tarah,,***

kajal lage naino me dore hue gulabikaifiyate anjam tamam shahar hua sharabi***

sham ki lali rat ka kajal subah ki taqadir ho tumaho chalata firata tajamahal sanse leta kashmir ho tum**

* kajal shayari in hindi aina nazar lagana chahe bhi to kaise lagae,kajal lagati hai vo aine mein dekhakar.**

*gili menhadi roi hogi, chhupake ghar ke kone mein!taja kajal chhoota hoga, chupake-chupake rone mein!**

*usaka likkha hua har shakhs nahin padh sakatavo mila leta hai kajal mein hamesha ansoo*

*vo jo afasana-e-gam sun sun ke hansa karate theitana roe ki sab ankh ka kajal nikala**

* kajal shayari in hindizara si bat hai lekin hava ko kaun samajhae,diye se meri man mere lie kajal banati hai !~munavvar ran*

**tere masoom chahare par, ada achchhi lagati hai.jis ghadi tu hans de, vo dua sachchi lagati hai..teri ankhon mein kajal, ik lakir si banata hai.samandar par, ye nakkashi achchhi lagati hai..***

ek mayane mein ankhon ki had hai ye kajal,par tumhari ankhon mein hasin behad hai ye kajal.**

*bantoo na kisi se saya bhi tera..kajal jahan vahan tera basera***

kajal shayari in hindikajal rakho ankhon mein, intazar na rakho.khoobasoorat ho tum, khoobasoorat raho. beqarar na lago.**

*badalon se girake ek kajal ka katara hothon pe tere til ban ke saj gayanazar lage na tumako kisi ki hoton se nikali thi dua asamanon ne sun liya**

*alasayi subah, faile hue kajal mein, bikhare hue anchal mein,bachate bachate chhipate chhipate numayan hoti hai kavita koi rat ki**

* kajal shayari in hindirat ki chadar par boonde os ki moti si subah ke anchal mein garmi sooraj sisab bikhar gaya syah kajal ki tarah khvab yoon toote …..pankhudiyan lagi roti siham ko to jan se pyari hai tumhari ankhehay kajal bhari madahosh ye pyari ankhe**

*chandani rat bhi jal jaye jab too kajal laga ke aeye dil bhi mera halachal machaye jab too kajal laga ke ae**

*gile lab~katil nigahen gazab ka kajal~gulabi hothapagali tu hi bata ye dil tum pe na marata to kya karata

***kajal,ankhe ,julfe,jhumaka,chehara,bindiyahaye dil har gae ham tumhe benakab dekhakar…!!!***

kajal shayari in hindibahut roi hui lagati hai ankhemmeri khatir zara kajal laga lo

base ho kajal ki tarah naino me ban ke sapanerache ho mehandi ki tarah hatho ban ke lakiresaje ho lali ki tarah hotho pe ban ke muskarahaten**

*lag jaegi nazar duniya ki, jan lolaga lo kajal chehare par, gujarish man lo.**

*ankh se bichhade kajal ko taharir banane valemushkil mein pad jaenge tasvir banane vale.*

**vo ankhon mein kajal vo balon mein gajarahatheli pe is ke hina mahaki mahaki ~hasrat**

*aj fir husn-e-dilara ki vahi dhaj hogivo hi khvabida si ankhen, vo hi kajal ki lakir***

kajal shayari in hindihath se mehandi na bikhari, ankhon ka kajal salamataye bhi koi bat thi, sakhi piya milan ki rat thi**

*shayad kisi roj tum samajh pao is dil ki bekarariaur tumhari ankhon ke kajal ka koi bahut gahara rishta hai**

*kajal lagakar ap mahafil ke andaz ko apana banane lage,ham to gane lage apake lie mohabbat mein gazalajaise ap chand banake hamare lie roshani failane lage.*

**kajal ki qismat kya kahiye, nainon mein toone basayaanchal ki qismat kya kahiye, toone ang lagaya hain**

* kajal shayari in hindikajal bindiyo, kangan jhumake, ye mere khazane hain,dil panchhi banake ud jata hai, ham khoye khoye rahate hain,,**

*kajal lage kirakaro, surama saha na jae !jin nainann mein sajan base,dooja kaun samaye !!**

jo baras jaye vahi badal achchhe hain,jo nigahon ko saja de vahi kajal sachche hain,sayanon ne kuchh is kadar barbad kar di hai duniya,hamen pagal hi rahane do ham pagal hi achchhe hain…!!***

us ki ankhon mein bhi kajal fail raha haimain bhi mud ke jate jate dekh raha hoon ~javed_akhtar***

muhabbat ki benoor khvahishen aur……tera gamaham bikhar se gaye….ankhon se kajal ki tarah “***

kajal shayari in hindihan, ek aur sham rangin hui hai tumhare anchal ki tarah…aur dekho, suramayi rang saja hai tumhare kajal ki tarah…***

mahifal me aj fir qayamat ki rat ho gai,hamane lagaya apane akho me kajal aur bin badal barasat ho gai.***

jise bhi dekh lo tum, vo hua ek pal mein divana,tilismi hai bahot sanam, tumhari ankhon ka kajal !!***

gulab se gulab ka rang tere galon pe aya; tere nainon ne kali ghata ka kajal lagaya;javani jo tum par chadhi to nasha meri ankhon mein aya.**

* kajal shayari in hindimehandi rachi hatheli meri ……mere kajal vale nain re …….piya pal pal tujhe pukarate hokar baichen re*

**ye naina ye kajal ye julfe ye anchal khoobasoorat si hotum gazal kabhi dil ho kabhi dhadakan kabhi shola kabhi shabanamatumhi hi ho tum meri hamadam*

**haunsala tujh mein na tha mujhase juda hone ka;varana kajal teri ankhon ka na yoon faila hota.**

*jo banai hai tire kajal se tasvire-muhabbat,abhi to pyar ke rang se sajaya hi kahan hai.**

*ek bar ishara to kar de dil aur jigar to kuchh bhi nahimmai khud ko jala sakata hoon, teri ankhon ke kajal ke liye….**

*na roo ankh ka kajal, nikal kar chhoot jayega !ye dil tere ashk boondon mein, fisal kar toot jayega !!**

*yad hai ab tak tujhase bichhadane ki vo andheri sham mujhe…too khamosh khadi thi lekin baten karata tha kajal…!!!***

kajal shayari in hindisambhalakar zara rakhiyega kadam fool bikhare hai magar thes lag jayegiye kajal lagane ka kya fayada roop aisa hai nazar lag jayegi !!!!*

**bavara hua jata hoon teri akhiyon mein ishk dekhakar,,,meri ummidon ka maqasad teri ankhon ka kajal hi to hai..!**

 

 

 

10 thoughts on “Kajal Shayari in Hindi काजल पर शायरी”

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!