Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी
Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

Kasam Shayari in Hindi

कसम पर शायरी

दोस्तों “क़सम शेर ओ शायरी का एक मज़ेदार संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “क़सम के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी क़सम शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

तू कहीं भी हो तेरे फूल से आरिज़ की क़सम

तेरी पलकें मेरी आंखों पे झुकी रहती हैं

#साहिर

 

फिर उसी राह पे निकल पड़े हैं,

कल जहाँ ना जाने की कसम खा बैठे थे।

 

कौन है जिसने मय नही चक्खी

कौन झूठी क़सम उठाता है,

मयकदे से जो बच निकलता है

तेरी आँखों में डूब जाता है !!

 

ज़हर मिलता ही नहीं मुझको सितमगर वर्ना

क्या क़सम है तेरे मिलने की कि खा भी न सकूँ

 

सुना था कसम झूठी हो तो लोग मर जाते हैं,

नाजाने कौन सी कसम निभा रहा है वो के अब तक ज़िंदा हूँ मैं।

Kasam Status Pictures – Kasam dp Pictures – Kasam Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Kasam Status Pictures – Kasam dp Pictures – Kasam Shayari Pictures

हाथ टूटे मैंने गर छेडी हो जुल्फें आप की

आप के सर की कसम बादेसबा थी मै न था!

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

तेरी महफ़िल सजाने की कसम खाके बैठें हैं,

इसलिए अश्कों को छुपा के बैठें हैं

 

सौ बार समझाया इस दिल को हमने, सौ बार दिल टूट गया,

सौ बार उसे भूलने की कसम खायी हमने, सौ बार हर कसम दिल भूल गया।

 

बे-इरादा टकरा गए थे लेहरों से हम,

समन्दर ने कसम खा ली हमे डुबोने की

 

बाद-ए-तौबा के भी है दिल में यह हसरत बाक़ी,

क़सम देके कोई एक जाम पीला दे हम को !! – ‘रुसवा’

 

चौदवी का चाँद हो, या आफताब हो,

जो भी हो तुम, खुदा की क़सम, लाजवाब हो!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

जिसे अंजाम तुम समझते हो,

इब्तिदा है किसी कहानी की !

कसम इस आग और पानी की,

मौत अच्छी है बस जवानी की!!

 

उनकी महफिल में नसीर उनके तबस्सुम की कसम

देखते रह गए हम हाथ से जाना दिल का!

 

काश वो भी आकर हम से कह दे , मैं भी तन्हाँ हूँ ,

तेरे बिन, तेरी तरह , तेरी कसम , तेरे लिए…!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

खाये न जागने की क़सम वो तो क्या करे

जिसको हर एक ख़्वाब अधूरा दिखाई दे

#कृष्ण बिहारी नूर

 

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’

तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..! -मिर्ज़ा ग़ालिब

मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बतकी कसम

अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार मे

 

प्यार ,एहसान ,नफरत ,दुश्मनी जो चाहो वो मुजसे करलो…

आप की कसम वही दुगुना मीलेगा..!!

साथ गुज़ारे हुए उन लम्हों की क़सम ।

वल्लाह हूर से भी बेहतर है मेरी सनम ।

 

अगर पता होता कि इतना तड़पाती है महोब्बत.. ..

तो कसम से दिल लगाने से पहले हाथ जोड़ लेते..

 

पीनेकी आदत थी मुझे, उसने अपनी कसम देकर छुड़ा दी…

शाम को यारो की महफ़िल में बैठा तो, यारो ने उसकी कसम देकर पीला दी…!!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

वही सर्द रातें वही फिर जुदाई सूना समां ऒर घेरे तनहाई

कसम हॆ तुम्हें आज फिर ना न कहना सपनों में मेरे तुम देना दिखाई॥

 

हमको कसम तुम्हारी कुछ यकीन कर,

हम भी न उफ़ करेंगे चाहे कोई सता ले.

 

तुम अपना रंज-ओ-ग़म, अपनी परेशानी मुझे दे दो ,

तुम्हें ग़म की क़सम, इस दिल की वीरानी मुझे दे दो ……

 

कसम से”” तुझे पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी

मगर मुझे तुझसे दुर करने की “”दुआ”” करने वाले ज्यादा निकले..!!

 

Kasam Shayari in Hindi कसम पर शायरी

 

तुम बात करने का मौका तो दो ,कसम से ,

रूला देंगे तुम्हें तुम्हारे ही सितम गिनाते गिनाते

 

आइने में लगी, बिंदियों की कसम,

हूँ मैं ज़िंदा अभी तक, सिर्फ तेरे ही लिए सनम।

 

न तुम समेट सकोगे जिसे तुम क़यामत तक…..

कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते हैं

तू याद बहोत आया.हर शाम के बाद,

कभी आग़ाज़ से पहले कभी अंजाम के बाद,

इस डूबते सूरज की कसम इस दिल पे,

कोई नाम नहीं लिखा तेरे नाम के बाद !!

 

तुम तो डर गए एक ही कसम से….,

हमे तो तुम्हारी कसम देकर हजारो ने लुटा हे …!!

 

Search Tags

Kasam Shayari in Hindi, Kasam Hindi Shayari, Kasam Shayari, Kasam whatsapp status, Kasam hindi Status, Hindi Shayari on Kasam, Kasam whatsapp status in hindi,

कसम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, कसम स्टेटस, कसम व्हाट्स अप स्टेटस,कसम पर शायरी, कसम शायरी, कसम पर शेर, कसम की शायरी


Kasam Shayari in Hindi in roman hinglish

too kahen bhe ho tere fool se ariz ke qasam

tere palaken mere ankhon pe jhuke rahate hain

#sahir

 

fir use rah pe nikal pade hain,

kal jahan na jane ke kasam kha baithe the.

 

kaun hai jisane may nahe chakkhe

kaun jhoothe qasam uthata hai,

mayakade se jo bach nikalata hai

tere ankhon mein doob jata hai !!

 

zahar milata he nahin mujhako sitamagar varna

kya qasam hai tere milane ke ki kha bhe na sakoon

 

suna tha kasam jhoothe ho to log mar jate hain,

najane kaun se kasam nibha raha hai vo ke ab tak zinda hoon main.

 

hath toote mainne gar chhede ho julfen ap ke

ap ke sar ke kasam badesaba the mai na tha!

kasam shayari in hindi kasam par shayari

 

tere mahafil sajane ke kasam khake baithen hain,

isalie ashkon ko chhupa ke baithen hain

 

sau bar samajhaya is dil ko hamane, sau bar dil toot gaya,

sau bar use bhoolane ke kasam khaye hamane, sau bar har kasam dil bhool gaya.

 

be-irada takara gae the leharon se ham,

samandar ne kasam kha le hame dubone ke

 

bad-e-tauba ke bhe hai dil mein yah hasarat baqe,

qasam deke koe ek jam pela de ham ko !! – rusava

 

chaudave ka chand ho, ya afatab ho,

jo bhe ho tum, khuda ke qasam, lajavab ho!!

 

kasam shayari in hindi kasam par shayari

 

jise anjam tum samajhate ho,

ibtida hai kise kahane ke !

kasam is ag aur pane ke,

maut achchhe hai bas javane ke!!

 

unake mahafil mein naser unake tabassum ke kasam

dekhate rah gae ham hath se jana dil ka!

 

kash vo bhe akar ham se kah de , main bhe tanhan hoon ,

tere bin, tere tarah , tere kasam , tere lie…!!

 

kasam shayari in hindi kasam par shayari

 

khaye na jagane ke qasam vo to kya kare

jisako har ek khvab adhoora dikhae de

#krshn bihare noor

 

too ne kasam may-kashe ke khae hai galib

tere kasam ka kuchh etibar nahe hai..! -mirza galib

maut bakhshe hai jisane us mohabbatake kasam

ab bhe karata hoon intazar baithakar majar me

 

pyar ,ehasan ,nafarat ,dushmane jo chaho vo mujase karalo…

ap ke kasam vahe duguna melega..!!

 

sath guzare hue un lamhon ke qasam .

vallah hoor se bhe behatar hai mere sanam .

 

agar pata hota ki itana tadapate hai mahobbat.. ..

to kasam se dil lagane se pahale hath jod lete..

 

peneke adat the mujhe, usane apane kasam dekar chhuda de…

sham ko yaro ke mahafil mein baitha to, yaro ne usake kasam dekar pela de…!!!

 

kasam shayari in hindi kasam par shayari

 

vahe sard raten vahe fir judae soona saman or ghere tanahae

kasam hai tumhen aj fir na na kahana sapanon mein mere tum dena dikhae.

 

hamako kasam tumhare kuchh yaken kar,

ham bhe na uf karenge chahe koe sata le.

 

tum apana ranj-o-gam, apane pareshane mujhe de do ,

tumhen gam ke qasam, is dil ke verane mujhe de do ……

 

“kasam se”” tujhe pane ke khvahish to bahut the

magar mujhe tujhase dur karane ke “”dua”” karane vale jyada nikale..!!

 

kasam shayari in hindi kasam par shayari

 

tum bat karane ka mauka to do ,kasam se ,

roola denge tumhen tumhare he sitam ginate ginate

 

aine mein lage, bindiyon ke kasam,

hoon main zinda abhe tak, sirf tere he lie sanam.

 

na tum samet sakoge jise tum qayamat tak…..

kasam tumhare tumhe itana pyar karate hain

 

too yad bahot aya.har sham ke bad,

kabhe agaz se pahale kabhe anjam ke bad,

is doobate sooraj ke kasam is dil pe,

koe nam nahin likha tere nam ke bad !!

 

tum to dar gae ek he kasam se….,

hame to tumhare kasam dekar hajaro ne luta he

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!