Khwab Shayari in Hindi ख़्वाब पर हिंदी शायरी

Khwab Shayari in Hindi ख़्वाब पर हिंदी शायरी
Khwab Shayari in hindi ख़्वाब पर हिंदी शायरी

Khwab Shayari in hindi

ख़्वाब पर हिंदी शायरी

 

दोस्तों जैसा आप जानते हैं हम इस वेबसैट पर किसी एक अच्छे विषय पर शेर ओ शायरी प्रस्तुत करते रहते हैं, आज आपके लिए पेश है ख्वाबों पर कुछ बेहतरीन हिंदी शायरी

hindi Shayari on Dreams (Khwab)

*******************************************

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है

मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की ~Gulzar

***

दिल मे घर करके बैठे है ये जो ज़िद्दी से ख़्वाब।

कागज पे उतार मै वो सारे मेहमान ले आऊँ।।

***

तू मेरा ख़्वाब न बन..तू अस्ल बन..

तू धुंध न बन..उजली धूप सा बन..!

***

न नींद, आयी न ख़्वाब आये…

जवाबो में भी कुछ सवाल आये.

***

ख़्वाब-ओ-उम्मीद का हक़, आह का फ़रियाद का हक़,

तुझ पे वार आए हैं ये तेरे दिवाने क्या क्या !!

***

ख़्वाब आँखों से गए,नींद रातों से गई

वो गया तो ऐसे लगा,ज़िंदगी हाँथो से गई

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Khwab Status Pictures – Khwab dp Pictures – Khwab Shayari Pictures

बुला रही हैं हमें तल्ख़ियाँ हक़ीक़त की

ख़याल-ओ-ख़्वाब की दुनिया से अब निकलते हैं

*** Khwab Shayari in hindi

अगर ख़ुदा न करे सच ये ख़्वाब हो जाए

तेरी सहर हो मेरा आफ़ताब हो जाए ~दुष्यंत कुमार

***

खुली फ़िज़ाओं के आदी हैं ख़्वाब के पंछी

उन्हें क़फ़स में कहाँ आप पालने निकले

***

दुनिया है ख़्वाब,हासिल-ए-दुनिया ख़याल है,

इंसान “ख़्वाब” देख रहा है ख़याल में

***

नींद में खुलते हुए “ख़्वाब” की उर्यानी पर,

मैं ने बोसा दिया महताब की पेशानी पर

***

गई रात भी उस “ख़्वाब” को ढूँढने में ज़ाया हुई

कुछ “ख़्वाब” खो गए हैं आँखों के बियाबाँ में

***

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,

मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी !! – जलील मानिकपुरी

*** Khwab Shayari in hindi

जिस क़दर चाहिए बिठलाइए पहरे दर पर,

बंद रहने के नहीं ख़्वाब में आने वाले !!

***

किस अजब साअत-ए-नायाब में आया हुआ हूँ,

तुझ से मिलने मैं तिरे ख़्वाब में आया हुआ हूँ !!

***

वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है,

ख़्वाब दरिया के किनारों को मिला देता है!!

***

इक ख़्वाब का ख़याल है दुनिया कहें जिसे है

इसमें इक तिलिस्म तमन्ना कहें जिसे

***

“ख़्वाब” बुनते – बुनते एक उम्र हो चली ,

अब उन ख्वाबो को सिरहाने रख सोने को जी चाहता है

*** Khwab Shayari in hindi

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही

कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये

***

कहानियाँ हीं सही सब मुबालग़े ही सही

अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं

***

मेरे बाज़ुओं में थकी-थकी,अभी महव-ए-ख़्वाब है चांदनी

न उठे सितारों की पालकी,अभी आहटों का गुज़र न हो

***

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं,

सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं !! –गुलज़ार

*** Khwab Shayari in hindi

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए,

कि नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए !! -इरफ़ान सिद्दीक़ी

***

ख़्वाब बुनिये, ख़ूब बुनीये, मगर इतना सोचिये इसमें है

ताना ही ताना, या बाना भी है ~ असर लखनवी

ख़्वाब ही में देख ले ताबीर-ए-ख़्वाब,

कौन ऐसा पेश-बीं^ है इश्क़ है !!

*** Khwab Shayari in hindi

मुझे मौत से डरा मत, कई बार मर चुका हूँ

किसी मौत से नहीं कम कोई ख़्वाब टूट जाना

***

है शहर-ए-ख़्वाब का हर शख़्स साहिबे गुफ़तार,

है तुम में भी ये हुनर तो हमारे साथ चलो

***

ज़ख्म क्या उभरे हमारे दिल में उनके तीर के

गुल खिले गोया कि ख़्वाब-ए-इश्क़ की ताबीर के!

***

क्या क़यामत है कि आरिज़ उनके नीले पड़ गए,

हमने तो बोसा लिया था ख़्वाब में तस्वीर का !!

*** Khwab Shayari in hindi

रातों को जागते हैं इसी वास्ते कि ख़्वाब,

देखेगा बन्द आँखें तो फिर लौट जायेगा !!

***

कल तो आएगा मगर आज न आएगा कभी,

ख़्वाब-ए-ग़फ़लत में जो हैं उन को जगाते चलिए!!

***

उस तश्ना-लब की नींद न टूटे दुआ करो,

जिस तश्ना-लब को ख़्वाब में दरिया दिखाई दे!!

***

मैं खुद ही ख़्वाब-ए-इश्क़ की ताबीर हो गया,

गोया हर इक बशर तेरी तस्वीर हो गया !!

*** Khwab Shayari in hindi

सुपुर्द कौन से क़ातिल को ख़्वाब करना है,

फिर एक बार हमें इन्तख़ाब करना है !!

***

वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है,

ख़्वाब दरिया के किनारों को मिला देता है !! -तैमूर हसन

***

इक मुअम्मा है समझने का न समझाने का,

ज़िंदगी काहे को है ख़्वाब है दीवाने का !!

***

इस बज़्म में इक जश्न-ए-चराग़ाँ है उन्ही से,

कुछ ख़्वाब जो पलकों पे उजाले हुए हम हैं

***

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए

नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए -इरफ़ान सिद्दीक़ी

*** Khwab Shayari in hindi

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,

मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

***

रोज़ आ जाते हो तुम, नींद की मुंडेरों पर,

बादलों मे छुपे एक ख़्वाब का मुखड़ा बन कर

***

दामन-ए-ख़्वाब कहाँ तक फैले रेग की मौज कहाँ तक जाए !

हर तरफ़ बिखरे हैं रंगीं साए, राह-रौ कोई न ठोकर खाए !!

*** Khwab Shayari in hindi

आशिक़ी में ‘मीर’ जैसे ख़्वाब मत देखा करो,

बावले हो जाओगे महताब मत देखा करो !!

***

है शहर-ए-ख़्वाब का हर शख़्स साहिबे गुफ़्तार है

तुम में भी ये हुनर तो हमारे साथ चलो

***

दुनिया है ख़्वाब, हासिल-ए-दुनिया

ख़याल है इंसान ख़्वाब देख रहा है ख़याल में ….

***

मेरे ख़याल-सा है, मेरे ख़्वाब जैसा है

तुम्हारा हुस्न महकते गुलाब जैसा है.!!.

***

चले ही जाते हैं इक और ख़्वाब के पीछे,

सराब बनके यक़ीं को गुमान खींचता है !!

***

ख़्वाब किस्सा ख्याल अफसाना हाए उर्दू जबान की दिल्ली

कुछ यकीं कुछ गुमाँ की दिल्ली अनगिनत इम्तेहां की दिल्ली

*** Khwab Shayari in hindi

चिराग़ अपनी थकन की कोई सफ़ाई न दे

वो तीरगी है के अब ख़्वाब तक दिखाई न दे

***

रखा घर में क्या है के तरतीब दूँ जिसे

कुछ ख़्वाब हैं इधर से उधर कर रहा हूँ मैं.!!

***

दिखाई जाने क्या दिया है जुगनुओं को

ख़्वाब में खुली है जबसे आँख आफताब माँगने लगे

***

ये ज़िन्दगी सवाल थी जवाब माँगने लगे

फरिश्ते आ के ख़्वाब मेँ हिसाब माँगने लगे

*** Khwab Shayari in hindi

हसरतें जितनी भी थीं सब आह बनके उड़ गईं

ख़्वाब जितने भी थे सब अश्के-रवाँ मे खो गए

***

जागती आँखों को मेरी बारहा धोखा हुआ

ख़्वाब और ताबीर अक्सर एक जैसे हो गए

***

न मिल पाई ताबीर लेकिन ये दिल

हँसी ख़्वाब से हि बहलता रहा.!!

***

वो अक़्सर तोलता है ख़्वाब और सिक्के तराज़ू में

ख़ुशी पाने में इक सिक्का हमेशा कम निकलता है

***

न सिर्फ़ आब, इन आँखों में ख़्वाब रखता हूँ

मैं वो बादल हूँ, जो सीने में आग़ रखता हूँ.!!

***

जिनकी पलकों पे तेरे ख़्वाब हुआ करते हैं

ज़िंदगी में वही बेताब हुआ करते हैं.!!

*** Khwab Shayari in hindi

तेरी आँखों में कई ख़्वाब छोड़ आए हैं

हर इक सवाल का जवाब छोड़ आए हैं.!!

***

बे-ख़्वाब सा’अतों का परस्तार कौन है

इतनी उदास रात में बे-दार कौन है..!!

*** Khwab Shayari in hindi

खिड़की, चाँद, क़िताब और मैं, मुद्दत से एक बाब और मैं ।।

शब भर खेलें आपस में , दो आँखें इक ख़्वाब और मैं

 

 

Search Tags

Khwab Shayari, Khwab hindi Shayari, Khwab Shayari, Khwab whatsapp status, Khwab hindi Status, hindi Shayari on Khwab, Khwab whatsapp status in hindi ,

ख़्वाब हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ख़्वाब, ख़्वाब स्टेटस, ख़्वाब व्हाट्स अप स्टेटस, ख़्वाब पर शायरी, ख़्वाब शायरी, ख़्वाब पर शेर, ख़्वाब की शायरी,

Dream Shayari, Dream hindi Shayari, Dream Shayari, Dream whatsapp status, Dream hindi Status, hindi Shayari on Dream, Dream whatsapp status in hindi ,


Khwab Shayari in hindi Roman Hinglish font

 

ek hi khvab ne sari rat jagaya haimain ne har karavat sone ki koshish ki ~gulzar*

**dil me ghar karake baithe hai ye jo ziddi se khvab.kagaj pe utar mai vo sare mehaman le aoon..**

*too mera khvab na ban..too asl ban..too dhundh na ban..ujali dhoop sa ban..!***

na nind, ayi na khvab aye…javabo mein bhi kuchh saval aye.**

*khvab-o-ummid ka haq, ah ka fariyad ka haq,tujh pe var ae hain ye tere divane kya kya !!*

**khvab ankhon se gae,nind raton se gaivo gaya to aise laga,zindagi hantho se gai***

bula rahi hain hamen talkhiyan haqiqat kikhayal-o-khvab ki duniya se ab nikalate hain***

khwab shayari  in hindi agar khuda na kare sach ye khvab ho jaeteri sahar ho mera afatab ho jae ~dushyant kumar**

*khuli fizaon ke adi hain khvab ke panchhiunhen qafas mein kahan ap palane nikale**

*duniya hai khvab,hasil-e-duniya khayal hai,insan “khvab” dekh raha hai khayal mein**

*nind mein khulate hue “khvab” ki uryani par,main ne bosa diya mahatab ki peshani par*

**gai rat bhi us “khvab” ko dhoondhane mein zaya huikuchh “khvab” kho gae hain ankhon ke biyaban mein**

*roz vo khvab mein ate hain gale milane ko,main jo sota hoon to jag uthati hai qismat meri !! – jalil manikapuri***

khwab shayari  in hindi jis qadar chahie bithalaie pahare dar par,band rahane ke nahin khvab mein ane vale !!**

*kis ajab sat-e-nayab mein aya hua hoon,tujh se milane main tire khvab mein aya hua hoon !!**

*vo jo mumakin na ho mumakin ye bana deta hai,khvab dariya ke kinaron ko mila deta hai!!*

*ik khvab ka khayal hai duniya kahen jise haiisamen ik tilism tamanna kahen jise**

*”khvab” bunate – bunate ek umr ho chali ,ab un khvabo ko sirahane rakh sone ko ji chahata hai***

khwab shayari  in hindi khuda nahin na sahi adami ka khvab sahikoi hasin nazara to hai nazar ke liye**

*kahaniyan hin sahi sab mubalage hi sahiagar vo khvab hai tabir kar ke dekhate hain***

mere bazuon mein thaki-thaki,abhi mahav-e-khvab hai chandanin uthe sitaron ki palaki,abhi ahaton ka guzar na ho***

tumhare khvab se har shab lipat ke sote hain,sazaen bhej do ham ne khataen bheji hain !! –gulazar***

khwab shayari  in hindi utho ye manzar-e-shab-tab dekhane ke lie,ki nind shart nahin khvab dekhane ke lie !! -irafan siddiqi**

*khvab buniye, khoob buniye, magar itana sochiye isamen haitana hi tana, ya bana bhi hai ~ asar lakhanavikhvab hi mein dekh le tabir-e-khvab,kaun aisa pesh-bin^ hai ishq hai !!***

khwab shayari  in hindi mujhe maut se dara mat, kai bar mar chuka hoonkisi maut se nahin kam koi khvab toot jana***

hai shahar-e-khvab ka har shakhs sahibe gufatar,hai tum mein bhi ye hunar to hamare sath chalo***

zakhm kya ubhare hamare dil mein unake tir kegul khile goya ki khvab-e-ishq ki tabir ke!***

kya qayamat hai ki ariz unake nile pad gae,hamane to bosa liya tha khvab mein tasvir ka !!***

khwab shayari  in hindi raton ko jagate hain isi vaste ki khvab,dekhega band ankhen to fir laut jayega !!***

kal to aega magar aj na aega kabhi,khvab-e-gafalat mein jo hain un ko jagate chalie!!***

us tashna-lab ki nind na toote dua karo,jis tashna-lab ko khvab mein dariya dikhai de!!***

main khud hi khvab-e-ishq ki tabir ho gaya,goya har ik bashar teri tasvir ho gaya !!***

khwab shayari  in hindi supurd kaun se qatil ko khvab karana hai,fir ek bar hamen intakhab karana hai !!*

**vo jo mumakin na ho mumakin ye bana deta hai,khvab dariya ke kinaron ko mila deta hai !! -taimoor hasan**

*ik muamma hai samajhane ka na samajhane ka,zindagi kahe ko hai khvab hai divane ka !!*

**is bazm mein ik jashn-e-charagan hai unhi se,kuchh khvab jo palakon pe ujale hue ham hain**

*utho ye manzar-e-shab-tab dekhane ke lienind shart nahin khvab dekhane ke lie -irafan siddiqi*

** khwab shayari  in hindi mariz-e-khvab ko to ab shifa hai,magar duniya badi kadavi dava thi !!*

**roz a jate ho tum, nind ki munderon par,badalon me chhupe ek khvab ka mukhada ban kar***

daman-e-khvab kahan tak faile reg ki mauj kahan tak jae !har taraf bikhare hain rangin sae, rah-rau koi na thokar khae !!**

* khwab shayari  in hindi ashiqi mein mir jaise khvab mat dekha karo,bavale ho jaoge mahatab mat dekha karo

hai shahar-e-khvab ka har shakhs sahibe guftar haitum mein bhi ye hunar to hamare sath chalo*

**duniya hai khvab, hasil-e-duniyakhayal hai insan khvab dekh raha hai khayal mein ….**

*mere khayal-sa hai, mere khvab jaisa haitumhara husn mahakate gulab jaisa hai.!!.**

*chale hi jate hain ik aur khvab ke pichhe,sarab banake yaqin ko guman khinchata hai !!*

**khvab kissa khyal afasana hae urdoo jaban ki dillikuchh yakin kuchh guman ki dilli anaginat imtehan ki dilli**

* khwab shayari  in hindi chirag apani thakan ki koi safai na devo tiragi hai ke ab khvab tak dikhai na de**

*rakha ghar mein kya hai ke taratib doon jisekuchh khvab hain idhar se udhar kar raha hoon main.!!*

**dikhai jane kya diya hai juganuon kokhvab mein khuli hai jabase ankh afatab mangane lage**

*ye zindagi saval thi javab mangane lagefarishte a ke khvab men hisab mangane lage*

** khwab shayari  in hindi hasaraten jitani bhi thin sab ah banake ud gainkhvab jitane bhi the sab ashke-ravan me kho gae**

*jagati ankhon ko meri baraha dhokha huakhvab aur tabir aksar ek jaise ho gae*

*na mil pai tabir lekin ye dilahansi khvab se hi bahalata raha.!!*

**vo aqsar tolata hai khvab aur sikke tarazoo menkhushi pane mein ik sikka hamesha kam nikalata hai**

*na sirf ab, in ankhon mein khvab rakhata hoonmain vo badal hoon, jo sine mein ag rakhata hoon.!!**

*jinaki palakon pe tere khvab hua karate hainzindagi mein vahi betab hua karate hain.!!*

* khwab shayari  in hindi teri ankhon mein kai khvab chhod ae hainhar ik saval ka javab chhod ae hain.!!*

**be-khvab saton ka parastar kaun haiitani udas rat mein be-dar kaun hai..!!***

khwab shayari  in hindi khidaki, chand, qitab aur main, muddat se ek bab aur main ..shab bhar khelen apas mein , do ankhen ik khvab aur main

 

 

 

 

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!