Kismat Shayari in Hindi क़िस्मत पर शायरी

Kismat Shayari in Hindi क़िस्मत पर शायरीi
Kismat Shayari in Hindi क़िस्मत पर शायरी

Kismat Shayari in Hindi

क़िस्मत पर शायरी

दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट में हम क़िस्मत पर शेर ओ शायरी पेश कर रहे हैं, इसी तरह आप मुकद्दर पर शायरी और तक़दीर पर शायरी भी इन लिनक्स पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं.

सभी टॉपिक्स पर शायरी की लिस्ट यहाँ है.

 

********************************************************

 

चरके वो दिए दिल को महरूमी-ए-क़िस्मत ने

अब हिज्र भी तन्हाई और वस्ल भी तन्हाई*

 

ना-मुरादी अपनी किस्मत गुमराही अपना नसीब,

कारवाँ की खैर हो हम कारवाँ तक आ गए।

~काबिल_अजमेरी*

 

दुआ की न पूछो की कितनी है कुदरत

उठा के हाथ देखो बदलती है किस्मत।*

 

अपनी क़िस्मत में लिखी थी धूप की नाराज़गी,

साया-ए-दीवार था लेकिन पस-ए-दीवार था !!*

 

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,

मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी !! – जलील मानिकपुरी*

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Kismat Status Pictures – Kismat dp Pictures – Kismat Shayari Pictures

Kismat Shayari in Hindi*

 

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता

अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता

~ग़ालिब*

 

कहर हो, बला हो, जो कुछ हो,

काश ! तुम मेरे लिये होते !

मेरी किस्मत में गम गर इतना था,

दिल भी यारब कई दिये होते !!*

 

रिश्ते-नाते झूटे हैं सब स्वार्थ का झमेला है

जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है*

 

कल भी मन अकेला था,आज भी अकेला है

जाने मेरी किस्मत ने कैसा खेल खेला है*

 

मेरी किस्मत से खेलने वाले

मुझ को दुनिया से बेखबर कर दे*

 

Kismat Shayari in Hindi

तुझको मस्ज़िद है मुझको मयखाना,

वाइज़ अपनी अपनी किस्मत है।*

~मीर

 

ये दिन भी देखना लिक्खा था मेरी क़िस्मत में,

जो थे हबीब, हुए हैं रक़ीब-ए-जां लोगों*

 

थी सामने आलाइश-ए-दुनिया की भी इक राह,

वो ख़ूबी-ए-क़िस्मत से ज़रा छोड़ गए हम !!*

 

किसी राह पे मिल जाओ मुसाफ़िर बन के,

क्या पता अपनी किस्मत में हमसफ़र भी लिखा हो।*

 

बेवफ़ा लिखते हैं वो अपने क़लम से मुझ को,

ये वो क़िस्मत का लिखा है जो मिटा भी न सकूँ !!*

 

Kismat Shayari in Hindi

विसाल-ए-यार तो क़िस्मत की बात है बेशक,

ख़याल-ए-यार भी हम से बहुत ख़फ़ा निकला !!*

 

तेरी क़िस्मत ही में ज़ाहिद मय नहीं

शुक्र तो मजबूरियों का नाम है !!*

 

Kismat Shayari in Hindi*

 

हर तरफ़ छा गए पैग़ाम-ए-मोहब्बत बन कर

मुझ से अच्छी रही क़िस्मत मेरे अफ़्सानों की !!*

 

कुछ तेरी फ़ितरत में नहीं थी वफ़ादारी, कुछ मेरी किस्मत में बेवफ़ाई थी,

वक़्त को क्या दोष दूँ, वक़्त ने तो बस मुहोब्बत आजमाई थी।*

 

छत कहाँ थी नसीब में,फुटपाथ को ही जागीर समझे

छालों से कटी हथेली,हम किस्मत की लकीर समझे*

 

उम्मीद का लिबास तार तार ही सही पर सी लेना चाहिए,

कौन जाने कब किस्मत माँग ले इसको सर छुपाने के लिए*

 

Kismat Shayari in Hindi*

किसी कशमकश में रहा होगा खुदा भी,

जो उसने मुझे तो तेरी किस्मत में लिखा पर

तुझे मेरी किस्मत में नहीं लिखा।*

 

इसी में इश्क़ की क़िस्मत बदल भी सकती थी,

जो वक़्त बीत गया मुझ को आज़माने में*

 

हँस हँस के जवां दिल के हम क्यों न चुनें टुकडे,

हर शख्स की किस्मत में इनाम नहीं होता!! -~MeenaKumari*

 

मेरी किस्मत से खेलने वाले ~~

मुझको किस्मत से बेखबर करदे. ~faiz*

 

Kismat Shayari in Hindi

जो मिल गया उसे तक़दीर का लिखा कहिये

जो खो गया उसे क़िस्मत का फ़ैसला कहिये.!!*

 

लेके अपनी-अपनी किस्मत आए थे गुलशन में गुल

कुछ बहारों मे खिले और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए*

 

साथ चलता है, दुवाओं का काफिला,

किस्मत से जरा कह दो, अभी तन्हा नही हूँ मैं.!!*

 

Kismat Shayari in Hindi

कभी सरकार पे, क़िस्मत पे, कभी दुनिया पे

दोष हर बात का औरों पे हि डाला मैंने.!!*

 

Search Tags

Kismat Shayari in Hindi, Kismat Hindi Shayari, Kismat Shayari, Kismat whatsapp status, Kismat hindi Status, Hindi Shayari on Kismat, Kismat whatsapp status in hindi,

Fate Shayari, Fate Hindi Shayari, Fate Shayari, Fate whatsapp status, Fate hindi Status, Hindi Shayari on Fate, Fate whatsapp status in hindi,

क़िस्मत हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, क़िस्मत, क़िस्मत स्टेटस, क़िस्मत व्हाट्स अप स्टेटस, क़िस्मत पर शायरी, क़िस्मत शायरी, क़िस्मत पर शेर, क़िस्मत की शायरी


Hinglish

Kismat Shayari in Hindi Roman 

charake vo die dil ko maharoome-e-qismat neab hijr bhe tanhae aur vasl bhe tanhae*

na-murade apane kismat gumarahe apana naseb,karavan ke khair ho ham karavan tak a gae.~kabil_ajamere*

dua ke na poochho ke kitane hai kudaratutha ke hath dekho badalate hai kismat.*

apane qismat mein likhe the dhoop ke narazage,saya-e-devar tha lekin pas-e-devar tha !!*

roz vo khvab mein ate hain gale milane ko,main jo sota hoon to jag uthate hai qismat mere !! – jalel manikapure*

kismat shayari in hindi *ye na the hamare qismat ki visal-e-yar hotagar aur jete rahate yahe intazar hota~galib*

kahar ho, bala ho, jo kuchh ho,kash ! tum mere liye hote !mere kismat mein gam gar itana tha,dil bhe yarab kae diye hote !!*

rishte-nate jhoote hain sab svarth ka jhamela haijane mere kismat ne kaisa khel khela hai*

kal bhe man akela tha,aj bhe akela haijane mere kismat ne kaisa khel khela hai*

mere kismat se khelane valemujh ko duniya se bekhabar kar de*kismat shayari in hindi tujhako maszid hai mujhako mayakhana,vaiz apane apane kismat hai.*~

meraye din bhe dekhana likkha tha mere qismat mein,jo the habeb, hue hain raqeb-e-jan logon*

the samane alaish-e-duniya ke bhe ik rah,vo khoobe-e-qismat se zara chhod gae ham !!*

kise rah pe mil jao musafir ban ke,kya pata apane kismat mein hamasafar bhe likha ho.*

bevafa likhate hain vo apane qalam se mujh ko,ye vo qismat ka likha hai jo mita bhe na sakoon !!*

kismat shayari in hindi visal-e-yar to qismat ke bat hai beshak,khayal-e-yar bhe ham se bahut khafa nikala !!*

tere qismat he mein zahid may nahenshukr to majabooriyon ka nam hai !!*kismat shayari in hindi *

har taraf chha gae paigam-e-mohabbat ban karamujh se achchhe rahe qismat mere afsanon ke !!*

kuchh tere fitarat mein nahin the vafadare, kuchh mere kismat mein bevafae the,vaqt ko kya dosh doon, vaqt ne to bas muhobbat ajamae the.*

chhat kahan the naseb mein,futapath ko he jager samajhechhalon se kate hathele,ham kismat ke laker samajhe*

ummed ka libas tar tar he sahe par se lena chahie,kaun jane kab kismat mang le isako sar chhupane ke lie*

kismat shayari in hindi *kise kashamakash mein raha hoga khuda bhe,jo usane mujhe to tere kismat mein likha paratujhe mere kismat mein nahin likha.*

ise mein ishq ke qismat badal bhe sakate the,jo vaqt bet gaya mujh ko azamane mein*hans hans ke javan dil ke ham kyon na chunen tukade,har shakhs ke kismat mein inam nahin hota!! -~

maiainakumari*

mere kismat se khelane vale ~~mujhako kismat se bekhabar karade. ~faiz*

kismat shayari in hindi jo mil gaya use taqader ka likha kahiyejo kho gaya use qismat ka faisala kahiye.!!*

leke apane-apane kismat ae the gulashan mein gulakuchh baharon me khile aur kuchh khizan mein kho gae*

sath chalata hai, duvaon ka kafila,kismat se jara kah do, abhe tanha nahe hoon main.!!*

kismat shayari in hindi kabhe sarakar pe, qismat pe, kabhe duniya pedosh har bat ka auron pe hi dala mainne.!!*

 

 

 

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!