Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी
Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

Jam Shayari In Hindi

पैमाना और जाम पर शायरी

दोस्तों “जाम” और “पैमाने” पर शेर ओ शायरी का एक मज़ेदार संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के ““जाम” और “पैमाने”” के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “जाम” और “पैमाने” शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

तेरे गेसुओं का साया है के शामे-मैकदा है

तेरी आँख़ बन गई है मेरा जाम बेख़ुदी में

~नक़्श लायलपुरी

 

राज़-ए-तख़लीक-ए-ग़ज़ल हम को है मालूम ‘नसीम’

जाम हो मय हो सनम हो तो ग़ज़ल होती है

~नसीम शाहजहाँपुरी

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

~नरेश कुमार ‘शाद’

 

ये इंतजार ग़लत है की शाम हो जाए

जो हो सके तो अभी दौर-ऐ-जाम हो जाए

~नरेश कुमार ‘शाद’

 

ये शाम और उस पर तिरी यादों की हलावत,

इक जाम में दो शै का नशा ढूंढ रहा हूँ

~shaam

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

 

किसी ने डूबती सुब्हों तड़पती शामों को

ग़ज़ल के जाम में शब का ख़ुमार भेजा है

~shaam

 

जो आला-ज़र्फ़ होते हैं हमेशा झुक के मिलते हैं,

सुराही सर-निगूँ हो कर भरा करती है पैमाना !! -हैदर अली आतिश

 

उनकी आँखों से रखे क्या कोई उम्मीद-ए-करम

प्यास मिट जाये तो गर्दिश में वो जाम आते हैं

 

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,

ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !!

 

ताआज़्ज़ुब है तेरा चेहरा है के मैख़ाना

नज़र..लब..रुख़सार..पेशानी में जाम रक्खे हैं

 

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम

साक़ी ने कुछ मिला ना दिया हो शराब में

 

फिर देखिये अन्दाज़-ए-गुलअफ़्शानी-ए-गुफ़्तार

रख दे कोई पैमाना-ए-सहबा, मेरे आगे

~ग़ालिब

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

लबरेज़ कर पैमाना हमारा भी साक़ी

ग़ज़लगोई भी करेंगे अब तो नशे में हम

 

अर्श-ओ-समाँ को साग़र-ओ-पैमाना कर दिया

रिन्दों ने कायनात को मैख़ाना कर दिया १/२

 

है दौर-ए-जाम-ए-अव्वल-ए-शब् में ख़ुदी से दूर

होती है आज देखिये हमको सहर कहाँ

 

ये जाम ये सुबू ये तसव्वुर की चांदनी

साक़ी कहाँ मदाम जरा आँख तो मिला

 

ऐ हुस्न-ए-लालाफ़ाम ज़रा आँख तो मिला

खाली पड़े हैं जाम ज़रा आँख तो मिला

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

क़दम मयख़ाना में रखना भी कार-ए-पुख़्ता-काराँ है,

जो पैमाना उठाते हैं वो थर्राया नहीं करते !!

 

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,

ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !!

 

इस महफ़िल-ए-कैफो मस्ती में

इस अंजुमन-ए-इरफ़ानी में

सब जाम बी-कफ बैठे ही रहे

हम पी भी गए छलका भी गए

 

अब तो ज़ाहिद भी ये कहता है बड़ी चूक हुई,

जाम में थी मय-ए-कौसर मुझे मालूम न था !!

 

हाए गर्दिश वो चश्म-ए-साक़ी की,

मैं ये समझा कि जाम चलता है !!

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

 

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,

ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !!

 

मुसल्ला रखते हैं सहबा-ओ-जाम रखते हैं,

फ़क़ीर सब के लिए इंतज़ाम रखते हैं !!

 

मुश्किल यह आ पड़ी है की गर्दिश में जाम है,

ए होश, वरना मुझको तेरा एहतिराम है !!

 

बहते हुए आंसूं ने आँखों से कहा थमकर,

जो मय से पिघल जाए वो जाम नहीं होता !! -मीना कुमारी

 

हम अपनी शाम को जब नज़र-ए-जाम करते हैं

अदब से हमको सितारे सलाम करते है!!

 

ला पिला दे साकिया पैमाना पैमाने के बाद,

होश की बातें करुँगा होश खो जाने के बाद !!

 

साकी मुझे चाहिए एक जाम-ए-आरज़ू,

कितने लगेगे दाम ज़रा आँख तो मिला !!

 

फिर देखिए अंदाज़-ए-गुल-अफ़्शानी-ए-गुफ़्तार,

रख दे कोई पैमाना-ए-सहबा मेरे आगे !!

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

ये सारी लज्जतें हैं मेरे शौके-नामुकम्मल तक,

कयामत थी अगर पैमाना यह लबरेज हो जाता !!

 

होश में आते ही मुमकिन है बहक जाऊँ मैं,

इक दवा जान के बस जाम पिलाते रहिए !!

 

रह गई जाम में अंगड़ायाँ लेके शराब,

हम से माँगी न गई उन से पिलाई न गई !!

 

इक धड़कता हुआ दिल, एक छलकता हुआ जाम,

यही ले आते हैं मयनोश को मयख़ाने में…

बेतलब आ गई मय फिर मेरे पैमाने में..

 

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वही पैमाना हुआ है !!

 

जो दिल है वो लबरेज़-ए-तमन्ना है ‘मुबारक’

इस जाम से अच्छा तो कोई जाम नहीं है !!

 

खुद ही सरशार-ए-मय-ए-उल्फत नहीं होना ‘असर’,

इससे भर-भर कर दिलों के जाम छलकाना भी है !!-असर लखनवी

 

जाम में तूफान उठते हैं तवाज़ो के लिए,

मैकदे में एक पुराना बाद’अ-ख़्वार आने को है !! –~रहबर

 

है दौर-ए-जाम-ए-अव्वल-ए-शब् में ख़ुदी से दूर

होती है आज देखिये हमको सहर कहाँ

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

 

मय बरसती है फ़ज़ाओं पे नशा तारी है,

मेरे साक़ी ने कहीं जाम उछाले होंगे !!

 

जाहिद उन आंखों की टपकती हुई मस्ती,

पत्थर में गढ्ढा डाल के पैमाना बना दें !! –‘आरज़ू’ लखनवी

 

ज़रा तो करो सब्र एय मैकशों तुम

तुम्हारी ही जानिब ये जाम आ रहे हैं …

 

दिल की हसरत का पैमाना कोई बाकी है,

ए मोहब्बत तुझे आज़माना अभी बाकी है!!

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

हो जाते हो बरहम भी

बन जाते हो हमदम भी

ऐ साकी-ए-मयखाना

शोला भी हो,शबनम भी

खाली मेरा पैमाना

बस इतनी शिकायत है

-हसरत जयपुरी

 

औरों को पीलाते रहते हैं

और खुद प्यासे रह जाते है,

ये पीनेवाले क्या जाने

पैमानों पे क्या गुज़री है..

-कमार जलालाबादी

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम

साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.!!

 

में नजर से पी रहा था,तो ये दिल ने बददुआ दी

तेरा हाथ जिंदगी भर कभी जाम तक ना पहुँचे ।

-शकील बदायुनी

 

तोड़ गये पैमाना-ए-वफ़ा इस दौर में कैसे कैसे लोग

ये मत सोच “क़तील” कि बस इक यार तेरा हरजाई है ।

-कतील शिफ़ाई

 

परियों के रंग दमकते हों तब देख बहारें होली की।

ख़ूम शीश-ए-जाम छलकते हों तब देख बहारें

होली की।

-नजीर अकबराबादी

न मिट जाये ग़म तो है ये मेरा ज़िम्मा

मगर शर्त है जाम उठा कर के देखो.!!

‘नव्वाब’ की है प्यास फ़क़त एक घूँट की

कब आये उसके हाथ में पैमाना देखिये.!!

 

मैं समझा नहीं ऐ मेरे हमनशीं

सज़ा ये मिली है मुझे किस लिये

के साक़ी ने लब से मेरे छीन कर

किसी और को जाम क्यों दे दिया

-आनंद बख़्शी

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

मैं अपना रक़्स-ए-जाम तुझे भी दिखाऊँगा

ऐ गर्दिश-ए-ज़माना मेरे दिन अगर फिरे

~फ़ना निज़ामी

 

फ़लक़ दुश्मन,मुखालिफ़ ग़र्दिश-ए-अय्याम है साक़ी

मगर हम हैं,तेरी महफ़िल है,दौर-ए-जाम है साक़ी.!!

 

सुबू पर जाम पर शीशे पे , पैमाने पे क्या गुज़री।।

ना जाने मैंने तौबा की , तो मैख़ाने पे क्या गुज़री..!!

 

वो ग़म वाले से बम वाले हुए,उनको पता क्यों हो

के मुश्किल में मेरी रोटी,है मेरा जाम ख़तरे में..!!

 

Jam Shayari In Hindi पैमाना और जाम पर शायरी

ख़ुद्दारी इतनी फ़ितरत-ए-रिन्दाना चाहिये।।

साक़ी यह ख़ुद कहे , तुझे पैमाना चाहिये..!!

 

इस महफ़िले कैफ़ो-मस्ती में, इस अंजुमने इरफ़ानी में।।

सब जाम बक़फ बैठे हि रहे, हम पी भी गए छलका भी गए..!!

 

शिद्दत-ए-तिश्नगी में भी गैरत-ए-मैकशी रही

उस ने जो फेर ली नज़र, मैंने भी जाम रख दिया

 

Search Tags

Jam Shayari in Hindi, Jam Hindi Shayari, Jam Shayari, Jam whatsapp status, Jam hindi Status, Hindi Shayari on Jam, Jam whatsapp status in hindi,

 Pemana Shayari in Hindi, Pemana Hindi Shayari, Pemana Shayari, Pemana whatsapp status, Pemana hindi Status, Hindi Shayari on Pemana, Pemana whatsapp status in hindi,

जाम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, जाम, जाम स्टेटस, जाम व्हाट्स अप स्टेटस, जाम पर शायरी, जाम शायरी, जाम पर शेर, जाम की शायरी

 पैमाना हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, पैमाना, पैमाना स्टेटस, पैमाना व्हाट्स अप स्टेटस, पैमानें पर शायरी, पैमानें पर शेर, पैमानें की शायरी


Hinglish

Jam Shayari In Hindi

पैमाना और जाम पर शायरी

jam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayarijam shayari in hindipaimaana aur jaam par shaayaridoston “jaam” aur “paimaane” par sher o shaayari ka ek mazedaar sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummid hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke ““jaam” aur “paimaane”” ke baare mein zajbaat jaan sakenge. agar aapake paas bhi “jaam” aur “paimaane” shaayari ka koi achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhi vishayon par hindi shaayari ki list yahaan hai.****************************************************

tere gesuon ka saaya hai ke shaame-maikada haiteri aankh ban gai hai mera jaam bekhudi mein~naqsh laayalapuriraaz-e-takhalik-e-gazal ham ko hai maaloom ‘nasim’jaam ho may ho sanam ho to gazal hoti hai~nasim shaahajahaanpurivo sahan-e-baag mein aae hain may-

kashi ke liekhuda kare ke har ik phool jaam ho jae~naresh kumaar ‘shaad’ye intajaar galat hai ki shaam ho jaejo ho sake to abhi daur-ai-jaam ho jae~naresh kumaar ‘shaad’ye shaam aur us par tiri yaadon ki halaavat,ik jaam mein do shai ka nasha dhoondh raha hoon~shaamjam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayarikisi ne doobati subhon tadapati shaamon kogazal ke jaam mein shab ka khumaar bheja hai~

shaamjo aala-zarf hote hain hamesha jhuk ke milate hain,suraahi sar-nigoon ho kar bhara karati hai paimaana !! -haidar ali aatishunaki aankhon se rakhe kya koi ummid-e-karamapyaas mit jaaye to gardish mein vo jaam aate hainzabaan kahane se ruk jae vahi dil ka hai afasaana,na poochho may-kashon se kyon chhalak jaata hai paimaana !!taaazzub hai tera chehara hai ke maikhaanaanazar..lab..rukhasaar..peshaani mein jaam rakkhe haimmujh tak kab unaki bazm mein aata tha daur-e-jaamasaaqi ne kuchh mila na diya ho sharaab memphir dekhiye andaaz-e-gulafshaani-e-guftaararakh de koi paimaana-e-sahaba, mere aage~

gaalibajam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayarilabarez kar paimaana hamaara bhi saaqigazalagoi bhi karenge ab to nashe mein hamarsh-o-samaan ko saagar-o-paimaana kar diyaarindon ne kaayanaat ko maikhaana kar diya 1/2hai daur-e-jaam-e-avval-e-shab mein khudi se doorahoti hai aaj dekhiye hamako sahar kahaanye jaam ye suboo ye tasavvur ki chaandanisaaqi kahaan madaam jara aankh to milaai husn-e-laalaafaam zara aankh to milaakhaali pade hain jaam zara aankh to milaajam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayariqadam mayakhaana mein rakhana bhi kaar-e-pukhta-kaaraan hai,jo paimaana uthaate hain vo tharraaya nahin karate !!

zabaan kahane se ruk jae vahi dil ka hai afasaana,na poochho may-kashon se kyon chhalak jaata hai paimaana !!is mahafil-e-kaipho masti menis anjuman-e-irafaani mensab jaam bi-kaph baithe hi raheham pi bhi gae chhalaka bhi gaeab to zaahid bhi ye kahata hai badi chook hui,jaam mein thi may-e-kausar mujhe maaloom na tha !!hae gardish vo chashm-e-saaqi ki,main ye samajha ki jaam chalata hai !!

jam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayaripaimaana tootane ka koi gam nahin mujhe,gam hai to ye ki chaandani raaten bikhar gain !!musalla rakhate hain sahaba-o-jaam rakhate hain,faqir sab ke lie intazaam rakhate hain !!mushkil yah aa padi hai ki gardish mein jaam hai,e hosh, varana mujhako tera ehatiraam hai !!bahate hue aansoon ne aankhon se kaha thamakar,jo may se pighal jae vo jaam nahin hota !! -mina kumaariham apani shaam ko jab nazar-e-jaam karate hainadab se hamako sitaare salaam karate hai!!la pila de saakiya paimaana paimaane ke baad,hosh ki baaten karunga hosh kho jaane ke baad !!

saaki mujhe chaahie ek jaam-e-aarazoo,kitane lagege daam zara aankh to mila !!phir dekhie andaaz-e-gul-afshaani-e-guftaar,rakh de koi paimaana-e-sahaba mere aage !!jam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayariye saari lajjaten hain mere shauke-naamukammal tak,kayaamat thi agar paimaana yah labarej ho jaata !!

hosh mein aate hi mumakin hai bahak jaoon main,ik dava jaan ke bas jaam pilaate rahie !!rah gai jaam mein angadaayaan leke sharaab,ham se maangi na gai un se pilai na gai !!

ik dhadakata hua dil, ek chhalakata hua jaam,yahi le aate hain mayanosh ko mayakhaane mein…betalab aa gai may phir mere paimaane mein..mausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi,jis phool ko dekhoon vahi paimaana hua hai !!jo dil hai vo labarez-e-tamanna hai mubaarakis jaam se achchha to koi jaam nahin hai !!khud hi sarashaar-e-may-e-ulphat nahin hona asar,isase bhar-bhar kar dilon ke jaam chhalakaana bhi hai !!-asar lakhanavijaam mein toophaan uthate hain tavaazo ke lie,maikade mein ek puraana baad-khvaar aane ko hai !! -~rahabarahai

daur-e-jaam-e-avval-e-shab mein khudi se doorahoti hai aaj dekhiye hamako sahar kahaanjam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayariaaj hai vo bahaar ka mausam,phool todoon to haath jaam aae !!may barasati hai fazaon pe nasha taari hai,mere saaqi ne kahin jaam uchhaale honge !!jaahid un aankhon ki tapakati hui masti,patthar mein gadhdha daal ke paimaana bana den !! –aarazoo lakhanavizara to karo sabr ey maikashon tumatumhaari hi jaanib ye jaam aa rahe hain …

dil ki hasarat ka paimaana koi baaki hai,e mohabbat tujhe aazamaana abhi baaki hai!!jam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayariho jaate ho baraham bhiban jaate ho hamadam bhiai saaki-e-mayakhaanaashola bhi ho,shabanam bhikhaali mera paimaanaabas itani shikaayat hai-hasarat jayapuriauron ko pilaate rahate hainaur khud pyaase rah jaate hai,ye pinevaale kya jaanepaimaanon pe kya guzari hai..-kamaar jalaalaabaadijam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayarimujh tak kab unaki bazm mein aata tha daur-e-jaamasaaqi ne kuchh mila na diya ho sharaab mein.!!mein najar se pi raha tha,to ye dil ne badadua ditera haath jindagi bhar kabhi jaam tak na pahunche .-shakil badaayunitod gaye paimaana-e-vafa is daur mein kaise kaise logaye mat soch “qatil” ki bas ik yaar tera harajai hai .-katil shifaipariyon ke rang damakate hon tab dekh bahaaren holi ki.khoom shish-e-jaam chhalakate hon tab dekh bahaarenholi ki.-najir akabaraabaadi

na mit jaaye gam to hai ye mera zimmaamagar shart hai jaam utha kar ke dekho.!!‘navvaab’ kee hai pyaas faqat ek ghoont keekab aaye usake haath mein paimaana dekhiye.!!main samajha nahin ai mere hamanasheensaza ye milee hai mujhe kis liyeke saaqee ne lab se mere chheen karakisee aur ko jaam kyon de diya-aanand bakhsheejam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayareemain apana raqs-e-jaam tujhe bhee dikhaoongaai gardish-e-zamaana mere din agar phire~fana nizaameefalaq dushman,mukhaalif gardish-e-ayyaam hai saaqeemagar ham hain,teree mahafil hai,daur-e-jaam hai saaqee.!!suboo par jaam par sheeshe pe , paimaane pe kya guzaree..na jaane mainne tauba kee , to maikhaane pe kya guzaree..!!vo gam vaale se bam vaale hue,unako pata kyon hoke mushkil mein meree rotee,hai mera jaam khatare mein..!!jam shayari in hindi paimaana aur jaam par shaayareekhuddaaree itanee fitarat-e-rindaana chaahiye..saaqee yah khud kahe , tujhe paimaana chaahiye..!!is mahafile kaifo-mastee mein, is anjumane irafaanee mein..sab jaam baqaph baithe hi rahe, ham pee bhee gae chhalaka bhee gae..!!

shiddat-e-tishnagee mein bhee gairat-e-maikashee raheeus ne jo pher lee nazar, mainne bhee jaam rakh diya

 

Leave a Reply