Raaz Shayari in Hindi राज़ पर शायरी

Raaz Shayari in Hindi  राज़ पर शायरी
Raaz Shayari in Hindi राज़ पर शायरी

Raaz Shayari in Hindi

राज़ पर शायरी

दोस्तों राज़ पर शेर ओ शायरी का एक अच्छा संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “राज़” के बारे में ज़ज्बात और ख़यालात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “राज़” पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

इशारे खूब समझता है,

जो अपना राज़ खोलता नहीं !!

 

राज़-ए-तख़लीक-ए-ग़ज़ल हम को है मालूम ‘नसीम’

जाम हो मय हो सनम हो तो ग़ज़ल होती है

~नसीम शाहजहाँपुरी

 

जिसको ख़बर नहीं, उसे जोशो-ख़रोश है

जो पा गया है राज़, वो गुम है, ख़मोश है

~दत्तात्रिय क़ैफी

 

हर अपनी दास्ताँ को कहा दास्तान-ए-ग़ैर,

यूँ भी किसी का राज़ छुपाते चले गए !!

 

पुकारती है ख़ामोशी मेरी फ़ुगां की तरह

निगाहें कहती हैं सब राज़-ए-दिल ज़ुबां की तरह

~दाग़

 

Raaz Shayari in Hindi

शाम-ए-ग़म कुछ उस निगाह-ए-नाज़ की बातें करो

बेख़ुदी बढ़ती चली है राज़ की बातें करो

 

कोई समझेगा क्या राज़-ए-गुलशन

जब तक उलझे न काँटों से दामन..

 

खुलता नहीं है राज़ हमारे बयान से,

लेते हैं दिल का काम हम अपनी ज़बान से !!

 

क्यूँकर हुआ है फ़ाश ज़माने पे क्या कहें,

वो राज़-ए-दिल जो कह न सके राज़-दाँ से हम !!

 

ख़मोशी की गिरह खोले सर-ए-आवाज़ तक आए,

इशारा कोई तो समझे कोई तो राज़ तक आए !! -मुज़फ़्फ़र अबदाली

 

Raaz Shayari in Hindi

जिन को अपनी ख़बर नहीं अब तक,

वो मिरे दिल का राज़ क्या जानें !! -दाग़ देहलवी

 

जो राज़ है वो खुल के भी इक राज़ ही रह जाए,

इज़हार को मैं ऐसी ज़बाँ ढूँड रहा था !!

 

कोई किस तरह राज़-ए-उल्फ़त छुपाए,

निगाहें मिलीं और क़दम डगमगाए !!

 

यइ राह कहाँ से है, ये राह कहाँ तक है

ये राज़ कोई राही समझा है ना जाना है।

 

इशारे काम करते हैं मोहब्बत में निगाहों के

निगाहों से ही बाहम इन्किशाफ़-ए-राज़ होता है

 

Raaz Shayari in Hindi

मुख़्तसर क़िस्सा-ए-ग़म यह है कि दिल रखता हूं,

राज़-ए-कौनैन ख़ुलासा है इस अफ़साने का !!-फ़ानी बदायूनी

 

दफ़न कर सकता हूँ सीने में तुम्हारे राज़ को,

और तुम चाहो तो अफ़साना बना सकता हूँ मैं।

~मजाज़

 

ख़ामोशियों का राज़-ए-मोहब्बत वो पा गए

गो हम से अर्ज़-ए-हाल की ज़ुर्रत न हो सकी !!

 

चाहता है दिल किसी से राज़ की बातें करे,

फूल आधी रात का आँगन में है महका हुआ !!

 

Raaz Shayari in Hindi

राज़ खुलने का तुम पहले ज़रा अंजाम सोच लो

इशारों को अगर समझो राज़ को राज़ रहने दो

 

कहीं कहीं तो ज़मीं आसमाँ से ऊँची है

ये राज़ मुझ पे खुला सीढ़ियाँ उतरते हुए

 

राज़ महफूज़ है इस दर्ज़ा कि मेरे दिल में,

खुद तमाशा है वो और खुद ही तमाशाई है !!- ~रहबर

 

राज़ खोल देते हैं नाज़ुक से इशारे अक्सर,

कितनी खामोश मोहब्बत की जुबां होती है

 

Raaz Shayari in Hindi

तालिब-ए-मसर्रत को,राज़ ये बताता हूँ

हौसला निखरता है,रंज-ओ-ग़म उठाने से.!!

 

लब पे आहें भी नहीं आँख में आँसू भी नहीं

दिल ने हर राज़ मोहब्बत का छुपा रक्खा है.!!

 

हर एक राज़ कह दिया,बस एक जवाब ने

हमको सिखाया वक़्त ने,तुमको क़िताब ने.!!

 

Search Tags

Raaz Shayari in Hindi, Raaz Hindi Shayari, Raaz Shayari, Raaz whatsapp status, Raaz hindi Status, Hindi Shayari on Raaz, Raaz whatsapp status in hindi,

 Secret Shayari in Hindi, Secret Hindi Shayari, Secret Shayari, Secret whatsapp status, Secret hindi Status, Hindi Shayari on Secret, Secret whatsapp status in hindi,

राज़ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, राज़ स्टेटस, राज़ व्हाट्स अप स्टेटस,राज़ पर शायरी, राज़ शायरी, राज़ पर शेर, राज़ की शायरी


Hinglish

Raaz Shayari in Hindi

राज़ पर शायरी

raaz shayari in hindi raaz par shaayareeraaz shayari in hindiraaz par shaayaree doston raaz par sher o shaayaree ka ek achchha sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “raaz” ke baare mein zajbaat aur khayaalaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “raaz” par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

ishaare khoob samajhata hai,jo apana raaz kholata nahin !!raaz-e-takhaleek-e-gazal ham ko hai maaloom ‘naseem’jaam ho may ho sanam ho to gazal hotee hai~naseem shaahajahaanpureejisako khabar nahin, use josho-kharosh haijo pa gaya hai raaz, vo gum hai, khamosh hai~dattaatriy qaipheehar apanee daastaan ko kaha daastaan-e-gair,yoon bhee kisee ka raaz chhupaate chale gae !!pukaaratee hai khaamoshee meree fugaan kee tarahanigaahen kahatee hain sab raaz-e-dil zubaan kee tarah~daagaraaz shayari in hindishaam-e-gam kuchh us nigaah-e-naaz kee baaten karobekhudee badhatee chalee hai raaz kee baaten karokoee samajhega kya raaz-e-gulashanajab tak ulajhe na kaanton se daaman..khulata nahin hai raaz hamaare bayaan se,lete hain dil ka kaam ham apanee zabaan se !!kyoonkar hua hai faash zamaane pe kya kahen,vo raaz-e-dil jo kah na sake raaz-daan se ham !!khamoshee kee girah khole sar-e-aavaaz tak aae,ishaara koee to samajhe koee to raaz tak aae !! -muzaffar abadaalee

raaz shayari in hindijin ko apanee khabar nahin ab tak,vo mire dil ka raaz kya jaanen !! -daag dehalaveejo raaz hai vo khul ke bhee ik raaz hee rah jae,izahaar ko main aisee zabaan dhoond raha tha !!

koee kis tarah raaz-e-ulfat chhupae,nigaahen mileen aur qadam dagamagae !!yai raah kahaan se hai, ye raah kahaan tak haiye raaz koee raahee samajha hai na jaana hai.ishaare kaam karate hain mohabbat mein nigaahon kenigaahon se hee baaham inkishaaf-e-raaz hota hairaaz shayari in hindimukhtasar qissa-e-gam yah hai ki dil rakhata hoon,raaz-e-kaunain khulaasa hai is afasaane ka !!-faanee badaayooneedafan kar sakata hoon seene mein tumhaare raaz ko,aur tum chaaho to afasaana bana sakata hoon main.~majaazakhaamoshiyon ka raaz-e-mohabbat vo pa gaego ham se arz-e-haal kee zurrat na ho sakee !!chaahata hai dil kisee se raaz kee baaten kare,phool aadhee raat ka aangan mein hai mahaka hua !!raaz shayari in hindiraaz khulane ka tum pahale zara anjaam soch loishaaron ko agar samajho raaz ko raaz rahane dokaheen kaheen to zameen aasamaan se oonchee haiye raaz mujh pe khula seedhiyaan utarate hueraaz mahaphooz hai is darza ki mere dil mein,khud tamaasha hai vo aur khud hee tamaashaee hai !!- ~rahabara

raaz khol dete hain naazuk se ishaare aksar,kitanee khaamosh mohabbat kee jubaan hotee hairaaz shayari in hinditaalib-e-masarrat ko,raaz ye bataata hoonhausala nikharata hai,ranj-o-gam uthaane se.!!lab pe aahen bhee nahin aankh mein aansoo bhee naheendil ne har raaz mohabbat ka chhupa rakkha hai.!!

har ek raaz kah diya,bas ek javaab nehamako sikhaaya vaqt ne,tumako qitaab ne.!!saiarchh tagsraaz shayari in hindi, raaz hindi shayari, raaz shayari, raaz whatsapp status, raaz hindi status, hindi shayari on raaz, raaz whatsapp status in hindi, saichrait shayari in hindi, saichrait hindi shayari, saichrait shayari, saichrait whatsapp status, saichrait hindi status, hindi shayari on saichrait, saichrait whatsapp status in hindi,raaz hindee shaayaree, hindee shaayaree, raaz stetas, raaz vhaats ap stetas,raaz par shaayaree, raaz shaayaree, raaz par sher, raaz kee shaayaree