Chahat Shayari चाहत हिंदी शायरी

Chahat Shayari चाहत हिंदी शायरी
Chahat Shayari चाहत हिंदी शायरी

Chahat Shayari

चाहत हिंदी शायरी

Here you can get the best collection of Hindi Shayari on Chahat, You can use it as your hindi whatsapp status or can send this Chahat Hindi Shayari to your facebook friends. These Hindi sher on Chahat is excellent in expressing your emotions.

For other subject list of all Hindi Shayari is here Hindi Shayari .

चाहत पर हिंदी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, आप इस चाहत हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। चाहत लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपकी भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी
मदद कर सकतें हैं।

सभी हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ हैं। Hindi Shayari

*******************

“” उनकी चाहत में हम कुछ यूँ बँधे है….

वो साथ भी नही और हम अकेले भी नही…!!

***

कैसी गहराई है तेरी चाहत में , मेरी मोहब्बत में ? न डूबा हूँ अब तक न सतह की कोई उम्मीद नज़र आती है ।

***

मज़ा आ जाए, गर हो जाए इतना, अबकी बारिश में…

हमारी चाहत के आँसू, तुम्हारी छत पे जा बरसें

***

ढूढने चला था एक शक्श की चाहत

खुद को भी खो दिया उसकी मोहब्बत मे

***

हमारे बाद नहीं आएगा तुम्हें चाहत का ऐसा मज़ा ‘फ़राज़’

तुम लोगों से कहते फ़िरोगे मुझे चाहो उस की तरह

*** Chahat Shayari

तेरी चाहत मे हम जमाना भूल गये, किसी और को हम अपनाना भूल गये, तूम से मोहब्बत हे साारे जहान को बताया, बस एक तूझे ही बताना भूल गये….”

***

चिरागों से अगर अँधेरा दूर होता तो चांदनी की चाहत क्यूँ होती कट सकती अगर ये ज़िन्दगी अकेले, तो साथी की जरूरत ही क्यूँ होती

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Chahat Status Pictures – Chahat dp Pictures – Chahat Shayari Pictures

***

वादे वफ़ा के और चाहत जिस्म की. अगर ये मोहब्बत है तो फिर हवस किसे कहते है..!

*** Chahat Shayari

हर कोई पाने की ज़िद में हैं, शायद मुझे कोई आज़माने की ज़िद में है। जिसकी चाहत है मुझे बेइंतेहा वो मुझे भूल जाने की ज़िद में है।

***

किसी की चाहत मे इतने पागल ना हो, हो सकता हे वो तुम्हारी मंज़िल ना हो, उसकी मुस्कुराहट को मोहब्बत ना समझो, कहीं ये मुस्कुराना उसकी आदत ना हो

 
तेरी चाहत तो मुक़द्दर है, मिले न मिले;
राहत ज़रूर मिल जाती है, तुझे अपना सोच कर
***
 
अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती; तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती; लोग मरने की आरज़ू ना करते; अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती!
 
*** Chahat Shayari
मैं कुछ लिखू और तेरा ज़िक्र न हो,
वो तो मेरी चाहत की तौहीन होगी |
 
***
अनजाने में तुझसे मुलाकात सी हो गयी दोस्ती करने चले थे और तुझसे चाहत सी हो गयी अपने वजूद में तुझे तलाश करते है, हमे तुमसे मोहब्बत सी हो गयी
 
***
अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा
तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते
 
***
 
तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ.. जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ..
मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह.. तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ
 
*** Chahat Shayari
अल्फ़ाज़ो के समंदर में आप ऐसे डूबे फिर निकलने की चाहत न रही,आप याद करने लगे फ़ुर्सत के लमहों को जैसे खवाईशो की चाहत न रही…
 
***
उतर के देख मेरी चाहत की गहराई मै
सोचना मेरे बारे मै रात की तन्हाई मै
अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तो
मिलेगा मेरा अक्स तुम्हे अपनी ही परछाई मै
 
***
बहुत गुमनाम से है चाहत के रास्ते
तू भी लापता…मैं भी लापता
 
*** Chahat Shayari

सीख जाअो वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना कहीं कोई थक ना जाये, तुम्हें एहसास दिलातें दिलाते……

***

मेरे दिल मे तेरी चाहत,बस जाए बन के धड़कन पल भर ना भूल पाऊ,ऐसी तड़प जगा दे।

***

प्यार है मुझसे तो सारी खुशियाँ समेट लो मेरी, गमों का क्या है,ये चाहत से खुशियों में बदल जायेंगे”

***

इंसान की चाहत कि उङने को पर मिले,

और परिंदे सोचते है कि रहने को घर मिले…

***

रिहा कर ख़ूबसूरत दिखने की चाहत से मुझे

ऐ आईने तू मेरी सादगी को ज़मानत दे दे

*** Chahat Shayari

तुमसे इश्क की चाहत में सब कुछ सहे जा रहे है

मोहब्बत के अल्फ़ाज समंदर में बहे जा रहे है

***

मेरी चाहत का एहसास भी ना होगा उसे,

उसकी हर अदा पसन्द आई बेवफाई के सिवा..

***

हमने तो एक ही शख्स पर चाहत ख़त्म कर दी

अब मोहब्बत किसको कहते है मालुम नही

*** Chahat Shayari

 
नशा किस चीज को कहते
अगर तुम देखना चाहो,
तो जाकर के कहो उनसे,झुकी पलकें उठा लें वो..!!
अगर चाहत है उल्फत की
बसाना है उन्हें दिल में,
मिलाकरके नज़र कहदो,तुम्हें अपना बना लें वो..!!
***
 
“दिल की धड़कन और मेरी सदा हो तुम ..
मेरी पहली और आखिरी वफ़ा हो तुम
…. मेने चाहा है तुम्हे चाहत से बढ़कर क्युकी
मेरी चाहत और चाहत की इन्तेहाँ हो तुम”…
 
***
 
अभी नादाँ हु इश्क में, जताऊ कैसे,
प्यार कितना है, तुमसे बताऊ कैसे,
बहुत चाहत है, दिल में तुम्हारे लिये,
तुम ही कहो, तुम्हें अपना बनाऊ कैसे,
 
*** Chahat Shayari

कुछ तो है कहीं, ये जो थोड़ा प्यार-सा है
नशा है तेरा, चाहत या इक ख़ुमार-सा है…

मिला करती है मचलकर रोज ही तू मुझसे
रहता बेवक़्त फिर भी तेरा इंतज़ार-सा है..

***

तुम्हारी पसंद हमारी चाहत बन जाये
तुम्हारी मुस्कुराहट दिल कि राहत बन ज़ाये !
खुदा खुशियो से इतना खुश कर दे आपको
कि आपको खुश देख़ना हमारी आदत बन जाये !

***

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है;
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है;
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद;
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है!

***

कुछ उलझे सवालो से डरता हे दिल
जाने क्यों तन्हाई में बिखरता हे दिल
किसी को पाने कि अब कोई चाहत न रही
बस कुछ अपनों को खोने से डरता हे ये दिल

***

रख भी सकता था नुमाइश में सजा कर मुझको,
दर्द की तरह रखा जिसने छुपा कर मुझको.

मेरी चाहत थी पसीने की कमाई जैसी,
मुफ़लिसी में भी रखा उसने बचा कर मुझको.

***

तेरे ख़त की इबारत की मैं स्याही बन गया होता
तो चाहत की डगर का मैं भी राही बन गया होता

***

बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है

.

 
Search Tags
Chahat Shayari, Chahat Hindi Shayari, Chahat Shayari, Chahat whatsapp status, Chahat hindi Status, Hindi Shayari on Chahat, Chahat whatsapp status in hindi, चाहत हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, चाहत, चाहत स्टेटस, चाहत व्हाट्स


chahat par hindi shayari in english font

chahat par hindi shayari ka sabase achchha sangrah yahan upalabdh hai, ap is chahat hindi shayari ko apane hindi whatsapp stetas ke roop mein upayog kar sakaten hai ya ap is behataren hindi shayari ko apane doston ko facebook par bhe bhej sakaten hain. chahat lafz par hindi ke yah sher, apake bhavanaon ko vyakt karane mein apake madad kar sakaten hain. ” unake chahat mein ham kuchh yoon bandhe hai….vo sath bhe nahe aur ham akele bhe nahe…!!***

kaise gaharae hai tere chahat mein , mere mohabbat mein ? na dooba hoon ab tak na satah ke koe ummed nazar ate hai .***

maza a jae, gar ho jae itana, abake barish mein…hamare chahat ke ansoo, tumhare chhat pe ja barasen***

dhoodhane chala tha ek shaksh ke chahatakhud ko bhe kho diya usake mohabbat me***

hamare bad nahin aega tumhen chahat ka aisa maza faraztum logon se kahate firoge mujhe chaho us ke tarah***

chhahat shayaritere chahat me ham jamana bhool gaye, kise aur ko ham apanana bhool gaye, toom se mohabbat he saare jahan ko bataya, bas ek toojhe he batana bhool gaye….”***

chiragon se agar andhera door hota to chandane ke chahat kyoon hote kat sakate agar ye zindage akele, to sathe ke jaroorat he kyoon hote***

vade vafa ke aur chahat jism ke. agar ye mohabbat hai to fir havas kise kahate hai..!***

chhahat shayarihar koe pane ke zid mein hain, shayad mujhe koe azamane ke zid mein hai. jisake chahat hai mujhe beinteha vo mujhe bhool jane ke zid mein hai.***

kise ke chahat me itane pagal na ho, ho sakata he vo tumhare manzil na ho, usake muskurahat ko mohabbat na samajho, kahen ye muskurana usake adat na ho***

chhahat shayarisilasila ye chahat ka dono taraf se tha, vo mere jan chahate the aur main jan se jyada use..***

tere chahat ke siva ab na koe arazoo rahe too raha, tere khvahish rahe aur bas tere ashike rahe***

kae bar ye soch ke dil mera ro deta hai… ki tujhe pane ke chahat mein mainne khud ko bhe kho diya !! ***

vo chha gaye hai kohare ke tarah mere charo taraf,na koe doosara dikhata hai na dekhane ke chahat hai.***

chhahat shayarichahat ke ye kaise afasane hue; khud nazaron mein apane begane hue; ab duniya ke nahin koe paravah hamen; ishq mein tere is kadar devane hue.***

tere chahat to muqaddar hai, mile na mile;rahat zaroor mil jate hai, tujhe apana soch kar**

agar duniya mein jene ke chahat na hote; to khuda ne mohabbat banae na hote; log marane ke arazoo na karate; agar mohabbat mein bevafae na hote!***

chhahat shayarimain kuchh likhoo aur tera zikr na ho,vo to mere chahat ke tauhen hoge |***

anajane mein tujhase mulakat se ho gaye doste karane chale the aur tujhase chahat se ho gaye apane vajood mein tujhe talash karate hai, hame tumase mohabbat se ho gaye***

agar tum samajh pate mere chahat ke intahato ham tumase nahe tum hamase mohabbat karate***

tere gam ko apane rooh mein utar loon.. jindage tere chahat mein savar loon..mulakat ho tujh se kuchh is tarah.. tamam umar bas ik mulakat mein gujar loon***

chhahat shayarialfazo ke samandar mein ap aise doobe fir nikalane ke chahat na rahe,ap yad karane lage fursat ke lamahon ko jaise khavaesho ke chahat na rahe…***

utar ke dekh mere chahat ke gaharae maisochana mere bare mai rat ke tanhae maiagar ho jae mere chahat ka ehasas tomilega mera aks tumhe apane he parachhae mai***

bahut gumanam se hai chahat ke rastetoo bhe lapata…main bhe lapata***

chhahat shayarisekh jaao vakt par kise ke chahat ke kadar karana kahen koe thak na jaye, tumhen ehasas dilaten dilate……***

mere dil me tere chahat,bas jae ban ke dhadakan pal bhar na bhool paoo,aise tadap jaga de.***

pyar hai mujhase to sare khushiyan samet lo mere, gamon ka kya hai,ye chahat se khushiyon mein badal jayenge”***

insan ke chahat ki unane ko par mile,aur parinde sochate hai ki rahane ko ghar mile…***

riha kar khoobasoorat dikhane ke chahat se mujheai aene too mere sadage ko zamanat de de***

chhahat shayaritumase ishk ke chahat mein sab kuchh sahe ja rahe haimohabbat ke alfaj samandar mein bahe ja rahe hai***

mere chahat ka ehasas bhe na hoga use,usake har ada pasand ae bevafae ke siva..***

hamane to ek he shakhs par chahat khatm kar deab mohabbat kisako kahate hai malum nahe***

chhahat shayari tum khud ulajh jaoge mujhe gam dene ke chahat mein,mujhamen hausala bahut hai muskurakar nikal jaooga.***

vo shama ke mahafil he kya jisamen dil khak na ho maza to tab hai chahat ka jab dil to jale par rakh na ho***

nasha kis chej ko kahateagar tum dekhana chaho,to jakar ke kaho unase,jhuke palaken utha len vo..!!agar chahat hai ulfat kebasana hai unhen dil mein,milakarake nazar kahado,tumhen apana bana len vo..!!***

“dil ke dhadakan aur mere sada ho tum ..mere pahale aur akhire vafa ho tum…. mene chaha hai tumhe chahat se badhakar kyukemere chahat aur chahat ke intehan ho tum”…***

abhe nadan hu ishk mein, jataoo kaise,pyar kitana hai, tumase bataoo kaise,bahut chahat hai, dil mein tumhare liye,tum he kaho, tumhen apana banaoo kaise,***

chhahat shayarikuchh to hai kahen, ye jo thoda pyar-sa hainasha hai tera, chahat ya ik khumar-sa hai…mila karate hai machalakar roj he too mujhaserahata bevaqt fir bhe tera intazar-sa hai..***

tumhare pasand hamare chahat ban jayetumhare muskurahat dil ki rahat ban zaye !khuda khushiyo se itana khush kar de apakoki apako khush dekhana hamare adat ban jaye !***

ek ajanabe se mujhe itana pyar kyon hai;inkar karane par chahat ka ikarar kyon hai;use pana nahin mere takader mein shayad;fir har mod pe use ka intazar kyon hai!***

kuchh ulajhe savalo se darata he dilajane kyon tanhae mein bikharata he dilakise ko pane ki ab koe chahat na rahebas kuchh apanon ko khone se darata he ye dil***

rakh bhe sakata tha numaish mein saja kar mujhako,dard ke tarah rakha jisane chhupa kar mujhako.mere chahat the pasene ke kamae jaise,mufalise mein bhe rakha usane bacha kar mujhako.***

tere khat ke ibarat ke main syahe ban gaya hotato chahat ke dagar ka main bhe rahe ban gaya hota***

bin bat ke he roothane ke adat hai;kise apane ka sath pane ke chahat hai;ap khush rahen, mera kya hai;main to aina hoon, mujhe to tootane ke adat hai

search tags

chhahat shayari, chhahat hindi shayari, chhahat shayari, chhahat whatsapp status, chhahat hindi status, hindi shayari on chhahat, chhahat whatsapp status in hindi,chahat hindi shayari, hindi shayari, chahat, chahat stetas, chahat vhats

 

 

 
 
 
 
 
 

2 thoughts on “Chahat Shayari चाहत हिंदी शायरी”

Leave a Reply

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!