Barish Shayari in Hindi बारिश-बरसात के मोसम पर शायरी

Barish Shayari in Hindi बारिश-बरसात के मोसम पर शायरी

Barish Shayari in Hindi बारिश-बरसात के मोसम पर शायरी
Barish Shayari in Hindi बारिश-बरसात के मोसम पर शायरी

Barish Shayari in Hindi

बारिशबरसात के मोसम पर शायरी

दोस्तों, बारिश का सुहावना मोसम सभी को अच्छा लगता है और हम सब गर्मी से परेशां होकर बारिश की बोचारों का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं, बारिश की पहली फुहारें पड़ते ही सारा समा बदल जाता है, मिटटी की सोंधी खुशबु चारो और फ़ैल जाती है, सब और हरी हरी घांस अंकुर उगने लगते हैं और हमारे मन में कई तरह की यादें ताज़ा हो जाती है. इस ब्लॉग पोस्ट में पेश है आपके लिए कुछ अच्छे बारिश पर शायरी.

बरसात के यह शेर आपके मन को तरोताजा कर देंगे.




प्यासे रहो न दश्त में बारिश के मुंतज़िर,

मारो ज़मीं पे पाँव कि पानी निकल पड़े !!/

 

शायद कोई ख्वाहिश रोती रहती है,

मेरे अन्दर बारिश होती रहती है

~अहमद फ़राज़/

 

अश्रु से मधुकण लुटाता आ यहाँ मधुमास!

अश्रु ही की हाट बन आती करुण बरसात!/

 

धुप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा

उसकी पायल में बरसात का मौसम छनके

~क़तील शिफ़ाई/

Barish Shayari in Hindi

 

किस को ख़बर थी साँवले बादल बिन बरसे उड़ जाते हैं

सावन आया लेकिन अपनी क़िस्मत में बरसात नहीं/

 

बारिश शराबे अर्श है ये सोचकर कर अदम

बारिश के सब हरूफ को उल्टा के पी गया।/

 

अपने घर संग-ए-मलामत की हुई है बारिश

बेगुनाही की सनद हम जो दिखाने निकले/

 

अब्र के चारों तरफ बाढ लगा दी जाये

मुफ्त बारिश में नहाने पे सजा दी जाए।/

 

चाहा था कि भीगें तेरी बारिश में हम मगर

अपने ही सुलगते हुए ख्वाबों में जले हैं।/

 



सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ

मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ/

Barish Shayari in Hindi

 

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,

किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है !!/

 

अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है,

जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है !!/

 

बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई

कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई/

 

कल रोशनी की बरसात थी, आज फिर अँधेरी रात,/

बुझते हुए दीयों ने हम को भी बुझा दिया।

 

Barish Shayari in Hindi

 

होंठो पे हंसी तो हो मगर,

आँखों में बरसात ना आये!/

 

बरसात का मज़ा तेरे गेसू दिखा गए,

अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए !!/

 

भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं,

न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है/

 

स्याही का सा एक दाग है दिल में,

जो धुलता नहीं अश्कों की बरसात में भी।/

 

बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं,

फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में।/

 

Barish Shayari in Hindi

अब्र आँखों से उठे हैं तिरा दामन मिल जाए

हुक्म हो तेरा तो बरसात मुकम्मल हो जाए/

 

बरसात की एक शाम, अभी तक खिड़की पे बैठी है मेरी,

तू आये तो साथ आफ़ताब ले आना।/

 

उनकी नीयत में ख़लल है तो घर से ना निकलें

तेज़ बारिश में ये मिट्टी का बदन ठीक नहीं/

 

दर ओ दीवार पे शक्लें सी बनाने आई,

फिर ये बारिश मेरी तन्हाई चुराने आई !!/

 

पेडों की तरह हुस्न की बारिश में नहा लूं ,

बादल की तरह झूम के घिर आओ किसी दिन !!/

 

Barish Shayari in Hindi

मासूम मोहब्बत का बस इतना फसाना है,

कगाज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है !!/

 

बरसता, भीगता मौसम है कमज़ोरी मेरी लेकिन,

मैं ये रिमझिम, घटा, बादल तुम्हारे नाम करता हूँ …/

 

गुल तेरा रंग चुरा लाए हैं गुलज़ारों में

जल रहा हूँ भरी बरसात की बौछारो में/

 

हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब

आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया !!/

 

झिलमिलाते हुए अश्कों की लङी टूट गई

जगमगाती हुई बरसात ने दम तोड़ दिया!/

 

बारिश शराबे अरस है ये सोच कर अदम ~~

बारिश के सब हरूफ को उल्टा के पी गये!/

Barish Shayari in Hindi

 

सदाओं को अल्फाज़ मिलने न पाएँ

न बादल घिरेंगे न बरसात होगी.!!/

बशीर बद्र

 

इन आँखों से दिन-रात बरसात होगी

अगर ज़िंदगी सर्फ़-ए-जज़्बात होगी.!!/

बशीर बद्र

 

अभी तो खुश्क़ है मौसम,बारिश हो तो सोचेंगे

हमें अपने अरमानों को,किस मिट्टी में बोना है.!!/

 

मेरे घर की मुफलिसी को देख कर बदनसीबी सर पटकती रह गई

और एक दिन की मुख़्तसर बारिश के बाद छत कई दिन तक टपकती रही/

 

राईसों के वास्ते बारिश ख़ुशी की बात सहीं

मुफलिस की छत के लिये इम्तेहान होता है..!!/

 

Barish Shayari in Hindi

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं

तू ने मुझ को खो दिया पर मैं ने तुझे खोया नहीं.!!/

 

परदेस में क्या महसूस करें,बारिश का मज़ा मिट्टी की महक़

जब गाँव में अपने होती है,बरसात से खुशबू आती है.!!/

 

जो मुंह को आ रही थी , अब लिपटी है पाँव से

बारिश के बाद खाक़ की फ़ितरत बदल गई. !!/

 

Search Tags

Barish Shayari, Barish Hindi Shayari, Barish Shayari, Barish whatsapp status, Barish hindi Status, Hindi Shayari on Barish, Barish whatsapp status in hindi,

Barsat Shayari, Barsat Hindi Shayari, Barsat Shayari, Barsat whatsapp status, Barsat hindi Status, Hindi Shayari on Barsat, Barsat whatsapp status in hindi,

Rain Shayari, Rain Hindi Shayari, Rain Shayari, Rain whatsapp status, Rain hindi Status, Hindi Shayari on Rain, Rain whatsapp status in hindi,

 

बारिश हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बारिश, बारिश स्टेटस, बारिश व्हाट्स अप स्टेटस, बारिश पर शायरी, बारिश शायरी, बारिश पर शेर, बारिश की शायरी,

बरसात हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बरसात, बरसात स्टेटस, बरसात व्हाट्स अप स्टेटस, बरसात पर शायरी, बरसात शायरी, बरसात पर शेर, बरसात की शायरी,


Hinglish

Barish Shayari in Hindi

बारिशबरसात के मोसम पर शायरी

pyaase raho na dasht mein baarish ke muntazir,maaro zamin pe paanv ki paani nikal pade !!/

shaayad koi khvaahish roti rahati hai,mere andar baarish hoti rahati hai~ahamad faraaz/

ashru se madhukan lutaata aa yahaan madhumaas!ashru hi ki haat ban aati karun barasaat!/

dhup sa rang hai aur khud hai vo chhaanvo jaisausaki paayal mein barasaat ka mausam chhanake~qatil shifai/

barish shayari in hindikis ko khabar thi saanvale baadal bin barase ud jaate hainsaavan aaya lekin apani qismat mein barasaat nahin/

baarish sharaabe arsh hai ye sochakar kar adamabaarish ke sab harooph ko ulta ke pi gaya./

apane ghar sang-e-malaamat ki hui hai baarishabegunaahi ki sanad ham jo dikhaane nikale/

abr ke chaaron taraph baadh laga di jaayemupht baarish mein nahaane pe saja di jae./

chaaha tha ki bhigen teri baarish mein ham magarapane hi sulagate hue khvaabon mein jale hain./

sine mein samundar ke laave sa sulagata hoonmain teri inaayat ki baarish ko tarasata hoon/

barish shayari in hindibarasaat ka baadal to divaana hai kya jaane,kis raah se bachana hai kis chhat ko bhigona hai !!/

abake barasaat ki rut aur bhi bhadakili hai,jism se aag nikalati hai, qaba gili hai !!/

barasaat ki bhigi raaton mein phir koi suhaani yaad aaikuchh apana zamaana yaad aaya kuchh unaki javaani yaad aai/

kal roshani ki barasaat thi, aaj phir andheri raat,/

bujhate hue diyon ne ham ko bhi bujha diya.barish shayari in hindihontho pe hansi to ho magar,aankhon mein barasaat na aaye!/

barasaat ka maza tere gesoo dikha gae,aks aasamaan par jo pada abr chha gae !!/

bhala kaagaz ki itani kashtiyaan ham kyon banaate hain,na vo galiyaan kahin hain ab na vo baarish ka paani hai/

syaahi ka sa ek daag hai dil mein,jo dhulata nahin ashkon ki barasaat mein bhi./

be mausam barasaat se andaaza lagata hoon main,phir kisi maasoom ka dil tuta hai mausam-e-bahaar mein।/

barish shayari in hindiabr aankhon se uthe hain tira daaman mil jaehukm ho tera to barasaat mukammal ho jae/

barasaat ki ek shaam, abhi tak khidaki pe baithi hai meri,too aaye to saath aafataab le aana./unaki niyat mein khalal hai to ghar se na nikalentez baarish mein ye mitti ka badan thik nahin/

dar o divaar pe shaklen si banaane aai,phir ye baarish meri tanhai churaane aai !!/

pedon ki tarah husn ki baarish mein naha loon ,baadal ki tarah jhoom ke ghir aao kisi din !!/

barish shayari in hindimaasoom mohabbat ka bas itana phasaana hai,kagaaz ki haveli hai baarish ka zamaana hai !!/

barasata, bhigata mausam hai kamazori meri lekin,main ye rimajhim, ghata, baadal tumhaare naam karata hoon …/

gul tera rang chura lae hain gulazaaron menjal raha hoon bhari barasaat ki bauchhaaro mein/

ham to samajhe the ke barasaat mein barasegi sharaabai barasaat to barasaat ne dil tod diya !!/

jhilamilaate hue ashkon ki lani toot gaijagamagaati hui barasaat ne dam tod diya!/baarish sharaabe aras hai ye soch kar adam ~~baarish ke sab harooph ko ulta ke pi gaye!/

barish shayari in hindisadaon ko alphaaz milane na paenn baadal ghirenge na barasaat hogi.!!/

bashir badrin aankhon se din-raat barasaat hogiagar zindagi sarf-e-jazbaat hogi.!!/

bashir badrabhi to khushq hai mausam,baarish ho to sochengehamen apane aramaanon ko,kis mitti mein bona hai.!!/

mere ghar ki muphalisi ko dekh kar badanasibi sar patakati rah gaiaur ek din ki mukhtasar baarish ke baad chhat kai din tak tapakati rahi/

raison ke vaaste baarish khushi ki baat sahimmuphalis ki chhat ke liye imtehaan hota hai..!!/

barish shayari in hindigam ki baarish ne bhi tere naqsh ko dhoya nahintoo ne mujh ko kho diya par main ne tujhe khoya nahin.!!/

parades mein kya mahasoos karen,baarish ka maza mitti ki mahaqajab gaanv mein apane hoti hai,barasaat se khushaboo aati hai.!!/

jo munh ko aa rahi thi , ab lipati hai paanv sebaarish ke baad khaaq ki fitarat badal gai.

3 thoughts on “Barish Shayari in Hindi बारिश-बरसात के मोसम पर शायरी”

Leave a Reply