Hindi Shayri – बेमिसाल हुस्न था

Hindi Shayri

Hindi Shayri

Hindi Shayri

हिंदी शायरी
बेमिसाल हुस्न था उसका दिल को मेरे छल गया,
वहां मोहब्बत लिखना उसका और यहाँ दिल मचल गया।

क्या खूब नूर बक्शा हैं कुदरत ने उसे,
उसके मुस्कुराते ही यहाँ मौसम बदल गया
बचता रहा था अब तक कई ज़लज़लों से ,
उसकी नज़र के जुगनुओ से अक्स ये मेरा जल गया,
हुआ है नशा जब से तेरे साथ का,
कदम तो लडख़ड़ाने लगे पर ये रास्ता संभल गया।

Taj Mohammed Sheikh

हेलो दोस्तों, में एक Freelance Blogger हूँ , नेट इन हिंदी .com वेबसाईट बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में मनोरंजक और उपयोगी सामग्री प्रस्तुत करना है, यहाँ आपको विज्ञान, सेहत, शायरी, प्रेरक कहानिया, सुविचार और अन्य विषयों पर अच्छे लेख पढ़ने को मिलते रहेंगे. धन्यवाद!

You may also like...

Leave a Reply