Mahfil Shayari in Hindi महफ़िल और बज़्म पर शायरी

Mahfil Shayari in Hindi महफ़िल और बज़्म पर शायरी

Mahfil Shayari in Hindi महफ़िल और बज़्म पर शायरी
Mahfil Shayari in Hindi महफ़िल और बज़्म पर शायरी

Mahfil Shayari in Hindi

महफ़िल और बज़्म पर शायरी

दोस्तों “महफ़िल और “बज़्म” पर शेर ओ शायरी का एक संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “महफ़िल और “बज़्म” के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

***************************************************

 

Loading...

लबों पर ख़ामोशी आँखों में आँसू दिल में बे-ताबी

मैं उन की बज़्म-ए-इशरत से क़यामत ले के आया हूँ

~नसीम

 

छुपती है कोई बात छुपाए से सर-ए-बज़्म,

उड़ते हो जो तुम हम से तो उड़ती है ख़बर भी !! – बेख़ुद देहलवी

 

‘अनवार’ बज़्म है सजी हो जाए शाएरी,

उर्दू से हम को इश्क़ है अपनी ज़बान है !!

 

ये बज़्म-ए-मुहब्बत है इस बज़्म-ए-मुहब्बत में

दीवाने भी शैदाई परवानें भी शैदाई

 

तेरे होते हुए महफ़िल में जलाते हैं चिराग़

लोग क्या सादा हैं सूरज को दिखाते हैं चिराग़

~Faraz

 

Mahfil Shayari in Hindi

उससे बिछड़े तो मालूम हुआ की मौत भी कोई चीज़ है ‘फ़राज़’,

ज़िंदगी वो थी जो हम उसकी महफ़िल में गुज़ार आए !!

 

महफ़िल में तेरी यूँ ही रहे जश्न-ए-चरागां,

आँखों में ही ये रात गुज़र जाए तो अच्छा !! – साहिर लुधियानवी

 

भरे हैं तुझमें वो लाखों हुनर ऐ मजमअ-ए-ख़ूबी

मुलाक़ाती तिरा गोया भरी महफ़िल से मिलता है !!

 

भाँप ही लेंगे इशारा सर-ए-महफ़िल जो किया,

ताड़ने वाले क़यामत की नज़र रखते हैं !!

 

Mahfil Shayari in Hindi

ऐ दिल की ख़लिश चल यूँ ही सहीं चलता तो हूँ उन की महफ़िल में

उस वक़्त मुझे चौंका देना जब रँग में महफ़िल आ जाए

 

क़यामत क्या ये अय हुस्न-ए-दो आलम होती जाती है

कि महफ़िल तो वही है,दिलकशी कम होती जाती है

~जिगर

 

मिस्ल-ए-परवाना फ़िदा हर एक का दिल हो गया,

यार जिस महफ़िल में बैठा शम-ए-महफ़िल हो गया !!

 

उम्मीद ऐसी तो ना थी महफ़िल के अर्बाब-ए-बसीरत से

गुनाह-ए-शम्मा को भी जुर्म-ए-परवाना बना देंगे

 

यक-नज़र बेश नहीं, फुर्सते-हस्ती गाफिल

गर्मी-ए-बज्म है इक रक्स-ए-शरर होने तक

~ग़ालिब

 

Mahfil Shayari in Hindi

अपनी ही आवाज़ पर चौंके हैं हम तो बार बार,

ऐ रफ़ीक़ो बज़्म में इतनी भी तन्हाई न हो !! -अमीन राहत चुग़ताई

 

क़यामत क्या ये है हुस्ने दो आलम होती जाती है

के महफ़िल तो वही है दिलक़शी कम होती जाती है

 

ऐ दिल की ख़लिश चल यूँ ही सहीं,चलता तो हूँ उनकी महफ़िल में

उस वक़्त मुझको चौंका देना जब रंग पे महफ़िल आ जाए

 

मोहताज थी आईने की तस्वीर सी सूरत,

तस्वीर बनाया मुझे महफ़िल में किसी ने !! -वहशत रज़ा अली कलकत्वी

 

शमए रोशन को बुझाए ना कोई महफ़िल में

इसकी आगोश मे परवाने को जल जाने दो

 

Mahfil Shayari in Hindi

तेरी महफ़िल तेरे जल्वे फिर तक़ाज़ा क्या ज़रूर

ले उठा जाता हूँ ज़ालिम ले चला जाता हूँ मैं

 

शराबखानो कभी महफ़िलों की जानिब हम

ख़ुद अपने आप से टकराव टालने निकले

 

वो शमा की महफ़िल ही क्या

जिसमें दिल खाक न हो

मज़ा तो तब है चाहत का जब

दिल तो जले पर राख न हो

 

बज़्म-ए-अग़यार में आराम ये पायेंगे कहाँ,

तुझसे हम रूठ के जायेंगे तो जायेंगे कहाँ !!

 

 

Mahfil Shayari in Hindi

जाकर तेरी महफ़िल से कहाँ चैन मिलेगा,

अब अपनी जगह अपनी खबर जाए तो अच्छा !!

 

महफ़िल में तेरी यूँ ही रहे जश्न-ए-चरागां,

आँखों में ही ये रात गुज़र जाए तो अच्छा !!

 

रिन्दों की बज़्म-ए-कैफ़ में क्यों शैख़-ए-मोहतरम

झगड़ा उठा दिया है सवाब-ओ-अज़ाब का

 

तहसीन के लायक तेरा हर शेर है,

अहबाब करें बज़्म में अब वाह कहाँ तक..

 

हो गया हाँसिल किसी के प्यार में ये मर्तबा,

जा रहा हूँ बज्म में आगोश दर आगोश मैं !!

 

Mahfil Shayari in Hindi

बने हुए हैं वो महफ़िल में सूरत-ए-तस्वीर

हर एक को यूँ गुमा है की इधर को देखते हैं !!-दाग़

 

‘अज़ीज़’-ए-वारसी ये भी किसी का मुझ पे एहसान है

के हर महफ़िल में अब अपना भरम महसूस करता हूँ

इस महफ़िल-ए-कैफो मस्ती में

इस अंजुमन-ए-इरफ़ानी में

सब जाम बी-कफ बैठे ही रहे

हम पी भी गए छलका भी गए

 

अकेलापन कभी हमको अकेला कर नहीं सकता,

अकेलेपन को हम महबूब की महफ़िल समझते हैं

 

Mahfil Shayari in Hindi

उम्मीद ऐसी तो ना थी महफ़िल के अर्बाब-ए-बसीरत से

गुनाह-ए-शम्मा को भी जुर्म-ए-परवाना बना देंगे

 

आज तू कल कोई और होगा सद्र-ए-बज़्म-ए-मै

साकिया तुझसे नहीं,हम से है मैखाने का नाम

 

मैं खुलकार आज महफ़िल में ये कहता हूँ मुझे तुझसे

मोहब्बत है,मोहब्बत है मोहब्बत है मोहब्बत है

 

होश से आरी^ रही दीवानगी अपनी ‘ज़फ़र’,

बा-ख़बर महफ़िल में रह कर बेख़बर वापस हुए!! ^free

 

वो मुझको देखकर कुछ अपने दिल में झेंप जाते हैं,

कोई परवाना जब शम-ए-सर-ए-महफ़िल से मिलता है!!

 

ख़ल्वत बनी हुई थी तिरी अंजुमन मगर,

मैं आ गया तो बज़्म का नक़्शा बदल गया !!

 

Mahfil Shayari in Hindi

यूँ चुराईं उस ने आँखें सादगी तो देखिए,

बज़्म में गोया मिरी जानिब इशारा कर दिया !!

 

हम भी ना-वाक़िफ़ नहीं आदाब-ए-महफ़िल से मगर

चीख़ उठें ख़ामोशियाँ तक ऐसा सन्नाटा भी क्या

 

ऐसा साक़ी हो तो फिर देखिए रंगे-महफ़िल,

सबको मदहोश करे, होश से जाए ख़ुद भी !! -फ़राज़

 

उस की महफ़िल में बैठ कर देखो

ज़िन्दगी कितनी ख़ुबसूरत है !! -क़ाबिल अजमेरी

 

जाँ-सोज़ की हालत को जाँ-सोज़ ही समझेगा

मैं शमा से कहता हूँ महफ़िल से नहीं कहता क्योंकि

 

 

इस बज़्म में इक जश्न-ए-चराग़ाँ है उन्ही से,

कुछ ख़्वाब जो पलकों पे उजाले हुए हम हैं !!

 

देखें अब रहता है किस किस का गरेबाँ साबित

चाक-ए-दिल लेके तिरी बज़्म से दीवाने चले -अहमदराही

 

Mahfil Shayari in Hindi

क़द ओ गेसू लब-ओ-रुख़्सार के अफ़्साने चले

आज महफ़िल में तिरे नाम पे पैमाने चले -अहमद राही

 

भाँप ही लेंगे इशारा सर-ए-महफ़िल जो किया,

ताड़ने वाले क़यामत की नज़र रखते हैं !!

 

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,

दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे

 

दिल-गिरफ़्ता ही सही बज़्म सजा ली जाए

याद-ए-जानाँ से कोई शाम न ख़ाली जाए !!

 

नज़र नज़र पे सर-ए-बज़्म है नज़र उन की

नज़र नज़र में सलाम-ओ-पयाम होता है !!

 

जश्न हो इतनी गुंजाईश तो छोड़ आया था,

न जाने क्यों वहाँ महफ़िल नहीं हुयी अब तक.!!

 

बू-ए-गुल, नाला-ए-दिल, दूद-ए-चिराग़-ए-महफ़िल,

जो तेरी बज़्म से निकला सो परीशाँ निकला !!

 

Mahfil Shayari in Hindi

रंग-ए-महफ़िल चाहती है इक मुकम्मल इंक़लाब,

चंद शम्माओं के भड़कने से सहर होती नहीं !!

भरे हैं तुझ में वो लाखों हुनर ऐ मजमअ-ए-ख़ूबी,

मुलाक़ाती तिरा गोया भरी महफ़िल से मिलता है !! -दाग़ देहलवी

 

हम भी ना-वाक़िफ़ नहीं आदाब-ए-महफ़िल से मगर,

चीख़ उठें ख़ामोशियाँ तक, ऐसा सन्नाटा भी क्या !!

 

बने हुए हैं वो महफ़िल में सूरत-ए-तस्वीर,

हर एक को यूँ गुमा है की इधर को देखते हैं !! –

 

वो आज आये हैं महफ़िल में चांदनी लेकर,

कि फिर रौशनी में नहाने की रात आयी…

 

Mahfil Shayari in Hindi

कभी उस परी का कूचा, कभी इस हसीं की महफ़िल

मुझे दरबदर फिराया, मेरे दिल की सादगी ने …

 

छुपाये दिल में ग़मों का जहान बैठे हैं

तुम्हारी बज़्म में हम बेज़बान बैठे हैं.!!

 

तेरी महफ़िल से दिल कुछ और तनहा होके लौटा है

ये लेने क्या गया था और क्या घर लेके आया है

 

ऐ दिल की ख़लिश चल यूँ ही सहीं चलता तो हूँ उनकी महफ़िल में

उस वक़्त मुझको चौंका देना जब रंग पे महफ़िल आ जाए

 

शराबखानो कभी महफ़िलों की जानिब हम

ख़ुद अपने आप से टकराव टालने निकले.!!

 

Mahfil Shayari in Hindi

‘शाद’ तू बज़्म के आदाब समझता ही नहीं

और भी लोग यहाँ तेरे सिवा बैठे हैं

~शाद

 

देख ले जान-ए-वफ़ा आज तेरी महफ़िल में

एक मुजरिम की तरह अहल-ए-वफ़ा बैठे हैं

~शाद

 

फ़लक़ दुश्मन,मुखालिफ़ ग़र्दिश-ए-अय्याम है साक़ी

मगर हम हैं,तेरी महफ़िल है,दौर-ए-जाम है साक़ी.!!

 

उठ के महफ़िल से मत चले जाना

तुमसे रौशन ये कोना-कोना है.!!

 

न तो मैं शोर करता हूँ,ये फिर भी जान लेती है

भरी महफ़िल में तन्हाई,मुझे पहचान लेती है.!!

 

Mahfil Shayari in Hindi

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौरे-जाम

साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.!!

 

हिज्र की रात है और उनके तसव्वुर का चराग़।।

बज़्म की बज़्म है तन्हाई की तन्हाई है..!!

 

सर-ए-महफ़िल निगाहें मुझ पे जिन लोगों की पड़ती है।।

निगाहों के हवाले से वो चेहरे याद रखता हूँ..!!

 

तेरी महफ़िल तेरे जलवे फिर तकाज़ा क्या ज़रूर।।

ले उठा जाता हूँ ज़ालिम ले चला जाता हूँ मैं..!!

 

Mahfil Shayari in Hindi

हिज्र की रात है और उनके तसव्वुर का चराग़।।

बज़्म की बज़्म है तन्हाई की तन्हाई है..!!

 

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौरे जाम।।

साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में..!!

 

Search Tags

Mahfil Shayari in Hindi, Mahfil Hindi Shayari, Mahfil Shayari, Mahfil whatsapp status, Mahfil hindi Status, Hindi Shayari on Mahfil, Mahfil whatsapp status in hindi,

Bazm Shayari in Hindi, Bazm Hindi Shayari, Bazm Shayari, Bazm whatsapp status, Bazm hindi Status, Hindi Shayari on Bazm, Bazm whatsapp status in hindi,

महफ़िल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, महफ़िल, महफ़िल स्टेटस, महफ़िल व्हाट्स अप स्टेटस, महफ़िल पर शायरी, महफ़िल शायरी, महफ़िल पर शेर, महफ़िल की शायरी

बज़्म हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बज़्म, बज़्म स्टेटस, बज़्म व्हाट्स अप स्टेटस, बज़्म पर शायरी, बज़्म शायरी, बज़्म पर शेर, बज़्म की शायरी


Hinglish

Mahfil Shayari in Hindi

महफ़िल और बज़्म पर शायरी

mahfil shayari in hindimahafil aur bazm par shaayareedoston “mahafil” aur “bazm” par sher o shaayaree ka ek sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “mahafil” aur “bazm” ke baare mein zajbaat jaan sakenge.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.***************************************************

labon par khaamoshee aankhon mein aansoo dil mein be-taabeemain un kee bazm-e-isharat se qayaamat le ke aaya hoon~naseemachhupatee hai koee baat chhupae se sar-e-bazm,udate ho jo tum ham se to udatee hai khabar bhee !! – bekhud dehalaveeanavaar bazm hai sajee ho jae shaeree,urdoo se ham ko ishq hai apanee zabaan hai !!

ye bazm-e-muhabbat hai is bazm-e-muhabbat mendeevaane bhee shaidaee paravaanen bhee shaidaeetere hote hue mahafil mein jalaate hain chiraagalog kya saada hain sooraj ko dikhaate hain chiraag~farazmahfil shayari in hindiusase bichhade to maaloom hua kee maut bhee koee cheez hai faraaz,zindagee vo thee jo ham usakee mahafil mein guzaar aae !!mahafil mein teree yoon hee rahe jashn-e-charaagaan,aankhon mein hee ye raat guzar jae to achchha !! –

saahir ludhiyaanaveebhare hain tujhamen vo laakhon hunar ai majam-e-khoobeemulaaqaatee tira goya bharee mahafil se milata hai !!bhaanp hee lenge ishaara sar-e-mahafil jo kiya,taadane vaale qayaamat kee nazar rakhate hain !!mahfil shayari in hindiai dil kee khalish chal yoon hee saheen chalata to hoon un kee mahafil menus vaqt mujhe chaunka dena jab rang mein mahafil aa jaeqayaamat kya ye ay husn-e-do aalam hotee jaatee haiki mahafil to vahee hai,dilakashee kam hotee jaatee hai~jigaramisl-e-paravaana fida har ek ka dil ho gaya,yaar jis mahafil mein baitha sham-e-mahafil ho gaya !

!ummeed aisee to na thee mahafil ke arbaab-e-baseerat segunaah-e-shamma ko bhee jurm-e-paravaana bana dengeyak-nazar besh nahin, phursate-hastee gaaphilagarmee-e-bajm hai ik raks-e-sharar hone tak~gaalibamahfil shayari in hindiapanee hee aavaaz par chaunke hain ham to baar baar,ai rafeeqo bazm mein itanee bhee tanhaee na ho !! -ameen raahat chugataeeqayaamat kya ye hai husne do aalam hotee jaatee haike mahafil to vahee hai dilaqashee kam hotee jaatee haiai dil kee khalish chal yoon hee saheen,chalata to hoon unakee mahafil menus vaqt mujhako chaunka dena jab rang pe mahafil aa jaemohataaj thee aaeene kee tasveer see soorat,tasveer banaaya mujhe mahafil mein kisee ne !! -vahashat raza

alee kalakatveeshame roshan ko bujhae na koee mahafil menisakee aagosh me paravaane ko jal jaane domahfil shayari in hinditeree mahafil tere jalve phir taqaaza kya zaroorale utha jaata hoon zaalim le chala jaata hoon mainsharaabakhaano kabhee mahafilon kee jaanib hamakhud apane aap se takaraav taalane nikalevo shama kee mahafil hee kyaajisamen dil khaak na homaza to tab hai chaahat ka jabadil to jale par raakh na hobazm-e-agayaar mein aaraam ye paayenge kahaan,tujhase ham rooth ke jaayenge to jaayenge kahaan !!mahfil shayari in hindi

jaakar teree mahafil se kahaan chain milega,ab apanee jagah apanee khabar jae to achchha !!mahafil mein teree yoon hee rahe jashn-e-charaagaan,aankhon mein hee ye raat guzar jae to achchha !!rindon kee bazm-e-kaif mein kyon shaikh-e-mohataramajhagada utha diya hai savaab-o-azaab kaatahaseen ke laayak tera har sher hai,ahabaab karen bazm mein ab vaah kahaan tak..ho gaya haansil kisee ke pyaar mein ye martaba,ja raha hoon bajm mein aagosh dar aagosh main !!mahfil shayari in

bane hue hain vo mahafil mein soorat-e-tasveerahar ek ko yoon guma hai kee idhar ko dekhate hain !!-daagazeez-e-vaarasee ye bhee kisee ka mujh pe ehasaan haike har mahafil mein ab apana bharam mahasoos karata hoonis mahafil-e-kaipho mastee menis anjuman-e-irafaanee mensab jaam bee-kaph baithe hee raheham pee bhee gae chhalaka bhee gaeakelaapan kabhee hamako akela kar nahin sakata,akelepan ko ham mahaboob kee mahafil samajhate hainmahfil shayari in hindi

ummeed aisee to na thee mahafil ke arbaab-e-baseerat segunaah-e-shamma ko bhee jurm-e-paravaana bana dengeaaj too kal koee aur hoga sadr-e-bazm-e-maisaakiya tujhase nahin,ham se hai maikhaane ka naamamain khulakaar aaj mahafil mein ye kahata hoon mujhe tujhasemohabbat hai,mohabbat hai mohabbat hai mohabbat haihosh se aaree^ rahee deevaanagee apanee zafar,ba-khabar mahafil mein rah kar bekhabar vaapas hue!! ^fraiaivo mujhako dekhakar kuchh apane dil mein jhemp jaate hain,koee paravaana jab sham-e-sar-e-mahafil se milata hai!!khalvat banee huee thee tiree anjuman magar,main aa gaya to bazm ka naqsha badal gaya !!mahfil shayari in hindiyoon churaeen us ne aankhen saadagee to dekhie,bazm mein goya miree jaanib ishaara kar diya !!ham bhee na-vaaqif nahin aadaab-e-mahafil se magaracheekh uthen khaamoshiyaan tak aisa sannaata bhee kyaaisa saaqee ho to phir dekhie range-mahafil,sabako madahosh kare, hosh se jae khud bhee !! –

faraazus kee mahafil mein baith kar dekhozindagee kitanee khubasoorat hai !! -qaabil ajamereejaan-soz kee haalat ko jaan-soz hee samajhegaamain shama se kahata hoon mahafil se nahin kahata kyonkiis bazm mein ik jashn-e-charaagaan hai unhee se,kuchh khvaab jo palakon pe ujaale hue ham hain !!dekhen ab rahata hai kis kis ka garebaan saabitachaak-e-dil leke tiree bazm se deevaane chale -ahamadaraaheemahfil shayari in hindiqad o gesoo lab-o-rukhsaar ke afsaane chaleaaj mahafil mein tire naam pe paimaane chale -ahamad raaheebhaanp hee lenge ishaara sar-e-mahafil jo kiya,taadane vaale qayaamat kee nazar rakhate hain !!hamaara zikr bhee ab jurm ho gaya hai vahaan,dinon kee baat hai mahafil kee aabaroo ham thedil-girafta hee sahee bazm saja lee jaeyaad-e-jaanaan se koee shaam na khaalee jae !!

nazar nazar pe sar-e-bazm hai nazar un keenazar nazar mein salaam-o-payaam hota hai !!jashn ho itanee gunjaeesh to chhod aaya tha,na jaane kyon vahaan mahafil nahin huyee ab tak.!!boo-e-gul, naala-e-dil, dood-e-chiraag-e-mahafil,jo teree bazm se nikala so pareeshaan nikala !!mahfil shayari in hindirang-e-mahafil chaahatee hai ik mukammal inqalaab,chand shammaon ke bhadakane se sahar hotee nahin !!bhare hain tujh mein vo laakhon hunar ai majam-e-khoobee,mulaaqaatee tira goya bharee mahafil se milata hai !! -daag dehalaveeham bhee na-vaaqif nahin aadaab-e-mahafil se magar,cheekh uthen khaamoshiyaan tak, aisa sannaata bhee kya !!bane hue hain vo mahafil mein soorat-e-tasveer,har ek ko yoon guma hai kee idhar ko dekhate hain !! –

vo aaj aaye hain mahafil mein chaandanee lekar,ki phir raushanee mein nahaane kee raat aayee…mahfil shayari in hindikabhee us paree ka koocha, kabhee is haseen kee mahafilamujhe darabadar phiraaya, mere dil kee saadagee ne …chhupaaye dil mein gamon ka jahaan baithe haintumhaaree bazm mein ham bezabaan baithe hain.!!teree mahafil se dil kuchh aur tanaha hoke lauta haiye lene kya gaya tha aur kya ghar leke aaya haiai dil kee khalish chal yoon hee saheen chalata to hoon unakee mahafil menus vaqt mujhako chaunka dena jab rang pe mahafil aa jaesharaabakhaano kabhee mahafilon kee jaanib hamakhud apane aap se takaraav taalane nikale.!!mahfil shayari in hindishaad too bazm ke aadaab samajhata hee naheenaur bhee log yahaan tere siva baithe hain~shaadadekh le jaan-e-vafa aaj teree mahafil menek mujarim kee tarah ahal-e-vafa baithe hain~shaadafalaq dushman,mukhaalif gardish-e-ayyaam hai saaqeemagar ham hain,teree mahafil hai,daur-e-jaam hai saaqee.!!uth ke mahafil se mat chale jaanaatumase raushan ye kona-kona hai.!!na to main shor karata hoon,ye phir bhee jaan letee haibharee mahafil mein tanhaee,mujhe pahachaan letee hai.!!

mahfil shayari in hindimujh tak kab unakee bazm mein aata tha daure-jaamasaaqee ne kuchh mila na diya ho sharaab mein.!!hijr kee raat hai aur unake tasavvur ka charaag..bazm kee bazm hai tanhaee kee tanhaee hai..!!sar-e-mahafil nigaahen mujh pe jin logon kee padatee hai..nigaahon ke havaale se vo chehare yaad rakhata hoon..!!teree mahafil tere jalave phir takaaza kya zaroor..le utha jaata hoon zaalim le chala jaata hoon main..!!mahfil shayari in hindihijr kee raat hai aur unake tasavvur ka charaag..bazm kee bazm hai tanhaee kee tanhaee hai..!!mujh tak kab unakee bazm mein aata tha daure jaam..saaqee ne kuchh mila na diya ho sharaab mein..!!

 

 

 

Leave a Reply