Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी
Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

Shikayat Shayari in Hindi

शिकवा और शिकायत शायरी

दोस्तों क्या आप किसी से नाराज़ हैं, क्या आपको किसी से शिकायत है, आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपके लिए कुछ शिकवा, शिकायत और नाराज़गी पर कुछ खूबसूरत शेर ओ शायरी पेश कर रहे हैं, जिससे आप को शिकायत है, आप उन्हें ये शेर मेसेज कर सकते हैं.

अगर आपके पास भी शिकायत पर शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

शिकवा तो एक छेड़ है लेकिन हकीकतन

तेरा सितम भी तेरी इनायत से कम नहीं।

 

शिक़वा वो भी करते हैं शिकायत हम भी करते हैं,

मुहोब्बत वो भी करते हैं मुहोब्बत हम भी करते हैं।

 

आप नाराज़ हों, रूठे, के ख़फ़ा हो जाएँ,

बात इतनी भी ना बिगड़े कि जुदा हो जाएँ !!

 

हो जाते हो बरहम भी बन जाते हो हमदम भी

ऐ साकी-ए-मयखाना शोला भी हो,शबनम भी

खाली मेरा पैमाना बस इतनी शिकायत है -हसरत जयपुरी

 

जिन्दगी से तो खैर शिकवा था

मुद्दतों मौत ने भी तरसाया।

 

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

हम क्यूँ,शिकवा करें झूठा,क्या हुआ जो दिल टूटा

शीशे का खिलौना था, कुछ ना कुछ तो होना था, . -आनंद बख़्शी

 

दुनिया न जीत पाओ तो हारो न खुद को तुम

थोड़ी बहुत तो ज़हन मे नाराज़गी रहे !! -निदा फ़ाजली

 

तुझसे नाराज़ नहीं जिंदगी हैरान हु में….!-

तेरे मासूम सवालों से परेशां हूँ में ..~गुलज़ार

 

शिकवा कोई दरिया की रवानी से नहीं है,

रिश्ता ही मेरी प्यास का पानी से नहीं है !!

 

अब्र-ए-आवारा से मुझको है वफ़ा की उम्मीद

बर्क-ए-बेताब से शिकवा है के पाइंदा नहीं

 

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

 

किसी को भी कभी तुमसे शिकायत हो नही सकती

अगर जो ग़ौर से खुद का,कभी किरदार पढ़ लोगे

 

उसे ज़िद कि ‘वामिक़’-ए-शिकवा-गर किसी राज़ से नहो बा-ख़बर

मुझे नाज़ है कि ये दीदा-वार मिरी उम्र भर की तलाश है

 

तुम को नाराज़ ही रहना है तो कुछ बात करो ‘फ़राज़’,

चुप रहते हो तो मुहब्बत का गुमान होता है !!

 

अपनी क़िस्मत में लिखी थी धूप की नाराज़गी,

साया-ए-दीवार था लेकिन पस-ए-दीवार था !! -राहत इंदौरी

 

तेरी उम्मीद तेरा इन्तज़ार कब से है,

ना शब् को दिन से शिकायत ना दिन को शब् से है।

~फैज़

 

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

वो पुर्सिश-ए-ग़म को आये हैं

कुछ कह न सकूँ चुप रह न सकूँ

ख़ामोश रहूँ तो मुश्किल है

कह दूँ तो शिकायत होती है

 

कीन-ओ-काविश की मेरे दिल में गुंजाइश नही,

शिकवा हा-ए-ग़म को रखता हूँ यहाँ रू-पोश मैं !!

 

हुस्न और इश्क का हर नाज़ है पर्दे में अभी,

अपनी नजरों की शिकायत किसे पेश करूं

 

और कुछ ज़ख़्म मेरे दिल के हवाले मेरी जाँ,

ये मोहब्बत है मोहब्बत में शिकायत कैसी !!

 

अगर उसकी,निज़ामत में,हुकूमत की, रवायत है

शिकायत,शिकायत है,शिकायत है, शिकायत है

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

थोड़ी देर और ठहर, ए नाराज़ ज़िन्दगी,

कुछ दुआयें मांग लूँ, मेरे अपनों के लिऐ।

 

हम को पहले भी न मिलने की शिकायत कब थी

अब जो है तर्क-ए-मरासिम का बहाना हम से

 

मोहब्बत ही में मिलते हैं शिकायत के मज़े पैहम,

मोहब्बत जितनी बढ़ती है शिकायत होती जाती है !!- शकील बदायुनी

 

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

चाँद से शिकायत करूँ किसकी

हर कोई यहाँ रात का मुसाफ़िर है

 

तंग पैमाई का शिकवा साक़ी-ए-अज़ली से क्या

हमने समझा ही नही दस्तूर-ए-मैखाना अभी !! -~रहबर

 

ग़लत है जज़्ब-ए दिल का शिकवा देखो जुर्म किस का है,

न खेंचो गर तुम अपने को कशाकश दर‌मियां क्यूं हो !!

 

तक़दीर का शिकवा बेमानी, जीना ही तुझे मंज़ूर नहीं,

आप अपना मुक़द्दर बन ना सके, इतना तो कोई मजबूर नहीं !!

 

थी शिकायत तो बात कर लेते

तरके तअलुक ही क्या जरूरी था!

 

Shikayat Shayari in Hindi शिकवा और शिकायत शायरी

तेरे हर दर्द को मुह्ब्बत की इनायत समझा

हम कोई तुम थे जो तुम से शिकायत करते!

 

हाय आदाबे मुह्ब्बत के तकाजे सागर

लब हिले आैर शिकायत ने दम तोड़ दिया!

 

ए मेरे लम्हाये नाराज़! कभी मिल तो सही

इस ज़माने से अलग हो के गुजारूं तुझको!

 

क्यूँ शिकायत हो खताओं की कभी ऐ दोस्त

ज़िंदगी यूँ भी खताओं के सिवा कुछ भी नहीं.!!

हिंदू भी नाराज़ हैं मुझसे मुसलमाँ भी हैं खफ़ा

हो के इंसा यार मेरे जीते जी मैं मर गया.!!

 

 

Search Tags

Shikayat Shayari in Hindi, Shikayat Hindi Shayari, Shikayat Shayari, Shikayat whatsapp status, Shikayat hindi Status, Hindi Shayari on Shikayat, Shikayat whatsapp status in hindi,

Narazgi Shayari in Hindi, Narazgi Hindi Shayari, Narazgi Shayari, Narazgi whatsapp status, Narazgi hindi Status, Hindi Shayari on Narazgi, Narazgi whatsapp status in hindi,

शिकायत हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शिकायत स्टेटस, शिकायत व्हाट्स अप स्टेटस,शिकायत पर शायरी, शिकायत शायरी, शिकायत पर शेर, शिकायत की शायरी

 शिकवा हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शिकवा स्टेटस, शिकवा व्हाट्स अप स्टेटस,शिकवा पर शायरी, शिकवा शायरी, शिकवा पर शेर, शिकवा की शायरी

नाराज़गी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, नाराज़गी स्टेटस, नाराज़गी व्हाट्स अप स्टेटस,नाराज़गी पर शायरी, नाराज़गी शायरी, नाराज़गी पर शेर, नाराज़गी की शायरी


Hinglish

Shikayat Shayari in Hindi

शिकवा और शिकायत शायरी

shikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareeshikayat shayari in hindishikava aur shikaayat shaayareedoston kya aap kisee se naaraaz hain, kya aapako kisee se shikaayat hai, aaj ke is blog post mein ham aapake lie kuchh shikava, shikaayat aur naaraazagee par kuchh khoobasoorat sher o shaayaree pesh kar rahe hain, jisase aap ko shikaayat hai, aap unhen ye sher mesej kar sakate hain.agar aapake paas bhee shikaayat par shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

shikava to ek chhed hai lekin hakeekatanatera sitam bhee teree inaayat se kam nahin.shiqava vo bhee karate hain shikaayat ham bhee karate hain,muhobbat vo bhee karate hain muhobbat ham bhee karate hain.aap naaraaz hon, roothe, ke khafa ho jaen,baat itanee bhee na bigade ki juda ho jaen !!ho jaate ho baraham bhee ban jaate ho hamadam bheeai saakee-e-mayakhaana shola bhee ho,shabanam bheekhaalee mera paimaana bas itanee shikaayat hai -hasarat jayapuree

jindagee se to khair shikava thaamuddaton maut ne bhee tarasaaya.shikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareeham kyoon,shikava karen jhootha,kya hua jo dil tootaasheeshe ka khilauna tha, kuchh na kuchh to hona tha, . -aanand bakhshee

duniya na jeet pao to haaro na khud ko tumathodee bahut to zahan me naaraazagee rahe !! -nida faajaleetujhase naaraaz nahin jindagee hairaan hu mein….!-tere maasoom savaalon se pareshaan hoon mein ..~gulazaara

shikava koee dariya kee ravaanee se nahin hai,rishta hee meree pyaas ka paanee se nahin hai !!abr-e-aavaara se mujhako hai vafa kee ummeedabark-e-betaab se shikava hai ke painda naheenshikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareekisee ko bhee kabhee tumase shikaayat ho nahee sakateeagar jo gaur se khud ka,kabhee kiradaar padh logeuse zid ki ‘vaamiq’-e-shikava-gar kisee raaz se naho ba-khabaramujhe naaz hai ki ye deeda-vaar miree umr bhar kee talaash haitum ko naaraaz hee rahana hai to kuchh baat karo faraaz,chup rahate ho to muhabbat ka gumaan hota hai !!

apanee qismat mein likhee thee dhoop kee naaraazagee,saaya-e-deevaar tha lekin pas-e-deevaar tha !! -raahat indaureeteree ummeed tera intazaar kab se hai,na shab ko din se shikaayat na din ko shab se hai.~phaiza

shikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareevo pursish-e-gam ko aaye hainkuchh kah na sakoon chup rah na sakoonkhaamosh rahoon to mushkil haikah doon to shikaayat hotee haikeen-o-kaavish kee mere dil mein gunjaish nahee,shikava ha-e-gam ko rakhata hoon yahaan roo-posh main !!husn aur ishk ka har naaz hai parde mein abhee,apanee najaron kee shikaayat kise pesh karoonaur kuchh zakhm mere dil ke havaale meree jaan,ye mohabbat hai mohabbat mein shikaayat kaisee !!

agar usakee,nizaamat mein,hukoomat kee, ravaayat haishikaayat,shikaayat hai,shikaayat hai, shikaayat haishikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareethodee der aur thahar, e naaraaz zindagee,kuchh duaayen maang loon, mere apanon ke liai.ham ko pahale bhee na milane kee shikaayat kab theeab jo hai tark-e-maraasim ka bahaana ham semohabbat hee mein milate hain shikaayat ke maze paiham,mohabbat jitanee badhatee hai shikaayat hotee jaatee hai !!- shakeel badaayuneeshikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareechaand se shikaayat karoon kisakeehar koee yahaan raat ka musaafir haitang paimaee ka shikava saaqee-e-azalee se kyaahamane samajha hee nahee dastoor-e-maikhaana abhee !! -~rahabara

galat hai jazb-e dil ka shikava dekho jurm kis ka hai,na khencho gar tum apane ko kashaakash dar‌miyaan kyoon ho !!taqadeer ka shikava bemaanee, jeena hee tujhe manzoor nahin,aap apana muqaddar ban na sake, itana to koee majaboor nahin !!thee shikaayat to baat kar letetarake taaluk hee kya jarooree tha!shikayat shayari in hindi shikava aur shikaayat shaayareetere har dard ko muhbbat kee inaayat samajhaaham koee tum the jo tum se shikaayat karate!haay aadaabe muhbbat ke takaaje saagaralab hile aaair shikaayat ne dam tod diya!e mere lamhaaye naaraaz! kabhee mil to saheeis zamaane se alag ho ke gujaaroon tujhako!kyoon shikaayat ho khataon kee kabhee ai dostazindagee yoon bhee khataon ke siva kuchh bhee nahin.!!hindoo bhee naaraaz hain mujhase musalamaan bhee hain khafaaho ke insa yaar mere jeete jee main mar gaya.!!

search tagss hikayat shayari in hindi, shikayat hindi shayari, shikayat shayari, shikayat whatsapp status, shikayat hindi status, hindi shayari on shikayat, shikayat whatsapp status in hindi,narazgi shayari in hindi, narazgi hindi shayari, narazgi shayari, narazgi whatsapp status, narazgi hindi status, hindi shayari on narazgi, narazgi whatsapp status in hindi,shikaayat hindee shaayaree, hindee shaayaree, shikaayat stetas, shikaayat vhaats ap stetas,shikaayat par shaayaree, shikaayat shaayaree, shikaayat par sher, shikaayat kee shaayaree shikava hindee shaayaree, hindee shaayaree, shikava stetas, shikava vhaats ap stetas,shikava par shaayaree, shikava shaayaree, shikava par sher, shikava kee shaayareenaaraazagee hindee shaayaree, hindee shaayaree, naaraazagee stetas, naaraazagee vhaats ap stetas,naaraazagee par shaayaree, naaraazagee shaayaree, naaraazagee par sher, naaraazagee kee shaayaree