एस्ट्रोनॉमी क्या है? What is Astronomy in Hindi

एस्ट्रोनॉमी, खगोल शास्त्र और अंतरिक्ष विज्ञान

What is Astronomy in Hindi, Branches of Astronomy in Hindi, meaning of Astronomy in hindi

प्राचीन काल से ही मनुष्य आसमान की तरफ जिज्ञासा से देखता रहा है, तथा वह अपने आसपास के यूनिवर्स को समझने और सभी चीजों को एक व्यवस्था के क्रम में रखने का प्रयास करता आ रहा है.

आदिमानव जब जंगल में रहता था तब उसे रात में विभिन्न प्रकार के  जंगली जानवरों से जान का खतरा था, ऐसे में पूर्ण और बड़े आकार के चंद्रमा वाली  रातें उसके लिए काफी राहत देने वाली रही होगी, क्योंकि इन रातों में वह अधिक सुरक्षित महसूस करता होगा,  यहीं से सूर्य और चांद आदि के प्रति मनुष्य में सम्मान का भाव प्रकट हुआ.

तारों से बनने वाले आकार जिन्हें तारामंडल कहते हैं को पहचानना तो आसान था और यह आदिकाल में ही मनुष्य ने इसे कर लिया था,  ग्रहों का पता लगाना और ग्रहों की अलग प्रकार से गति तथा सूर्य और चंद्र ग्रहण को भी प्राचीन काल में समझने की कोशिश की गई थी.  

What is Astronomy in Hindi, Branches of Astronomy in Hindi, khagol shastra kya he? Antriksh vigyan in hindi, astronomy kya he, Astronomy kya hota he, Cosmology kya hoti he,

CAVE MAN

खेती का आविष्कार के बाद मौसमों का हिसाब लगाना बहुत आवश्यकत था इसके लिए मनुष्य ने चांद तारों और सूर्य की सहायता ली,  और एक नए विज्ञान खगोल शास्त्र एस्ट्रोनॉमी का जन्म हुआ. साथ ही साथ कई सारे अंधविश्वास भी पनप गए जैसे कि ज्योतिष शास्त्र. एस्ट्रोलॉजी चंद्र और सूर्य ग्रहण  से डरना इत्यादि जिन्होंने मानव जाति का काफी नुकसान किया.

एस्ट्रोनॉमी क्या है इसकी परिभाषा Definition of astronomy in Hindi

खगोल  शास्त्र  या एस्ट्रोनॉमी सूर्य, चंद्रमा, तारों,ग्रहों, धूमकेतु, गैलेक्सीओं आदि के अध्ययन  का विज्ञान है, प्राचीन काल से एस्ट्रोनॉमी और एस्ट्रोलॉजी आपस में जुड़ी हुई थी लेकिन एस्ट्रोलॉजी एक विज्ञान नहीं बल्कि अंधविश्वास है.  एस्ट्रोनॉमी की शाखाएं हैं जैसे कि एस्ट्रोफिजिक्स, कॉस्मोलॉजी इत्यादि

एस्ट्रोनॉमी, एस्ट्रोफिजिक्स और कॉस्मोलॉजी में क्या अंतर है? What is the difference between Astronomy, Astrophysics and Cosmology?

मोटे मोटे तोर पर अगर विश्लेषण किया जाये तो

Astronomy एस्ट्रोनॉमी किसी ऑब्जेक्ट की स्थिति उसकी चमक, उसकी गति और दुसरे गुणों के बारे में बताती हैं.

एस्ट्रोफिजिक्स Astrophysics यूनिवर्स के किसी छोटे और मध्यम आकार के ऑब्जेक्ट के बारे में भौतिक सिद्धांत बताती है,

Cosmology (कोस्मोलोजी) बड़े ऑब्जेक्ट्स की और पूरे यूनिवर्स के सिद्धांतों, व्यहवार, उनकी उत्त्पत्ति और अंत की व्याख्या करती है.

एस्ट्रोनॉमी  अंतरिक्ष विज्ञान की शाखाएं The branches of Astronomy in Hindi

What is Astronomy in Hindi, Branches of Astronomy in Hindi, khagol shastra kya he? Antriksh vigyan in hindi, astronomy kya he, Astronomy kya hota he, Cosmology kya hoti he,

आदिकाल से ही एस्ट्रोनॉमी के अंतर्गत आकाश का अध्ययन किया जाता है

आधुनिक एस्ट्रोनॉमी को दो वर्गों में बांटा जा सकते हैं  सैद्धांतिक एस्ट्रोनॉमी और पर्यवेक्षण एस्टॉनोमी

  • Observational astronomy :  पर्यवेक्षण एस्टॉनोमी के अंतर्गत  तारों ग्रहों गैलेक्सी ओं आदि का पर्यवेक्षण और अवलोकन किया जाता है
  • Theoretical astronomers: सैद्धांतिक एस्ट्रोनॉमी मैं यूनिवर्स के सिद्धांतों को समझा जाता है तथा यह व्याख्या की जाती है यूनिवर्स और  गैलेक्सी, सौरमंडल आदि किस प्रकार बने

विज्ञान की दूसरी शाखाओं की तरह एस्टॉनोमर्स किसी तारे को उसकी शुरुआत से लेकर अंत तक नहीं देख सकते हैं क्योंकि तारों का जीवनकाल कई बिलियन वर्ष का होता है ऐसे में गैलेक्सी के जीवन काल तो और भी अधिक विस्तृत होता है,  इस समस्या से निपटने के लिए खगोल शास्त्री कई तरह के तारों का अध्ययन करते हैं जो कि अपनी उम्र के अलग-अलग अवस्थाओं में है कुछ तारे बन रहे हैं कुछ अपनी आधी उम्र पूरी कर चुके ज्यादा कुछ नष्ट होने वाले, इस तरह पर्यवेक्षण एस्ट्रोनॉमी और सैद्धांतिक एस्ट्रोनॉमी दोनों आपस में जुड़े हुए हैं  और एक दूसरे पर निर्भर है, अवलोकन किए गए डेटा के आधार पर ही सिमुलेशन और सिद्धांत बनाए जाते हैं.

एस्ट्रोनॉमी की कितनी शाखाएं हैं? How many branches of Astronomy in Hindi

खगोलशास्त्र या एस्ट्रोनॉमी  के कई शाखाएं हैं जिनमें से कुछ प्रमुख इस प्रकार है

Planetary astronomy – ग्रह खगोल विज्ञान एस्ट्रोनॉमी की इस शाखा का फोकस केवल ग्रहों पर होता है इस शाखा के वैज्ञानिकों को प्लानेटरी साइंटिस्ट कहते हैं क्योंकि वह ग्रहों के आकार उत्पत्ति उनके अंत का अध्ययन करते हैं इनमें से ज्यादातर सौरमंडल के अंदर स्थित ग्रहों का ध्यान रखते हैं,  सौरमंडल के बाहर भी कुछ ग्रहों का पता अब लगने लगा है तथा वैज्ञानिक इस बात का अध्ययन करने में लगे हुए हैं कि वहां का वातावरण कैसा हो सकता है, विज्ञान की इस शाखा में जियोलॉजी, स्पेस फिजिक्स, बायोलॉजी के ज्ञान का भी बड़ा महत्व है क्योंकि दूसरे ग्रहों पर जीवन को ढूंढने के लिए बायोलॉजी का ज्ञान आवश्यक है.

Stellar astronomy : तारों का खगोल शास्त्र  के  वैज्ञानिक तारों, ब्लैक होल्स, नेबुला, श्वेत वामन तारे, और सुपरनोवा आदि का अध्ययन करते हैं,    इस विज्ञान में तारों के अंतर्गत होने वाले भौतिक और रासायनिक प्रक्रियाओं का ध्यान किया जाता है .

Solar astronomy : सूर्य खगोल शास्त्र  सोलर एस्ट्रोनॉमी के अंतर्गत केवाल सूर्य  का ही अध्ययन किया जाता है, सूर्य के प्रकाश की मात्रा और सूर्य से आने वाले विकिरणों का पृथ्वी पर क्या प्रभाव पड़ रहा है इसका अध्ययन सौर खगोलशास्त्री करते हैं.

Galactic astronomy : गैलेक्टिक एस्ट्रोनॉमी –  एस्ट्रोनॉमी कि इस शाखा के अंतर्गत हमारी गैलेक्सी मिल्की वे और अन्य गैलेक्सी ओं का अध्ययन किया जाता है.

Cosmology : एस्ट्रोनॉमी की इस शाखा  के अंतर्गत पूरे यूनिवर्स का अध्ययन किया जाता है, यूनिवर्स की उत्पत्ति बिग बेंग से कैसे हुई,  गैलेक्सीओं का निर्माण किस प्रकार हुआ, डार्क मैटर, डार्क एनर्जी आदि के सिद्धांतों का इसमें अध्ययन किया जाता है.

प्रकाश की तरंगो के अध्ययन के आधार पर एस्ट्रोनॉमी के प्रकार – Branches of Astronomy as per light wavelength observation

What is Astronomy in Hindi, Branches of Astronomy in Hindi, khagol shastra kya he? Antriksh vigyan in hindi, astronomy kya he, Astronomy kya hota he, Cosmology kya hoti he, 

पहले के समय में आकाश का अध्ययन केवल ऑप्टिकल टेलीस्कोप के द्वारा ही किया जाता था,  परन्तु वर्तमान समय में दृश्य प्रकाश के अलावा प्रकाश की दूसरी तरंगों जैसे इंफ्रारेड प्रकाश, एक्स रे,  गामा रे, रेडियो वेव्स आदि के द्वारा भी पूरे यूनिवर्स का अध्ययन किया जाता है. इन्हीं के आधार पर इंफ्रारेड एस्ट्रोनॉमी,   एक्स रे एस्ट्रोनॉमी, गामा रे एस्ट्रोनॉमी तथा रेडियो एस्ट्रोनॉमी आदि एस्ट्रोनॉमी की अलग अलग शाखाएं भी विकसित हो गई है .

What is Astronomy in Hindi, Branches of Astronomy in Hindi, khagol shastra kya he? Antriksh vigyan in hindi, astronomy kya he, Astronomy kya hota he, Cosmology kya hoti he,

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *