Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी
Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

Zid Shayari in Hindi

ज़िद शायरी

दोस्तों “ज़िद” पर शेर ओ शायरी का एक संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “ज़िद” के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “ज़िद” शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

नाम मेरा जहाँ लिखा पाया,

ज़िद तो देखो कि वो मिटा के रहे।

 

दिल की जिद ने मुझे मजबूर किया है वरना

हम गरीबों का नवाबों से ताल्लुक क्या है।

 

हमें अपने दिल की तो परवा नहीं है

मगर डर रहा हूँ ये कमसिन की ज़िद है

~क़मर जलालवी

 

वो तो ख़ुश्बू है हर इक सम्त बिखरना है उसे

दिल को क्यूँ ज़िद है कि आग़ोश में भरना है उसे

 

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब

ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है!! -अदम

 

कहो नाखुदा से उठा दे वह लंगर,

मैं तूफां की जिद देखना चाहता हूँ !!

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

हमारी ज़िद है कि दीवानगी ना छोड़ेंगे,

ना तुम भी कोई कसर रखना आज़माने में….

 

इस दिल की ज़िद हो तुम वर्ना

इन आँखों ने और भी हसीन चेहरे देखे है!!”

 

दिल भी इक ज़िद पे अड़ा है किसी बच्चे की तरह

या तो सब कुछ ही इसी चाहिये या कुछ भी नहीं.!!

 

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

 

बड़ी काम आई लगन इश्क़ में

मैं गिर-गिर के ख़ुद हि संभलता रहा.!!

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

 

यही ज़िद है तो फिर हिस्सा सभी अपना उठाते हैं

अगर शबनम तुम्हारी है तो हम शोला उठाते हैं.!!

 

हर बात तेरी मानूं , ना-मुम्किन है।।

ज़िद छोड़ दे ऐ दिल, तू अब बच्चा नही रहा ..!!

 

न जिद है न कोई गुरूर है हमे

बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे

इश्क गुनाह है तो गलती की

हमने सजा जो भी हो मंजूर है हमे॥

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

 

मना लिया हमने अपने दिल को…

हर चीज की ज़िद अच्छी नही होती

 

मुसाफ़िर लौटकर आने का फिर वादा तो करता जा

अगर कुछ और रुक जाने की ज़िद मानी नहीं जाती

 

सोयी आँखों में हलचल करते रहे,

कल रात तुम्हारे ज़िद्दी ख़याल

 

बहुत जल्दी सीख लेते है ज़िंदगी का सबक,

गरीबो के बच्चे बात-बात पर ज़िद नही करते.!!

 

दिल मे घर करके बैठे है ये जो ज़िद्दी से ख़्वाब।

कागज पे उतार मै वो सारे मेहमान ले आऊँ।।

 

प्यार उससे इस कदर करती चली जाऊँ

वो जख़्म दे और मैं भरती चली जाऊँ

उसकी ज़िद हैं कि वो मुझे मार ही डाले तो

मेरी भी ज़िद हैं उसपे मरती चली जाऊँ

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

एक ही दिन में सारी ज़िन्दगी जीने की ज़िद न कर,

समन्दर में लहरा कुछ दिन, पी जाने की ज़िद न कर।

 

तुम्हारी ज़िद बेमानी है दिल ने हार कब मानी है

कर ही लेगा वश में तुम्हें आदत इसकी पुरानी है

 

शिकवा करने गए थे और इबादत सी हो गई…

तुझे भुलाने की जिद थी मगर तेरी आदत सी हो गई

 

इधर फ़लक को है ज़िद बिजलियाँ गिराने की

उधर हमें भी है धुन आशियाँ बनाने की

 

मोसम की तरह बदलते हें उस के वादे

उसपर यह ज़िद की तुम मुझ पे एतबार करो

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

कसक तुम्हारें बन कर सैंलाब आंसुओ की कहीं जिंदगीं की रूख ना मोड़ दें

सब्र का पैंमाना छलकें..कहीं जिद तुम्हारी राहें ना छोड़ दें

 

मिल सके आसानी से, उसकी ख्वाहिश किसको हैं?

ज़िद तो उसकी है…जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं

 

हकीकत जिद किए बैठी है चकनाचूर करने को

मगर हर आंख फिर सपना सुहाना ढूंढ लेती है

 

इंसान ख्वाहिशों से बँधा हुआ एक ज़िद्दी परिंदा है…

उम्मीदों से ही घायल और उम्मीदों पर ही ज़िन्दा है…

 

तुम्हे अगर जिद है हमसे जुदा होने की

तो हमें भी उम्मीद है तुम्हे पा लेने की

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

“उन्हें यह ज़िद थी के हम बुलाते,

हमें यह उम्मीद वो पुकारें”। ~गुलज़ार

 

यूँ जिद ना किया करो, मेरी दास्तां सुनने की . . . .

मै हँस के सुना दूँगा, तुम रोने लगोगे .

 

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो

जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो

इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है

इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो

 

Search Tags

Zid Shayari in Hindi, Zid Hindi Shayari, Zid Shayari, Zid whatsapp status, Zid hindi Status, Hindi Shayari on Zid, Zid whatsapp status in hindi,

 

ज़िद हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ज़िद, ज़िद स्टेटस, ज़िद व्हाट्स अप स्टेटस, ज़िद पर शायरी, ज़िद शायरी, ज़िद पर शेर, ज़िद की शायरी


Hinglish

Zid Shayari in Hindi

ज़िद शायरी

zid shayari in hindi zid shaayareezid shayari in hindizid shaayareedoston “zid” par sher o shaayaree ka ek sankalan ham is pej par prakaashit kar rahe hai, ummeed hai yah aapako pasand aaega aur aap vibhinn shaayaron ke “zid” ke baare mein zajbaat jaan sakenge. agar aapake paas bhee “zid” shaayaree ka koee achchha sher hai to use kament boks mein zaroor likhen.sabhee vishayon par hindee shaayaree kee list yahaan hai.****************************************************

naam mera jahaan likha paaya,zid to dekho ki vo mita ke rahe.dil kee jid ne mujhe majaboor kiya hai varanaaham gareebon ka navaabon se taalluk kya hai.hamen apane dil kee to parava nahin haimagar dar raha hoon ye kamasin kee zid hai~qamar jalaalaveevo to khushboo hai har ik samt bikharana hai usedil ko kyoon zid hai ki aagosh mein bharana hai usemain ne kabhee ye zid to nahin kee par aaj shabai mah-jabeen na ja ki tabeeat udaas hai!! -adamakaho naakhuda se utha de vah langar,main toophaan kee jid dekhana chaahata hoon !!zid shayari in hindi zid shaayareehamaaree zid hai ki deevaanagee na chhodenge,na tum bhee koee kasar rakhana aazamaane mein….is dil kee zid ho tum varnain aankhon ne aur bhee haseen chehare dekhe hai!!”

dil bhee ik zid pe ada hai kisee bachche kee tarahaya to sab kuchh hee isee chaahiye ya kuchh bhee nahin.!!zamaana chaahata hai kyon,meree fitarat badal denaise kyon zid hai aakhir,phool ko patthar banaane kee.!!badee kaam aaee lagan ishq memmain gir-gir ke khud hi sambhalata raha.!!zid shayari in hindi zid shaayareeyahee zid hai to phir hissa sabhee apana uthaate hainagar shabanam tumhaaree hai to ham shola uthaate hain.!!har baat teree maanoon , na-mumkin hai..zid chhod de ai dil, too ab bachcha nahee raha ..!!

na jid hai na koee guroor hai hamebas tumhe paane ka suroor hai hameishk gunaah hai to galatee keehamane saja jo bhee ho manjoor hai hame.zid shayari in hindi zid shaayareemana liya hamane apane dil ko…har cheej kee zid achchhee nahee hoteemusaafir lautakar aane ka phir vaada to karata jaagar kuchh aur ruk jaane kee zid maanee nahin jaateesoyee aankhon mein halachal karate rahe,kal raat tumhaare ziddee khayaalabahut jaldee seekh lete hai zindagee ka sabak,gareebo ke bachche baat-baat par zid nahee karate.!!

dil me ghar karake baithe hai ye jo ziddee se khvaab.kaagaj pe utaar mai vo saare mehamaan le aaoon..pyaar usase is kadar karatee chalee jaoonvo jakhm de aur main bharatee chalee jaoonusakee zid hain ki vo mujhe maar hee daale tomeree bhee zid hain usape maratee chalee jaoonzid shayari in hindi zid shaayareeek hee din mein saaree zindagee jeene kee zid na kar,samandar mein lahara kuchh din, pee jaane kee zid na kar.tumhaaree zid bemaanee hai dil ne haar kab maanee haikar hee lega vash mein tumhen aadat isakee puraanee haishikava karane gae the aur ibaadat see ho gaee…tujhe bhulaane kee jid thee magar teree aadat see ho gaeeidhar falak ko hai zid bijaliyaan giraane keeudhar hamen bhee hai dhun aashiyaan banaane keemosam kee tarah badalate hen us ke vaadeusapar yah zid kee tum mujh pe etabaar karozid shayari in hindi zid shaayareekasak tumhaaren ban kar sainlaab aansuo kee kaheen jindageen kee rookh na mod densabr ka paimmaana chhalaken..kaheen jid tumhaaree raahen na chhod demmil sake aasaanee se, usakee khvaahish kisako hain?zid to usakee hai..

.jo mukaddar mein likha hee naheenhakeekat jid kie baithee hai chakanaachoor karane komagar har aankh phir sapana suhaana dhoondh letee haiinsaan khvaahishon se bandha hua ek ziddee parinda hai…ummeedon se hee ghaayal aur ummeedon par hee zinda hai…tumhe agar jid hai hamase juda hone keeto hamen bhee ummeed hai tumhe pa lene keezid shayari in hindi zid shaayaree“unhen yah zid thee ke ham bulaate,hamen yah ummeed vo pukaaren”. ~gulazaarayoon jid na kiya karo, meree daastaan sunane kee . . . .

mai hans ke suna doonga, tum rone lagoge .ulajhee shaam ko paane kee zid na karojo na ho apana use apanaane kee zid na karois samandar mein toofaan bahut aate haiisake saahil par ghar banaane kee zid na karo saiarchh tagszid shayari in hindi, zid hindi shayari, zid shayari, zid whatsapp status, zid hindi status, hindi shayari on zid, zid whatsapp status in hindi, zid hindee shaayaree, hindee shaayaree, zid, zid stetas, zid vhaats ap stetas, zid par shaayaree, zid shaayaree, zid par sher, zid kee shaayaree

 

2 thoughts on “Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी”

Leave a Reply