Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी
Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

Zid Shayari in Hindi

ज़िद शायरी

दोस्तों “ज़िद” पर शेर ओ शायरी का एक संकलन हम इस पेज पर प्रकाशित कर रहे है, उम्मीद है यह आपको पसंद आएगा और आप विभिन्न शायरों के “ज़िद” के बारे में ज़ज्बात जान सकेंगे. अगर आपके पास भी “ज़िद” शायरी का कोई अच्छा शेर है तो उसे कमेन्ट बॉक्स में ज़रूर लिखें.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी की लिस्ट यहाँ है.

****************************************************

 

नाम मेरा जहाँ लिखा पाया,

ज़िद तो देखो कि वो मिटा के रहे।

 

दिल की जिद ने मुझे मजबूर किया है वरना

हम गरीबों का नवाबों से ताल्लुक क्या है।

 

हमें अपने दिल की तो परवा नहीं है

मगर डर रहा हूँ ये कमसिन की ज़िद है

~क़मर जलालवी

 

वो तो ख़ुश्बू है हर इक सम्त बिखरना है उसे

दिल को क्यूँ ज़िद है कि आग़ोश में भरना है उसे

 

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब

ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है!! -अदम

Zid Status Pictures – Zid dp Pictures – Zid Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Zid Status Pictures – Zid dp Pictures – Zid Shayari Pictures

कहो नाखुदा से उठा दे वह लंगर,

मैं तूफां की जिद देखना चाहता हूँ !!

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

हमारी ज़िद है कि दीवानगी ना छोड़ेंगे,

ना तुम भी कोई कसर रखना आज़माने में….

 

इस दिल की ज़िद हो तुम वर्ना

इन आँखों ने और भी हसीन चेहरे देखे है!!”

 

दिल भी इक ज़िद पे अड़ा है किसी बच्चे की तरह

या तो सब कुछ ही इसी चाहिये या कुछ भी नहीं.!!

 

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

 

बड़ी काम आई लगन इश्क़ में

मैं गिर-गिर के ख़ुद हि संभलता रहा.!!

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

 

यही ज़िद है तो फिर हिस्सा सभी अपना उठाते हैं

अगर शबनम तुम्हारी है तो हम शोला उठाते हैं.!!

 

हर बात तेरी मानूं , ना-मुम्किन है।।

ज़िद छोड़ दे ऐ दिल, तू अब बच्चा नही रहा ..!!

 

न जिद है न कोई गुरूर है हमे

बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे

इश्क गुनाह है तो गलती की

हमने सजा जो भी हो मंजूर है हमे॥

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

 

मना लिया हमने अपने दिल को…

हर चीज की ज़िद अच्छी नही होती

 

मुसाफ़िर लौटकर आने का फिर वादा तो करता जा

अगर कुछ और रुक जाने की ज़िद मानी नहीं जाती

 

सोयी आँखों में हलचल करते रहे,

कल रात तुम्हारे ज़िद्दी ख़याल

 

बहुत जल्दी सीख लेते है ज़िंदगी का सबक,

गरीबो के बच्चे बात-बात पर ज़िद नही करते.!!

 

दिल मे घर करके बैठे है ये जो ज़िद्दी से ख़्वाब।

कागज पे उतार मै वो सारे मेहमान ले आऊँ।।

 

प्यार उससे इस कदर करती चली जाऊँ

वो जख़्म दे और मैं भरती चली जाऊँ

उसकी ज़िद हैं कि वो मुझे मार ही डाले तो

मेरी भी ज़िद हैं उसपे मरती चली जाऊँ

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

एक ही दिन में सारी ज़िन्दगी जीने की ज़िद न कर,

समन्दर में लहरा कुछ दिन, पी जाने की ज़िद न कर।

 

तुम्हारी ज़िद बेमानी है दिल ने हार कब मानी है

कर ही लेगा वश में तुम्हें आदत इसकी पुरानी है

 

शिकवा करने गए थे और इबादत सी हो गई…

तुझे भुलाने की जिद थी मगर तेरी आदत सी हो गई

 

इधर फ़लक को है ज़िद बिजलियाँ गिराने की

उधर हमें भी है धुन आशियाँ बनाने की

 

मोसम की तरह बदलते हें उस के वादे

उसपर यह ज़िद की तुम मुझ पे एतबार करो

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

कसक तुम्हारें बन कर सैंलाब आंसुओ की कहीं जिंदगीं की रूख ना मोड़ दें

सब्र का पैंमाना छलकें..कहीं जिद तुम्हारी राहें ना छोड़ दें

 

मिल सके आसानी से, उसकी ख्वाहिश किसको हैं?

ज़िद तो उसकी है…जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं

 

हकीकत जिद किए बैठी है चकनाचूर करने को

मगर हर आंख फिर सपना सुहाना ढूंढ लेती है

 

इंसान ख्वाहिशों से बँधा हुआ एक ज़िद्दी परिंदा है…

उम्मीदों से ही घायल और उम्मीदों पर ही ज़िन्दा है…

 

तुम्हे अगर जिद है हमसे जुदा होने की

तो हमें भी उम्मीद है तुम्हे पा लेने की

 

Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी

“उन्हें यह ज़िद थी के हम बुलाते,

हमें यह उम्मीद वो पुकारें”। ~गुलज़ार

 

यूँ जिद ना किया करो, मेरी दास्तां सुनने की . . . .

मै हँस के सुना दूँगा, तुम रोने लगोगे .

 

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो

जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो

इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है

इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो

 

Search Tags

Zid Shayari in Hindi, Zid Hindi Shayari, Zid Shayari, Zid whatsapp status, Zid hindi Status, Hindi Shayari on Zid, Zid whatsapp status in hindi,

 

ज़िद हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, ज़िद, ज़िद स्टेटस, ज़िद व्हाट्स अप स्टेटस, ज़िद पर शायरी, ज़िद शायरी, ज़िद पर शेर, ज़िद की शायरी


 

Zid Shayari in Hindi roman hinglish font

 

nam mera jahan likha paya,

zid to dekho ki vo mita ke rahe.

 

dil ke jid ne mujhe majaboor kiya hai varana

ham garebon ka navabon se talluk kya hai.

 

hamen apane dil ke to parava nahin hai

magar dar raha hoon ye kamasin ke zid hai

~qamar jalalave

 

vo to khushboo hai har ik samt bikharana hai use

dil ko kyoon zid hai ki agosh mein bharana hai use

 

main ne kabhe ye zid to nahin ke par aj shab

ai mah-jaben na ja ki tabeat udas hai!! -adam

 

kaho nakhuda se utha de vah langar,

main toofan ke jid dekhana chahata hoon !!

 

zid shayari in hindi zid shayari

hamare zid hai ki devanage na chhodenge,

na tum bhe koe kasar rakhana azamane mein….

 

is dil ke zid ho tum varna

in ankhon ne aur bhe hasen chehare dekhe hai!!”

 

dil bhe ik zid pe ada hai kise bachche ke tarah

ya to sab kuchh he ise chahiye ya kuchh bhe nahin.!!

 

zamana chahata hai kyon,mere fitarat badal dena

ise kyon zid hai akhir,fool ko patthar banane ke.!!

 

bade kam ae lagan ishq mein

main gir-gir ke khud hi sambhalata raha.!!

 

zid shayari in hindi zid shayari

 

yahe zid hai to fir hissa sabhe apana uthate hain

agar shabanam tumhare hai to ham shola uthate hain.!!

 

har bat tere manoon , na-mumkin hai..

zid chhod de ai dil, too ab bachcha nahe raha ..!!

 

na jid hai na koe guroor hai hame

bas tumhe pane ka suroor hai hame

ishk gunah hai to galate ke

hamane saja jo bhe ho manjoor hai hame.

 

zid shayari in hindi zid shayari

 

mana liya hamane apane dil ko…

har chej ke zid achchhe nahe hote

 

musafir lautakar ane ka fir vada to karata ja

agar kuchh aur ruk jane ke zid mane nahin jate

 

soye ankhon mein halachal karate rahe,

kal rat tumhare zidde khayal

 

bahut jalde sekh lete hai zindage ka sabak,

garebo ke bachche bat-bat par zid nahe karate.!!

 

dil me ghar karake baithe hai ye jo zidde se khvab.

kagaj pe utar mai vo sare mehaman le aoon..

 

pyar usase is kadar karate chale jaoon

vo jakhm de aur main bharate chale jaoon

usake zid hain ki vo mujhe mar he dale to

mere bhe zid hain usape marate chale jaoon

 

zid shayari in hindi zid shayari

ek he din mein sare zindage jene ke zid na kar,

samandar mein lahara kuchh din, pe jane ke zid na kar.

 

tumhare zid bemane hai dil ne har kab mane hai

kar he lega vash mein tumhen adat isake purane hai

 

shikava karane gae the aur ibadat se ho gae…

tujhe bhulane ke jid the magar tere adat se ho gae

 

idhar falak ko hai zid bijaliyan girane ke

udhar hamen bhe hai dhun ashiyan banane ke

 

mosam ke tarah badalate hen us ke vade

usapar yah zid ke tum mujh pe etabar karo

 

zid shayari in hindi zid shayari

kasak tumharen ban kar sainlab ansuo ke kahen jindagen ke rookh na mod den

sabr ka paimmana chhalaken..kahen jid tumhare rahen na chhod den

 

mil sake asane se, usake khvahish kisako hain?

zid to usake hai…jo mukaddar mein likha he nahin

 

hakekat jid kie baithe hai chakanachoor karane ko

magar har ankh fir sapana suhana dhoondh lete hai

 

insan khvahishon se bandha hua ek zidde parinda hai…

ummedon se he ghayal aur ummedon par he zinda hai…

 

tumhe agar jid hai hamase juda hone ke

to hamen bhe ummed hai tumhe pa lene ke

 

zid shayari in hindi zid shayari

“unhen yah zid the ke ham bulate,

hamen yah ummed vo pukaren”. ~gulazar

 

yoon jid na kiya karo, mere dastan sunane ke . . . .

mai hans ke suna doonga, tum rone lagoge .

 

ulajhe sham ko pane ke zid na karo

jo na ho apana use apanane ke zid na karo

is samandar mein toofan bahut ate hai

isake sahil par ghar banane ke zid na karo

3 thoughts on “Zid Shayari in Hindi ज़िद शायरी”

Leave a Comment