Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी

Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी

Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी
Diwangi Shayari in Hindi दीवानगी पर हिंदी शायरी

Diwangi Shayari in Hindi

दीवानगी पर हिंदी शायरी

**************************************************

List of all Hindi Shayari

दीवानगी मे कुछ एसा कर जाएंगे महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे

वादा है तुमसे दिल बनकर तुम धड़कोगे और सांस बनकर हम आएँगे

***

दीवानगी का सिलसिला जावे न हाथ से,

दामन को फाड़िए जो गरेबाँ रफ़ू करें !! – हैदर अली आतिश

***

थोड़ी सी दीवानगी तो तुझमें दिखती थी,,,ऐ-दिल…

ये न सोचा था,,,तू इतना बावरा हो जायेगा….

***

इस बहते दर्द को मत रोको ये तो सज़ा हे किसी के इंतज़ार की

लोग इन्हें आंसू कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी हे साँवरिया के प्यार की

*** Diwangi Shayari in Hindi

बंदगी में इश्क सी दीवानगी पैदा करों,

एक दम दुआओं में असर आ जाएगा

***

उनकी एक झलक पे ठहर जाती है नज़र खुदाया !

कोई हमसे पुछे दीवानगी क्या होती है

***

तुम्हारी अंजुमन से उठके दीवाने कहाँ जाते।

जो वाबसता हुए तुमसे वो अफसाने कहाँ जाते।

चलो अच्छा हुआ काम आ गयी दीवानगी अपनी

वरना हम ज़माने को ये समझाने कहाँ जाते ~क़तील_शिफ़ाई

*** Diwangi Shayari in Hindi

दिल की हसरत जुबां पर आने लगी

तुमकोदेखा जिंदगी मुस्कुराने लगी

ऐसी हुई तुम से दीवानगी

हरसूरत में तुम्हारी सूरत नज़र आने लगी

***

ख्वाहिश है पहुंचूं इश्क के मै उस मुकाम पर

जब उनका सामना मिरी दीवानगी से हो!!!!!

***

अक़्ल में यूँ तो नहीं कोई कमी,

इक ज़रा दीवानगी दरकार है !

 

आशिक़ी लिखें, दीवानगी लिखें, या अपनी ख़ामोशी लिखें

दिल के जज़्बात अब अल्फ़ाज़ नहीं बनते, आखिर आज क्या लिखें

***

तुझ से वाबस्तगी रहेगी अभी दिल को ये बेकली रहेगी अभी

सर को दीवार ही नहीं मिलती सो ये दीवानगी रहेगी अभी

*** Diwangi Shayari in Hindi

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहां…

कि तेरे ही क़रीब से गुज़र गए तेरे ही ख़्याल मे

***

उसने मेरी महोब्बत का, इस तरह तमाशा किया.

कि हम मरते है उनके प्यार मे, और वो हसते रहे मेरी दीवानगी पर.

***

मेरी दीवानगी अब भी वही है, बस इज़हार का अंदाज़ अलग है,

तब बिखरे मोती की माला थी, आज बिखरे सपनो की सौगात है ।

***

दीवानगी तो हम कर बैठे हैं इश्क़ में

उनके घर जाकर अपने घर का पता पूछते हैं

***

ये शब ओ रोज़ जो इक बे-कली रक्खी हुई है

जाने किस हुस्न की दीवानगी रक्खी हुई है

*** Diwangi Shayari in Hindi

मौसम गए सुकून गया ज़िन्दगी गई

दीवानगी की आग में क्या-क्या गया न पूछ

***

दीवानगी हो अक़्ल हो, उम्मीद हो या आस

अपना वही है वक़्त पे जो काम आ गया …!!

***

अगर फना हो जाऊ तेरी चाहत में तो गुरूर न करना

यह असर नहीं तेरे हुस्न का…. यह आलम है मेरे दीवानगी का

***

कभी आईने में चेहरा मेरी नज़रों से देखो

तुम समझ जाओगे ये दीवानगी है तारी क्यूँ आख़िर

***

इस तरह तो और भी दीवानगी बढ़ जाएगी,

दीवानों को दीवानों से दूर रहना चाहिए !!

** Diwangi Shayari in Hindi

 

मेरी दीवानगी इस कदर बढ़ गई कि

अब नजरें झुकाना मुमकिन नहीं

**

आए हैं जिस मक़ाम से उसका पता न पूछ

दीवानगी सफ़र की पूछ मगर रास्ता न पूछ

***

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,

शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,

दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,

आज भी इंतजार है तेरे आने का

*** Diwangi Shayari in Hindi

उतरे जो ज़िन्दगी,तेरी गहराइयों मे हम महफ़िल में रहकर भी रहे तन्हाइयों में

हम इसे दीवानगी नही तो और क्या कहे इंसान ढूंढते रहे परछाइयों मे हम

***

ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी;

हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी

***

ख्वाब है या कोई हक़ीकत हैहै ये दीवानगी के चाहत है,

हमने जैसे के आपाको पा ही लिया,आज कुछ ऐसी दिल की हालत है

***

वो खतो-कलम की दीवानगी छोड़ दी मैंने

के अब जुबाँ हर वक्त ही आह उगलती है ।

***

हसरतें मचल गयी जब तुमको सोचा एक पल के लिए

सोचो दीवानगी तब क्या होगी,जब तुम मिलोगे उम्र भर के लिए

*** Diwangi Shayari in Hindi

ना जीने का शौक है ना मरने की तलब रखते है,

दिवाने है तेरे बस दीवानगी गजब की रखते है।

***

थौडी़ दीवानगी मै लाऊगा,थौडी़ वफा तुम ले आना

साझे में कर लेंगे फिर से कारौबार-ए- मौहब्बत

***

नई मुश्किल कोई दर-पेश हर मुश्किल से आगे है

सफ़र दीवानगी का इश्‍क़ की मंज़िल से आगे है

**

जुनूं मंजिल का, राहों में बचाता है भटकने से,

मेरी दीवानगी अपना ठिकाना ढूंढ लेती है !!

 

*** Diwangi Shayari in Hindi

 

मेरी दीवानगी छलक न जाए आंखों से हम हर फुगां को दिल में दबा लेते हैं

तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन इसी उम्मीद में जख्म संभाले हैं हमने

***

इस बहते दर्द को मत रोको ये तो सज़ा है किसी के इंतज़ार की

लोग इन्हे आँसू कहे या दीवानगी पर ये तो निशानी हैं किसी के प्यार की

***

 

Search Tags

Diwangi Shayari, Diwangi Hindi Shayari, Diwangi Shayari, Diwangi whatsapp status, Diwangi hindi Status, Hindi Shayari on Diwangi, Diwangi whatsapp status in hindi, दीवानगी हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, दीवानगी, दीवानगी स्टेटस, दीवानगी व्हाट्स अप स्टेटस, दीवानगी पर शायरी, दीवानगी शायरी, दीवानगी पर शेर, दीवानगी की शायरी,


Hinglish

Diwangi Shayari in Hindi

दीवानगी पर हिंदी शायरी

divaanagi me kuchh esa kar jaenge mahobbat ki saari hade paar kar jaengevaada hai tumase dil banakar tum dhadakoge aur saans banakar ham aaenge**

*divaanagi ka silasila jaave na haath se,daaman ko phaadie jo garebaan rafoo karen !! – haidar ali aatish**

*thodi si divaanagi to tujhamen dikhati thi,,,ai-dil…ye na socha tha,,,too itana baavara ho jaayega….**

*is bahate dard ko mat roko ye to saza he kisi ke intazaar kilog inhen aansoo kahe ya divaanagi par ye to nishaani he saanvariya ke pyaar ki*

** diwangi shayari in hindibandagi mein ishk si divaanagi paida karon,ek dam duaon mein asar aa jaega**

*unaki ek jhalak pe thahar jaati hai nazar khudaaya !koi hamase puchhe divaanagi kya hoti hai*

**tumhaari anjuman se uthake divaane kahaan jaate.jo vaabasata hue tumase vo aphasaane kahaan jaate.chalo achchha hua kaam aa gayi divaanagi apanivarana ham zamaane ko ye samajhaane kahaan jaate ~qatil_shifai*

** diwangi shayari in hindidil ki hasarat jubaan par aane lagitumakodekha jindagi muskuraane lagiaisi hui tum se divaanagiharasoorat mein tumhaari soorat nazar aane lagi***

khvaahish hai pahunchoon ishk ke mai us mukaam parajab unaka saamana miri divaanagi se ho!!!!!***

aql mein yoon to nahin koi kami,ik zara divaanagi darakaar hai !aashiqi likhen, divaanagi likhen, ya apani khaamoshi likhendil ke jazbaat ab alfaaz nahin banate, aakhir aaj kya likhen***

tujh se vaabastagi rahegi abhi dil ko ye bekali rahegi abhisar ko divaar hi nahin milati so ye divaanagi rahegi abhi***

diwangi shayari in hindiyah mera ishq tha ya phir divaanagi ki intahaan…ki tere hi qarib se guzar gae tere hi khyaal me**

*usane meri mahobbat ka, is tarah tamaasha kiya.ki ham marate hai unake pyaar me, aur vo hasate rahe meri divaanagi par.**

*meri divaanagi ab bhi vahi hai, bas izahaar ka andaaz alag hai,tab bikhare moti ki maala thi, aaj bikhare sapano ki saugaat hai .***

divaanagi to ham kar baithe hain ishq menunake ghar jaakar apane ghar ka pata poochhate hain***

ye shab o roz jo ik be-kali rakkhi hui haijaane kis husn ki divaanagi rakkhi hui hai***

diwangi shayari in hindimausam gae sukoon gaya zindagi gaidivaanagi ki aag mein kya-kya gaya na poochh**

*divaanagi ho aql ho, ummid ho ya aasapana vahi hai vaqt pe jo kaam aa gaya …!!*

**agar phana ho jaoo teri chaahat mein to guroor na karanaayah asar nahin tere husn ka…. yah aalam hai mere divaanagi ka***

kabhi aaine mein chehara meri nazaron se dekhotum samajh jaoge ye divaanagi hai taari kyoon aakhir**

*is tarah to aur bhi divaanagi badh jaegi,divaanon ko divaanon se door rahana chaahie !!**

diwangi shayari in hindimeri divaanagi is kadar badh gai kiab najaren jhukaana mumakin nahin**

aae hain jis maqaam se usaka pata na poochhadivaanagi safar ki poochh magar raasta na poochh*

**aramaan tha tere saath jindagi bitaane ka,shikava hai khud ke khaamosh rah jaane ka,divaanagi is se badhakar aur kya hogi,aaj bhi intajaar hai tere aane ka*

** diwangi shayari in hindiutare jo zindagi,teri gaharaiyon me ham mahafil mein rahakar bhi rahe tanhaiyon menham ise divaanagi nahi to aur kya kahe insaan dhoondhate rahe parachhaiyon me ham**

*ye ishq ke intaha thi ya divaanagi meri;har soorat mein mujhe soorat teri nazar aane lagi*

**khvaab hai ya koi haqikat haihai ye divaanagi ke chaahat hai,hamane jaise ke aapaako pa hi liya,aaj kuchh aisi dil ki haalat hai**

*vo khato-kalam ki divaanagi chhod di mainneke ab jubaan har vakt hi aah ugalati hai .**

*hasaraten machal gayi jab tumako socha ek pal ke liesocho divaanagi tab kya hogi,jab tum miloge umr bhar ke lie***

diwangi shayari in hindina jine ka shauk hai na marane ki talab rakhate hai,divaane hai tere bas divaanagi gajab ki rakhate hai.*

**thaudi divaanagi mai laooga,thaudi vapha tum le aanaasaajhe mein kar lenge phir se kaaraubaar-e- mauhabbat***

nai mushkil koi dar-pesh har mushkil se aage haisafar divaanagi ka ish‍qa ki manzil se aage hai**junoon manjil ka, raahon mein bachaata hai bhatakane se,meri divaanagi apana thikaana dhoondh leti hai !!*

** diwangi shayari in hindimeri divaanagi chhalak na jae aankhon se ham har phugaan ko dil mein daba lete haintum mere dard ko mita dogi ek din isi ummid mein jakhm sambhaale hain hamane*

**is bahate dard ko mat roko ye to saza hai kisi ke intazaar kilog inhe aansoo kahe ya divaanagi par ye to nishaani hain kisi ke pyaar ki***

 

Leave a Reply