Sham Shayari in Hindi शाम शायरी

Sham Shayari in Hindi शाम शायरी
Sham Shayari in Hindi शाम शायरी

Sham Shayari in Hindi

शाम शायरी

***

ढलती हुई सुरमई शाम पर शेर ओ शायरी

Hindi Shayari on Beautiful, calm and colorful Evening

List of all Shayari Topics

*********************************************************

 

ये इंतजार ग़लत है की शाम हो जाए

जो हो सके तो अभी दौर-ऐ-जाम हो जाए

~नरेश कुमार ‘शाद’

***

कुछ और तीरगी-ए-शाम-ए-ग़म सही ‘जामी’

कुछ और अपने चराग़ों की लौ बढ़ा दूँगा

~ख़ुर्शीद अहमद ज़ामी

***

मैं तमाम शब का थका हुआ,वो तमाम शब का जगा हुआ

ज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर,उसके साँथ शाम गुज़ार लूँ

***

हिकायत-ए-ख़लिश-ए-जान-ए-बेक़रार न पूछ

शुमार-ए-शाम-ओ-सहर ऐ निगाह-ए-यार न पूछ

*** Sham Shayari in Hindi

दिल भी बुझा हो शाम की परछाइयाँ भी हों,

मर जाइये जो ऐसे में तन्हाइयाँ भी हों

***

सुना कि अब भी सर-ए-शाम वो जलाते हैं,

उदासियों के दिये मुंतज़िर निगाहों में

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Shaam Status Pictures – Shaam dp Pictures – Shaam Shayari Pictures

आ गले लग जा हमारे तीरगी-ए-शाम-ए-ग़म,

रौशनी के नाम पर धोखे बहुत खाते हैं हम

***

ये शाम और उस पर तेरी यादों की हलावत,

इक जाम में दो शै का नशा ढूंढ रहा हूँ

 

*** Sham Shayari in Hindi

तुम आओ तो पंख लगा कर उड़ जाए ये शाम,

मीलों लम्बी रात सिमट कर पल दो पल हो जाए

***

होती है शाम आँख से आँसू रवाँ हुए

ये वक़्त क़ैदियों की रिहाई का वक़्त है

***

ख़्वाबों के पंछी कब तक शोर करेंगे पलकों पर

शाम ढलेगी और सन्नाटा शाखों पर हो जाएगा

***

इतना भी ना-उम्मीद दिल-ए-कम-नज़र न हो

मुमकिन नहीं कि शाम-ए-अलम की सहर न हो

*** Sham Shayari in Hindi

हुई जो शाम तो अपना लिबास पहना कर

शफ़क़ को जैसे दम-ए-इंतिज़ार भेजा है

***

दीदा-ओ-दिल को संभालो कि सर-ए-शाम फिराक

साज़-ओ-सामान बहम पहुँचा है रुसवाई का

***

कँपकँपाती शाम ने, कल माँग ली चादर मेरी

और जाते-जाते, जाड़े को इशारा कर दिया

***

मगर ज़िक्र-ए-शाम-ए-अलम जब भी आया

चिराग़-ए-सहर बुझ गया जलते जलते

~क़मर जलालवी

*** Sham Shayari in Hindi

हमारे घर के क़रीब एक झील होती थी

और उस में शाम को सूरज नहाया करता था

***

 

शाम महके तेरे तसव्वुर से

शाम के बाद फिर सहर महके..

***

शाम-ए-ग़म हम पे ये बात रौशन हुई,

सोज़-ए-दिल चाहिये आदमी के लिये

***

निकहत-ए-ज़ुल्फ़-ए-परीशां,दास्तान-ए-शाम-ए-ग़म

सुबह होने तक इसी अंदाज़ की बातें करो

***

शाम-ए-ग़म कुछ उस निगाह-ए-नाज़ की बातें करो

बेख़ुदी बढ़ती चली है राज़ की बातें करो

*** Sham Shayari in Hindi

शाम से आँख में नमीं सी है

आज फिर आप की कमी सी है

***

गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं

हम चराग़ों की तरह शाम से जल जाते हैं

***

कई ख्वाब मुस्कुराये सरे-शाम बेखुदी में

मेरे लब पे आ गया था तेरा नाम बेखुदी में

***

आप ही होगा उसे शाम का एहसास “क़मर”

चढ़ रहा है अभी सुरज इसे ढल जाने दो

***

मुझे उस सहर की हो क्या ख़ुशी जो हो जुल्मतों में घिरी हुई

मिरी शाम-ए-ग़म को जो लूट ले मुझ उस शहर की तलाश है

*** Sham Shayari in Hindi

अब तो हर शाम गुज़रती है उसी कूचे मे,

ये नतीजा हुआ नासेह तेरे समझाने का !!

***

 

उदास शाम की यादों भरी सुलगती हवा,

हमें फिर आज पुराने दयार ले आई !!

***

वो यार है जो ख़ुश्बू की तरह जिसकी ज़ुबा उर्दू की तरह

मेरी शाम-ओ-रात मेरी कायनात वो यार मेरा सैयाँ सैयाँ

***

पहले सागर से तो छलके मय-ए-गुलफाम का रंग,

सुबह के रंग में ढल जाएगा खुद शाम का रंग !!

शाम को बाम पर वो आए तो,

जैसे कोई चराग़ जलता है !!

*** Sham Shayari in Hindi

अपने होने का हम एहसास दिलाने आए

घर में इक शमआ पसे-शाम जलाने आए.!!

***

कभी कभी शाम ऐसे ढलती है जैसे घूंघट उतर रहा हो,

तुम्हारे सीने से उठता धुआँ हमारे दिल से गुज़र रहा हो !!

***

ज़िन्दगी की शाम ढलती जा रही है,

घुल रहा है देखिये सिन्दूर मुझमें.!!

***

वही ख़्वाब ख़्वाब हैं रास्ते वही इंतज़ार सी शाम है

ये सफर है मेरे इश्क़ का,न दयार है न क़याम है !!-सुख़नवर

***

और बस क्या कमी थी शाम में तेरे बगैर,

शाम खुद को ढूढ़ती थी शाम में तेरे बगैर !! -आतिशमिज़ाज

*** Sham Shayari in Hindi

दिल सा मस्कन छोड़ के जाना इतना भी आसान नहीं,

सुब्ह को रस्ता भूल गए तो शाम को वापस आओगे !!

***

 

हमने एक शाम चिरागो से सज़ा रखी है,

शर्त लोगो ने हवाओं से लगा रखी है …

***

हम अपनी शाम को जब नज़र-ए-जाम करते हैं

अदब से हमको सितारे सलाम करते है!!

***

तेरे गुलनार से दहके हुए रूख़सारों पर,

शाम का पिघला हुआ सुर्ख-ओ-सुनहरी रोग़न !!

***

गुल हुई जाती है अफ़सुर्दा सुलगती हुई शाम,

धुल के निकलेगी अभी,चश्म-ए-महताब से रात !! -फ़ैज़

***

बस एक मोती सी छब दिखाकर, बस एक मीठी सी धुन सुनाकर

सितारा-ए-शाम बनके आया, ब’रंग-ए-ख्वाब-ए-सहर गया वो !!

*** Sham Shayari in Hindi

कोई शाम के वक़्त आएगा लेकिन,

सहर से हम आँखें बिछाए बैठे हैं !!

***

जिसमें न चमकते हों मोहब्बत के सितारे,

वो शाम अगर है तो मेरी शाम नहीं है !!

***

खुशबू से भरी शाम में जुगनू के कलम से,

इक नज़्म तेरे वास्ते लिक्खेंगे किसी दिन!!

***

शाम से उन के तसव्वुर का नशा था इतना,

नींद आई है तो आँखों ने बुरा माना है !!

*** Sham Shayari in Hindi

 

दिल-गिरफ़्ता ही सही बज़्म सजा ली जाए

याद-ए-जानाँ से कोई शाम न ख़ाली जाए !!

***

खुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में

एक पुराना खत खोला अनजाने में

शाम के साये बालिस्तों से नापे हैं

चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में ..

***

हुई शाम उनका ख़याल आ गया

वही ज़िंदगी का सवाल आ गया …

***

कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाए,

तुम्हारे नाम की एक खूबसूरत शाम हो जाए !!

***

कोई लश्कर है के बढ़ते हुए ग़म आते हैं

शाम के साये बहुत तेज़ क़दम आते हैं.!!

***

ज़ुल्मत-ए-शाम से भी नूर-ए-सहर पैदा कर

क़ल्ब शबनम का सितारों की नज़र पैदा कर ~फ़ना निज़ामी

***

किसी उर्से-दरवेश पे,अक़ीदत-मंदों की तरह

हर शाम मुझे तेरी यादें,घेर लेती हैं..!!

***

शाम कुछ देर हि बस सुर्ख़ रही, हालाँकि

खून अपना तो बहुत देर उबाला मैंने.!!

*** Sham Shayari in Hindi

एक आधा बुझा दिन मिलता है, एक आधी जली रात से

और वो कहते हैं , क्या खूबसूरत शाम है..!!

***

 

उधर इस्लाम ख़तरे में,इधर है राम ख़तरे में

मगर मैं क्या करूँ,है मेरी सुब्हो-शाम ख़तरे में..!!

***

शाम आती है तो ये सोच के डर जाता हूँ

आज की रात मेरे शहर पे भारी तो नहीं..!!

*** Sham Shayari in Hindi

शाम, उदासी, ख़ामोशी, कुछ कंकर, तालाब और मैं

हर शब पकड़े जाते हैं , गहरी नींद, क़िताब और मैं

 

***

 

Search Tags

Sham Shayari in Hindi, Sham Shayari, Sham Hindi Shayari, Sham Shayari, Sham whatsapp status, Sham hindi Status, Hindi Shayari on Sham, Sham whatsapp status in hindi, Sham Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font

शाम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शाम, शाम स्टेटस, शाम व्हाट्स अप स्टेटस, शाम पर शायरी, शाम शायरी, शाम पर शेर, शाम की शायरी,


Sham Shayari in hindi with hinglish font

 

Shaam shayari***dhalati hui surami Shaam par sher o shayari ye intajar galat hai ki Shaam ho jaejo ho sake to abhi daur-ai-jam ho jae~naresh kumar ‘shad’***

kuchh aur tiragi-e-Shaam-e-gam sahi ‘jami’kuchh aur apane charagon ki lau badha doonga~khurshid ahamad zami**

*main tamam shab ka thaka hua,vo tamam shab ka jaga huazara thahar ja isi mod par,usake santh Shaam guzar loon*

**hikayat-e-khalish-e-jan-e-beqarar na poochhashumar-e-Shaam-o-sahar ai nigah-e-yar na poochh**

* Shaam shayari in hindidil bhi bujha ho Shaam ki parachhaiyan bhi hon,mar jaiye jo aise mein tanhaiyan bhi hon*

**suna ki ab bhi sar-e-Shaam vo jalate hain,udasiyon ke diye muntazir nigahon mein***

a gale lag ja hamare tiragi-e-Shaam-e-gam,raushani ke nam par dhokhe bahut khate hain ham*

**ye Shaam aur us par teri yadon ki halavat,ik jam mein do shai ka nasha dhoondh raha hoon*

** Shaam shayari in hinditum ao to pankh laga kar ud jae ye Shaam,milon lambi rat simat kar pal do pal ho jae*

*hoti hai Shaam ankh se ansoo ravan hueye vaqt qaidiyon ki rihai ka vaqt hai**

*khvabon ke panchhi kab tak shor karenge palakon paraShaam dhalegi aur sannata shakhon par ho jaega***

itana bhi na-ummid dil-e-kam-nazar na homumakin nahin ki Shaam-e-alam ki sahar na ho***

Shaam shayari in hindihui jo Shaam to apana libas pahana karashafaq ko jaise dam-e-intizar bheja hai*

**dida-o-dil ko sambhalo ki sar-e-Shaam firakasaz-o-saman baham pahuncha hai rusavai ka*

**kanpakanpati Shaam ne, kal mang li chadar meriaur jate-jate, jade ko ishara kar diya**

*magar zikr-e-Shaam-e-alam jab bhi ayachirag-e-sahar bujh gaya jalate jalate~qamar jalalavi**

* Shaam shayari in hindihamare ghar ke qarib ek jhil hoti thiaur us mein Shaam ko sooraj nahaya karata tha*

** Shaam mahake tere tasavvur seShaam ke bad fir sahar mahake..*

**Shaam-e-gam ham pe ye bat raushan hui,soz-e-dil chahiye adami ke liye**

*nikahat-e-zulf-e-parishan,dastan-e-Shaam-e-gamasubah hone tak isi andaz ki baten karo**

Shaam-e-gam kuchh us nigah-e-naz ki baten karobekhudi badhati chali hai raz ki baten karo**

* Shaam shayari in hindiShaam se ankh mein namin si haiaj fir ap ki kami si hai**

*garmi-e-hasarat-e-nakam se jal jate hainham charagon ki tarah Shaam se jal jate hain**

*kai khvab muskuraye sare-Shaam bekhudi memmere lab pe a gaya tha tera nam bekhudi mein**

*ap hi hoga use Shaam ka ehasas “qamar”chadh raha hai abhi suraj ise dhal jane do**

*mujhe us sahar ki ho kya khushi jo ho julmaton mein ghiri huimiri Shaam-e-gam ko jo loot le mujh us shahar ki talash hai**

* Shaam shayari in hindiab to har Shaam guzarati hai usi kooche me,ye natija hua naseh tere samajhane ka !!*

**udas Shaam ki yadon bhari sulagati hava,hamen fir aj purane dayar le ai !!*

**vo yar hai jo khushboo ki tarah jisaki zuba urdoo ki tarahameri Shaam-o-rat meri kayanat vo yar mera saiyan saiyan***

pahale sagar se to chhalake may-e-gulafam ka rang,subah ke rang mein dhal jaega khud Shaam ka rang !!Shaam ko bam par vo ae to,jaise koi charag jalata hai !!*

** Shaam shayari in hindiapane hone ka ham ehasas dilane aeghar mein ik Shaama pase-Shaam jalane ae.!!**

*kabhi kabhi Shaam aise dhalati hai jaise ghoonghat utar raha ho,tumhare sine se uthata dhuan hamare dil se guzar raha ho !!*

**zindagi ki Shaam dhalati ja rahi hai,ghul raha hai dekhiye sindoor mujhamen.!!*

**vahi khvab khvab hain raste vahi intazar si Shaam haiye safar hai mere ishq ka,na dayar hai na qayam hai !!-sukhanavar**

*aur bas kya kami thi Shaam mein tere bagair,Shaam khud ko dhoodhati thi Shaam mein tere bagair !! -atiShaamizaj*

** Shaam shayari in hindidil sa maskan chhod ke jana itana bhi asan nahin,subh ko rasta bhool gae to Shaam ko vapas aoge !!*

**hamane ek Shaam chirago se saza rakhi hai,shart logo ne havaon se laga rakhi hai …***

ham apani Shaam ko jab nazar-e-jam karate hainadab se hamako sitare salam karate hai!!**

*tere gulanar se dahake hue rookhasaron par,Shaam ka pighala hua surkh-o-sunahari rogan !!**

*gul hui jati hai afasurda sulagati hui Shaam,dhul ke nikalegi abhi,chashm-e-mahatab se rat !! -faiz***

bas ek moti si chhab dikhakar, bas ek mithi si dhun sunakarasitara-e-Shaam banake aya, barang-e-khvab-e-sahar gaya vo !!*

** Shaam shayari in hindikoi Shaam ke vaqt aega lekin,sahar se ham ankhen bichhae baithe hain !!*

*jisamen na chamakate hon mohabbat ke sitare,vo Shaam agar hai to meri Shaam nahin hai !!**

*khushaboo se bhari Shaam mein juganoo ke kalam se,ik nazm tere vaste likkhenge kisi din!!**

*Shaam se un ke tasavvur ka nasha tha itana,nind ai hai to ankhon ne bura mana hai !!**

* Shaam shayari in hindidil-girafta hi sahi bazm saja li jaeyad-e-janan se koi Shaam na khali jae !!*

**khushaboo jaise log mile afasane menek purana khat khola anajane menShaam ke saye baliston se nape hainchand ne kitani der laga di ane mein ..*

**hui Shaam unaka khayal a gayavahi zindagi ka saval a gaya …**

*kabhi to asaman se chand utare jam ho jae,tumhare nam ki ek khoobasoorat Shaam ho jae !!**

*koi lashkar hai ke badhate hue gam ate hainShaam ke saye bahut tez qadam ate hain.!!**

*zulmat-e-Shaam se bhi noor-e-sahar paida karaqalb shabanam ka sitaron ki nazar paida kar ~fana nizami*

*kisi urse-daravesh pe,aqidat-mandon ki tarahahar Shaam mujhe teri yaden,gher leti hain..!!**

*Shaam kuchh der hi bas surkh rahi, halankikhoon apana to bahut der ubala mainne.!!***

Shaam shayari in hindiek adha bujha din milata hai, ek adhi jali rat seaur vo kahate hain , kya khoobasoorat Shaam hai..!!**

*udhar islam khatare mein,idhar hai ram khatare memmagar main kya karoon,hai meri subho-Shaam khatare mein..!!**

*Shaam ati hai to ye soch ke dar jata hoonaj ki rat mere shahar pe bhari to nahin..!!***

Shaam shayari in hindiShaam, udasi, khamoshi, kuchh kankar, talab aur mainhar shab pakade jate hain , gahari nind, qitab aur main

 

 

1 thought on “Sham Shayari in Hindi शाम शायरी”

Leave a Comment