Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी
Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi

होंसले-अज्म पर शायरी

दोस्तों, आपके उत्साहवर्धन के लिए हम इस ब्लॉग पोस्ट में आपके लिए लेकर आयें हैं कुछ होंसले पर शायरी (Shayari on Courage in Hindi) , प्राम्भ में कुछ शेर दिए गए हैं जिसमे अज्म पर शायरी है (अज्म, Courage, होंसला), उसके बाद के अशआर में होंसला लफ्ज़ पर शायरी है.

जब भी आप हतोत्साहित और मायूस फील करें तो आप इन अशआर को पढ़कर नया साहस प्राप्त कर सकतें हैं.

So here it is some good Courage Shayari in Hindi font for you.

All shayari in Hindi font is here

*****************************

बुलंद हो अज्म तो तारे भी तोड़ सकता है.

कठिन नही है कोई काम आदमी के लिए.

***

तूफान कर रहा था मेरे अज्म^ का तवाफ*,

दुनिया समझ रही थी कश्ती भंवर में है !!

***

समा जाता है सारा आसमां इक आँख के तिल में

किसी के अज्म को मत आँक उसके कद्दो क़ामत से

***

ईन्सान की अज्म से जब दुर किनारा होता है,

टुटी हुई किश्ती का भगवान सहारा होता है।

*** Honsle par Shayari in Hindi

मेरा अज्म इतना बुलंद है कि मुझे पराए शोलों का डर नहीं,

मुझे खौफ़ आतिशे गुल से है ये कहीं चमन को जला न दें। -शकील बदायूँनी

 

***

वो जो सिर्फ मेरा हो निगाहों मे हया रखता हो

उम्र भर साथ निभाये अज्म-ए-वफा रखता हो

***

“है अगर अज्म तो खुद ढूँढ ले अपनी मंजिल –

क्यों किसी गैर से मंजिल का पता मांगे है #सराजोद्दीन_सराज

***

अज्म क़ामिल हो तो कश्ती लबे साहिल होगी

हौसला चाहिए हर तूफ़ान से टकराने का

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो दिल दुखा तो यह अज्म भी मिला हमे,

तमाम उम्र किसी का न दिल दुखायेगे हम.

***

 

मैं हूँ गरीब फिर भी मेरा अज्म देखिये

अब तक अमीरे शहर से टकरा रहा हूँ मैं,

***

हर अज्म इरादे में हर आहंग में पहचान

हर आन में हर बात में हर ढंग में पहचान

आशिक है तो दिलबर को हर रंग में पहचान

-नजीर अकबराबादी

***

तुम अपने अज्म को मोहकम करो ख़ुद

किसी से माँगती हो हौसला क्या !!

***

हर लम्हा हर शय में महसूस करोगे तुम

मैं अज्म की खुश्बू हूं.. महकूंगी जमानों तक….

***

हकीकत बनाना है एक फसाने को ,

अज्म दिखाना है अपना जमाने को ,

जब मौत भी दस्तक दे कर पलट गई ,

तो अब बचा ही क्या है आजमाने को …

*** Honsle par Shayari in Hindi

मैं अपना अज्म लेकर मंजिलों की सिम्त निकला था

मशक्कत हाथ पे रक्खी थी, किस्मत घर पे रक्खी थी

***

न हमसफ़र न कोई रहबर ज़रूरी है

सफ़र के वास्ते अज्म ए सफ़र ज़रूरी है

***

मिलूँ तो लगे दूरियाँ और भी हैं

तो क्या अज्म के इम्तेहां और भी हैं

***

लेकर इक अज्म उठुँ रोज नई भीङ के साथ…

फिर वही भीङ छँटे और मैं तनहा हो जाउँ

***

और जो छोड़ना चाहते हैं अपनी छाप ,

अज्म-ए–जुनूं वाले कारवाने जुनून चलते है

कच्ची पगडंडियों पर बनाते हुए रास्ता

आने वाले राहगीरों के लिए

***

मेरे हमसफ़र मुझे छोड़ के जो चले गए तो भी क्या हुआ

मेरा हमसफ़र , मेरा हमनशीं , मेरा अज्म है मेरा वकार है

***

जब वलवला सादिक होता है जब अज्म मुसम्मम होता है,

तकमील का सामाँ गैब से खुद उस वक्त फराहम होता है।

 

***********************************************

बख्सा है ठोकरों ने सँभालने का होंसला….

हर ख्याल को गेहराई दे गया.. ~Shakeel Ahmed

***

हर गम ने, हर सितम ने,नया होंसला दिया,

मुझको मिटाने वालो ने, मुझको बना दिया !

*** Honsle par Shayari in Hindi

हो सकती है जिन्दगी में मोहोब्बत दोबारा भी..

बस होंसला चाहिए फिर से बर्बाद होने का

***

हमेशा कैसे मुस्कुरा लेते हो

गमे आँसुओ को कैसे छुपा लेते हो ?

हम जब भी तुम्हे देखते है

हमारे जिने का होंसला बढ़ा देते हो !!

 

तु ख्वाब थी हकीकत कभी हुई तो नहीं

मैंने बस ख्वाब हारा है तुझे पाने का होंसला नहीं

***

बुजदिल वो लोग जो मोहब्बत नहीं करते

बहुत होंसला चाहिए बरबाद होने के लिए

***

लुत्फ़ उठा रहा हूं मैं भी… आँख मिचौली का…

मिलेगी कामयाबी… होंसला कमाल का लिए बैठा हूँ…

***

चल सफर शुरू करे नए साल की

कश्ती भी है होंसला भी है डर नहीं

ज़रा भी तूफ़ान का दोस्त भी है भरोसा भी है !!

***

घर से निकले थे होंसला करके ..

लोट आये खुदा खुदा करके

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो सफर की शुरुआत करते हैं,

वो मंज़िल को पार करते हैं,

एकबार चलने का होंसला तो रखो,

मुसाफिरों का तो रस्ते भी इंतज़ार करते हैं।

***

होंसला रख ए दिल ये रास्ता ग़मों से होकर ही गुजरता है

ये इश्क है यहां कोई सीढीयाँ नहीं होती

ये पहाड़ तो पैरों के छालों के साथ ही पार होता है

***

ये राहें ले ही जाएंगी मंज़िल तक होंसला रख,

कभी सुना है कि अंधेरो ने सवेरा होने ना दिया।

***

“बुलंद हो होंसला तो मुठी में हर मुकाम हे,

मुश्किले और मुसीबते तो ज़िंदगी में आम हे”

****

जिन्दगी में कभी किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो!!

इतना होंसला जरुर रखना कि दिन बुरा था जिन्दगी नहीं

*** Honsle par Shayari in Hindi

तालीमें नही दी जाती परिंदों को वो खुद ही तय करते है ऊंचाई आसमानों की

जो रखते है होंसला आसमान छुने का वो परवाह नही करते जमीन पे गिर जाने की।

***

लाबों की रफ़्तार नहीं बदला करती, हो दिल में होंसला तो,

दीवानों की तक़दीर, तदबीर और तासीर नहीं बदला करती

***

रख होंसला ,किस्मत भी साथ देगी ,किनारा भी आएगा,

देखे है जो ख़्वाब तूने ,उनका सवेरा भी आएगा।

***

मंजिल लाख कठिन आये गुजर जाऊँगा ,

होंसला हार के बैठूंगा तो मर जाऊँगा ।

***

बचा नहीं होंसला तुम्हें पा कर फिर खोने का

चले ही जाना था तो इस दिल में घर बनाया क्यों !!

***

न छोड़ होंसला ऐ दोस्त वो मंज़र भी आएगा,

प्यासे के पास चलकर खुद समंदर आएगा…!!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सिर्फ पंख ही काफी नही आसमान के लिए होंसला भी चाहिए ऊँची उड़ान के लिए।

करता वही हू दोस्तो जो मुझे पसंद हैं..!! माना की वक्त कम हैं, पर होंसला बुलंद हैं..!!

***

दिल की उम्मीदों का होंसला तो देखो

इंतजार उसका जिसको अहसास तक नहीं

 

गर्दीशों से ड़रकर तू होंसला ना हार ज़िन्दगी,

देख लेना लौटकर फिर आएगी बहार ज़िन्दगी ।.

जब होंसला बना लिया हे ऊँची उड़ान का,

फिर फ़िज़ूल हे कद देखना आसमान का।

***

जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं,

उनके पीछे एक दिन काफिला होता हैं…!!!

***

जिंदगी की उदास राहों पर कभी यूं भी होता है,,,

इंसान खुद रो पडता है, किसी हौंसला देते हुए.!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सीखा है मैंने दिये से खुद को बचाए रखना

आंधी और अँधेरों में भी होंसला बनाए रखना

***

मुस्कुराते रहो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है।

मन में होंसला हो तो हर मंज़िल मिल जाती है।

***

यूँ ही तो खुश्क नहीं मेरी खामोश आँखें ,,

मिला हूँ तुझ से बिछड़ने का होंसला ले कर

*** Honsle par Shayari in Hindi

तू पँख ले ले मुझे सिर्फ़ होंसला दे दे..

फिर आँधियों को मेरा नाम और पता दे दे

***

Search Tags

Honsle par Shayari in Hindi, Honsle par Hindi Shayari, Honsle par Shayari, Honsle par whatsapp status, Honsle par hindi Status, Hindi Shayari on Honsla, Honsle par whatsapp status in hindi, Honsle par Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Courage Shayari, Courage Hindi Shayari, Courage Shayari, Courage whatsapp status, Courage hindi Status, Hindi Shayari on Courage, Courage whatsapp status in hindi, Courage Shayari in Hindi Font

होंसले पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, होंसले पर , होंसले पर स्टेटस, होंसले पर व्हाट्स अप स्टेटस, होंसले पर पर शायरी, होंसले पर शायरी, होंसले पर शेर, होंसले की शायरी,

अज्म पर हिंदी शायरी, अज्म पर , अज्म पर स्टेटस, अज्म पर व्हाट्स अप स्टेटस, अज्म पर शायरी, अज्म पर शायरी, अज्म पर शेर, अज्म की शायरी,


Hinglish

Honsle par Shayari in Hindi

होंसले-अज्म पर शायरी

honslai par shayari in hindihonsale-ajm par shaayaridoston, aapake utsaahavardhan ke lie ham is blog post mein aapake lie lekar aayen hain kuchh honsale par shaayari (shayari on chouragai in hindi) , praambh mein kuchh sher die gae hain jisame ajm par shaayari hai (ajm, chouragai, honsala), usake baad ke ashaar mein honsala laphz par shaayari hai.jab bhi aap hatotsaahit aur maayoos phil karen to aap in ashaar ko padhakar naya saahas praapt kar sakaten hain. buland ho ajm to taare bhi tod sakata hai.kathin nahi hai koi kaam aadami ke lie.*

**toophaan kar raha tha mere ajm^ ka tavaaph*,duniya samajh rahi thi kashti bhanvar mein hai !!**

*sama jaata hai saara aasamaan ik aankh ke til menkisi ke ajm ko mat aank usake kaddo qaamat se**

*insaan ki ajm se jab dur kinaara hota hai,tuti hui kishti ka bhagavaan sahaara hota hai.**

* honslai par shayari in hindimera ajm itana buland hai ki mujhe parae sholon ka dar nahin,mujhe khauf aatishe gul se hai ye kahin chaman ko jala na den. -shakil badaayoonni*

**vo jo sirph mera ho nigaahon me haya rakhata houmr bhar saath nibhaaye ajm-e-vapha rakhata ho**

*”hai agar ajm to khud dhoondh le apani manjil –kyon kisi gair se manjil ka pata maange hai #saraajoddin_saraaj**

*ajm qaamil ho to kashti labe saahil hogihausala chaahie har toofaan se takaraane ka**

* honslai par shayari in hindijo dil dukha to yah ajm bhi mila hame,tamaam umr kisi ka na dil dukhaayege ham.*

**main hoon garib phir bhi mera ajm dekhiyeab tak amire shahar se takara raha hoon main,**

*har ajm iraade mein har aahang mein pahachaanahar aan mein har baat mein har dhang mein pahachaanaashik hai to dilabar ko har rang mein pahachaan-najir akabaraabaadi*

**

tum apane ajm ko mohakam karo khudakisi se maangati ho hausala kya !!*

**har lamha har shay mein mahasoos karoge tumamain ajm ki khushboo hoon.. mahakoongi jamaanon tak….*

**hakikat banaana hai ek phasaane ko ,ajm dikhaana hai apana jamaane ko ,jab maut bhi dastak de kar palat gai ,to ab bacha hi kya hai aajamaane ko …**

* honslai par shayari in hindimain apana ajm lekar manjilon ki simt nikala thaamashakkat haath pe rakkhi thi, kismat ghar pe rakkhi thi**

*na hamasafar na koi rahabar zaroori haisafar ke vaaste ajm e safar zaroori hai*

**miloon to lage dooriyaan aur bhi hainto kya ajm ke imtehaan aur bhi hain*

**lekar ik ajm uthun roj nai bhin ke saath…phir vahi bhin chhante aur main tanaha ho jaun*

**aur jo chhodana chaahate hain apani chhaap ,ajm-e–junoon vaale kaaravaane junoon chalate haikachchi pagadandiyon par banaate hue raastaaane vaale raahagiron ke lie**

*mere hamasafar mujhe chhod ke jo chale gae to bhi kya huaamera hamasafar , mera hamanashin , mera ajm hai mera vakaar hai*

**jab valavala saadik hota hai jab ajm musammam hota hai,takamil ka saamaan gaib se khud us vakt pharaaham hota hai.**********************************************

*bakhsa hai thokaron ne sanbhaalane ka honsala….har khyaal ko geharai de gaya.. ~shakaiail ahmaid***

har gam ne, har sitam ne,naya honsala diya,mujhako mitaane vaalo ne, mujhako bana diya !***

honslai par shayari in hindiho sakati hai jindagi mein mohobbat dobaara bhi..bas honsala chaahie phir se barbaad hone ka***

hamesha kaise muskura lete hogame aansuo ko kaise chhupa lete ho ?ham jab bhi tumhe dekhate haihamaare jine ka honsala badha dete ho !!tu khvaab thi hakikat kabhi hui to nahimmainne bas khvaab haara hai tujhe paane ka honsala nahin***

bujadil vo log jo mohabbat nahin karatebahut honsala chaahie barabaad hone ke lie***

lutf utha raha hoon main bhi… aankh michauli ka…milegi kaamayaabi… honsala kamaal ka lie baitha hoon…***

chal saphar shuroo kare nae saal kikashti bhi hai honsala bhi hai dar nahinzara bhi toofaan ka dost bhi hai bharosa bhi hai !!***

ghar se nikale the honsala karake ..lot aaye khuda khuda karake***

honslai par shayari in hindijo saphar ki shuruaat karate hain,vo manzil ko paar karate hain,ekabaar chalane ka honsala to rakho,musaaphiron ka to raste bhi intazaar karate hain.***

honsala rakh e dil ye raasta gamon se hokar hi gujarata haiye ishk hai yahaan koi sidhiyaan nahin hotiye pahaad to pairon ke chhaalon ke saath hi paar hota hai***

ye raahen le hi jaengi manzil tak honsala rakh,kabhi suna hai ki andhero ne savera hone na diya.***

“buland ho honsala to muthi mein har mukaam he,mushkile aur musibate to zindagi mein aam he”****

jindagi mein kabhi kisi bure din se roobaroo ho jao to!!itana honsala jarur rakhana ki din bura tha jindagi nahin***

honslai par shayari in hinditaalimen nahi di jaati parindon ko vo khud hi tay karate hai oonchai aasamaanon kijo rakhate hai honsala aasamaan chhune ka vo paravaah nahi karate jamin pe gir jaane ki.**

*laabon ki raftaar nahin badala karati, ho dil mein honsala to,divaanon ki taqadir, tadabir aur taasir nahin badala karati*

**rakh honsala ,kismat bhi saath degi ,kinaara bhi aaega,dekhe hai jo khvaab toone ,unaka savera bhi aaega.***

manjil laakh kathin aaye gujar jaoonga ,honsala haar ke baithoonga to mar jaoonga .*

**bacha nahin honsala tumhen pa kar phir khone kaachale hi jaana tha to is dil mein ghar banaaya kyon !!***

na chhod honsala ai dost vo manzar bhi aaega,pyaase ke paas chalakar khud samandar aaega…!!!*

** honslai par shayari in hindisirph pankh hi kaaphi nahi aasamaan ke lie honsala bhi chaahie oonchi udaan ke lie.karata vahi hoo dosto jo mujhe pasand hain..!! maana ki vakt kam hain, par honsala buland hain..!!**

*dil ki ummidon ka honsala to dekhointajaar usaka jisako ahasaas tak nahingardishon se darakar too honsala na haar zindagi,dekh lena lautakar phir aaegi bahaar zindagi ..jab honsala bana liya he oonchi udaan ka,phir fizool he kad dekhana aasamaan ka.***

jinamen akele chalane ka honsala hota hain,unake pichhe ek din kaaphila hota hain…!!!*

**jindagi ki udaas raahon par kabhi yoon bhi hota hai,,,insaan khud ro padata hai, kisi haunsala dete hue.!!*

**
sikha hai mainne diye se khud ko bachae rakhanaaandhi aur andheron mein bhi honsala banae rakhana**

*muskuraate raho to har mushkil aasaan ho jaati hai.man mein honsala ho to har manzil mil jaati hai.**

*yoon hi to khushk nahin meri khaamosh aankhen ,,mila hoon tujh se bichhadane ka honsala le kar*

** honslai par shayari in hinditoo pankh le le mujhe sirf honsala de de..phir aandhiyon ko mera naam aur pata de de

 

 

1 thought on “Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी”

  1. Kinaro pr bath ke lehro ko Dekhna roj ki adte bangai hai humari? gehraiyo ko dekh ke dar kar waps lout Jana ibadat ban gai hai humari

Leave a Reply