Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी
Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

 

दोस्तों चमन में हमेशा बहार का मोसम नहीं रहता, बहार के बाद खिजां और पतझड़ का मोसम भी आता है, पेश है खिजां के मोसम और पर कुछ शायरी.

Hindi Shayari on Autumn, Hindi shayari on Pathjhad, Sad Hindi Shayari on Khiza.

List of all topics

***************

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

****

मंज़िल तो सबकी एक ही है, रास्ते हैं जुदा,

कोई पतझड़ से गुजरा, कोई सहरा से गया।

****

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

***

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

**** Khiza Shayari in Hindi

 

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

****

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

****

फूल खिलते हैं, लोग मिलते हैं मगर,

पतझड़ में जो फूल मुरझा जाते हैं,

वो बहारों के आने से खिलते नहीं.

****

पतझड़ के मौसम में दिल को सुकून बहुत मिलता है…

शाख से टूटे हर पत्ते में चेहरा अपना जो दिखता है.

***

अरसे बाद खिजां पलटी नज़र आई बहार

बरसों बीते तन्हाईओं के बाद आई खुमार

*** Khiza Shayari in Hindi

“सुनायेगी ये दास्तां शमा मेरे मजार की

खिजां में भी खिली रही ये कली अनार की

***

खिजां अब आयेगी तो आयेगी ढलकर बहारों में,

कुछ इस अन्दाज से नज्मे-गुलिस्तां कर रहा हूँ मैं।

***

फिर इसके बाद नज़रे नज़र को तरसेंगे

वो जा रहा है खिजां के गुलाब दे जाओ

***

फूल चुन लिए उसने सारे मेरे शाख़े-गुल से

खिजां थी हिस्से मेरे, जो बागबां में ही रह गई

***

खिजां में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रोशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गये, कहीं बुझ गये।

*** Khiza Shayari in Hindi

अब रंजिशो-खुशी से बहारो-खिजां से क्या

महवे-खयाले-यार हैं हमको जहाँ से क्या ~मजरूह सुल्तानपुरी

***

सुकूत-ऐ-शाम-ऐ-खिजां में हुस्न की एक अंगड़ाई \

इधर सूखे दरख्तो पर हरे पत्ते निकल आए..

***

होता नहीं है कोई बुरे वक्त में शरीक,

पत्ते भी भागते हैं खिजां में शजर से दूर। #असीर

***

जुबां पे दर्द भरी दास्तान चली आई

बहार आने से पहले खिजां चली आई

***

उम्मीदों के फूल गुलशन में कबके मुरझा चुके

जो बचा है खिजां में वो कांटों का तमाशा है

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

***

क्या खबर थी खिजां होगी मुक्कदर अपना,

मैंने तो माहौल बनाया था बहारों के लिए!

***

तेरी जुल्फ में लगा सकूं, वो कली न मैं खिला सकूं

बेबस खिजां में बैठा हूं, वो बहार भी न मैं ला सकूं

***

असीरान-ए-कफस को वास्ता क्या इन झमेलों से,

चमन में कब खिजां आई, चमन में कब बहार आई

***

गुल खिलेंगे फिर कैसे दिल में आरजुओं के,

दोस्ती खिजां से जब करता गुलसितां अपना।

** Khiza Shayari in Hindi

खिजां पुरानी पड़ी, कूच कर गया सैयाद,

नई बहारें नए बागवां की बात करो।

***

जहाँ बस्ती थी खुशियाँ, आज हैं मातम वहाँ

वक़्त लाया था बहारें वक़्त लाया है खिजां

**

मुमकिन है कि तू जिसको समझता है बहारां ,

औरों की निगाहों में वो मौसम हो खिजां का …

*** Khiza Shayari in Hindi

तड़प रहे हैं हम यहाँ, तुम्हारे इंतज़ार में

खिजां का रंग, आ-चला है, मौसम-ए-बहार में

***

जिसकी कफस में आंख खुली हो मेरी तरह,

उसके लिए चमन की खिजां क्या बहार क्या?

*** Khiza Shayari in Hindi

मिला जो पयार तो हम पयार के क़ाबिल न रहे

खिजां के फूल बहार के क़ाबिल न रहे।

***

यही तंग हाल जो सबका है यह करिश्मा कुदरते रब का है

जो बहार थी सो खिजां हुई जो खिजां थी अब वह बहार है।”-जोश मलीहाबादी

***

क्या हुआ जो खिजां के फूल सा मुरझा गए,

बनके “खुशबू ए जिंदगी” महकते रहेंगे हम ।

***

खिले गुलशन-ए-वफा में गुल-ए-नामुराद ऐसे

ना बहार ही ने पूछा ना खिजां के काम आए

***

गमों की फसल हमेशा तर-ओ-ताजा रही ,

ये वो खिजां है जो शर्मिन्दा-ए-बहार नहीं ……..

*** Khiza Shayari in Hindi

कांटो ने बहुत याद किया उन को खिजां में ,

जो गुल कभी जिंदा थे बहारों के सहारे ……

***

फूलों की बस्ती में आखिर कांटों का क्या काम था

ऐ खुदा तेरे गुलशन में आ जाती क्यूं खिजां है…

***

खिजां में पेड़ से टूटे हुए पत्ते बताते हैं…

बिछड़ कर अपनों से मिलती है बस दर-दर की दुत्कारी…

*** Khiza Shayari in Hindi

वह संभलेंगे गेसू जो बलखा गए हैं,

बहार आ रही है, खिजां के सहारे।

***

खिजां के बाद गुलशन में बहार आई तो है लेकिन,

उड़ा जाता है क्यों अहल-ए-चमन का रंग क्या कहिए।

***

Search Tags

Khiza Shayari in Hindi, Khiza Hindi Shayari, Khiza par Shayari, Khiza whatsapp status, Khiza hindi Status, Hindi Shayari on Khiza, Khiza whatsapp status in hindi, Khiza Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Autumn Shayari, Autumn Hindi Shayari, Autumn Shayari, Autumn whatsapp status, Autumn hindi Status, Autumn whatsapp status in hindi, Autumn Shayari in Hindi Font

 खिजां हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शबनम, खिजां स्टेटस, खिजां व्हाट्स अप स्टेटस, खिजां पर शायरी, खिजां शायरी, खिजां पर शेर, खिजां की शायरी, खिजां शायरी,

पतझड़ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, पतझड़ स्टेटस, पतझड़ व्हाट्स अप स्टेटस, पतझड़ पर शायरी, पतझड़ शायरी, पतझड़ पर शेर, पतझड़ की शायरी, पतझड़ शायरी,


Hinglish

Khiza Shayari in Hindi

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

khiza shayari in hindikhijaan aur patajhad par kuchh shaayaridoston chaman mein hamesha bahaar ka mosam nahin rahata, bahaar ke baad khijaan aur patajhad ka mosam bhi aata hai, pesh hai khijaan ke mosam aur par kuchh shaayari.hindi shayari on autumn,

*************phir dekh usaka rang nikharata hai kis tarah,doshije- khijaan ko khitaab-e-bahaar de !! -adam**

**manzil to sabaki ek hi hai, raaste hain juda,koi patajhad se gujara, koi sahara se gaya.**

**ulfat ke maaron se na poochhon aalam intazaar kaapatajhad si hai zindagi, khyaal hai bahaar ka.**

*khijaan ke loot se barbaadie-chaman to huiyakin aamade-phasle-bahaar kam na hua – majaaj***

* khiza shayari in hindiye khijaan ki zard si shaal mein ji udaas ped ke paas haiye tumhaare ghar ki bahaar hai ise aansuo se hara karo**

**palakon se aansuon ki qataaron ko ponchh lopatajhad ki baat thik nahin hai bahaar mein.!!*

***phool khilate hain, log milate hain magar,patajhad mein jo phool murajha jaate hain,vo bahaaron ke aane se khilate nahin.*

***patajhad ke mausam mein dil ko sukoon bahut milata hai…shaakh se toote har patte mein chehara apana jo dikhata hai.

***arase baad khijaan palati nazar aai bahaarabarason bite tanhaion ke baad aai khumaar***

khiza shayari in hindi”sunaayegi ye daastaan shama mere majaar kikhijaan mein bhi khili rahi ye kali anaar ki*

**khijaan ab aayegi to aayegi dhalakar bahaaron mein,kuchh is andaaj se najme-gulistaan kar raha hoon main.*

**phir isake baad nazare nazar ko tarasengevo ja raha hai khijaan ke gulaab de jao**

*phool chun lie usane saare mere shaakhe-gul sekhijaan thi hisse mere, jo baagabaan mein hi rah gai***

na khijaan mein hai koi tiragi, na bahaar mein koi roshani,ye najar-najar ke charaag hai, kahin jal gaye, kahin bujh gaye.*

** khiza shayari in hindiab ranjisho-khushi se bahaaro-khijaan se kyaamahave-khayaale-yaar hain hamako jahaan se kya ~majarooh sultaanapuri**

*sukoot-ai-shaam-ai-khijaan mein husn ki ek angadai \idhar sookhe darakhto par hare patte nikal aae..*

**hota nahin hai koi bure vakt mein sharik, patte bhi bhaagate hain khijaan mein shajar se door. #asir*

**jubaan pe dard bhari daastaan chali aaibahaar aane se pahale khijaan chali aai**

*ummidon ke phool gulashan mein kabake murajha chukejo bacha hai khijaan mein vo kaanton ka tamaasha haikhijaan ke loot se barbaadie-chaman to huiyakin aamade-phasle-bahaar kam na hua – majaaj*

**kya khabar thi khijaan hogi mukkadar apana,mainne to maahaul banaaya tha bahaaron ke lie!*

**teri julph mein laga sakoon, vo kali na main khila sakoombebas khijaan mein baitha hoon, vo bahaar bhi na main la sakoon**

*asiraan-e-kaphas ko vaasta kya in jhamelon se,chaman mein kab khijaan aai, chaman mein kab bahaar aai***

gul khilenge phir kaise dil mein aarajuon ke,dosti khijaan se jab karata gulasitaan apana.** khiza shayari in hindikhijaan puraani padi, kooch kar gaya saiyaad,nai bahaaren nae baagavaan ki baat karo.**

*jahaan basti thi khushiyaan, aaj hain maatam vahaanvaqt laaya tha bahaaren vaqt laaya hai khijaan .*

*mumakin hai ki too jisako samajhata hai bahaaraan ,auron ki nigaahon mein vo mausam ho khijaan ka …*

** khiza shayari in hinditadap rahe hain ham yahaan, tumhaare intazaar menkhijaan ka rang, aa-chala hai, mausam-e-bahaar mein

jisaki kaphas mein aankh khuli ho meri tarah,usake lie chaman ki khijaan kya bahaar kya?**

* khiza shayari in hindimila jo payaar to ham payaar ke qaabil na rahekhijaan ke phool bahaar ke qaabil na rahe.**

*yahi tang haal jo sabaka hai yah karishma kudarate rab ka haijo bahaar thi so khijaan hui jo khijaan thi ab vah bahaar hai.”-josh malihaabaadi*

**kya hua jo khijaan ke phool sa murajha gae,banake “khushaboo e jindagi” mahakate rahenge ham .**

*khile gulashan-e-vapha mein gul-e-naamuraad aisena bahaar hi ne poochha na khijaan ke kaam aae*

**gamon ki phasal hamesha tar-o-taaja rahi ,ye vo khijaan hai jo sharminda-e-bahaar nahin ……..***

khiza shayari in hindikaanto ne bahut yaad kiya un ko khijaan mein ,jo gul kabhi jinda the bahaaron ke sahaare ……*

**phoolon ki basti mein aakhir kaanton ka kya kaam thaai khuda tere gulashan mein aa jaati kyoon khijaan hai…**

*khijaan mein ped se toote hue patte bataate hain…bichhad kar apanon se milati hai bas dar-dar ki dutkaari…**

* khiza shayari in hindivah sambhalenge gesoo jo balakha gae hain,bahaar aa rahi hai, khijaan ke sahaare.**

*khijaan ke baad gulashan mein bahaar aai to hai lekin,uda jaata hai kyon ahal-e-chaman ka rang kya kahie.***

 

 

 

Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi  बहार शायरी
Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

 

बहार के खुशनुमा और खिलते हुए फूलों के सुहाने मोसम पर शायरीl,

Hindi Shayari on Spring season.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी

*****************************************************************************

 

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

~Faraz

***

फिर उसके बाद वही बासी मंजरों के जुलूस,

बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है।

~राहत_इंदौरी

****

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

****

वो गुलबदन कभी निकला जो सैर ए सहरा को

तो अपने साथ हवा ए बहार कर लेगा।

***

दरीचे जहन के मै बन्द कर नहीं सकता

दिमाग अपना मुझे पुर बहार करना है।

*** Bahaar Shayari in Hindi

तुम ने हम जैसे मुसाफ़िर भी न देखे होंगे

जो बहारों से चले और ख़िज़ाँ तक पहुँचे

~इक़बाल अज़ीम

***

तुम कहो तो   .. बहार बनकर

सब मौसमों को मात देदूं। ?

***

और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे

कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे

~गोपालदास नीरज

*** Bahaar Shayari in Hindi

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !! Bi

***

कोई एसी बजमे बहार हो जहाँ मैं यकीं दिला सकूं

कि तेरा नाम है फसले गुल कि तुझी से हैं ये करामतें

***

जला के दाग़-ए-मुहब्बत ने दिल को ख़ाक किया

बहार आई मेरे बाग में ख़िज़ां की तरह

~दाग़

***

उग रहा है दरो दीवार में सबजा गालिब

हम बयाबां में हैं और घर में बहार आई है

~galib

***

हमीं से रंग-ए-गुलिस्ताँ हमीं से रंग-ए-बहार

हमीं को नज़्म-ए-गुलिस्ताँ पे इख़्तियार नहीं ~साहिर

***

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

*** Bahaar Shayari in Hindi

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

मुझे उस जुनूँ की है जुस्तुजू जो चमन को बख़्श दे रंग ओ बू

जो नवेद-ए-फ़स्ल-ए-बहार हो मुझे उस नज़र की तलाश है

***

 

आमद से पहले तेरी सजाते कहाँ से फूल,

मौसम बहार का तो तेरे साथ आया है !!

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

अपना बर्बाद आशियाँ देखते हैं तो याद आता है,

बहारें भी उजाड़ देती हैं तिनकों से बने घरौंदों को।

~पाकीज़ा

***

ढाएगा सौ क्यामतें , तौबा की ख़ैर हो

दौर-ए-बहार में ये उमड़ना सहाब का

*** Bahaar Shayari in Hindi

उरूज पर है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहाँ से होता है

***

 

यूँ ही शायद दिल-ए-वीराँ में बहार आ जाए,

ज़ख़्म जितने मिलें सीने पे सजाते चलिए !!

***

इश्क़ में दिल के इलाक़े से गुजरती है बहार,

दर्द अहसास तक आए तो नमी तक पहुँचे

***

जब हम रुकें तो साथ रुके शम-ए-बेकसी,

जब तुम रुको बहार रुके, चाँदनी रुके !!

****

काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बाँ,

ये भी गुलों के साथ पले हैं बहार में !!

 

*** Bahaar Shayari in Hindi

मौसम-ए-बहार है अम्बरीं ख़ुमार है

किस का इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !! -अदम

***

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

***

कांटा समझ के मुझ से न दामन बचाइए,

गुजरी हुई बहार की इक यादगार हूँ !!

***

न खिजाँ में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रौशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गए,कहीं बुझ गए !!

***

नाम भी लेना है जिस का इक जहान-ए-रंग-ओ-बू

दोस्तो उस नौ-बहार-ए-नाज़ की बातें करो !!

***

ना गुल खिले हैं, ना उन से मिले, ना मय पी है,

अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~faiz

*** Bahaar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

जो देख लेगा हर बशर् उसको खुद में ही कहीं,

तो मज़हबी इमारतों के बहार फ़कीर कोई होगा नहीं।

***

बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं,

फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में।

***

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

*** Bahaar Shayari in Hindi

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,

चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !!

***

खुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तज़ू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है !! -~Gulzar

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है 1/2- ~रहबर

***

देख जिंदा से परे रंगे चमन जोशे बहार

रकस करना है तो पावं की जंजीर न देख!

*** Bahaar Shayari in Hindi

लेके अपनी-अपनी किस्मत आए थे गुलशन में गुल

कुछ बहारों मे खिले और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए

~राजेश रेड्डी

***

मौसम-ए-गुल में तो आ जाती है काँटों पे बहार

बात तो जब है ख़िजाँ में गुल-ए-तर पैदा कर

~फ़ना निज़ामी

***

देख जा आ के महक़ते हुए ज़ख्मों की बहार

मैंने अब तक तेरे गुलशन को सजा रक्खा है.!!

***

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

*** Bahaar Shayari in Hindi

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

***

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

*** Bahaar Shayari in Hindi

आ कहीं मिलते हैं हम ताक़ि बहारें आ जाएँ।।

इससे पहले कि ता’अल्लुक़ में दरारें आ जाएँ..!!

***

 

Search Tags

Bahaar Shayari in Hindi, Bahaar Hindi Shayari, Bahaar par Shayari, Bahaar whatsapp status, Bahaar hindi Status, Hindi Shayari on Bahaar, Bahaar whatsapp status in hindi, Bahaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Spring Shayari, Spring Hindi Shayari, Spring Shayari, Spring whatsapp status, Spring hindi Status, Spring whatsapp status in hindi, Spring Shayari in Hindi Font

 बहार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहार, बहार स्टेटस, बहार व्हाट्स अप स्टेटस, बहार पर शायरी, बहार शायरी, बहार पर शेर, बहार की शायरी,


Hinglish

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

bahaar shayari in hindibahaar shaayaribahaar ke khushanuma aur khilate hue phoolon ke suhaane mosam par shaayaril,hindi shayari on spring saiason.sabhi vishayon par hindi shaayari*****************************************************************************

pyaar mein ek hi mausam hai bahaaron ka mausamalog mausam ki tarah phir kaise badal jaate hain~faraz**

*phir usake baad vahi baasi manjaron ke juloos,bahaar chand hi lamhe bahaar rahati hai.~raahat_indauri***

*jo tum muskura do bahaaren hanse, sitaaron ki ujali kataaren hansejo tum muskura do nazaaren hanse, javaan dhadakanon ke ishaare hanse***

*vo gulabadan kabhi nikala jo sair e sahara koto apane saath hava e bahaar kar lega.*

**dariche jahan ke mai band kar nahin sakataadimaag apana mujhe pur bahaar karana hai.**

* bahaar shayari in hinditum ne ham jaise musaafir bhi na dekhe hongejo bahaaron se chale aur khizaan tak pahunche~iqabaal azim

***tum kaho to .. bahaar banakarasab mausamon ko maat dedoon. ?*

**aur ham khade-khade bahaar dekhate rahekaaravaan guzar gaya gubaar dekhate rahe~gopaaladaas niraj***

bahaar shayari in hindikhaar bhi zist-e-gulistaan hain,phool hi haansil-e-bahaar nahin !! bi***

koi esi bajame bahaar ho jahaan main yakin dila sakoonki tera naam hai phasale gul ki tujhi se hain ye karaamaten**

*jala ke daag-e-muhabbat ne dil ko khaak kiyaabahaar aai mere baag mein khizaan ki tarah~daag***

ug raha hai daro divaar mein sabaja gaalibaham bayaabaan mein hain aur ghar mein bahaar aai hai~galib*

**hamin se rang-e-gulistaan hamin se rang-e-bahaarahamin ko nazm-e-gulistaan pe ikhtiyaar nahin ~saahir*

**shiddat se bahaaron ke intezaar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete**

* bahaar shayari in hindiun ki ulfat ka yakin ho un ke aane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahaar-e-intazaar**

*mujhe us junoon ki hai justujoo jo chaman ko bakhsh de rang o boojo naved-e-fasl-e-bahaar ho mujhe us nazar ki talaash hai**

*aamad se pahale teri sajaate kahaan se phool,mausam bahaar ka to tere saath aaya hai !!***

un ki ulfat ka yakin ho un ke aane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahaar-e-intazaar**

*apana barbaad aashiyaan dekhate hain to yaad aata hai,bahaaren bhi ujaad deti hain tinakon se bane gharaundon ko.~paakiza*

**dhaega sau kyaamaten , tauba ki khair hodaur-e-bahaar mein ye umadana sahaab ka*

** bahaar shayari in hindiurooj par hai chaman mein bahaar ka mausamasafar shuroo khizaan ka yahaan se hota hai*

**yoon hi shaayad dil-e-viraan mein bahaar aa jae,zakhm jitane milen sine pe sajaate chalie !!*

**ishq mein dil ke ilaaqe se gujarati hai bahaar,dard ahasaas tak aae to nami tak pahunche*

**jab ham ruken to saath ruke sham-e-bekasi,jab tum ruko bahaar ruke, chaandani ruke !! ***

*kaanton ko mat nikaal chaman se o baagabaan,ye bhi gulon ke saath pale hain bahaar mein !!*

** bahaar shayari in hindimausam-e-bahaar hai ambarin khumaar haikis ka intizaar hai gesuon ko kholie !! -adam***

phir dekh usaka rang nikharata hai kis tarah,doshije- khijaan ko khitaab-e-bahaar de !! -adam*

**kaanta samajh ke mujh se na daaman bachaie,gujari hui bahaar ki ik yaadagaar hoon !!**

*na khijaan mein hai koi tiragi, na bahaar mein koi raushani,ye najar-najar ke charaag hai, kahin jal gae,kahin bujh gae !!*

**naam bhi lena hai jis ka ik jahaan-e-rang-o-boodosto us nau-bahaar-e-naaz ki baaten karo !!**

*na gul khile hain, na un se mile, na may pi hai,ajib rang mein abake bahaar guzari hai.~faiz**

* bahaar shayari in hindilutf jo us ke intazaar mein haivo kahaan mausam-e-bahaar mein hai !!***

jo dekh lega har bashar usako khud mein hi kahin,to mazahabi imaaraton ke bahaar fakir koi hoga nahin.**

*be mausam barasaat se andaaza lagata hoon main,phir kisi maasoom ka dil tuta hai mausam-e-bahaar mein.*

**ulfat ke maaron se na poochhon aalam intazaar kaapatajhad si hai zindagi, khyaal hai bahaar ka.*

** bahaar shayari in hindiaaj hai vo bahaar ka mausam,phool todoon to haath jaam aae !!**

*ik nau-bahaar-e-naaz ko taake hai phir nigaah,chehara phurog-e-may se gulistaan kiye hue !!*

**khushaboo gunche talaash karati haibite rishte talaash karati haiapane maazi ki justazoo mein bahaarapile patte talaash karati hai !! -~gulzar**

*apane lie bhi mausame gul hai bahaar hai,jab se suna hai unako mera intazaar hai 1/2- ~rahabar***

dekh jinda se pare range chaman joshe bahaararakas karana hai to paavan ki janjir na dekh!***

bahaar shayari in hindileke apani-apani kismat aae the gulashan mein gulakuchh bahaaron me khile aur kuchh khizaan mein kho gae~raajesh reddi**

*mausam-e-gul mein to aa jaati hai kaanton pe bahaarabaat to jab hai khijaan mein gul-e-tar paida kar~fana nizaami***

dekh ja aa ke mahaqate hue zakhmon ki bahaaramainne ab tak tere gulashan ko saja rakkha hai.!!**

*ye khijaan ki zard si shaal mein ji udaas ped ke paas haiye tumhaare ghar ki bahaar hai ise aansuo se hara karo***

bahaar shayari in hindipalakon se aansuon ki qataaron ko ponchh lopatajhad ki baat thik nahin hai bahaar mein.!!**

*kaun se naam se taabir karoon is root ko..phool murajhaen hain zakhmon pe bahaar aai hai..!!**

* bahaar shayari in hindia kahin milate hain ham taaqi bahaaren aa jaen..isase pahale ki taalluq mein daraaren aa jaen..!!***

 

 

 

 

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी
Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi

होंसले-अज्म पर शायरी

दोस्तों, आपके उत्साहवर्धन के लिए हम इस ब्लॉग पोस्ट में आपके लिए लेकर आयें हैं कुछ होंसले पर शायरी (Shayari on Courage in Hindi) , प्राम्भ में कुछ शेर दिए गए हैं जिसमे अज्म पर शायरी है (अज्म, Courage, होंसला), उसके बाद के अशआर में होंसला लफ्ज़ पर शायरी है.

जब भी आप हतोत्साहित और मायूस फील करें तो आप इन अशआर को पढ़कर नया साहस प्राप्त कर सकतें हैं.

So here it is some good Courage Shayari in Hindi font for you.

All shayari in Hindi font is here

*****************************

बुलंद हो अज्म तो तारे भी तोड़ सकता है.

कठिन नही है कोई काम आदमी के लिए.

***

तूफान कर रहा था मेरे अज्म^ का तवाफ*,

दुनिया समझ रही थी कश्ती भंवर में है !!

***

समा जाता है सारा आसमां इक आँख के तिल में

किसी के अज्म को मत आँक उसके कद्दो क़ामत से

***

ईन्सान की अज्म से जब दुर किनारा होता है,

टुटी हुई किश्ती का भगवान सहारा होता है।

*** Honsle par Shayari in Hindi

मेरा अज्म इतना बुलंद है कि मुझे पराए शोलों का डर नहीं,

मुझे खौफ़ आतिशे गुल से है ये कहीं चमन को जला न दें। -शकील बदायूँनी

 

***

वो जो सिर्फ मेरा हो निगाहों मे हया रखता हो

उम्र भर साथ निभाये अज्म-ए-वफा रखता हो

***

“है अगर अज्म तो खुद ढूँढ ले अपनी मंजिल –

क्यों किसी गैर से मंजिल का पता मांगे है #सराजोद्दीन_सराज

***

अज्म क़ामिल हो तो कश्ती लबे साहिल होगी

हौसला चाहिए हर तूफ़ान से टकराने का

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो दिल दुखा तो यह अज्म भी मिला हमे,

तमाम उम्र किसी का न दिल दुखायेगे हम.

***

 

मैं हूँ गरीब फिर भी मेरा अज्म देखिये

अब तक अमीरे शहर से टकरा रहा हूँ मैं,

***

हर अज्म इरादे में हर आहंग में पहचान

हर आन में हर बात में हर ढंग में पहचान

आशिक है तो दिलबर को हर रंग में पहचान

-नजीर अकबराबादी

***

तुम अपने अज्म को मोहकम करो ख़ुद

किसी से माँगती हो हौसला क्या !!

***

हर लम्हा हर शय में महसूस करोगे तुम

मैं अज्म की खुश्बू हूं.. महकूंगी जमानों तक….

***

हकीकत बनाना है एक फसाने को ,

अज्म दिखाना है अपना जमाने को ,

जब मौत भी दस्तक दे कर पलट गई ,

तो अब बचा ही क्या है आजमाने को …

*** Honsle par Shayari in Hindi

मैं अपना अज्म लेकर मंजिलों की सिम्त निकला था

मशक्कत हाथ पे रक्खी थी, किस्मत घर पे रक्खी थी

***

न हमसफ़र न कोई रहबर ज़रूरी है

सफ़र के वास्ते अज्म ए सफ़र ज़रूरी है

***

मिलूँ तो लगे दूरियाँ और भी हैं

तो क्या अज्म के इम्तेहां और भी हैं

***

लेकर इक अज्म उठुँ रोज नई भीङ के साथ…

फिर वही भीङ छँटे और मैं तनहा हो जाउँ

***

और जो छोड़ना चाहते हैं अपनी छाप ,

अज्म-ए–जुनूं वाले कारवाने जुनून चलते है

कच्ची पगडंडियों पर बनाते हुए रास्ता

आने वाले राहगीरों के लिए

***

मेरे हमसफ़र मुझे छोड़ के जो चले गए तो भी क्या हुआ

मेरा हमसफ़र , मेरा हमनशीं , मेरा अज्म है मेरा वकार है

***

जब वलवला सादिक होता है जब अज्म मुसम्मम होता है,

तकमील का सामाँ गैब से खुद उस वक्त फराहम होता है।

 

***********************************************

बख्सा है ठोकरों ने सँभालने का होंसला….

हर ख्याल को गेहराई दे गया.. ~Shakeel Ahmed

***

हर गम ने, हर सितम ने,नया होंसला दिया,

मुझको मिटाने वालो ने, मुझको बना दिया !

*** Honsle par Shayari in Hindi

हो सकती है जिन्दगी में मोहोब्बत दोबारा भी..

बस होंसला चाहिए फिर से बर्बाद होने का

***

हमेशा कैसे मुस्कुरा लेते हो

गमे आँसुओ को कैसे छुपा लेते हो ?

हम जब भी तुम्हे देखते है

हमारे जिने का होंसला बढ़ा देते हो !!

 

तु ख्वाब थी हकीकत कभी हुई तो नहीं

मैंने बस ख्वाब हारा है तुझे पाने का होंसला नहीं

***

बुजदिल वो लोग जो मोहब्बत नहीं करते

बहुत होंसला चाहिए बरबाद होने के लिए

***

लुत्फ़ उठा रहा हूं मैं भी… आँख मिचौली का…

मिलेगी कामयाबी… होंसला कमाल का लिए बैठा हूँ…

***

चल सफर शुरू करे नए साल की

कश्ती भी है होंसला भी है डर नहीं

ज़रा भी तूफ़ान का दोस्त भी है भरोसा भी है !!

***

घर से निकले थे होंसला करके ..

लोट आये खुदा खुदा करके

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो सफर की शुरुआत करते हैं,

वो मंज़िल को पार करते हैं,

एकबार चलने का होंसला तो रखो,

मुसाफिरों का तो रस्ते भी इंतज़ार करते हैं।

***

होंसला रख ए दिल ये रास्ता ग़मों से होकर ही गुजरता है

ये इश्क है यहां कोई सीढीयाँ नहीं होती

ये पहाड़ तो पैरों के छालों के साथ ही पार होता है

***

ये राहें ले ही जाएंगी मंज़िल तक होंसला रख,

कभी सुना है कि अंधेरो ने सवेरा होने ना दिया।

***

“बुलंद हो होंसला तो मुठी में हर मुकाम हे,

मुश्किले और मुसीबते तो ज़िंदगी में आम हे”

****

जिन्दगी में कभी किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो!!

इतना होंसला जरुर रखना कि दिन बुरा था जिन्दगी नहीं

*** Honsle par Shayari in Hindi

तालीमें नही दी जाती परिंदों को वो खुद ही तय करते है ऊंचाई आसमानों की

जो रखते है होंसला आसमान छुने का वो परवाह नही करते जमीन पे गिर जाने की।

***

लाबों की रफ़्तार नहीं बदला करती, हो दिल में होंसला तो,

दीवानों की तक़दीर, तदबीर और तासीर नहीं बदला करती

***

रख होंसला ,किस्मत भी साथ देगी ,किनारा भी आएगा,

देखे है जो ख़्वाब तूने ,उनका सवेरा भी आएगा।

***

मंजिल लाख कठिन आये गुजर जाऊँगा ,

होंसला हार के बैठूंगा तो मर जाऊँगा ।

***

बचा नहीं होंसला तुम्हें पा कर फिर खोने का

चले ही जाना था तो इस दिल में घर बनाया क्यों !!

***

न छोड़ होंसला ऐ दोस्त वो मंज़र भी आएगा,

प्यासे के पास चलकर खुद समंदर आएगा…!!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सिर्फ पंख ही काफी नही आसमान के लिए होंसला भी चाहिए ऊँची उड़ान के लिए।

करता वही हू दोस्तो जो मुझे पसंद हैं..!! माना की वक्त कम हैं, पर होंसला बुलंद हैं..!!

***

दिल की उम्मीदों का होंसला तो देखो

इंतजार उसका जिसको अहसास तक नहीं

 

गर्दीशों से ड़रकर तू होंसला ना हार ज़िन्दगी,

देख लेना लौटकर फिर आएगी बहार ज़िन्दगी ।.

जब होंसला बना लिया हे ऊँची उड़ान का,

फिर फ़िज़ूल हे कद देखना आसमान का।

***

जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं,

उनके पीछे एक दिन काफिला होता हैं…!!!

***

जिंदगी की उदास राहों पर कभी यूं भी होता है,,,

इंसान खुद रो पडता है, किसी हौंसला देते हुए.!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सीखा है मैंने दिये से खुद को बचाए रखना

आंधी और अँधेरों में भी होंसला बनाए रखना

***

मुस्कुराते रहो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है।

मन में होंसला हो तो हर मंज़िल मिल जाती है।

***

यूँ ही तो खुश्क नहीं मेरी खामोश आँखें ,,

मिला हूँ तुझ से बिछड़ने का होंसला ले कर

*** Honsle par Shayari in Hindi

तू पँख ले ले मुझे सिर्फ़ होंसला दे दे..

फिर आँधियों को मेरा नाम और पता दे दे

***

Search Tags

Honsle par Shayari in Hindi, Honsle par Hindi Shayari, Honsle par Shayari, Honsle par whatsapp status, Honsle par hindi Status, Hindi Shayari on Honsla, Honsle par whatsapp status in hindi, Honsle par Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Courage Shayari, Courage Hindi Shayari, Courage Shayari, Courage whatsapp status, Courage hindi Status, Hindi Shayari on Courage, Courage whatsapp status in hindi, Courage Shayari in Hindi Font

होंसले पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, होंसले पर , होंसले पर स्टेटस, होंसले पर व्हाट्स अप स्टेटस, होंसले पर पर शायरी, होंसले पर शायरी, होंसले पर शेर, होंसले की शायरी,

अज्म पर हिंदी शायरी, अज्म पर , अज्म पर स्टेटस, अज्म पर व्हाट्स अप स्टेटस, अज्म पर शायरी, अज्म पर शायरी, अज्म पर शेर, अज्म की शायरी,


Hinglish

Honsle par Shayari in Hindi

होंसले-अज्म पर शायरी

honslai par shayari in hindihonsale-ajm par shaayaridoston, aapake utsaahavardhan ke lie ham is blog post mein aapake lie lekar aayen hain kuchh honsale par shaayari (shayari on chouragai in hindi) , praambh mein kuchh sher die gae hain jisame ajm par shaayari hai (ajm, chouragai, honsala), usake baad ke ashaar mein honsala laphz par shaayari hai.jab bhi aap hatotsaahit aur maayoos phil karen to aap in ashaar ko padhakar naya saahas praapt kar sakaten hain. buland ho ajm to taare bhi tod sakata hai.kathin nahi hai koi kaam aadami ke lie.*

**toophaan kar raha tha mere ajm^ ka tavaaph*,duniya samajh rahi thi kashti bhanvar mein hai !!**

*sama jaata hai saara aasamaan ik aankh ke til menkisi ke ajm ko mat aank usake kaddo qaamat se**

*insaan ki ajm se jab dur kinaara hota hai,tuti hui kishti ka bhagavaan sahaara hota hai.**

* honslai par shayari in hindimera ajm itana buland hai ki mujhe parae sholon ka dar nahin,mujhe khauf aatishe gul se hai ye kahin chaman ko jala na den. -shakil badaayoonni*

**vo jo sirph mera ho nigaahon me haya rakhata houmr bhar saath nibhaaye ajm-e-vapha rakhata ho**

*”hai agar ajm to khud dhoondh le apani manjil –kyon kisi gair se manjil ka pata maange hai #saraajoddin_saraaj**

*ajm qaamil ho to kashti labe saahil hogihausala chaahie har toofaan se takaraane ka**

* honslai par shayari in hindijo dil dukha to yah ajm bhi mila hame,tamaam umr kisi ka na dil dukhaayege ham.*

**main hoon garib phir bhi mera ajm dekhiyeab tak amire shahar se takara raha hoon main,**

*har ajm iraade mein har aahang mein pahachaanahar aan mein har baat mein har dhang mein pahachaanaashik hai to dilabar ko har rang mein pahachaan-najir akabaraabaadi*

**

tum apane ajm ko mohakam karo khudakisi se maangati ho hausala kya !!*

**har lamha har shay mein mahasoos karoge tumamain ajm ki khushboo hoon.. mahakoongi jamaanon tak….*

**hakikat banaana hai ek phasaane ko ,ajm dikhaana hai apana jamaane ko ,jab maut bhi dastak de kar palat gai ,to ab bacha hi kya hai aajamaane ko …**

* honslai par shayari in hindimain apana ajm lekar manjilon ki simt nikala thaamashakkat haath pe rakkhi thi, kismat ghar pe rakkhi thi**

*na hamasafar na koi rahabar zaroori haisafar ke vaaste ajm e safar zaroori hai*

**miloon to lage dooriyaan aur bhi hainto kya ajm ke imtehaan aur bhi hain*

**lekar ik ajm uthun roj nai bhin ke saath…phir vahi bhin chhante aur main tanaha ho jaun*

**aur jo chhodana chaahate hain apani chhaap ,ajm-e–junoon vaale kaaravaane junoon chalate haikachchi pagadandiyon par banaate hue raastaaane vaale raahagiron ke lie**

*mere hamasafar mujhe chhod ke jo chale gae to bhi kya huaamera hamasafar , mera hamanashin , mera ajm hai mera vakaar hai*

**jab valavala saadik hota hai jab ajm musammam hota hai,takamil ka saamaan gaib se khud us vakt pharaaham hota hai.**********************************************

*bakhsa hai thokaron ne sanbhaalane ka honsala….har khyaal ko geharai de gaya.. ~shakaiail ahmaid***

har gam ne, har sitam ne,naya honsala diya,mujhako mitaane vaalo ne, mujhako bana diya !***

honslai par shayari in hindiho sakati hai jindagi mein mohobbat dobaara bhi..bas honsala chaahie phir se barbaad hone ka***

hamesha kaise muskura lete hogame aansuo ko kaise chhupa lete ho ?ham jab bhi tumhe dekhate haihamaare jine ka honsala badha dete ho !!tu khvaab thi hakikat kabhi hui to nahimmainne bas khvaab haara hai tujhe paane ka honsala nahin***

bujadil vo log jo mohabbat nahin karatebahut honsala chaahie barabaad hone ke lie***

lutf utha raha hoon main bhi… aankh michauli ka…milegi kaamayaabi… honsala kamaal ka lie baitha hoon…***

chal saphar shuroo kare nae saal kikashti bhi hai honsala bhi hai dar nahinzara bhi toofaan ka dost bhi hai bharosa bhi hai !!***

ghar se nikale the honsala karake ..lot aaye khuda khuda karake***

honslai par shayari in hindijo saphar ki shuruaat karate hain,vo manzil ko paar karate hain,ekabaar chalane ka honsala to rakho,musaaphiron ka to raste bhi intazaar karate hain.***

honsala rakh e dil ye raasta gamon se hokar hi gujarata haiye ishk hai yahaan koi sidhiyaan nahin hotiye pahaad to pairon ke chhaalon ke saath hi paar hota hai***

ye raahen le hi jaengi manzil tak honsala rakh,kabhi suna hai ki andhero ne savera hone na diya.***

“buland ho honsala to muthi mein har mukaam he,mushkile aur musibate to zindagi mein aam he”****

jindagi mein kabhi kisi bure din se roobaroo ho jao to!!itana honsala jarur rakhana ki din bura tha jindagi nahin***

honslai par shayari in hinditaalimen nahi di jaati parindon ko vo khud hi tay karate hai oonchai aasamaanon kijo rakhate hai honsala aasamaan chhune ka vo paravaah nahi karate jamin pe gir jaane ki.**

*laabon ki raftaar nahin badala karati, ho dil mein honsala to,divaanon ki taqadir, tadabir aur taasir nahin badala karati*

**rakh honsala ,kismat bhi saath degi ,kinaara bhi aaega,dekhe hai jo khvaab toone ,unaka savera bhi aaega.***

manjil laakh kathin aaye gujar jaoonga ,honsala haar ke baithoonga to mar jaoonga .*

**bacha nahin honsala tumhen pa kar phir khone kaachale hi jaana tha to is dil mein ghar banaaya kyon !!***

na chhod honsala ai dost vo manzar bhi aaega,pyaase ke paas chalakar khud samandar aaega…!!!*

** honslai par shayari in hindisirph pankh hi kaaphi nahi aasamaan ke lie honsala bhi chaahie oonchi udaan ke lie.karata vahi hoo dosto jo mujhe pasand hain..!! maana ki vakt kam hain, par honsala buland hain..!!**

*dil ki ummidon ka honsala to dekhointajaar usaka jisako ahasaas tak nahingardishon se darakar too honsala na haar zindagi,dekh lena lautakar phir aaegi bahaar zindagi ..jab honsala bana liya he oonchi udaan ka,phir fizool he kad dekhana aasamaan ka.***

jinamen akele chalane ka honsala hota hain,unake pichhe ek din kaaphila hota hain…!!!*

**jindagi ki udaas raahon par kabhi yoon bhi hota hai,,,insaan khud ro padata hai, kisi haunsala dete hue.!!*

**
sikha hai mainne diye se khud ko bachae rakhanaaandhi aur andheron mein bhi honsala banae rakhana**

*muskuraate raho to har mushkil aasaan ho jaati hai.man mein honsala ho to har manzil mil jaati hai.**

*yoon hi to khushk nahin meri khaamosh aankhen ,,mila hoon tujh se bichhadane ka honsala le kar*

** honslai par shayari in hinditoo pankh le le mujhe sirf honsala de de..phir aandhiyon ko mera naam aur pata de de

 

 

Shabnam Shayari in Hindi शबनम हिंदी शायरी

Shabnam Shayari in Hindi  शबनम हिंदी शायरी
Shabnam Shayari in Hindi शबनम हिंदी शायरी

Shabnam Shayari in Hindi

शबनम हिंदी शायरी

 

Hindi shayari collection on Shabnam (dew drops)

शबनम पर हिंदी शायरी

List of all Hindi Font Shayari

*******************************************************

परतवे-ख़ुल्द से है शबनम को फ़ना की तालीम

में भी हूँ एक इनायत की नज़र होने तक

~ग़ालिब

***

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा,

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा !!

***

तेरी दीद से सिवा है तेरे शौक़ में बहारां

वो चमन जहां गिरी है तेरे गेसुओं की शबनम !!

~Faiz

***

गुलाबो कि तरह दिल अपना शबनम में भिगोते है,

मोहब्बत करने वाले खुबसूरत लोग होते है !! -बशीर बद्र

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

चमन में शब को जो शोख़ बेनक़ाब आया,

यक़ीन हो गया शबनम को आफ़ताब आया !!

***

वो दिल भी जलाते हैं रख़ देते हैं मरहम भी,

क्या तुर्फ़ा तबीअत है शोला भी हैं शबनम भी.!!

***

ज़ुल्मत-ए-शाम से भी नूर-ए-सहर पैदा कर

क़ल्ब शबनम का सितारों की नज़र पैदा कर(१)

~फ़ना निज़ामी

***

कितने पलकों की नमी माँग के लाई होगी

प्यास तब फूलों की शबनम ने बुझाई होगी.!!

***

यही ज़िद है तो फिर हिस्सा सभी अपना उठाते हैं

अगर शबनम तुम्हारी है तो हम शोला उठाते हैं.!!

*** Shabnam Shayari in Hindi

तू फूल की मानिंद न शबनम की तरह आ,

अब के किसी बे-नाम से मौसम की तरह आ ।

***

दुनिया क्या है एक वहम है

शबनम में मोती होने का

और जिंदगानी है जैसे

पीतल पर पानी सोने का

**

उलझे हुए हैं पलकों में शबनम के चँद कतरे

बिछङा था कोई रात को,ख्वाबों के सफ़र में

***

शबनम का क़तरा कभी , और कभी शमशीर !…

समझ न पायी आँख भी , आंसू की तासीर !!…

*** Shabnam Shayari in Hindi

बाग़-ए-दुनिया में यूँ ही रो हँस के काटूँ चार दिन

ज़िंदगी है शबनम ओ गुल की तरह फ़ानी मेरी

~महरूम

***

हो जाते हो बरहम भी, बन जाते हो हमदम भी

ऐ साकी-ए-मयखाना, शोला भी हो, शबनम भी

***

कभी आग तो कभी शबनम है…

मेरी कलम भी मुझसे वाकिफ नहीं है …

***

फूल की आँख में शबनम क्यों है

सब हमारी ही खता जैसे

~बशीर_बद्र

हमारी प्यास का सबसे अलग अन्दाज है “राशीद”

कभी दरीया को ठुकराते है कभी शबनम भी पिते है

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

युही जब सर्द मौसम में

तन्हाई सताती है

झुलस जाते है अन्दर तक

छू जाए जो शबनम भी …………..

***

ख्वाब चुभेंगे तो आँखे मेरी रोलेगी

दर्द की स्याही में पलके डुबा लेगी,

काश जरे जरे से शबनम हो जाऊँ

मेरी प्यास पे सहेरा की रेत बोलेगी ।।

***

गाह पानी, गाह शबनम और कभी खूँनाब से

एक ही था दाग सीने में जिसे धोता रहा

~बशीर_बद्र

***

बढ़ी धुंध होने लगी, शबनम की बरसात ।

फसलों को मिलने लगी,कुदरत की सौगात ।।

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

ले के शबनम का मुकद्दर आये थे दुनिया में हम,

गुलशने – हस्ती में रो – रोकर गुजारी जिन्दगी।

***

नजर से जो नजर मिली यूँ नजर मिलकर झुक गई,

तेरी पलकों से गिरके शबनम मेरी पलकों पे रुक गई

***

फूलों को आए जिस दम शबनम वज़ू कराने,

रोना मेरा वज़ू हो , नाला मेरी दुआ हो!

~इक़बाल

चटक रही हैं कलियाँ इलाही कुछ इस अदा से

शबनम के मोतियों का हार गले में डाले

***

शबनम की तरह रोते रहे याद में तेरी,

सहरा की तरह शख्स जो सीने में छुपा था..

***

ख्वाब चुभेंगे तो आँखे मेरी रोलेगी

दर्द की स्याही में पलके डुबालेगी ।।

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

गुलों कि तरह हम ने ज़िंदगी को इस कदर जाना,

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मै ।

~बशीर_बद्र

***

सूरज की रिफाकात में चमक उठता है चेहरा

शबनम की तरह से कोई सादा नहीं होता

***

पलकों पे शबनम लिखते हैं,

जब आँखों का ग़म लिखते हैं,

गीत ग़ज़ल सब झूठी बातें,

ज़ख़्मों पे मरहम लिखते हैं,

***

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मै

दिल मोम और धूप में बैठा हुआ हूँ मै

***

भर जाएँगे आँखों में आँचल से बँधे बादल

याद आएगा जब गुल पर शबनम का बिखर जाना।।।

***

गुलाबो कि तरह दिल अपना शबनम में भिगोते है,

मोहब्बत करने वाले खुबसूरत लोग होते है !!

***

खिड़की पे चिपकी पानी की बूँदें ,

सरक कर दिल पे गईं जम !

कभी करें आँखों को नम !

कभी ज़ख़्मों को शबनम !

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

क्यूँ पोंछते हो रुखसार से अरक को बार बार ,

शबनम के क़त्रे से गुलों में और निखार आता है !

***

रात में रोना शबनम का बिखर जाना

खैर सुबह होगी आँखों में चमक होगी।

***

निखर गए हैं पसीने में भीग कर आरिज़

गुलों ने और भी शबनम से ताज़गी पाई ❤

***

हम रोने पे आ जाएँ तो दरिया ही बहा दें

शबनम की तरह से हमें रोना नहीं आता

***

“आओ कि शबनम की बूँदें बरसती हैं,

मौसम इशारा है हाँ, अब तो चले आओ…”

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

यूँ किसी की आँखों में सुबह तक अभी थे हम

जिस तरह रहे शबनम फूल के प्यालों मे

~बशीर_बद्र

***

हर आरजू फिसल गयी शबनम की मानिन्द

फिर भी उम्मीद जगी है सूरज की तरह।

 

वो याद आया कुछ यूँ

के लौट आये सब सिलसिले

ठंडी हवा…!!!

शबनम..!!!

और दिसंबर की धुंद…!!!

***

वो दिल भी जलाते हैं रख देते हैं मरहम भी

क्या तुर्फ़ा तबीअत है शोला भी हैं शबनम भी

***

एक अजीब ठंडक है, उस के नरम लहजे में..

लफ्ज़ लफ्ज़ शबनम है, बात बात प्यारी है

****

शफ़क़ हो ,फूल हो,शबनम हो, कि आफ़ताब हो तुम,

नही जवाब तुम्हारा कि लाज़वाब हो तुम ,,,,,,

**** Shabnam Shayari in Hindi

 

शबनम के आँसू फूल पर ये तो वही क़िस्सा हुआ

आँखें मेरी भीगी हुईं चेहरा तेरा उतरा हुआ।।

***

रात यूँ ही थम जाएगी, रुत ये हसीन मुसकाएगी

बँधी कली खिल जाएगी, और शबनम शरमाएगी

****

“कितने दिनों के प्यासे होंगे, यारों सोचो तो;

शबनम का क़तरा भी जिनको दरिया लगता है!”

***

आई है सुबह कुछ भी अहवाले शब कहती ही नहीं

शबनम ही शबनम हर तरफ मुझको नज़र आती है।

***

फूल शबनम मे डूब जाते है जख्म मरहम मे डूब जाते है

जब कोई सहारा नही मिलता तो हम तेरे गम मे डूब जाते है

 

चमन के गुंचे-गुंचे से ये कहकर उड़ गयी शबनम..

जो हँसता है खुदी पर अपनी,वो बरबाद होता है…||

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

रात हो तो अँधेरे का बस भरम हो

क्या करूँ फिर न कभी शबनम हो

ख्वाब से लम्हे हों और इक नशा हो

आँखों में सुबह हो न कभी नम हो।

***

जलने वाले जलते है शोलों में वो आगे नहीं

शबनम में है शोलों की जुम्बिश , उस आग पे ही रोना आया है!!

***

रातों के अँधेरे और सभी गर्दिशें

काफी है हर सुबह भुला देने को

मेरी ज़िन्दगी और उसकी उम्मीदें

काफी है शबनम को सुखा देने को।

***

कतरा अश्कों का, बेबसी है किसी मजलूम की

लोग इन्हें यूँ ही शबनम कहा करते हैं…

***

सूखे पत्तों पर जलती शबनम के क़तरे,

ठंडा सूरज सहमा-सहमा देख रहा था!

***

जो फूलों में ना मिले वोह चेहरा

मिल जाये शबनम की बूँदों में कभी,,

***

मैंने खुश्बू की तरह तुझ को किया है महसूस

दिल ने छेड़ा है तेरी याद को शबनम की तरह

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

तुम्हारी याद में शबनम रात भर

बरसती रही

सर्द ठंडी रात थी

मैं अलाव में जलती रही

सूखा बदन सुलगता रहा

रूह तपती रही   ।।

***

 

तुझे हम दोपहर की धूप में देखेंगे ऐ ग़ुंचे

अभी शबनम के रोने पर हँसी मालूम होती है

~शफ़ीक़_जौनपुरी

***

जुगनू शबनम तारें बनकर मेरे आँसू ढूंढ रहे हैं

आनेवाले तू ही बता दे मेरे हमदम कैसे हैं ,,

***

याद-ए-माज़ी की शबनम बरसती रही,

और मैं देर तक भीगता ही रहा…!!!

***

ऐ दौलत-ए-सुकूँ के तलब-गार देखना

शबनम से जल गया है गुलिस्ताँ कभी कभी

~Qabil_Ajmeri

***

शबनम की बूंदों की तरह बरसते हो जब इन लबों पर…

कैसे कहूं,कि ये बेमौसम बरसात मुझे अच्छी लगती है…!

***

शबनम ने रो के जी जरा हल्का तो कर लिया

गम उसका पूछिए जो न आंसू बहा सके

~ सलाम संदेलबी

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

फूलों से हवा भी कभी घबराई है देखो

गुंचों से भी शबनम कभी कतराई है देखो

 

तेरे फिराक़ में जले तो रूह को ठंडक भी मिली

उफ्फ ये भी क्या आग़ है कोई शबनम की तरह

~आतिशमिज़ाज

***

Search Tags

Shabnam Shayari in Hindi, Shabnam Hindi Shayari, Shabnam par Shayari, Shabnam whatsapp status, Shabnam hindi Status, Hindi Shayari on Shabnam, Shabnam whatsapp status in hindi, Shabnam Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Dew Drops Shayari, Dew Drops Hindi Shayari, Dew Drops Shayari, Dew Drops whatsapp status, Dew Drops hindi Status, Dew Drops whatsapp status in hindi, Dew Drops Shayari in Hindi Font

शबनम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शबनम, शबनम स्टेटस, शबनम व्हाट्स अप स्टेटस, शबनम पर शायरी, शबनम शायरी, शबनम पर शेर, शबनम की शायरी, शबनम शायरी,


Hinglish

Shabnam Shayari in Hindi

शबनम हिंदी शायरी

shabnam shayari in hindishabanam hindi shaayari paratave-khuld se hai shabanam ko fana ki taalimamen bhi hoon ek inaayat ki nazar hone tak~gaalib**

*unake rukhasaar par dhalakate hue aansoo tauba,main ne shabanam ko bhi sholon pe machalate dekha !!**

*teri did se siva hai tere shauq mein bahaaraanvo chaman jahaan giri hai tere gesuon ki shabanam !!~faiz*

**gulaabo ki tarah dil apana shabanam mein bhigote hai,mohabbat karane vaale khubasoorat log hote hai !! -bashir badr*

** shabnam shayari in hindichaman mein shab ko jo shokh benaqaab aaya,yaqin ho gaya shabanam ko aafataab aaya !!**

*vo dil bhi jalaate hain rakh dete hain maraham bhi,kya turfa tabiat hai shola bhi hain shabanam bhi.!!**

*zulmat-e-shaam se bhi noor-e-sahar paida karaqalb shabanam ka sitaaron ki nazar paida kar(1)~fana nizaami**

*kitane palakon ki nami maang ke lai hogipyaas tab phoolon ki shabanam ne bujhai hogi.!!**

*yahi zid hai to phir hissa sabhi apana uthaate hainagar shabanam tumhaari hai to ham shola uthaate hain.!!**

* shabnam shayari in hinditoo phool ki maanind na shabanam ki tarah aa,ab ke kisi be-naam se mausam ki tarah aa .*

**duniya kya hai ek vaham haishabanam mein moti hone kaaur jindagaani hai jaisepital par paani sone ka*

*ulajhe hue hain palakon mein shabanam ke chand katarebichhana tha koi raat ko,khvaabon ke safar mein*

**shabanam ka qatara kabhi , aur kabhi shamashir !…samajh na paayi aankh bhi , aansoo ki taasir !!…*

** shabnam shayari in hindibaag-e-duniya mein yoon hi ro hans ke kaatoon chaar dinazindagi hai shabanam o gul ki tarah faani meri~maharoom*

**ho jaate ho baraham bhi, ban jaate ho hamadam bhiai saaki-e-mayakhaana, shola bhi ho, shabanam bhi*

**kabhi aag to kabhi shabanam hai…meri kalam bhi mujhase vaakiph nahin hai …*

*phool ki aankh mein shabanam kyon haisab hamaari hi khata jaise~bashir_badrahamaari pyaas ka sabase alag andaaj hai “raashid”kabhi dariya ko thukaraate hai kabhi shabanam bhi pite hai*

** shabnam shayari in hindiyuhi jab sard mausam mentanhai sataati haijhulas jaate hai andar takachhoo jae jo shabanam bhi …………..*

**khvaab chubhenge to aankhe meri rolegidard ki syaahi mein palake duba legi,kaash jare jare se shabanam ho jaoonmeri pyaas pe sahera ki ret bolegi ..**

*gaah paani, gaah shabanam aur kabhi khoonnaab sik hi tha daag sine mein jise dhota raha~bashir_badr

**badhi dhundh hone lagi, shabanam ki barasaat .phasalon ko milane lagi,kudarat ki saugaat ..**

* shabnam shayari in hindile ke shabanam ka mukaddar aaye the duniya mein ham,gulashane – hasti mein ro – rokar gujaari jindagi.*

**najar se jo najar mili yoon najar milakar jhuk gai,teri palakon se girake shabanam meri palakon pe ruk gai**

*phoolon ko aae jis dam shabanam vazoo karaane,rona mera vazoo ho , naala meri dua ho!~iqabaalachatak rahi hain kaliyaan ilaahi kuchh is ada seshabanam ke motiyon ka haar gale mein daale**

*shabanam ki tarah rote rahe yaad mein teri,sahara ki tarah shakhs jo sine mein chhupa tha..*

**khvaab chubhenge to aankhe meri rolegidard ki syaahi mein palake dubaalegi ..

*** shabnam shayari in hindigulon ki tarah ham ne zindagi ko is kadar jaana,shabanam hoon surkh phool pe bikhara hua hoon mai .~bashir_badr**

*sooraj ki riphaakaat mein chamak uthata hai cheharaashabanam ki tarah se koi saada nahin hota***

palakon pe shabanam likhate hain,jab aankhon ka gam likhate hain,git gazal sab jhoothi baaten,zakhmon pe maraham likhate hain,**

*shabanam hoon surkh phool pe bikhara hua hoon maidil mom aur dhoop mein baitha hua hoon mai***

bhar jaenge aankhon mein aanchal se bandhe baadalayaad aaega jab gul par shabanam ka bikhar jaana…*

**gulaabo ki tarah dil apana shabanam mein bhigote hai,mohabbat karane vaale khubasoorat log hote hai !!***

khidaki pe chipaki paani ki boonden ,sarak kar dil pe gain jam !kabhi karen aankhon ko nam !kabhi zakhmon ko shabanam !*

** shabnam shayari in hindikyoon ponchhate ho rukhasaar se arak ko baar baar ,shabanam ke qatre se gulon mein aur nikhaar aata hai !

***raat mein rona shabanam ka bikhar jaanaakhair subah hogi aankhon mein chamak hogi.*

**nikhar gae hain pasine mein bhig kar aarizagulon ne aur bhi shabanam se taazagi pai ❤**

*ham rone pe aa jaen to dariya hi baha denshabanam ki tarah se hamen rona nahin aata*

**”aao ki shabanam ki boonden barasati hain,mausam ishaara hai haan, ab to chale aao…”*

** shabnam shayari in hindiyoon kisi ki aankhon mein subah tak abhi the hamajis tarah rahe shabanam phool ke pyaalon me~bashir_badr**

*har aarajoo phisal gayi shabanam ki maanindaphir bhi ummid jagi hai sooraj ki tarah.vo yaad aaya kuchh yoonke laut aaye sab silasilethandi hava…!!!shabanam..!!!aur disambar ki dhund…!!!
vo dil bhi jalaate hain rakh dete hain maraham bhikya turfa tabiat hai shola bhi hain shabanam bhi**

*ek ajib thandak hai, us ke naram lahaje mein..laphz laphz shabanam hai, baat baat pyaari hai**

**shafaq ho ,phool ho,shabanam ho, ki aafataab ho tum,nahi javaab tumhaara ki laazavaab ho tum ,,,,,,**

** shabnam shayari in hindishabanam ke aansoo phool par ye to vahi qissa huaaankhen meri bhigi huin chehara tera utara hua..**

*raat yoon hi tham jaegi, rut ye hasin musakaegibandhi kali khil jaegi, aur shabanam sharamaegi**

**”kitane dinon ke pyaase honge, yaaron socho to;shabanam ka qatara bhi jinako dariya lagata hai!”

***aai hai subah kuchh bhi ahavaale shab kahati hi nahinshabanam hi shabanam har taraph mujhako nazar aati hai.***

phool shabanam me doob jaate hai jakhm maraham me doob jaate haijab koi sahaara nahi milata to ham tere gam me doob jaate haichaman ke gunche-gunche se ye kahakar ud gayi shabanam..jo hansata hai khudi par apani,vo barabaad hota hai…||***

shabnam shayari in hindiraat ho to andhere ka bas bharam hokya karoon phir na kabhi shabanam hokhvaab se lamhe hon aur ik nasha hoaankhon mein subah ho na kabhi nam ho.

***jalane vaale jalate hai sholon mein vo aage nahinshabanam mein hai sholon ki jumbish , us aag pe hi rona aaya hai!!**

*raaton ke andhere aur sabhi gardishenkaaphi hai har subah bhula dene komeri zindagi aur usaki ummidenkaaphi hai shabanam ko sukha dene ko.**

*katara ashkon ka, bebasi hai kisi majaloom kilog inhen yoon hi shabanam kaha karate hain…**

*sookhe patton par jalati shabanam ke qatare,thanda sooraj sahama-sahama dekh raha tha!*

**jo phoolon mein na mile voh cheharaamil jaaye shabanam ki boondon mein kabhi,,**

*mainne khushboo ki tarah tujh ko kiya hai mahasoosadil ne chheda hai teri yaad ko shabanam ki tarah**

* shabnam shayari in hinditumhaari yaad mein shabanam raat bharabarasati rahisard thandi raat thimain alaav mein jalati rahisookha badan sulagata rahaarooh tapati rahi ..*

**tujhe ham dopahar ki dhoop mein dekhenge ai guncheabhi shabanam ke rone par hansi maaloom hoti hai~shafiq_jaunapuri**

*juganoo shabanam taaren banakar mere aansoo dhoondh rahe hainaanevaale too hi bata de mere hamadam kaise hain ,,

***yaad-e-maazi ki shabanam barasati rahi,aur main der tak bhigata hi raha…!!!*

**ai daulat-e-sukoon ke talab-gaar dekhanaashabanam se jal gaya hai gulistaan kabhi kabhi~qabil_ajmairi*

**shabanam ki boondon ki tarah barasate ho jab in labon par…kaise kahoon,ki ye bemausam barasaat mujhe achchhi lagati hai…!*

**shabanam ne ro ke ji jara halka to kar liyaagam usaka poochhie jo na aansoo baha sake~ salaam sandelabi**

* shabnam shayari in hindiphoolon se hava bhi kabhi ghabarai hai dekhogunchon se bhi shabanam kabhi katarai hai dekhotere phiraaq mein jale to rooh ko thandak bhi miliuphph ye bhi kya aag hai koi shabanam ki tarah~aatishamizaaj

 

 

 

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font  फूलों पर शायरी
Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

 

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

दोस्तों पेश है फूलों पर कुछ खूबसूरत शेर ओ शायरी का संग्रह

Collections of Shayri in Hindi font on flower

list of Hindi font Shayari

********************************

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

#नरेश कुमार ‘शाद’

***

कांटों से घिरा रहता है चारों तरफ से फूल,

फिर भी खिला ही रहता है,क्या खुशमिज़ाज है !!

***

वो फूल तोड़े हमें कोई ऐतराज़ नहीं

मगर वो तोड़ के खुशबू निकाल लेता है

***

सूखे थे फूल तेरे जाने के बाद

अब तो ख़ुश्बू भी किताबों से गई

*** Phool Shayari in Hindi font

जिसकी ख़ुशबू से महक जाय पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का हर सिम्त खिलाया जाए #नीरज

***

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से

लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से

***

नहीं पूछता है मुझ को, कोई फूल इस चमन में

दिल-ए-दागदार होता तो गले का हार होता

#अमीर मीनाई

***

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !!

*** Phool Shayari in Hindi font

फूल का अपना कोई रंग कोई रूप नहीं

उसके जूड़े में सजा हो तो भला लगता है

#क़तील शिफ़ाई

***

तू जिसे इतनी हसीं चीज़ समझता है वो फूल

सूख जाए तो निगाहों को बुरा लगता है

#क़तील शिफाई

***

छू लेंगे तेरा जिस्म तो खिलते रहेंगे फूल

शहर-ए-वफ़ा में इश्क़ के हम दस्तकार हैं

***

मैं जिसके हाथ में इक फूल देके आया था,

उसी के हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है

#कृष्ण बिहारी नूर

***

कभी दिन की धूप में झूम के कभी शब के फूल को चूम के

यूँ ही साथ साथ चलें सदा कभी ख़त्म अपना सफ़र न हो

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

*** Phool Shayari in Hindi font

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

तस्वीर मैंने मांगी थी शोख़ी तो देखिये,

इक फूल उसने भेज दिया है गुलाब का !! -शादानी

***

शाख़ पर लगा है गर उसका क्या बिगड़ना है,

फूल सूँघ लेने से ताज़गी नहीं जाती

***

उलझ पड़ूँ किसी के दामन से वह खार नहीं,

वह फूल हूँ जो किसी के गले का हार नहीं !!-चकबस्त लखनवी

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़िक्र करते हैं तेरा मुझ से बा-उन्वाने जफ़ा

चारागर फूल पिरो लाये हैं तलवारों में

***

कोई काँटा चुभा नहीं होता,

दिल अगर फूल सा नहीं होता !!

***

जिन की महक से रूह पे तारी है बे-ख़ुदी,

वो फूल चुन रहे हैं तेरे गुलिस्ताँ से हम !!

***

जिन्होंने काँटों पे चलना हमें सिखाया था

हमारी राह में वो फूल अब बिछाने लगे !!

*** Phool Shayari in Hindi font

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है,

फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है!!

***

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी

आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है !! -दुष्यंतकुमार

***

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वही पैमाना हुआ है !!

***

चाहता है दिल किसी से राज़ की बातें करे,

फूल आधी रात का आँगन में है महका हुआ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

 

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

अब के हम बिछड़ें तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें,

जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !!

***

लफ्ज़ को फूल बनाना तो करिश्मा है फ़राज़…

हो ना हो कोई तो है तेरी निगारिश मैं शरीक़ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखू वही पैमाना हुआ है …

***

मुझे मालूम है मैं फूल हूं झर जाऊंगा इक दिन

मगर ये हौसला मेरा है हरदम मुस्‍कुराता हूं.!!

***

रँग आँखों के लिये बू है दमागों के लिये

फूल को हाँथ लगाने की ज़रूरत क्या है

***

फूल बिखराता हुआ मैं तो चला जाऊँगा

आप काँटे मिरी राहों में बिछाते रहिये.!!

***

यूँ तो सैरे-गुलशन को कितने लोग आते हैं

फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं.!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कोई तितली हमारे पास आती तो क्या आती

सजाए उम्र भर कागज़ के फूल और पत्तियां हमने

***

मुझे यूँ लगा कि ख़ामोश ख़ुश्बू के होँठ तितली ने छू लिये

इन्ही ज़र्द पत्तों की ओट में कोई फूल सोया हुआ न हो

बशीर बद्र

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

***

जिसकी खुश्बू से महक जाए,पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का,हर सिम्त खिलाया जाए.!!

***

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है

बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है.!!

***

कागज़ की कतरनों को भी कहते हैं लोग फूल

रंगों का ऐतबार हि क्या है सूंघ कर भी देख..!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

***

 

Search Tags

Phool Shayari in Hindi font, Phool Shayari in Hindi, Phool Hindi Shayari, Phoolon par Shayari, Phool whatsapp status, Phool hindi Status, Hindi Shayari on Phool, Phool whatsapp status in hindi, Phool Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Flower Shayari, Flower Hindi Shayari, Flower Shayari, Flower whatsapp status, Flower hindi Status, Hindi Shayari on Flower, Flower whatsapp status in hindi, Flower Shayari in Hindi Font

फूल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, फूल, फूल स्टेटस, फूल व्हाट्स अप स्टेटस, फूलों पर शायरी, फूल शायरी, फूल पर शेर, फूलों की शायरी,


Hindi

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

phool shayari in hindi fontphoolon par shaayari doston pesh hai phoolon par kuchh khoobasoorat sher o shaayari ka sangrah vo sahan-e-baag mein aae hain may-kashi ke liekhuda kare ke har ik phool jaam ho jae#naresh kumaar ‘shaad’**

*kaanton se ghira rahata hai chaaron taraph se phool,phir bhi khila hi rahata hai,kya khushamizaaj hai !!**

*vo phool tode hamen koi aitaraaz nahimmagar vo tod ke khushaboo nikaal leta hai**

*sookhe the phool tere jaane ke baadab to khushboo bhi kitaabon se gai***

phool shayari in hindi fontjisaki khushaboo se mahak jaay padosi ka bhi gharaphool is qism ka har simt khilaaya jae #niraj**

*svapn jhare phool se, mit chubhe shool selut gaye singaar sabhi baag ke babool se**

*nahin poochhata hai mujh ko, koi phool is chaman mendil-e-daagadaar hota to gale ka haar hota#amir minai**

*khaar bhi zist-e-gulistaan hain,phool hi haansil-e-bahaar nahin !!**

* phool shayari in hindi fontphool ka apana koi rang koi roop nahinusake joode mein saja ho to bhala lagata hai#qatil shifai**

*too jise itani hasin chiz samajhata hai vo phoolasookh jae to nigaahon ko bura lagata hai#qatil shiphai***

chhoo lenge tera jism to khilate rahenge phoolashahar-e-vafa mein ishq ke ham dastakaar hain*

**main jisake haath mein ik phool deke aaya tha,usi ke haath ka patthar meri talaash mein hai#krshn bihaari noor*

**kabhi din ki dhoop mein jhoom ke kabhi shab ke phool ko choom keyoon hi saath saath chalen sada kabhi khatm apana safar na ho

***nazar us husn par thahare to aakhir kis tarah thaharekabhi vo phool ban jae to kabhi rukhasaar ban jae***

phool shayari in hindi fontshiddat se bahaaron ke intezaar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete*

**tasvir mainne maangi thi shokhi to dekhiye,ik phool usane bhej diya hai gulaab ka !! -shaadaani**

*shaakh par laga hai gar usaka kya bigadana hai,phool soongh lene se taazagi nahin jaati***

ulajh padoon kisi ke daaman se vah khaar nahin,vah phool hoon jo kisi ke gale ka haar nahin !!-chakabast lakhanavi***

phool shayari in hindi fontzikr karate hain tera mujh se ba-unvaane jafaachaaraagar phool piro laaye hain talavaaron mein**

*koi kaanta chubha nahin hota,dil agar phool sa nahin hota !!*

**jin ki mahak se rooh pe taari hai be-khudi,vo phool chun rahe hain tere gulistaan se ham !!**

*jinhonne kaanton pe chalana hamen sikhaaya thaahamaari raah mein vo phool ab bichhaane lage !!*

** phool shayari in hindi fontaaj tak us ki mohabbat ka nasha taari hai,phool baaqi nahin khushboo ka safar jaari hai!!*

**ek khandahar ke hrday-si, ek jangali phool-siaadami ki pir goongi hi sahi, gaati to hai !! -dushyantakumaar*

**mausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi,jis phool ko dekhoon vahi paimaana hua hai !!***

chaahata hai dil kisi se raaz ki baaten kare,phool aadhi raat ka aangan mein hai mahaka hua !!*

** phool shayari in hindi fontaaj hai vo bahaar ka mausam,phool todoon to haath jaam aae !!*

**ab ke ham bichhaden to shaayad kabhi khvaabon mein milen,jis tarah sookhe hue phool kitaabon mein milen !!**

*laphz ko phool banaana to karishma hai faraaz…ho na ho koi to hai teri nigaarish main shariq !!**

* phool shayari in hindi fontmausam ne banaaya hai nigaahon ko sharaabi,jis phool ko dekhoo vahi paimaana hua hai …

***mujhe maaloom hai main phool hoon jhar jaoonga ik dinamagar ye hausala mera hai haradam mus‍kuraata hoon.!!*

**rang aankhon ke liye boo hai damaagon ke liyephool ko haanth lagaane ki zaroorat kya hai*

**phool bikharaata hua main to chala jaoongaaap kaante miri raahon mein bichhaate rahiye.!!**

*yoon to saire-gulashan ko kitane log aate haimphool kaun todega daaliyaan samajhati hain.!!**

* phool shayari in hindi fontkoi titali hamaare paas aati to kya aatisajae umr bhar kaagaz ke phool aur pattiyaan hamane***

mujhe yoon laga ki khaamosh khushboo ke honth titali ne chhoo liyeinhi zard patton ki ot mein koi phool soya hua na hobashir badr*

** phool shayari in hindi fontzamaana chaahata hai kyon,meri fitarat badal denaise kyon zid hai aakhir,phool ko patthar banaane ki.!!*

**jisaki khushboo se mahak jae,padosi ka bhi gharaphool is qism ka,har simt khilaaya jae.!!*

**mohabbat se inaayat se vafa se chot lagati haibikharata phool hoon mujhako hava se chot lagati hai.!!**

*kaagaz ki kataranon ko bhi kahate hain log phoolarangon ka aitabaar hi kya hai soongh kar bhi dekh..!!**

* phool shayari in hindi fontkaun se naam se taabir karoon is root ko..phool murajhaen hain zakhmon pe bahaar aai hai..!!***

Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी

Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी
Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी

Muskurahat Hindi Shayari

मुस्कुराहट पर शायरी

 

दोस्तों आपके दिल में भी कोई चेहरा बसा होगा जो आप को देखकर प्यार से मुस्कुरा दिया था, पेश है मुस्कुराहट पर चाँद खूबसूरत शेर .

Hindi Shayari on Smiling,

List of all Hindi Shayari Topics

**********************************

धड़कने लगे दिल के तारों की दुनियाँ जो तुम मुस्कुरा दो

संवर जाये हम बेकरारों की दुनियाँ जो तुम मुस्कुरा दो – साहिर लुधियानवी

***

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

***

वही तो सब से ज़ियादा है नुक्ता-चीं मेरा,

जो मुस्कुरा के हमेशा गले लगाए मुझे !! ~QateelShifai

***

गुमाँ न क्यूँकि करूँ तुझ पे दिल चुराने का,

झुका के आँख सबब क्या है मुस्कुराने का !!

 

*** Muskurahat Hindi Shayari

जब दिल पे छा रही हों घटाएँ मलाल की,

उस वक़्त अपने दिल की तरफ़ मुस्कुरा के देख !! -सीमाब अकबराबादी

***

उन पे हंसिये शौक़ से जो माइल-ए-फ़रियाद हैं

उनसे डरिये जो सितम पर मुस्कुरा कर रह गए

~ असर लखनवी

***

मेरे दिल की राख़ क़ुरेद मत,इसे मुस्कुरा के हवा न दे

ये चराग़ फिर भी चराग़ है,कहीं तेरा हाँथ जला न दे

***

दिल की तरफ़ हिजाब-ए-तकल्लुफ़ उठा के देख,

आईना देख और ज़रा मुस्कुरा के देख !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

वो सुब्ह-ए-ईद का मंज़र तिरे तसव्वुर में,

वो दिल में आ के अदा तेरे मुस्कुराने की !!

***

शायद तिरे लबों की चटक से हो जी बहाल,

ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !!- अदम

****

क्या मुस्तक़िल इलाज किया दिल के दर्द का

वो मुस्कुरा दिए मुझे बीमार देख कर !! -अदम

***

मैं इक फकीर के होंठों की मुस्कुराहट हूँ

किसी से भी मेरी कीमत अदा नहीं होती – मुनव्वर राना

***

फ़ज़ा-ए-नम में सदाओं का शोर हो जाए,

वो मुस्कुरा दे ज़रा सा तो भोर हो जाए !!

***

न जाने कह गए क्या आप मुस्कुराने में,

है दिल को नाज़ कि जान आ गई फ़साने में !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

मस्त नज़रों से देख लेना था,गर तमन्ना थी आज़माने की

हम तो बेहोश यूँ भी हो जाते,क्या ज़रूरत थी मुस्कुराने की!!

***

सीख ली जिसने अदा गम में मुस्कुराने की,

उसे क्या मिटायेंगी गर्दिशे जमाने की !!

***

हौसले फिर बढ़ गये, टूटा हुआ दिल जुड़ गया,

उफ! ये जालिम मुस्कुरा देना, ख़फा होने के बाद !! – ‘आरज़ू’ लखनवी

***

हमारी बिगड़ी ये शायद यू ही संवर जाए,

तुम्हारा कुछ नहीं बिगड़ेगा मुस्कुराने में !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

सुनाई दे तेरे क़दमों की आहट,

ये रस्ता मुस्कुराना चाहता है !! -वसीम बरेलवी

***

लो, तबस्सुम भी शरीक-ए-निगह-ए-नाज़ हुआ..

आज कुछ और बढ़ा दी गई क़ीमत मेरी..

~FaniBadayuni

***

बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद

मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद.!!

***

हौसलों का सबूत देना था

ठोकरें खा के मुस्कुराना पड़ा.!!

*** Muskurahat Hindi Shayari

फ़स्ले-गुल के आने से,या खिज़ां के जाने से

काश मुस्कुरा सकते हम किसी बहाने से.!!

***

उदास छोड़ गया वो हर एक मौसम को

गुलाब खिलते थे कल जिसके मुस्कुराने से..!!

~इक़बाल अशहर

***

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है

।।

ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

***

तुम भले हि मुस्कुराओ सांथ बच्चों के मगर

बच्चों जैसा मुस्कुराना दोस्तों, आंसा नही..!!

*** Muskurahat Hindi Shayari

कभी कभी तेरा बेवज़ह मुस्कुराना अच्छा लगता है ….

मुझ पर आँखों ही आँखों से तेरा हक़ जताना अच्छा लगता है !!

***

मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है, दर्द-ए-इंतेहा भी मालूम है।

ज़िन्दगी भर मुस्कुराने की दुआ न देना, मुझे पल भर मुस्कुराने की सजा मालूम है।

***

न जाने कैसी “नज़र” लगी है “ज़माने” की… . .

कमब्खत “वजह” ही नही मिलती “मुस्कुराने” की…..!!!

***

जिसकी किस्मत मे लिखा हो रोना..!!

वो मुस्कुरा भी दे तो आँसू निकल आते है..!!

***

लाख समझाया उसको की दुनिया शक करती है..

मगर उसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

दिल्लगी कर जिंदगी से, दिल लगा के चल..

जिंदगी है थोड़ी सी, थोडा मुस्कुरा के चल .

***

तेरे ना होने से जिन्दगी मे बस इतनी सी कमी है

मै चाहे लाख मुस्कुरा लू पर आंखो में नमी है

***

यूँ तेरा मुस्कुरा कर मुझे देखना

मानो जैसे सब कुछ कुबूल है तुझे

***

खामोश बैठे हैं तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,

और ज़रा सा हंस लें तो लोग मुस्कुराने की वजह पूछ लेते है।

***

मेरी यही आदत तुम सब को सदा याद रहेगी,

न शिकवा, न कोई गिला, जब भी मिला, मुस्कुरा के मिला.

*** Muskurahat Hindi Shayari

मुस्कुराने के अब बहाने नहीं ढूँढने पड़ते,

तुझे याद करते हैं तमन्ना पूरी हो जाती हैं..

***

राहत भी अपनों से मिलती हे,चाहत भी अपनों से मिलती हे,

अपनों से कभी रूठना नही.क्यूकी,मुस्कुराहट”भी अपनों से मिलती हे

***

मुस्कुराहट भी कमाल की पहेली है,

जितना बताती है,उससे कहीं जायदा छुपाती है…

***

अपने दुःख में रोने वाले,मुस्कुराना सीख ले |

ओरों के दुःख में आँसू बहाना सीख ले

***

“चलो मुस्कुराने की वजह ढूंढते हैं… ऐ जिन्दगी,,,,

तुम हमें ढूंढो… हम तुम्हे ढूंढते हैं …!!!

***

फूल बनकर मुस्कुराना जिन्दगी है,

मुस्कुरा के गम भूलाना जिन्दगी है,

***

वो तो अपने दर्द रो-रो के सुनते रहे;

हमारी तन्हाइयों से आँख चुराते रहे;

और हमें बेवफा का नाम मिला क्योंकि

हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे

*** Muskurahat Hindi Shayari

खुद ही मुस्कुरा रहे हो साहिब

पागल हो या मोहब्बत की शुरूआत हुई है!!!!

***

ज़र्फ हो तोह गम भी नियामत हैं खुदा की।

जो सुकूं रोने में हैं,वो मुस्कुराने में कहां।

***

अपनी मुस्कुराहट को ज़रा काबू में रखिए,

दिल ए नादान इस पर कहीं शहीद ना हो जाए

***

फिर उसने मुस्कुरा के देखा मेरी तरफ़,

फिर एक ज़रा सी बात पर जीना पड़ा मुझे।

*** Muskurahat Hindi Shayari

दिल की हसरत जुबा पर आने लगी

आपको देखा तो जिंदगी मुस्कुराने लगी

**

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

क्या गम है जिसको छुपा रहे हो

***

हम इस निगाह-ए-नाज़ को समझे थे नेश्तर

तुमने तो मुस्कुरा के रग-ए-जाँ बना दिया!

*** Muskurahat Hindi Shayari

 

Search Tags

Muskurahat Shayari in Hindi, Muskurahat Hindi Shayari, Muskurahat par Shayari, Muskurahat whatsapp status, Muskurahat hindi Status, Hindi Shayari on Muskurahat, Muskurahat whatsapp status in hindi, Muskurahat Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Smile Shayari, Smile Hindi Shayari, Smile Shayari, Smile whatsapp status, Smile hindi Status, Hindi Shayari on Smiling, Smile whatsapp status in hindi, Smile Shayari in Hindi Font

मुस्कुराहट हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुस्कुराहट, मुस्कुराहट स्टेटस, मुस्कुराहट व्हाट्स अप स्टेटस, मुस्कुराने पर शायरी, मुस्कुराहट शायरी, मुस्कुराहट पर शेर, मुस्कुराने की शायरी, मुस्कुरान दो शायरी,


Hinglish

Muskurahat Hindi Shayari

मुस्कुराहट पर शायरी

muskurahat hindi shayarimuskuraahat par shaayaridoston aapake dil mein bhi koi chehara basa hoga jo aap ko dekhakar pyaar se muskura diya tha, pesh hai muskuraahat par chaand khoobasoorat sher . dhadakane lage dil ke taaron ki duniyaan jo tum muskura dosanvar jaaye ham bekaraaron ki duniyaan jo tum muskura do – saahir ludhiyaanavi*

**
jo tum muskura do bahaaren hanse, sitaaron ki ujali kataaren hansejo tum muskura do nazaaren hanse, javaan dhadakanon ke ishaare hanse**

*vahi to sab se ziyaada hai nukta-chin mera,jo muskura ke hamesha gale lagae mujhe !! ~qataiailshifai*

**gumaan na kyoonki karoon tujh pe dil churaane ka,jhuka ke aankh sabab kya hai muskuraane ka !! **

* muskurahat hindi shayarijab dil pe chha rahi hon ghataen malaal ki,us vaqt apane dil ki taraf muskura ke dekh !! -simaab akabaraabaadi**

*un pe hansiye shauq se jo mail-e-fariyaad hainunase dariye jo sitam par muskura kar rah gae~ asar lakhanavi***

mere dil ki raakh qured mat,ise muskura ke hava na deye charaag phir bhi charaag hai,kahin tera haanth jala na de*

**dil ki taraf hijaab-e-takalluf utha ke dekh,aaina dekh aur zara muskura ke dekh !!**

* muskurahat hindi shayarivo subh-e-id ka manzar tire tasavvur mein,vo dil mein aa ke ada tere muskuraane ki !!*

**shaayad tire labon ki chatak se ho ji bahaal,ai dost muskura ki tabiat udaas hai !!- adam*

***kya mustaqil ilaaj kiya dil ke dard kaavo muskura die mujhe bimaar dekh kar !! -adam***

main ik phakir ke honthon ki muskuraahat hoonkisi se bhi meri kimat ada nahin hoti – munavvar raana*

**faza-e-nam mein sadaon ka shor ho jae,vo muskura de zara sa to bhor ho jae !!*

**na jaane kah gae kya aap muskuraane mein,hai dil ko naaz ki jaan aa gai fasaane mein !!*

** muskurahat hindi shayarimast nazaron se dekh lena tha,gar tamanna thi aazamaane kiham to behosh yoon bhi ho jaate,kya zaroorat thi muskuraane ki!!**

*sikh li jisane ada gam mein muskuraane ki,use kya mitaayengi gardishe jamaane ki !!*

**hausale phir badh gaye, toota hua dil jud gaya,uph! ye jaalim muskura dena, khapha hone ke baad !! – aarazoo lakhanavi*

**hamaari bigadi ye shaayad yoo hi sanvar jae,tumhaara kuchh nahin bigadega muskuraane mein !!**

* muskurahat hindi shayarisunai de tere qadamon ki aahat,ye rasta muskuraana chaahata hai !! -vasim barelavi*

**lo, tabassum bhi sharik-e-nigah-e-naaz hua..aaj kuchh aur badha di gai qimat meri..~fanibadayuni*

**badi mushkil se bana hoon toot jaane ke baadamain aaj bhi ro deta hoon muskuraane ke baad.!!*

**hausalon ka saboot dena thaathokaren kha ke muskuraana pada.!!*

** muskurahat hindi shayarifasle-gul ke aane se,ya khizaan ke jaane sekaash muskura sakate ham kisi bahaane se.!!**

*udaas chhod gaya vo har ek mausam kogulaab khilate the kal jisake muskuraane se..!!~iqabaal ashahar**

*gamo ki dhoop mein bhi muskura kar chalana padata hai..ye duniya hai yahaan chehara saja kar chalana padata hai*

**tum bhale hi muskurao saanth bachchon ke magarabachchon jaisa muskuraana doston, aansa nahi..!!*

** muskurahat hindi shayarikabhi kabhi tera bevazah muskuraana achchha lagata hai ….mujh par aankhon hi aankhon se tera haq jataana achchha lagata hai !!**

*mujhe dard-e-ishq ka maza maaloom hai, dard-e-inteha bhi maaloom hai.zindagi bhar muskuraane ki dua na dena, mujhe pal bhar muskuraane ki saja maaloom hai.

***na jaane kaisi “nazar” lagi hai “zamaane” ki… . .kamabkhat “vajah” hi nahi milati “muskuraane” ki…..!!!***

jisaki kismat me likha ho rona..!!vo muskura bhi de to aansoo nikal aate hai..!!***laakh samajhaaya usako ki duniya shak karati hai..magar usaki aadat nahin gayi muskura kar gujarane ki !!*

** muskurahat hindi shayaridillagi kar jindagi se, dil laga ke chal..jindagi hai thodi si, thoda muskura ke chal .**

*tere na hone se jindagi me bas itani si kami haimai chaahe laakh muskura loo par aankho mein nami hai**

*yoon tera muskura kar mujhe dekhanaamaano jaise sab kuchh kubool hai tujhe*

*khaamosh baithe hain to log kahate hain udaasi achchhi nahin,aur zara sa hans len to log muskuraane ki vajah poochh lete hai.**

*meri yahi aadat tum sab ko sada yaad rahegi,na shikava, na koi gila, jab bhi mila, muskura ke mila.**

* muskurahat hindi shayarimuskuraane ke ab bahaane nahin dhoondhane padate,tujhe yaad karate hain tamanna poori ho jaati hain..**

*raahat bhi apanon se milati he,chaahat bhi apanon se milati he,apanon se kabhi roothana nahi.kyooki,muskuraahat”bhi apanon se milati he**

*muskuraahat bhi kamaal ki paheli hai,jitana bataati hai,usase kahin jaayada chhupaati hai…**

*apane duhkh mein rone vaale,muskuraana sikh le |oron ke duhkh mein aansoo bahaana sikh le***

“chalo muskuraane ki vajah dhoondhate hain… ai jindagi,,,,tum hamen dhoondho… ham tumhe dhoondhate hain …!!!***

phool banakar muskuraana jindagi hai,muskura ke gam bhoolaana jindagi hai,*

**vo to apane dard ro-ro ke sunate rahe;hamaari tanhaiyon se aankh churaate rahe;aur hamen bevapha ka naam mila kyonkiham har dard muskura kar chhupaate rahe**

* muskurahat hindi shayarikhud hi muskura rahe ho saahibapaagal ho ya mohabbat ki shurooaat hui hai!!!!**

*zarph ho toh gam bhi niyaamat hain khuda ki.jo sukoon rone mein hain,vo muskuraane mein kahaan.**

*apani muskuraahat ko zara kaaboo mein rakhie,dil e naadaan is par kahin shahid na ho jae**

*phir usane muskura ke dekha meri taraf,phir ek zara si baat par jina pada mujhe.**

* muskurahat hindi shayaridil ki hasarat juba par aane lagiaapako dekha to jindagi muskuraane lagi*

*tum itana jo muskura rahe hokya gam hai jisako chhupa rahe ho**

*ham is nigaah-e-naaz ko samajhe the neshtaratumane to muskura ke rag-e-jaan bana diya!

 

Hindi Shayari on Face चेहरे पर हिंदी शायरी

Hindi Shayari on Face  चेहरे पर हिंदी शायरी
Hindi Shayari on Face चेहरे पर हिंदी शायरी

Hindi Shayari on Face

चेहरे पर हिंदी शायरी

 

दोस्तों कोई चेहरा आइना होता है, कोई चेहरा फूल होता है, कोई चेहरा चाँद होता है, कोई चेहरा किताब होता है और कोई चेहरा क़यामत भी होता है, पेश है चेहरे पर कुछ खूबसूरत शायरी.

Hindi Shayari collection on Beautiful Face in Hindi font

*******************************************

 

मैं अपने साज़ के नग्मों की नर्म लहरों में

तुम्हारे चेहरे की अफ़्सुर्दगी डुबोता हूँ

~नरेश कुमार ‘शाद’

***

हुरूफ़-बीं तो सभी हैं मगर किसे ये शुऊर,

किताब पढ़ती है चेहरे किताब-ख़्वानों के !!

***

हर दफ़ा वही चेहरे बारहा वही बातें,

इन पुरानी यादों में कुछ नया नहीं रखा !!

***

चाँद सूरज मेरी चौखट पे कई सदियों से

रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं

*** Hindi Shayari on Face

आईने पर यक़ीन रखते हैं,

वो जो चेहरा हसीन रखते हैं

~दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’

***

सिर्फ चेहरा ही नहीं शख्सियत भी पहचानो ,

जिसमें दिखता हो वही आईना नहीं होता

***

यही चेहरा..यही आंखें..यही रंगत निकले,

जब कोई ख्वाब तराशूं..तेरी सूरत निकले

****

ताआज़्ज़ुब है तेरा चेहरा है के मैख़ाना

नज़र..लब..रुख़सार..पेशानी में जाम रक्खे हैं

**** Hindi Shayari on Face

हमारा हाले दिल चेहरे से अब दिलदार पढ़ लोगे

ज़ुबां आंखों की समझोगे,तो मेरा प्यार पढ़ लोगे

***

आपकी फ़ितरत के चेहरे थे कई समझे नहीं

जो था शाने पर उसे,चेहरा समझ बैठे थे हम

***

अपना चेहरा न बदला गया

आईने से ख़फ़ा हो गए…

*** Hindi Shayari on Face

वहीं कहीं नज़र आता है आप का चेहरा

तुलू चाँद फ़लक पर जहाँ से होता है

***

अक़्स उभरेगा ‘नफ़स’ गर्द हटा दे पहले,

धुंधले आईने में चेहरा नहीं देखा जाता

***

तेरा चेहरा मुकम्मल एक ग़ज़ल मतले से मकते तक

क़यामत है,क़यामत है,क़यामत है,क़यामत है

*** Hindi Shayari on Face

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर

बे-पिए भी तिरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ

***

हम फिर भी अपने चेहरे न देखें तो क्या इलाज,

आँखें भी हैं चराग़ भी है आइना भी है !!

***

अपने चेहरे को बदलना तो बहुत मुश्किल है

दिल बहल जाएगा आईना बदल कर देखो !!

***

अक़्स उभरेगा ‘नफ़स’ गर्द हटा दे पहले

धुंधले आईने में चेहरा नहीं देखा जाता

***

लक़ब हुस्ने-दो-आलम का उसे हरगिज़ नहीं मिलता

के जिसके चाँद से चेहरे पे कोई तिल नहीं आए

*** Hindi Shayari on Face

मैं बंद आंखों से पढ़ता हूं रोज़ वो चेहरा,

जो शायरी की सुहानी किताब जैसा है.!!

***

“अभी कुछ और हो इंसान का लहू पानी

अभी हयात के चेहरे पे आब-ओ-ताब नही ”

***

बेनकाब चेहरे हैं, दाग बड़े गहरे हैं

टूटता तिलिस्म आज सच से भय खाता हूं

*** Hindi Shayari on Face

अपने चेहरे से जो जाहिर है छुपाएँ कैसे

तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे.!!

***

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने

जो किताबों की किया करते हैं बातें अक़्सर.!!

***

चेहरे बदल-बदल के मुझे मिल रहे हैं लोग

ये क्या ज़ुल्म हो रहा है,मेरी सादगी के सांथ.!!

***

चेहरा पढ़ लेने से खुलता नहीं दिल का सब हाल

एक नॉवेल में कई बाब हुआ करते हैं.!!

*** Hindi Shayari on Face

आईने बे-सबब नहीं हैराँ

कोई चेहरा बदल रहा होगा..!!

***

रूह का क़र्ब भी चेहरे पे सजा लाए हैं

हम खदो-ख़ाल को आईना बना लाए हैं.!!

***

ना दिखा पायेगा तू ख्वाब मेरी आँखों के

अब भी कहता हूँ मुसव्विर मेरा चेहरा न बना.!!

*** Hindi Shayari on Face

हमें पढ़ाओ ना रिश्तों की कोई और क़िताब

पढ़ी है बाप के चेहरे की झुर्रियाँ मैंने.!!

***

सजा के चेहरे पे , सच्चाईयाँ निकलता है

वो जिसका झूट पे , सब क़ारोबार चलता है..!!

***

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है

ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

***

ख़ुद ख़ुशी लिखी थी एक बेवा के चेहरे पर मगर

फ़िर वो ज़िन्दा हो गई बच्चा बिलखता देख कर..!!

***

अपना चेहरा न बदला गया।।

आईने से खफ़ा हो गए…!!

*** Hindi Shayari on Face

सर-ए-महफ़िल निगाहें मुझ पे जिन लोगों की पड़ती है

निगाहों के हवाले से वो चेहरे याद रखता हूँ..!!

***

मेरी आवाज़ हि पर्दा है मेरे चेहरे का

मैं हूँ खामोश जहाँ मुझको वहाँ से सुनिये..!!

***

कितने चेहरे थे हमारे आस-पास

तुम हि तुम दिल में मगर बसते रहे..!!

***

चमक यूँ हि नही आती है, खुद्दारी के चेहरे पर

अना को हमने दो-दो वक़्त का फाका कराया है

***

Search Tags

Chehra Shayari in Hindi, Chehra Hindi Shayari, Chehre par Shayari, Chehra whatsapp status, Chehra hindi Status, Hindi Shayari on Chehra, Chehra whatsapp status in hindi, Chehra Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Face Shayari, Face Hindi Shayari, Face Shayari, Face whatsapp status, Face hindi Status, Hindi Shayari on Face, Face whatsapp status in hindi, Face Shayari in Hindi Font

 चेहरा हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, चेहरा, चेहरा स्टेटस, चेहरा व्हाट्स अप स्टेटस, चेहरे पर शायरी, चेहरा शायरी, चेहरे पर शेर, चेहरे की शायरी,


Hinglish

Hindi Shayari on Face

चेहरे पर हिंदी शायरी

hindi shayari on face chehare par hindi shaayari doston koi chehara aaina hota hai, koi chehara phool hota hai, koi chehara chaand hota hai, koi chehara kitaab hota hai aur koi chehara qayaamat bhi hota hai, pesh hai chehare par kuchh khoobasoorat shaayari. main apane saaz ke nagmon ki narm laharon mentumhaare chehare ki afsurdagi dubota hoon~naresh kumaar shaad**

*huroof-bin to sabhi hain magar kise ye shuoor,kitaab padhati hai chehare kitaab-khvaanon ke !!*

**har dafa vahi chehare baaraha vahi baaten,in puraani yaadon mein kuchh naya nahin rakha !!**

*chaand sooraj meri chaukhat pe kai sadiyon seroz likkhe hue chehare pe savaal aate hain**

* hindi shayari on fachaiaine par yaqin rakhate hain,vo jo chehara hasin rakhate hain~dinesh tripaathi shams*

**sirph chehara hi nahin shakhsiyat bhi pahachaano ,jisamen dikhata ho vahi aaina nahin hota**

*yahi chehara..yahi aankhen..yahi rangat nikale,jab koi khvaab taraashoon..teri soorat nikale*

***taaazzub hai tera chehara hai ke maikhaanaanazar..lab..rukhasaar..peshaani mein jaam rakkhe hain**

** hindi shayari on fachaihamaara haale dil chehare se ab diladaar padh logezubaan aankhon ki samajhoge,to mera pyaar padh loge*

**aapaki fitarat ke chehare the kai samajhe nahinjo tha shaane par use,chehara samajh baithe the ham**

*apana chehara na badala gayaaine se khafa ho gae…**

* hindi shayari on fachaivahin kahin nazar aata hai aap ka cheharaatuloo chaand falak par jahaan se hota hai*

**aqs ubharega nafas gard hata de pahale,dhundhale aaine mein chehara nahin dekha jaata***

tera chehara mukammal ek gazal matale se makate takaqayaamat hai,qayaamat hai,qayaamat hai,qayaamat hai**

* hindi shayari on fachaiavval avval ki mohabbat ke nashe yaad to karabe-pie bhi tira chehara tha gulistaan jaanaan**

*ham phir bhi apane chehare na dekhen to kya ilaaj,aankhen bhi hain charaag bhi hai aaina bhi hai !!*

**apane chehare ko badalana to bahut mushkil haidil bahal jaega aaina badal kar dekho !!*

**aqs ubharega nafas gard hata de pahaledhundhale aaine mein chehara nahin dekha jaata**

*laqab husne-do-aalam ka use haragiz nahin milataake jisake chaand se chehare pe koi til nahin aae**

* hindi shayari on fachaimain band aankhon se padhata hoon roz vo chehara,jo shaayari ki suhaani kitaab jaisa hai.!!

***”abhi kuchh aur ho insaan ka lahoo paaniabhi hayaat ke chehare pe aab-o-taab nahi “*

**benakaab chehare hain, daag bade gahare haintootata tilism aaj sach se bhay khaata hoon**

* hindi shayari on fachaiapane chehare se jo jaahir hai chhupaen kaiseteri marzi ke mutaabiq nazar aaen kaise.!!*

**un se poochho kabhi chehare bhi padhe hain tum nejo kitaabon ki kiya karate hain baaten aqsar.!!**

*chehare badal-badal ke mujhe mil rahe hain logaye kya zulm ho raha hai,meri saadagi ke saanth.!!*

**chehara padh lene se khulata nahin dil ka sab haalek novel mein kai baab hua karate hain.!!**

* hindi shayari on fachaiaine be-sabab nahin hairaankoi chehara badal raha hoga..!!*

**rooh ka qarb bhi chehare pe saja lae hainham khado-khaal ko aaina bana lae hain.!!**

*na dikha paayega too khvaab meri aankhon keab bhi kahata hoon musavvir mera chehara na bana.!!***

hindi shayari on fachaihamen padhao na rishton ki koi aur qitaabapadhi hai baap ke chehare ki jhurriyaan mainne.!!**

*saja ke chehare pe , sachchaiyaan nikalata haivo jisaka jhoot pe , sab qaarobaar chalata hai..!!*

**gamo ki dhoop mein bhi muskura kar chalana padata haiye duniya hai yahaan chehara saja kar chalana padata hai**

*khud khushi likhi thi ek beva ke chehare par magarafir vo zinda ho gai bachcha bilakhata dekh kar..!!*

**apana chehara na badala gaya..aaine se khafa ho gae…!!**

* hindi shayari on fachaisar-e-mahafil nigaahen mujh pe jin logon ki padati hainigaahon ke havaale se vo chehare yaad rakhata hoon..!!**

*meri aavaaz hi parda hai mere chehare kaamain hoon khaamosh jahaan mujhako vahaan se suniye..!!*

**kitane chehare the hamaare aas-paasatum hi tum dil mein magar basate rahe..!!*

**chamak yoon hi nahi aati hai, khuddaari ke chehare parana ko hamane do-do vaqt ka phaaka karaaya hai

 

 

Intezaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी

Intzeaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी
Intezaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी

Intezaar Shayari in Hindi

इंतज़ार पर शायरी

 

दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट पर आप के लिए प्रस्तुत है महबूब के इंतज़ार पर शेर ओ शायरी,

Intezaar Shayari in Hindi font, Hindi Shayari on Waiting of beloved.

List of all topics of Shayari

********************************

 

बजाय सीने के आँखों में दिल धड़कता है,

ये इंतज़ार के लम्हे अज़ीब होते हैं !!

***

मुझे मंज़ूर है इंतज़ार उम्र भर का लेकिन

मेरी आँखों से वस्ल का वही इक रोज़ तुम देखो

***

ता फिर ना इंतज़ार में नींद आये उम्र भर

आने का अहद कर गए आये जो ख्वाब में

~ग़ालिब

***

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता

अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता

~ग़ालिब

**** Intezaar Shayari in Hindi

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,

खामोशियों की अब आदत हो गयी है

***

तुम आये हो ना शब्-ए-इंतज़ार गुज़री है

तलाश में है सहर बार-बार गुज़री है

***

फिर बैठे बैठे वादा-ए-वस्ल उस ने कर लिया,

फिर उठ खड़ा हुआ वही रोग इंतज़ार का !!

***

टूटी जो आस जल गये पलकों पे सौ चिराग़,

निखरा कुछ और रंग शब-ए-इंतज़ार का !!- मुमताज़ मिर्ज़ा

*** Intezaar Shayari in Hindi

अब तो उठ सकता नहीं आँखों से बार-ए-इंतज़ार

किस तरह काटे कोई लैल-ओ-नहार-ए-इंतज़ार

***

उन के खत की आरज़ू है उन के आमद का ख़याल

किस क़दर फैला हुआ है कारोबार-ए-इंतज़ार

~हसरत मोहानी

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

 

***Intezaar Shayari in Hindi

वही ख़्वाब ख़्वाब हैं रास्ते वही इंतज़ार सी शाम है

ये सफर है मेरे इश्क़ का,न दयार है न क़याम है !!-सुख़नवर

***

ग़म-ए-हयात से दिल को अभी निजात नहीं,

निगाह-ए-नाज़ से कह दो कि इंतज़ार करे !! -शकील बदायूनी

***

थक गये हम करते करते इंतज़ार,

इक क़यामत उन का आना हो गया !!

**

लूटे मज़े उसी ने तेरे इंतज़ार के

जो हद-ए-इंतज़ार से आगे निकल गया

*** Intzar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

सूरत दिखा के फिर मुझे बेताब कर दिया,

एक लुत्फ़ आ चला था ग़म-ए-इंतज़ार में !!

***

होंठ पे लिए हुए दिल की बात हम

जागते रहेंगे और कितनी रात हम

मुख़्तसर सी बात है तुम से प्यार है

तुम्हारा इंतज़ार है..

 

*** Intezaar Shayari in Hindi

गर इंतज़ार कठिन है तो जब तलक ऐ दिल,

किसी के वादा-ए-फ़र्दा की गुफ़्तगू ही सही !! -फैज़

****

शब-ए-इंतज़ार की कशमकश न पूछ कैसे सहर हुई

कभी इक चिराग़ जला दिया, कभी इक चिराग़ बुझा दिया !! -मजरूह सुल्तानपुरी

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है ~रहबर

***

कहीं आके मिटा न दें इंतज़ार का लुत्फ

कहीं कुबूल न हो जाये इल्तज़ा तेरी

*** Intezaar Shayari in Hindi

वो मज़ा कहाँ वस्ल-ए-यार में

लुत्फ़ जो मिला है तुम्हें इंतज़ार में

 

****

तेरा ख़याल तेरा इंतेज़ार करते हैं

हम अपने आपको ख़ुद बेक़रार करते हैं

ये फ़ासला भी मोहब्बत में लुत्फ़ देता है

जब इंतेज़ार में हम इंतेज़ार करते हैं

***

तमाम उम्र तेरा इंतेज़ार कर लेंगे

मगर ये रंज रहेगा के ज़िन्दगी कम है

*** Intzar Shayari in Hindi

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

मैनें तो इंतेज़ार में उसके ज़िंदगी गुज़ार दी

उसके लिए तो रास्ते भी दुश्वार बन गए

***

ज़िदंगी के सारे लम्हे रफ़्ता-रफ़्ता कट गए

इंतेज़ार, आस, खुशी और ग़म में बंट गए

***

मेरे पीठ पर जो ज़ख्म हैं,वो अपनों की निशानी है

वर्ना सीना तो आज भी दुश्मनों के इंतेज़ार में बैठा है

*** Intzar Shayari in Hindi

कोई वादा नहीं किया लेकिन, क्यों तेरा इंतजार रहता है !

बेवजह जब क़रार मिल जाए, दिल बड़ा बेकरार रहता है !! –गुलज़ार

 

अभी कुछ उनके आने का इंतज़ार बाक़ी है,

ऐ खुदा, उम्र इक और दे उन्हें भुलाने को

 

होंठ पे लिये हुए दिल की बात हम जागते रहेंगे और कितनी रात हम

मुख़्तसर सी बात है तुम से प्यार है तुम्हारा इन्तज़ार है, तुम पुकार लो

 

दिल बहल तो जायेगा इस ख़याल से

हाल मिल गया तुम्हारा अपने हाल से

रात ये क़रार की बेक़रार है

तुम्हारा इन्तज़ार है, तुम पुकार लो

 

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है

इसीसे इश्क़ का शोला जवां होता है

ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए

 

सुना गम जुदाई का, उठाते हैं लोग

जाने ज़िंदगी कैसे, बिताते हैं लोग

 

दिन भी यहाँ तो लगे, बरस के समान

हमें इंतज़ार कितना, ये हम नहीं जानते

मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना

 

अफ़साना लिख रही हूँ दिल-ए-बेक़रार का

आँखोँ में रंग भर के तेरे इंतज़ार का

शब-ए-इंतज़ार आखिर कभी होगी मुख़्तसर भी

ये चिराग बुझ रहे हैं मेरे साथ जलते जलते…

~कैफ़ी_आझमी

 

सदियों का इंतज़ार भी दो पल की बात है,

यादों का तेरी मौसम गर ख़ुश-गवार हो !!

 

थक गये हम करते करते इंतज़ार,

इक क़यामत उन का आना हो गया …

 

महव-ए-इंतेज़ार हुँ उस बेदर्द के जवाब का

इस मुतंज़िर का दर्द मगर वो समझे कैसे…

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है

इसीसे इश्क़ का शोला जवां होता है

ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए

 

हम इंतज़ार करेंगे तेरा क़यामत तक

खुदा करे कि क़यामत हो और तू आए

 

सर-ए-तूर हो सर-ए-हश्र हो, हमें इंतेज़ार क़बूल है,

वो कभी मिलें वो कहीं मिलें, वो कभी सही वो कहीं सही !!

Intezaar Shayari in Hindi

 

वही ख़्वाब ख़्वाब हैं रास्ते, वही इंतज़ार सी शाम है,

ये सफर है मेरे इश्क़ का, न दयार है न क़याम है !! –

 

हर लम्हा सुकूं का यूं इंतेजार किया है

नादां हूं नादां ही रहा बस प्यार किया है

 

 

Search Tags

Intezaar Shayari in Hindi, Intezaar Shayari, Intezaar Hindi Shayari, Intezaar Shayari, Intezaar whatsapp status, Intezaar hindi Status, Hindi Shayari on Intezaar, Intezaar whatsapp status in hindi, Intezaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Waiting Shayari, Waiting Hindi Shayari, Waiting Shayari, Waiting whatsapp status, Waiting hindi Status, Hindi Shayari on Waiting, Waiting whatsapp status in hindi, Waiting Shayari in Hindi Font

 इंतज़ार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, इंतज़ार, इंतज़ार स्टेटस, इंतज़ार व्हाट्स अप स्टेटस, इंतज़ार पर शायरी, इंतज़ार शायरी, इंतज़ार पर शेर, इंतज़ार की शायरी,


Hinglish

Intezaar Shayari in Hindi

इंतज़ार पर शायरी

bajaay sine ke aankhon mein dil dhadakata hai,ye intezaar ke lamhe azib hote hain !!***

mujhe manzoor hai intezaar umr bhar ka lekinameri aankhon se vasl ka vahi ik roz tum dekho***

ta phir na intezaar mein nind aaye umr bharaane ka ahad kar gae aaye jo khvaab mein~gaalib**

ye na thi hamaari qismat ki visaal-e-yaar hotaagar aur jite rahate yahi intezaar hota~gaalib****

intezaar shayari in hindi intezaar ki aarazoo ab kho gayi hai,khaamoshiyon ki ab aadat ho gayi hai***

tum aaye ho na shab-e-intezaar guzari haitalaash mein hai sahar baar-baar guzari hai***

phir baithe baithe vaada-e-vasl us ne kar liya,phir uth khada hua vahi rog intezaar ka !!***

tooti jo aas jal gaye palakon pe sau chiraag,nikhara kuchh aur rang shab-e-intezaar ka !!- mumataaz mirza***

intezaar shayari in hindiab to uth sakata nahin aankhon se baar-e-intezaarakis tarah kaate koi lail-o-nahaar-e-intezaar***

un ke khat ki aarazoo hai un ke aamad ka khayaalakis qadar phaila hua hai kaarobaar-e-intezaar~hasarat mohaani***

un ki ulfat ka yakin ho un ke aane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahaar-e-intezaar***

intezaar shayari in hindivahi khvaab khvaab hain raaste vahi intezaar si shaam haiye saphar hai mere ishq ka,na dayaar hai na qayaam hai !!-sukhanavar***

gam-e-hayaat se dil ko abhi nijaat nahin,nigaah-e-naaz se kah do ki intezaar kare !! -shakil badaayooni***

thak gaye ham karate karate intezaar,ik qayaamat un ka aana ho gaya !!**

loote maze usi ne tere intezaar kejo had-e-intezaar se aage nikal gaya***

intezaar shayari in hindilutf jo us ke intezaar mein haivo kahaan mausam-e-bahaar mein hai !!***

soorat dikha ke phir mujhe betaab kar diya,ek lutf aa chala tha gam-e-intezaar mein !!***

honth pe lie hue dil ki baat hamajaagate rahenge aur kitani raat hamamukhtasar si baat hai tum se pyaar haitumhaara intezaar hai..***

intezaar shayari in hindigar intezaar kathin hai to jab talak ai dil,kisi ke vaada-e-farda ki guftagoo hi sahi !! -phaiz****

shab-e-intezaar ki kashamakash na poochh kaise sahar huikabhi ik chiraag jala diya, kabhi ik chiraag bujha diya !! -majarooh sultaanapuri***

apane lie bhi mausame gul hai bahaar hai,jab se suna hai unako mera intezaar hai ~rahabar***

kahin aake mita na den intezaar ka lutphakahin kubool na ho jaaye iltaza teri***

intezaar shayari in hindivo maza kahaan vasl-e-yaar menlutf jo mila hai tumhen intezaar mein****

tera khayaal tera intezaar karate hainham apane aapako khud beqaraar karate hainye faasala bhi mohabbat mein lutf deta haijab intezaar mein ham intezaar karate hain***

tamaam umr tera intezaar kar lengemagar ye ranj rahega ke zindagi kam hai***

intezaar shayari in hindishiddat se bahaaron ke intezaar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete***

mainen to intezaar mein usake zindagi guzaar diusake lie to raaste bhi dushvaar ban gae***

zidangi ke saare lamhe rafta-rafta kat gaeintezaar, aas, khushi aur gam mein bant gae***

mere pith par jo zakhm hain,vo apanon ki nishaani haivarna sina to aaj bhi dushmanon ke intezaar mein baitha hai***

intezaar shayari in hindikoi vaada nahin kiya lekin, kyon tera intajaar rahata hai !bevajah jab qaraar mil jae, dil bada bekaraar rahata hai !! –gulazaar

 

Intezaar Shayari in Hindi

 

dil bahal to jaayega is khayaal se
haal mil gaya tumhaara apane haal se
raat ye qaraar ki beqaraar hai
tumhaara intezaar hai, tum pukaar lo

ye intezaar bhi ek imtihaan hota hai
isise ishq ka shola javaan hota hai
ye intezaar salaamat ho aur too aae

suna gam judai ka, uthaate hain log
jaane zindagi kaise, bitaate hain log

din bhi yahaan to lage, baras ke samaan
hamen intezaar kitana, ye ham nahin jaanate
magar ji nahin sakate tumhaare bina

afasaana likh rahi hoon dil-e-beqaraar ka
aankhon mein rang bhar ke tere intezaar ka

shab-e-intezaar aakhir kabhi hogi mukhtasar bhi
ye chiraag bujh rahe hain mere saath jalate jalate…
~kaifi_aazmi

sadiyon ka intezaar bhi do pal ki baat hai,
yaadon ka teri mausam gar khush-gavaar ho !!

thak gaye ham karate karate intezaar,
ik qayaamat un ka aana ho gaya …

mahav-e-intezaar hun us bedard ke javaab ka
is mutanzir ka dard magar vo samajhe kaise…

ye intezaar bhi ek imtihaan hota hai
isise ishq ka shola javaan hota hai
ye intezaar salaamat ho aur too aae

ham intezaar karenge tera qayaamat tak
khuda kare ki qayaamat ho aur too aae

sar-e-toor ho sar-e-hashr ho, hamen intezaar qabool hai,
vo kabhi milen vo kahin milen, vo kabhi sahi vo kahin sahi !!

vahi khvaab khvaab hain raaste, vahi intezaar si shaam hai,
ye saphar hai mere ishq ka, na dayaar hai na qayaam hai !! –

har lamha sukoon ka yoon intejaar kiya hai
naadaan hoon naadaan hi raha bas pyaar kiya hai