Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी
Khiza Shayari in Hindi खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

Khiza Shayari in Hindi

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

 

दोस्तों चमन में हमेशा बहार का मोसम नहीं रहता, बहार के बाद खिजां और पतझड़ का मोसम भी आता है, पेश है खिजां के मोसम और पर कुछ शायरी.

Hindi Shayari on Autumn, Hindi shayari on Pathjhad, Sad Hindi Shayari on Khiza.

List of all topics

***************

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

****

मंज़िल तो सबकी एक ही है, रास्ते हैं जुदा,

कोई पतझड़ से गुजरा, कोई सहरा से गया।

****

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

***

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

**** Khiza Shayari in Hindi

 

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

****

Khizan Patjhad Status Pictures – Khizan Patjhad dp Pictures – Khizan Patjhad Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

 

Khizan Patjhad Status Pictures – Khizan Patjhad dp Pictures – Khizan Patjhad Shayari Pictures

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

****

फूल खिलते हैं, लोग मिलते हैं मगर,

पतझड़ में जो फूल मुरझा जाते हैं,

वो बहारों के आने से खिलते नहीं.

****

पतझड़ के मौसम में दिल को सुकून बहुत मिलता है…

शाख से टूटे हर पत्ते में चेहरा अपना जो दिखता है.

***

अरसे बाद खिजां पलटी नज़र आई बहार

बरसों बीते तन्हाईओं के बाद आई खुमार

*** Khiza Shayari in Hindi

“सुनायेगी ये दास्तां शमा मेरे मजार की

खिजां में भी खिली रही ये कली अनार की

***

खिजां अब आयेगी तो आयेगी ढलकर बहारों में,

कुछ इस अन्दाज से नज्मे-गुलिस्तां कर रहा हूँ मैं।

***

फिर इसके बाद नज़रे नज़र को तरसेंगे

वो जा रहा है खिजां के गुलाब दे जाओ

***

फूल चुन लिए उसने सारे मेरे शाख़े-गुल से

खिजां थी हिस्से मेरे, जो बागबां में ही रह गई

***

खिजां में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रोशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गये, कहीं बुझ गये।

*** Khiza Shayari in Hindi

अब रंजिशो-खुशी से बहारो-खिजां से क्या

महवे-खयाले-यार हैं हमको जहाँ से क्या ~मजरूह सुल्तानपुरी

***

सुकूत-ऐ-शाम-ऐ-खिजां में हुस्न की एक अंगड़ाई \

इधर सूखे दरख्तो पर हरे पत्ते निकल आए..

***

होता नहीं है कोई बुरे वक्त में शरीक,

पत्ते भी भागते हैं खिजां में शजर से दूर। #असीर

***

जुबां पे दर्द भरी दास्तान चली आई

बहार आने से पहले खिजां चली आई

***

उम्मीदों के फूल गुलशन में कबके मुरझा चुके

जो बचा है खिजां में वो कांटों का तमाशा है

खिजां के लूट से बर्बादिए-चमन तो हुई

यकीन आमदे-फस्ले-बहार कम न हुआ – मजाज

***

क्या खबर थी खिजां होगी मुक्कदर अपना,

मैंने तो माहौल बनाया था बहारों के लिए!

***

तेरी जुल्फ में लगा सकूं, वो कली न मैं खिला सकूं

बेबस खिजां में बैठा हूं, वो बहार भी न मैं ला सकूं

***

असीरान-ए-कफस को वास्ता क्या इन झमेलों से,

चमन में कब खिजां आई, चमन में कब बहार आई

***

गुल खिलेंगे फिर कैसे दिल में आरजुओं के,

दोस्ती खिजां से जब करता गुलसितां अपना।

** Khiza Shayari in Hindi

खिजां पुरानी पड़ी, कूच कर गया सैयाद,

नई बहारें नए बागवां की बात करो।

***

जहाँ बस्ती थी खुशियाँ, आज हैं मातम वहाँ

वक़्त लाया था बहारें वक़्त लाया है खिजां

**

मुमकिन है कि तू जिसको समझता है बहारां ,

औरों की निगाहों में वो मौसम हो खिजां का …

*** Khiza Shayari in Hindi

तड़प रहे हैं हम यहाँ, तुम्हारे इंतज़ार में

खिजां का रंग, आ-चला है, मौसम-ए-बहार में

***

जिसकी कफस में आंख खुली हो मेरी तरह,

उसके लिए चमन की खिजां क्या बहार क्या?

*** Khiza Shayari in Hindi

मिला जो पयार तो हम पयार के क़ाबिल न रहे

खिजां के फूल बहार के क़ाबिल न रहे।

***

यही तंग हाल जो सबका है यह करिश्मा कुदरते रब का है

जो बहार थी सो खिजां हुई जो खिजां थी अब वह बहार है।”-जोश मलीहाबादी

***

क्या हुआ जो खिजां के फूल सा मुरझा गए,

बनके “खुशबू ए जिंदगी” महकते रहेंगे हम ।

***

खिले गुलशन-ए-वफा में गुल-ए-नामुराद ऐसे

ना बहार ही ने पूछा ना खिजां के काम आए

***

गमों की फसल हमेशा तर-ओ-ताजा रही ,

ये वो खिजां है जो शर्मिन्दा-ए-बहार नहीं ……..

*** Khiza Shayari in Hindi

कांटो ने बहुत याद किया उन को खिजां में ,

जो गुल कभी जिंदा थे बहारों के सहारे ……

***

फूलों की बस्ती में आखिर कांटों का क्या काम था

ऐ खुदा तेरे गुलशन में आ जाती क्यूं खिजां है…

***

खिजां में पेड़ से टूटे हुए पत्ते बताते हैं…

बिछड़ कर अपनों से मिलती है बस दर-दर की दुत्कारी…

*** Khiza Shayari in Hindi

वह संभलेंगे गेसू जो बलखा गए हैं,

बहार आ रही है, खिजां के सहारे।

***

खिजां के बाद गुलशन में बहार आई तो है लेकिन,

उड़ा जाता है क्यों अहल-ए-चमन का रंग क्या कहिए।

***

Search Tags

Khiza Shayari in Hindi, Khiza Hindi Shayari, Khiza par Shayari, Khiza whatsapp status, Khiza hindi Status, Hindi Shayari on Khiza, Khiza whatsapp status in hindi, Khiza Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Autumn Shayari, Autumn Hindi Shayari, Autumn Shayari, Autumn whatsapp status, Autumn hindi Status, Autumn whatsapp status in hindi, Autumn Shayari in Hindi Font

 खिजां हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शबनम, खिजां स्टेटस, खिजां व्हाट्स अप स्टेटस, खिजां पर शायरी, खिजां शायरी, खिजां पर शेर, खिजां की शायरी, खिजां शायरी,

पतझड़ हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, पतझड़ स्टेटस, पतझड़ व्हाट्स अप स्टेटस, पतझड़ पर शायरी, पतझड़ शायरी, पतझड़ पर शेर, पतझड़ की शायरी, पतझड़ शायरी,


 

Khiza Shayari in Hinglish Roman Font

खिजां और पतझड़ पर कुछ शायरी

 


**manzil to sabaki ek hi hai, raste hain juda,koi Patjhad se gujara, koi sahara se gaya.**

**ulfat ke maron se na poochhon alam intazar kaPatjhad si hai zindagi, khyal hai bahar ka.**

*Khizan ke loot se barbadie-chaman to huiyakin amade-fasle-bahar kam na hua – majaj***

* Khizan shayari in hindiye Khizan ki zard si shal mein ji udas ped ke pas haiye tumhare ghar ki bahar hai ise ansuo se hara karo**

**palakon se ansuon ki qataron ko ponchh loPatjhad ki bat thik nahin hai bahar mein.!!*

***fool khilate hain, log milate hain magar,Patjhad mein jo fool murajha jate hain,vo baharon ke ane se khilate nahin.*

***Patjhad ke mausam mein dil ko sukoon bahut milata hai…shakh se toote har patte mein chehara apana jo dikhata hai.

***arase bad Khizan palati nazar ai baharabarason bite tanhaion ke bad ai khumar***

Khizan shayari in hindi”sunayegi ye dastan shama mere majar kiKhizan mein bhi khili rahi ye kali anar ki*

**Khizan ab ayegi to ayegi dhalakar baharon mein,kuchh is andaj se najme-gulistan kar raha hoon main.*

**fir isake bad nazare nazar ko tarasengevo ja raha hai Khizan ke gulab de jao**

*fool chun lie usane sare mere shakhe-gul seKhizan thi hisse mere, jo bagaban mein hi rah gai***

na Khizan mein hai koi tiragi, na bahar mein koi roshani,ye najar-najar ke charag hai, kahin jal gaye, kahin bujh gaye.*

** Khizan shayari in hindiab ranjisho-khushi se baharo-Khizan se kyamahave-khayale-yar hain hamako jahan se kya ~majarooh sultanapuri**

*sukoot-ai-sham-ai-Khizan mein husn ki ek angadai \idhar sookhe darakhto par hare patte nikal ae..*

**hota nahin hai koi bure vakt mein sharik, patte bhi bhagate hain Khizan mein shajar se door. #asir*

**juban pe dard bhari dastan chali aibahar ane se pahale Khizan chali ai**

*ummidon ke fool gulashan mein kabake murajha chukejo bacha hai Khizan mein vo kanton ka tamasha haiKhizan ke loot se barbadie-chaman to huiyakin amade-fasle-bahar kam na hua – majaj*

**kya khabar thi Khizan hogi mukkadar apana,mainne to mahaul banaya tha baharon ke lie!*

**teri julf mein laga sakoon, vo kali na main khila sakoombebas Khizan mein baitha hoon, vo bahar bhi na main la sakoon**

*asiran-e-kafas ko vasta kya in jhamelon se,chaman mein kab Khizan ai, chaman mein kab bahar ai***

gul khilenge fir kaise dil mein arajuon ke,dosti Khizan se jab karata gulasitan apana.** Khizan shayari in hindiKhizan purani padi, kooch kar gaya saiyad,nai baharen nae bagavan ki bat karo.**

*jahan basti thi khushiyan, aj hain matam vahanvaqt laya tha baharen vaqt laya hai Khizan .*

*mumakin hai ki too jisako samajhata hai baharan ,auron ki nigahon mein vo mausam ho Khizan ka …*

** Khizan shayari in hinditadap rahe hain ham yahan, tumhare intazar menKhizan ka rang, a-chala hai, mausam-e-bahar mein

jisaki kafas mein ankh khuli ho meri tarah,usake lie chaman ki Khizan kya bahar kya?**

* Khizan shayari in hindimila jo payar to ham payar ke qabil na raheKhizan ke fool bahar ke qabil na rahe.**

*yahi tang hal jo sabaka hai yah karishma kudarate rab ka haijo bahar thi so Khizan hui jo Khizan thi ab vah bahar hai.”-josh malihabadi*

**kya hua jo Khizan ke fool sa murajha gae,banake “khushaboo e jindagi” mahakate rahenge ham .**

*khile gulashan-e-vafa mein gul-e-namurad aisena bahar hi ne poochha na Khizan ke kam ae*

**gamon ki fasal hamesha tar-o-taja rahi ,ye vo Khizan hai jo sharminda-e-bahar nahin ……..***

Khizan shayari in hindikanto ne bahut yad kiya un ko Khizan mein ,jo gul kabhi jinda the baharon ke sahare ……*

**foolon ki basti mein akhir kanton ka kya kam thai khuda tere gulashan mein a jati kyoon Khizan hai…**

*Khizan mein ped se toote hue patte batate hain…bichhad kar apanon se milati hai bas dar-dar ki dutkari…**

* Khizan shayari in hindivah sambhalenge gesoo jo balakha gae hain,bahar a rahi hai, Khizan ke sahare.**

*Khizan ke bad gulashan mein bahar ai to hai lekin,uda jata hai kyon ahal-e-chaman ka rang kya kahie.***

 

 

 

 

 

Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी
Bahaar Shayari in Hindi बहार शायरी

Bahaar Shayari in Hindi

बहार शायरी

 

बहार के खुशनुमा और खिलते हुए फूलों के सुहाने मोसम पर शायरीl,

Hindi Shayari on Spring season.

सभी विषयों पर हिंदी शायरी

*****************************************************************************

 

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

~Faraz

***

फिर उसके बाद वही बासी मंजरों के जुलूस,

बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है।

~राहत_इंदौरी

****

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

****

वो गुलबदन कभी निकला जो सैर ए सहरा को

तो अपने साथ हवा ए बहार कर लेगा।

***

Bahaar Status Pictures – Bahaar dp Pictures – Bahaar Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Bahaar Status Pictures – Bahaar dp Pictures – Bahaar Shayari Pictures

दरीचे जहन के मै बन्द कर नहीं सकता

दिमाग अपना मुझे पुर बहार करना है।

*** Bahaar Shayari in Hindi

तुम ने हम जैसे मुसाफ़िर भी न देखे होंगे

जो बहारों से चले और ख़िज़ाँ तक पहुँचे

~इक़बाल अज़ीम

***

तुम कहो तो   .. बहार बनकर

सब मौसमों को मात देदूं। ?

***

और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे

कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे

~गोपालदास नीरज

*** Bahaar Shayari in Hindi

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !! Bi

***

कोई एसी बजमे बहार हो जहाँ मैं यकीं दिला सकूं

कि तेरा नाम है फसले गुल कि तुझी से हैं ये करामतें

***

जला के दाग़-ए-मुहब्बत ने दिल को ख़ाक किया

बहार आई मेरे बाग में ख़िज़ां की तरह

~दाग़

***

उग रहा है दरो दीवार में सबजा गालिब

हम बयाबां में हैं और घर में बहार आई है

~galib

***

हमीं से रंग-ए-गुलिस्ताँ हमीं से रंग-ए-बहार

हमीं को नज़्म-ए-गुलिस्ताँ पे इख़्तियार नहीं ~साहिर

***

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

*** Bahaar Shayari in Hindi

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

मुझे उस जुनूँ की है जुस्तुजू जो चमन को बख़्श दे रंग ओ बू

जो नवेद-ए-फ़स्ल-ए-बहार हो मुझे उस नज़र की तलाश है

***

 

आमद से पहले तेरी सजाते कहाँ से फूल,

मौसम बहार का तो तेरे साथ आया है !!

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

***

अपना बर्बाद आशियाँ देखते हैं तो याद आता है,

बहारें भी उजाड़ देती हैं तिनकों से बने घरौंदों को।

~पाकीज़ा

***

ढाएगा सौ क्यामतें , तौबा की ख़ैर हो

दौर-ए-बहार में ये उमड़ना सहाब का

*** Bahaar Shayari in Hindi

उरूज पर है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहाँ से होता है

***

 

यूँ ही शायद दिल-ए-वीराँ में बहार आ जाए,

ज़ख़्म जितने मिलें सीने पे सजाते चलिए !!

***

इश्क़ में दिल के इलाक़े से गुजरती है बहार,

दर्द अहसास तक आए तो नमी तक पहुँचे

***

जब हम रुकें तो साथ रुके शम-ए-बेकसी,

जब तुम रुको बहार रुके, चाँदनी रुके !!

****

काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बाँ,

ये भी गुलों के साथ पले हैं बहार में !!

 

*** Bahaar Shayari in Hindi

मौसम-ए-बहार है अम्बरीं ख़ुमार है

किस का इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !! -अदम

***

फिर देख उसका रंग निखरता है किस तरह,

दोशीजए- खिजां को खिताब-ए-बहार दे !! -अदम

***

कांटा समझ के मुझ से न दामन बचाइए,

गुजरी हुई बहार की इक यादगार हूँ !!

***

न खिजाँ में है कोई तीरगी, न बहार में कोई रौशनी,

ये नजर-नजर के चराग है, कहीं जल गए,कहीं बुझ गए !!

***

नाम भी लेना है जिस का इक जहान-ए-रंग-ओ-बू

दोस्तो उस नौ-बहार-ए-नाज़ की बातें करो !!

***

ना गुल खिले हैं, ना उन से मिले, ना मय पी है,

अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~faiz

*** Bahaar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

जो देख लेगा हर बशर् उसको खुद में ही कहीं,

तो मज़हबी इमारतों के बहार फ़कीर कोई होगा नहीं।

***

बे मौसम बरसात से अंदाज़ा लगता हूँ मैं,

फिर किसी मासूम का दिल टुटा है मौसम-ए-बहार में।

***

उल्फ़त के मारों से ना पूछों आलम इंतज़ार का

पतझड़ सी है ज़िन्दगी, ख्याल है बहार का।

*** Bahaar Shayari in Hindi

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,

चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !!

***

खुशबू ग़ुंचे तलाश करती है

बीते रिश्ते तलाश करती है

अपने माज़ी की जुस्तज़ू में बहार

पीले पत्ते तलाश करती है !! -~Gulzar

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है 1/2- ~रहबर

***

देख जिंदा से परे रंगे चमन जोशे बहार

रकस करना है तो पावं की जंजीर न देख!

*** Bahaar Shayari in Hindi

लेके अपनी-अपनी किस्मत आए थे गुलशन में गुल

कुछ बहारों मे खिले और कुछ ख़िज़ाँ में खो गए

~राजेश रेड्डी

***

मौसम-ए-गुल में तो आ जाती है काँटों पे बहार

बात तो जब है ख़िजाँ में गुल-ए-तर पैदा कर

~फ़ना निज़ामी

***

देख जा आ के महक़ते हुए ज़ख्मों की बहार

मैंने अब तक तेरे गुलशन को सजा रक्खा है.!!

***

ये खिजां की ज़र्द सी शाल में जी उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है इसे आंसुओ से हरा करो

*** Bahaar Shayari in Hindi

पलकों से आँसुओं की क़तारों को पोंछ लो

पतझड़ की बात ठीक नहीं है बहार में.!!

***

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

*** Bahaar Shayari in Hindi

आ कहीं मिलते हैं हम ताक़ि बहारें आ जाएँ।।

इससे पहले कि ता’अल्लुक़ में दरारें आ जाएँ..!!

***

 

Search Tags

Bahaar Shayari in Hindi, Bahaar Hindi Shayari, Bahaar par Shayari, Bahaar whatsapp status, Bahaar hindi Status, Hindi Shayari on Bahaar, Bahaar whatsapp status in hindi, Bahaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Spring Shayari, Spring Hindi Shayari, Spring Shayari, Spring whatsapp status, Spring hindi Status, Spring whatsapp status in hindi, Spring Shayari in Hindi Font

 बहार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, बहार, बहार स्टेटस, बहार व्हाट्स अप स्टेटस, बहार पर शायरी, बहार शायरी, बहार पर शेर, बहार की शायरी,


Bahaar Shayari in Roman Hinglish

 

pyar mein ek hi mausam hai baharon ka mausamalog mausam ki tarah fir kaise badal jate hain~faraz**

 

*fir usake bad vahi basi manjaron ke juloos,bahar chand hi lamhe bahar rahati hai.~rahat_indauri***

 

*jo tum muskura do baharen hanse, sitaron ki ujali kataren hansejo tum muskura do nazaren hanse, javan dhadakanon ke ishare hanse***

 

*vo gulabadan kabhi nikala jo sair e sahara koto apane sath hava e bahar kar lega.*

 

**dariche jahan ke mai band kar nahin sakatadimag apana mujhe pur bahar karana hai.**

 

* bahar shayari in hinditum ne ham jaise musafir bhi na dekhe hongejo baharon se chale aur khizan tak pahunche~iqabal azim

 

***tum kaho to .. bahar banakarasab mausamon ko mat dedoon. ?*

 

**aur ham khade-khade bahar dekhate rahekaravan guzar gaya gubar dekhate rahe~gopaladas niraj***

 

bahar shayari in hindikhar bhi zist-e-gulistan hain,fool hi hansil-e-bahar nahin !! bi***

 

koi esi bajame bahar ho jahan main yakin dila sakoonki tera nam hai fasale gul ki tujhi se hain ye karamaten**

 

*jala ke dag-e-muhabbat ne dil ko khak kiyabahar ai mere bag mein khizan ki tarah~dag***

 

ug raha hai daro divar mein sabaja galibaham bayaban mein hain aur ghar mein bahar ai hai~galib*

 

**hamin se rang-e-gulistan hamin se rang-e-baharahamin ko nazm-e-gulistan pe ikhtiyar nahin ~sahir*

 

**shiddat se baharon ke intezar mein sab haimpar fool mohabbat ke to khilane nahin dete**

 

* bahar shayari in hindiun ki ulfat ka yakin ho un ke ane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahar-e-intazar**

 

*mujhe us junoon ki hai justujoo jo chaman ko bakhsh de rang o boojo naved-e-fasl-e-bahar ho mujhe us nazar ki talash hai**

 

*amad se pahale teri sajate kahan se fool,mausam bahar ka to tere sath aya hai !!***

 

un ki ulfat ka yakin ho un ke ane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahar-e-intazar**

 

*apana barbad ashiyan dekhate hain to yad ata hai,baharen bhi ujad deti hain tinakon se bane gharaundon ko.~pakiza*

 

**dhaega sau kyamaten , tauba ki khair hodaur-e-bahar mein ye umadana sahab ka*

 

** bahar shayari in hindiurooj par hai chaman mein bahar ka mausamasafar shuroo khizan ka yahan se hota hai*

 

**yoon hi shayad dil-e-viran mein bahar a jae,zakhm jitane milen sine pe sajate chalie !!*

 

**ishq mein dil ke ilaqe se gujarati hai bahar,dard ahasas tak ae to nami tak pahunche*

 

**jab ham ruken to sath ruke sham-e-bekasi,jab tum ruko bahar ruke, chandani ruke !! ***

 

*kanton ko mat nikal chaman se o bagaban,ye bhi gulon ke sath pale hain bahar mein !!*

 

** bahar shayari in hindimausam-e-bahar hai ambarin khumar haikis ka intizar hai gesuon ko kholie !! -adam***

 

fir dekh usaka rang nikharata hai kis tarah,doshije- khijan ko khitab-e-bahar de !! -adam*

 

**kanta samajh ke mujh se na daman bachaie,gujari hui bahar ki ik yadagar hoon !!**

 

*na khijan mein hai koi tiragi, na bahar mein koi raushani,ye najar-najar ke charag hai, kahin jal gae,kahin bujh gae !!*

 

**nam bhi lena hai jis ka ik jahan-e-rang-o-boodosto us nau-bahar-e-naz ki baten karo !!**

 

*na gul khile hain, na un se mile, na may pi hai,ajib rang mein abake bahar guzari hai.~faiz**

 

* bahar shayari in hindilutf jo us ke intazar mein haivo kahan mausam-e-bahar mein hai !!***

 

jo dekh lega har bashar usako khud mein hi kahin,to mazahabi imaraton ke bahar fakir koi hoga nahin.**

 

*be mausam barasat se andaza lagata hoon main,fir kisi masoom ka dil tuta hai mausam-e-bahar mein.*

 

**ulfat ke maron se na poochhon alam intazar kapatajhad si hai zindagi, khyal hai bahar ka.*

 

** bahar shayari in hindiaj hai vo bahar ka mausam,fool todoon to hath jam ae !!**

 

*ik nau-bahar-e-naz ko take hai fir nigah,chehara furog-e-may se gulistan kiye hue !!*

 

**khushaboo gunche talash karati haibite rishte talash karati haiapane mazi ki justazoo mein baharapile patte talash karati hai !! -~gulzar**

 

*apane lie bhi mausame gul hai bahar hai,jab se suna hai unako mera intazar hai 1/2- ~rahabar***

 

dekh jinda se pare range chaman joshe bahararakas karana hai to pavan ki janjir na dekh!***

 

bahar shayari in hindileke apani-apani kismat ae the gulashan mein gulakuchh baharon me khile aur kuchh khizan mein kho gae~rajesh reddi**

 

*mausam-e-gul mein to a jati hai kanton pe baharabat to jab hai khijan mein gul-e-tar paida kar~fana nizami***

 

dekh ja a ke mahaqate hue zakhmon ki baharamainne ab tak tere gulashan ko saja rakkha hai.!!**

 

*ye khijan ki zard si shal mein ji udas ped ke pas haiye tumhare ghar ki bahar hai ise ansuo se hara karo***

 

bahar shayari in hindipalakon se ansuon ki qataron ko ponchh lopatajhad ki bat thik nahin hai bahar mein.!!**

 

*kaun se nam se tabir karoon is root ko..fool murajhaen hain zakhmon pe bahar ai hai..!!**

 

* bahar shayari in hindia kahin milate hain ham taqi baharen a jaen..isase pahale ki talluq mein dararen a jaen..!!***

 

 

 

 

 

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी
Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

Honsle par Shayari in Hindi

होंसले-अज्म पर शायरी

दोस्तों, आपके उत्साहवर्धन के लिए हम इस ब्लॉग पोस्ट में आपके लिए लेकर आयें हैं कुछ होंसले पर शायरी (Shayari on Courage in Hindi) , प्राम्भ में कुछ शेर दिए गए हैं जिसमे अज्म पर शायरी है (अज्म, Courage, होंसला), उसके बाद के अशआर में होंसला लफ्ज़ पर शायरी है.

जब भी आप हतोत्साहित और मायूस फील करें तो आप इन अशआर को पढ़कर नया साहस प्राप्त कर सकतें हैं.

So here it is some good Courage Shayari in Hindi font for you.

All shayari in Hindi font is here

*****************************

बुलंद हो अज्म तो तारे भी तोड़ सकता है.

कठिन नही है कोई काम आदमी के लिए.

***

तूफान कर रहा था मेरे अज्म^ का तवाफ*,

दुनिया समझ रही थी कश्ती भंवर में है !!

***

समा जाता है सारा आसमां इक आँख के तिल में

किसी के अज्म को मत आँक उसके कद्दो क़ामत से

***

ईन्सान की अज्म से जब दुर किनारा होता है,

टुटी हुई किश्ती का भगवान सहारा होता है।

*** Honsle par Shayari in Hindi

मेरा अज्म इतना बुलंद है कि मुझे पराए शोलों का डर नहीं,

मुझे खौफ़ आतिशे गुल से है ये कहीं चमन को जला न दें। -शकील बदायूँनी

 

***

वो जो सिर्फ मेरा हो निगाहों मे हया रखता हो

उम्र भर साथ निभाये अज्म-ए-वफा रखता हो

***

“है अगर अज्म तो खुद ढूँढ ले अपनी मंजिल –

क्यों किसी गैर से मंजिल का पता मांगे है #सराजोद्दीन_सराज

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Honsla Status Pictures – Honsla dp Pictures – Honsla Shayari Pictures

अज्म क़ामिल हो तो कश्ती लबे साहिल होगी

हौसला चाहिए हर तूफ़ान से टकराने का

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो दिल दुखा तो यह अज्म भी मिला हमे,

तमाम उम्र किसी का न दिल दुखायेगे हम.

***

 

मैं हूँ गरीब फिर भी मेरा अज्म देखिये

अब तक अमीरे शहर से टकरा रहा हूँ मैं,

***

हर अज्म इरादे में हर आहंग में पहचान

हर आन में हर बात में हर ढंग में पहचान

आशिक है तो दिलबर को हर रंग में पहचान

-नजीर अकबराबादी

***

तुम अपने अज्म को मोहकम करो ख़ुद

किसी से माँगती हो हौसला क्या !!

***

हर लम्हा हर शय में महसूस करोगे तुम

मैं अज्म की खुश्बू हूं.. महकूंगी जमानों तक….

***

हकीकत बनाना है एक फसाने को ,

अज्म दिखाना है अपना जमाने को ,

जब मौत भी दस्तक दे कर पलट गई ,

तो अब बचा ही क्या है आजमाने को …

*** Honsle par Shayari in Hindi

मैं अपना अज्म लेकर मंजिलों की सिम्त निकला था

मशक्कत हाथ पे रक्खी थी, किस्मत घर पे रक्खी थी

***

न हमसफ़र न कोई रहबर ज़रूरी है

सफ़र के वास्ते अज्म ए सफ़र ज़रूरी है

***

मिलूँ तो लगे दूरियाँ और भी हैं

तो क्या अज्म के इम्तेहां और भी हैं

***

लेकर इक अज्म उठुँ रोज नई भीङ के साथ…

फिर वही भीङ छँटे और मैं तनहा हो जाउँ

***

और जो छोड़ना चाहते हैं अपनी छाप ,

अज्म-ए–जुनूं वाले कारवाने जुनून चलते है

कच्ची पगडंडियों पर बनाते हुए रास्ता

आने वाले राहगीरों के लिए

***

मेरे हमसफ़र मुझे छोड़ के जो चले गए तो भी क्या हुआ

मेरा हमसफ़र , मेरा हमनशीं , मेरा अज्म है मेरा वकार है

***

जब वलवला सादिक होता है जब अज्म मुसम्मम होता है,

तकमील का सामाँ गैब से खुद उस वक्त फराहम होता है।

 

***********************************************

बख्सा है ठोकरों ने सँभालने का होंसला….

हर ख्याल को गेहराई दे गया.. ~Shakeel Ahmed

***

हर गम ने, हर सितम ने,नया होंसला दिया,

मुझको मिटाने वालो ने, मुझको बना दिया !

*** Honsle par Shayari in Hindi

हो सकती है जिन्दगी में मोहोब्बत दोबारा भी..

बस होंसला चाहिए फिर से बर्बाद होने का

***

हमेशा कैसे मुस्कुरा लेते हो

गमे आँसुओ को कैसे छुपा लेते हो ?

हम जब भी तुम्हे देखते है

हमारे जिने का होंसला बढ़ा देते हो !!

 

तु ख्वाब थी हकीकत कभी हुई तो नहीं

मैंने बस ख्वाब हारा है तुझे पाने का होंसला नहीं

***

बुजदिल वो लोग जो मोहब्बत नहीं करते

बहुत होंसला चाहिए बरबाद होने के लिए

***

लुत्फ़ उठा रहा हूं मैं भी… आँख मिचौली का…

मिलेगी कामयाबी… होंसला कमाल का लिए बैठा हूँ…

***

चल सफर शुरू करे नए साल की

कश्ती भी है होंसला भी है डर नहीं

ज़रा भी तूफ़ान का दोस्त भी है भरोसा भी है !!

***

घर से निकले थे होंसला करके ..

लोट आये खुदा खुदा करके

*** Honsle par Shayari in Hindi

जो सफर की शुरुआत करते हैं,

वो मंज़िल को पार करते हैं,

एकबार चलने का होंसला तो रखो,

मुसाफिरों का तो रस्ते भी इंतज़ार करते हैं।

***

होंसला रख ए दिल ये रास्ता ग़मों से होकर ही गुजरता है

ये इश्क है यहां कोई सीढीयाँ नहीं होती

ये पहाड़ तो पैरों के छालों के साथ ही पार होता है

***

ये राहें ले ही जाएंगी मंज़िल तक होंसला रख,

कभी सुना है कि अंधेरो ने सवेरा होने ना दिया।

***

“बुलंद हो होंसला तो मुठी में हर मुकाम हे,

मुश्किले और मुसीबते तो ज़िंदगी में आम हे”

****

जिन्दगी में कभी किसी बुरे दिन से रूबरू हो जाओ तो!!

इतना होंसला जरुर रखना कि दिन बुरा था जिन्दगी नहीं

*** Honsle par Shayari in Hindi

तालीमें नही दी जाती परिंदों को वो खुद ही तय करते है ऊंचाई आसमानों की

जो रखते है होंसला आसमान छुने का वो परवाह नही करते जमीन पे गिर जाने की।

***

लाबों की रफ़्तार नहीं बदला करती, हो दिल में होंसला तो,

दीवानों की तक़दीर, तदबीर और तासीर नहीं बदला करती

***

रख होंसला ,किस्मत भी साथ देगी ,किनारा भी आएगा,

देखे है जो ख़्वाब तूने ,उनका सवेरा भी आएगा।

***

मंजिल लाख कठिन आये गुजर जाऊँगा ,

होंसला हार के बैठूंगा तो मर जाऊँगा ।

***

बचा नहीं होंसला तुम्हें पा कर फिर खोने का

चले ही जाना था तो इस दिल में घर बनाया क्यों !!

***

न छोड़ होंसला ऐ दोस्त वो मंज़र भी आएगा,

प्यासे के पास चलकर खुद समंदर आएगा…!!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सिर्फ पंख ही काफी नही आसमान के लिए होंसला भी चाहिए ऊँची उड़ान के लिए।

करता वही हू दोस्तो जो मुझे पसंद हैं..!! माना की वक्त कम हैं, पर होंसला बुलंद हैं..!!

***

दिल की उम्मीदों का होंसला तो देखो

इंतजार उसका जिसको अहसास तक नहीं

 

गर्दीशों से ड़रकर तू होंसला ना हार ज़िन्दगी,

देख लेना लौटकर फिर आएगी बहार ज़िन्दगी ।.

जब होंसला बना लिया हे ऊँची उड़ान का,

फिर फ़िज़ूल हे कद देखना आसमान का।

***

जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं,

उनके पीछे एक दिन काफिला होता हैं…!!!

***

जिंदगी की उदास राहों पर कभी यूं भी होता है,,,

इंसान खुद रो पडता है, किसी हौंसला देते हुए.!!

*** Honsle par Shayari in Hindi

सीखा है मैंने दिये से खुद को बचाए रखना

आंधी और अँधेरों में भी होंसला बनाए रखना

***

मुस्कुराते रहो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है।

मन में होंसला हो तो हर मंज़िल मिल जाती है।

***

यूँ ही तो खुश्क नहीं मेरी खामोश आँखें ,,

मिला हूँ तुझ से बिछड़ने का होंसला ले कर

*** Honsle par Shayari in Hindi

तू पँख ले ले मुझे सिर्फ़ होंसला दे दे..

फिर आँधियों को मेरा नाम और पता दे दे

***

Search Tags

Honsle par Shayari in Hindi, Honsle par Hindi Shayari, Honsle par Shayari, Honsle par whatsapp status, Honsle par hindi Status, Hindi Shayari on Honsla, Honsle par whatsapp status in hindi, Honsle par Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Courage Shayari, Courage Hindi Shayari, Courage Shayari, Courage whatsapp status, Courage hindi Status, Hindi Shayari on Courage, Courage whatsapp status in hindi, Courage Shayari in Hindi Font

होंसले पर हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, होंसले पर , होंसले पर स्टेटस, होंसले पर व्हाट्स अप स्टेटस, होंसले पर पर शायरी, होंसले पर शायरी, होंसले पर शेर, होंसले की शायरी,

अज्म पर हिंदी शायरी, अज्म पर , अज्म पर स्टेटस, अज्म पर व्हाट्स अप स्टेटस, अज्म पर शायरी, अज्म पर शायरी, अज्म पर शेर, अज्म की शायरी,


Hinglish

Honsle par Shayari in Hindi होंसले-अज्म पर शायरी

 

**toofan kar raha tha mere ajm^ ka tavaf*,duniya samajh rahi thi kashti bhanvar mein hai !!**

*sama jata hai sara asaman ik ankh ke til menkisi ke ajm ko mat ank usake kaddo qamat se**

*insan ki ajm se jab dur kinara hota hai,tuti hui kishti ka bhagavan sahara hota hai.**

* Honsle par shayari in hindi mera ajm itana buland hai ki mujhe parae sholon ka dar nahin,mujhe khauf atishe gul se hai ye kahin chaman ko jala na den. -shakil badayoonni*

**vo jo sirf mera ho nigahon me haya rakhata houmr bhar sath nibhaye ajm-e-vafa rakhata ho**

*”hai agar ajm to khud dhoondh le apani manjil –kyon kisi gair se manjil ka pata mange hai #sarajoddin_saraj**

*ajm qamil ho to kashti labe sahil hogihausala chahie har toofan se takarane ka**

* Honsle par shayari in hindi jo dil dukha to yah ajm bhi mila hame,tamam umr kisi ka na dil dukhayege ham.*

**main hoon garib fir bhi mera ajm dekhiyeab tak amire shahar se takara raha hoon main,**

*har ajm irade mein har ahang mein pahachanahar an mein har bat mein har dhang mein pahachanashik hai to dilabar ko har rang mein pahachan-najir akabarabadi*

**

tum apane ajm ko mohakam karo khudakisi se mangati ho hausala kya !!*

**har lamha har shay mein mahasoos karoge tumamain ajm ki khushboo hoon.. mahakoongi jamanon tak….*

**hakikat banana hai ek fasane ko ,ajm dikhana hai apana jamane ko ,jab maut bhi dastak de kar palat gai ,to ab bacha hi kya hai ajamane ko …**

* Honsle par shayari in hindi main apana ajm lekar manjilon ki simt nikala thamashakkat hath pe rakkhi thi, kismat ghar pe rakkhi thi**

*na hamasafar na koi rahabar zaroori haisafar ke vaste ajm e safar zaroori hai*

**miloon to lage dooriyan aur bhi hainto kya ajm ke imtehan aur bhi hain*

**lekar ik ajm uthun roj nai bhin ke sath…fir vahi bhin chhante aur main tanaha ho jaun*

**aur jo chhodana chahate hain apani chhap ,ajm-e–junoon vale karavane junoon chalate haikachchi pagadandiyon par banate hue rastaane vale rahagiron ke lie**

*mere hamasafar mujhe chhod ke jo chale gae to bhi kya huamera hamasafar , mera hamanashin , mera ajm hai mera vakar hai*

**jab valavala sadik hota hai jab ajm musammam hota hai,takamil ka saman gaib se khud us vakt faraham hota hai.**********************************************

*bakhsa hai thokaron ne sanbhalane ka Honsla….har khyal ko geharai de gaya.. ~shakaiail ahmaid***

har gam ne, har sitam ne,naya Honsla diya,mujhako mitane valo ne, mujhako bana diya !***

Honsle par shayari in hindi ho sakati hai jindagi mein mohobbat dobara bhi..bas Honsla chahie fir se barbad hone ka***

hamesha kaise muskura lete hogame ansuo ko kaise chhupa lete ho ?ham jab bhi tumhe dekhate haihamare jine ka Honsla badha dete ho !!tu khvab thi hakikat kabhi hui to nahimmainne bas khvab hara hai tujhe pane ka Honsla nahin***

bujadil vo log jo mohabbat nahin karatebahut Honsla chahie barabad hone ke lie***

lutf utha raha hoon main bhi… ankh michauli ka…milegi kamayabi… Honsla kamal ka lie baitha hoon…***

chal safar shuroo kare nae sal kikashti bhi hai Honsla bhi hai dar nahinzara bhi toofan ka dost bhi hai bharosa bhi hai !!***

ghar se nikale the Honsla karake ..lot aye khuda khuda karake***

Honsle par shayari in hindi jo safar ki shuruat karate hain,vo manzil ko par karate hain,ekabar chalane ka Honsla to rakho,musafiron ka to raste bhi intazar karate hain.***

Honsla rakh e dil ye rasta gamon se hokar hi gujarata haiye ishk hai yahan koi sidhiyan nahin hotiye pahad to pairon ke chhalon ke sath hi par hota hai***

ye rahen le hi jaengi manzil tak Honsla rakh,kabhi suna hai ki andhero ne savera hone na diya.***

“buland ho Honsla to muthi mein har mukam he,mushkile aur musibate to zindagi mein am he”****

jindagi mein kabhi kisi bure din se roobaroo ho jao to!!itana Honsla jarur rakhana ki din bura tha jindagi nahin***

Honsle par shayari in hindi talimen nahi di jati parindon ko vo khud hi tay karate hai oonchai asamanon kijo rakhate hai Honsla asaman chhune ka vo paravah nahi karate jamin pe gir jane ki.**

*labon ki raftar nahin badala karati, ho dil mein Honsla to,divanon ki taqadir, tadabir aur tasir nahin badala karati*

**rakh Honsla ,kismat bhi sath degi ,kinara bhi aega,dekhe hai jo khvab toone ,unaka savera bhi aega.***

manjil lakh kathin aye gujar jaoonga ,Honsla har ke baithoonga to mar jaoonga .*

**bacha nahin Honsla tumhen pa kar fir khone kachale hi jana tha to is dil mein ghar banaya kyon !!***

na chhod Honsla ai dost vo manzar bhi aega,pyase ke pas chalakar khud samandar aega…!!!*

** Honsle par shayari in hindi sirf pankh hi kafi nahi asaman ke lie Honsla bhi chahie oonchi udan ke lie.karata vahi hoo dosto jo mujhe pasand hain..!! mana ki vakt kam hain, par Honsla buland hain..!!**

*dil ki ummidon ka Honsla to dekhointajar usaka jisako ahasas tak nahingardishon se darakar too Honsla na har zindagi,dekh lena lautakar fir aegi bahar zindagi ..jab Honsla bana liya he oonchi udan ka,fir fizool he kad dekhana asaman ka.***

jinamen akele chalane ka Honsla hota hain,unake pichhe ek din kafila hota hain…!!!*

**jindagi ki udas rahon par kabhi yoon bhi hota hai,,,insan khud ro padata hai, kisi haunsala dete hue.!!*

**
sikha hai mainne diye se khud ko bachae rakhanaandhi aur andheron mein bhi Honsla banae rakhana**

*muskurate raho to har mushkil asan ho jati hai.man mein Honsla ho to har manzil mil jati hai.**

*yoon hi to khushk nahin meri khamosh ankhen ,,mila hoon tujh se bichhadane ka Honsla le kar*

** Honsle par shayari in hindi too pankh le le mujhe sirf Honsla de de..fir andhiyon ko mera nam aur pata de de

 

 

Shabnam Shayari in Hindi शबनम हिंदी शायरी

Shabnam Shayari in Hindi शबनम हिंदी शायरी
Shabnam Shayari in Hindi शबनम हिंदी शायरी

Shabnam Shayari in Hindi

शबनम हिंदी शायरी

 

Hindi shayari collection on Shabnam (dew drops)

शबनम पर हिंदी शायरी

List of all Hindi Font Shayari

*******************************************************

परतवे-ख़ुल्द से है शबनम को फ़ना की तालीम

में भी हूँ एक इनायत की नज़र होने तक

~ग़ालिब

***

उनके रुखसार पर ढलकते हुए आँसू तौबा,

मैं ने शबनम को भी शोलों पे मचलते देखा !!

***

तेरी दीद से सिवा है तेरे शौक़ में बहारां

वो चमन जहां गिरी है तेरे गेसुओं की शबनम !!

~Faiz

***

गुलाबो कि तरह दिल अपना शबनम में भिगोते है,

मोहब्बत करने वाले खुबसूरत लोग होते है !! -बशीर बद्र

*** Shabnam Shayari in Hindi

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Shabnam Status Pictures – Shabnam dp Pictures – Shabnam Shayari Pictures

चमन में शब को जो शोख़ बेनक़ाब आया,

यक़ीन हो गया शबनम को आफ़ताब आया !!

***

वो दिल भी जलाते हैं रख़ देते हैं मरहम भी,

क्या तुर्फ़ा तबीअत है शोला भी हैं शबनम भी.!!

***

ज़ुल्मत-ए-शाम से भी नूर-ए-सहर पैदा कर

क़ल्ब शबनम का सितारों की नज़र पैदा कर(१)

~फ़ना निज़ामी

***

कितने पलकों की नमी माँग के लाई होगी

प्यास तब फूलों की शबनम ने बुझाई होगी.!!

***

यही ज़िद है तो फिर हिस्सा सभी अपना उठाते हैं

अगर शबनम तुम्हारी है तो हम शोला उठाते हैं.!!

*** Shabnam Shayari in Hindi

तू फूल की मानिंद न शबनम की तरह आ,

अब के किसी बे-नाम से मौसम की तरह आ ।

***

दुनिया क्या है एक वहम है

शबनम में मोती होने का

और जिंदगानी है जैसे

पीतल पर पानी सोने का

**

उलझे हुए हैं पलकों में शबनम के चँद कतरे

बिछङा था कोई रात को,ख्वाबों के सफ़र में

***

शबनम का क़तरा कभी , और कभी शमशीर !…

समझ न पायी आँख भी , आंसू की तासीर !!…

*** Shabnam Shayari in Hindi

बाग़-ए-दुनिया में यूँ ही रो हँस के काटूँ चार दिन

ज़िंदगी है शबनम ओ गुल की तरह फ़ानी मेरी

~महरूम

***

हो जाते हो बरहम भी, बन जाते हो हमदम भी

ऐ साकी-ए-मयखाना, शोला भी हो, शबनम भी

***

कभी आग तो कभी शबनम है…

मेरी कलम भी मुझसे वाकिफ नहीं है …

***

फूल की आँख में शबनम क्यों है

सब हमारी ही खता जैसे

~बशीर_बद्र

हमारी प्यास का सबसे अलग अन्दाज है “राशीद”

कभी दरीया को ठुकराते है कभी शबनम भी पिते है

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

युही जब सर्द मौसम में

तन्हाई सताती है

झुलस जाते है अन्दर तक

छू जाए जो शबनम भी …………..

***

ख्वाब चुभेंगे तो आँखे मेरी रोलेगी

दर्द की स्याही में पलके डुबा लेगी,

काश जरे जरे से शबनम हो जाऊँ

मेरी प्यास पे सहेरा की रेत बोलेगी ।।

***

गाह पानी, गाह शबनम और कभी खूँनाब से

एक ही था दाग सीने में जिसे धोता रहा

~बशीर_बद्र

***

बढ़ी धुंध होने लगी, शबनम की बरसात ।

फसलों को मिलने लगी,कुदरत की सौगात ।।

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

ले के शबनम का मुकद्दर आये थे दुनिया में हम,

गुलशने – हस्ती में रो – रोकर गुजारी जिन्दगी।

***

नजर से जो नजर मिली यूँ नजर मिलकर झुक गई,

तेरी पलकों से गिरके शबनम मेरी पलकों पे रुक गई

***

फूलों को आए जिस दम शबनम वज़ू कराने,

रोना मेरा वज़ू हो , नाला मेरी दुआ हो!

~इक़बाल

चटक रही हैं कलियाँ इलाही कुछ इस अदा से

शबनम के मोतियों का हार गले में डाले

***

शबनम की तरह रोते रहे याद में तेरी,

सहरा की तरह शख्स जो सीने में छुपा था..

***

ख्वाब चुभेंगे तो आँखे मेरी रोलेगी

दर्द की स्याही में पलके डुबालेगी ।।

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

गुलों कि तरह हम ने ज़िंदगी को इस कदर जाना,

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मै ।

~बशीर_बद्र

***

सूरज की रिफाकात में चमक उठता है चेहरा

शबनम की तरह से कोई सादा नहीं होता

***

पलकों पे शबनम लिखते हैं,

जब आँखों का ग़म लिखते हैं,

गीत ग़ज़ल सब झूठी बातें,

ज़ख़्मों पे मरहम लिखते हैं,

***

शबनम हूँ सुर्ख़ फूल पे बिखरा हुआ हूँ मै

दिल मोम और धूप में बैठा हुआ हूँ मै

***

भर जाएँगे आँखों में आँचल से बँधे बादल

याद आएगा जब गुल पर शबनम का बिखर जाना।।।

***

गुलाबो कि तरह दिल अपना शबनम में भिगोते है,

मोहब्बत करने वाले खुबसूरत लोग होते है !!

***

खिड़की पे चिपकी पानी की बूँदें ,

सरक कर दिल पे गईं जम !

कभी करें आँखों को नम !

कभी ज़ख़्मों को शबनम !

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

क्यूँ पोंछते हो रुखसार से अरक को बार बार ,

शबनम के क़त्रे से गुलों में और निखार आता है !

***

रात में रोना शबनम का बिखर जाना

खैर सुबह होगी आँखों में चमक होगी।

***

निखर गए हैं पसीने में भीग कर आरिज़

गुलों ने और भी शबनम से ताज़गी पाई ❤

***

हम रोने पे आ जाएँ तो दरिया ही बहा दें

शबनम की तरह से हमें रोना नहीं आता

***

“आओ कि शबनम की बूँदें बरसती हैं,

मौसम इशारा है हाँ, अब तो चले आओ…”

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

यूँ किसी की आँखों में सुबह तक अभी थे हम

जिस तरह रहे शबनम फूल के प्यालों मे

~बशीर_बद्र

***

हर आरजू फिसल गयी शबनम की मानिन्द

फिर भी उम्मीद जगी है सूरज की तरह।

 

वो याद आया कुछ यूँ

के लौट आये सब सिलसिले

ठंडी हवा…!!!

शबनम..!!!

और दिसंबर की धुंद…!!!

***

वो दिल भी जलाते हैं रख देते हैं मरहम भी

क्या तुर्फ़ा तबीअत है शोला भी हैं शबनम भी

***

एक अजीब ठंडक है, उस के नरम लहजे में..

लफ्ज़ लफ्ज़ शबनम है, बात बात प्यारी है

****

शफ़क़ हो ,फूल हो,शबनम हो, कि आफ़ताब हो तुम,

नही जवाब तुम्हारा कि लाज़वाब हो तुम ,,,,,,

**** Shabnam Shayari in Hindi

 

शबनम के आँसू फूल पर ये तो वही क़िस्सा हुआ

आँखें मेरी भीगी हुईं चेहरा तेरा उतरा हुआ।।

***

रात यूँ ही थम जाएगी, रुत ये हसीन मुसकाएगी

बँधी कली खिल जाएगी, और शबनम शरमाएगी

****

“कितने दिनों के प्यासे होंगे, यारों सोचो तो;

शबनम का क़तरा भी जिनको दरिया लगता है!”

***

आई है सुबह कुछ भी अहवाले शब कहती ही नहीं

शबनम ही शबनम हर तरफ मुझको नज़र आती है।

***

फूल शबनम मे डूब जाते है जख्म मरहम मे डूब जाते है

जब कोई सहारा नही मिलता तो हम तेरे गम मे डूब जाते है

 

चमन के गुंचे-गुंचे से ये कहकर उड़ गयी शबनम..

जो हँसता है खुदी पर अपनी,वो बरबाद होता है…||

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

रात हो तो अँधेरे का बस भरम हो

क्या करूँ फिर न कभी शबनम हो

ख्वाब से लम्हे हों और इक नशा हो

आँखों में सुबह हो न कभी नम हो।

***

जलने वाले जलते है शोलों में वो आगे नहीं

शबनम में है शोलों की जुम्बिश , उस आग पे ही रोना आया है!!

***

रातों के अँधेरे और सभी गर्दिशें

काफी है हर सुबह भुला देने को

मेरी ज़िन्दगी और उसकी उम्मीदें

काफी है शबनम को सुखा देने को।

***

कतरा अश्कों का, बेबसी है किसी मजलूम की

लोग इन्हें यूँ ही शबनम कहा करते हैं…

***

सूखे पत्तों पर जलती शबनम के क़तरे,

ठंडा सूरज सहमा-सहमा देख रहा था!

***

जो फूलों में ना मिले वोह चेहरा

मिल जाये शबनम की बूँदों में कभी,,

***

मैंने खुश्बू की तरह तुझ को किया है महसूस

दिल ने छेड़ा है तेरी याद को शबनम की तरह

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

तुम्हारी याद में शबनम रात भर

बरसती रही

सर्द ठंडी रात थी

मैं अलाव में जलती रही

सूखा बदन सुलगता रहा

रूह तपती रही   ।।

***

 

तुझे हम दोपहर की धूप में देखेंगे ऐ ग़ुंचे

अभी शबनम के रोने पर हँसी मालूम होती है

~शफ़ीक़_जौनपुरी

***

जुगनू शबनम तारें बनकर मेरे आँसू ढूंढ रहे हैं

आनेवाले तू ही बता दे मेरे हमदम कैसे हैं ,,

***

याद-ए-माज़ी की शबनम बरसती रही,

और मैं देर तक भीगता ही रहा…!!!

***

ऐ दौलत-ए-सुकूँ के तलब-गार देखना

शबनम से जल गया है गुलिस्ताँ कभी कभी

~Qabil_Ajmeri

***

शबनम की बूंदों की तरह बरसते हो जब इन लबों पर…

कैसे कहूं,कि ये बेमौसम बरसात मुझे अच्छी लगती है…!

***

शबनम ने रो के जी जरा हल्का तो कर लिया

गम उसका पूछिए जो न आंसू बहा सके

~ सलाम संदेलबी

*** Shabnam Shayari in Hindi

 

फूलों से हवा भी कभी घबराई है देखो

गुंचों से भी शबनम कभी कतराई है देखो

 

तेरे फिराक़ में जले तो रूह को ठंडक भी मिली

उफ्फ ये भी क्या आग़ है कोई शबनम की तरह

~आतिशमिज़ाज

***

Search Tags

Shabnam Shayari in Hindi, Shabnam Hindi Shayari, Shabnam par Shayari, Shabnam whatsapp status, Shabnam hindi Status, Hindi Shayari on Shabnam, Shabnam whatsapp status in hindi, Shabnam Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Dew Drops Shayari, Dew Drops Hindi Shayari, Dew Drops Shayari, Dew Drops whatsapp status, Dew Drops hindi Status, Dew Drops whatsapp status in hindi, Dew Drops Shayari in Hindi Font

शबनम हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, शबनम, शबनम स्टेटस, शबनम व्हाट्स अप स्टेटस, शबनम पर शायरी, शबनम शायरी, शबनम पर शेर, शबनम की शायरी, शबनम शायरी,


Hinglish

Shabnam Shayari in Hinglish font

shabnam shayari  in hindi  shabanam hindi  shayari  paratave-khuld se hai shabanam ko fana ki talimamen bhi hoon ek inayat ki nazar hone tak~galib**

*unake rukhasar par dhalakate hue ansoo tauba,main ne shabanam ko bhi sholon pe machalate dekha !!**

*teri did se siva hai tere shauq mein baharanvo chaman jahan giri hai tere gesuon ki shabanam !!~faiz*

**gulabo ki tarah dil apana shabanam mein bhigote hai,mohabbat karane vale khubasoorat log hote hai !! -bashir badr*

** shabnam shayari  in hindi chaman mein shab ko jo shokh benaqab aya,yaqin ho gaya shabanam ko afatab aya !!**

*vo dil bhi jalate hain rakh dete hain maraham bhi,kya turfa tabiat hai shola bhi hain shabanam bhi.!!**

*zulmat-e-sham se bhi noor-e-sahar paida karaqalb shabanam ka sitaron ki nazar paida kar(1)~fana nizami**

*kitane palakon ki nami mang ke lai hogipyas tab foolon ki shabanam ne bujhai hogi.!!**

*yahi zid hai to fir hissa sabhi apana uthate hainagar shabanam tumhari hai to ham shola uthate hain.!!**

* shabnam shayari  in hindi too fool ki manind na shabanam ki tarah a,ab ke kisi be-nam se mausam ki tarah a .*

**duniya kya hai ek vaham haishabanam mein moti hone kaur jindagani hai jaisepital par pani sone ka*

*ulajhe hue hain palakon mein shabanam ke chand katarebichhana tha koi rat ko,khvabon ke safar mein*

**shabanam ka qatara kabhi , aur kabhi shamashir !…samajh na payi ankh bhi , ansoo ki tasir !!…*

** shabnam shayari  in hindi bag-e-duniya mein yoon hi ro hans ke katoon char dinazindagi hai shabanam o gul ki tarah fani meri~maharoom*

**ho jate ho baraham bhi, ban jate ho hamadam bhiai saki-e-mayakhana, shola bhi ho, shabanam bhi*

**kabhi ag to kabhi shabanam hai…meri kalam bhi mujhase vakif nahin hai …*

*fool ki ankh mein shabanam kyon haisab hamari hi khata jaise~bashir_badrahamari pyas ka sabase alag andaj hai “rashid”kabhi dariya ko thukarate hai kabhi shabanam bhi pite hai*

** shabnam shayari  in hindi yuhi jab sard mausam mentanhai satati haijhulas jate hai andar takachhoo jae jo shabanam bhi …………..*

**khvab chubhenge to ankhe meri rolegidard ki syahi mein palake duba legi,kash jare jare se shabanam ho jaoonmeri pyas pe sahera ki ret bolegi ..**

*gah pani, gah shabanam aur kabhi khoonnab sik hi tha dag sine mein jise dhota raha~bashir_badr

**badhi dhundh hone lagi, shabanam ki barasat .fasalon ko milane lagi,kudarat ki saugat ..**

* shabnam shayari  in hindi le ke shabanam ka mukaddar aye the duniya mein ham,gulashane – hasti mein ro – rokar gujari jindagi.*

**najar se jo najar mili yoon najar milakar jhuk gai,teri palakon se girake shabanam meri palakon pe ruk gai**

*foolon ko ae jis dam shabanam vazoo karane,rona mera vazoo ho , nala meri dua ho!~iqabalachatak rahi hain kaliyan ilahi kuchh is ada seshabanam ke motiyon ka har gale mein dale**

*shabanam ki tarah rote rahe yad mein teri,sahara ki tarah shakhs jo sine mein chhupa tha..*

**khvab chubhenge to ankhe meri rolegidard ki syahi mein palake dubalegi ..

*** shabnam shayari  in hindi gulon ki tarah ham ne zindagi ko is kadar jana,shabanam hoon surkh fool pe bikhara hua hoon mai .~bashir_badr**

*sooraj ki rifakat mein chamak uthata hai cheharashabanam ki tarah se koi sada nahin hota***

palakon pe shabanam likhate hain,jab ankhon ka gam likhate hain,git gazal sab jhoothi baten,zakhmon pe maraham likhate hain,**

*shabanam hoon surkh fool pe bikhara hua hoon maidil mom aur dhoop mein baitha hua hoon mai***

bhar jaenge ankhon mein anchal se bandhe badalayad aega jab gul par shabanam ka bikhar jana…*

**gulabo ki tarah dil apana shabanam mein bhigote hai,mohabbat karane vale khubasoorat log hote hai !!***

khidaki pe chipaki pani ki boonden ,sarak kar dil pe gain jam !kabhi karen ankhon ko nam !kabhi zakhmon ko shabanam !*

** shabnam shayari  in hindi kyoon ponchhate ho rukhasar se arak ko bar bar ,shabanam ke qatre se gulon mein aur nikhar ata hai !

***rat mein rona shabanam ka bikhar janakhair subah hogi ankhon mein chamak hogi.*

**nikhar gae hain pasine mein bhig kar arizagulon ne aur bhi shabanam se tazagi pai ❤**

*ham rone pe a jaen to dariya hi baha denshabanam ki tarah se hamen rona nahin ata*

**”ao ki shabanam ki boonden barasati hain,mausam ishara hai han, ab to chale ao…”*

** shabnam shayari  in hindi yoon kisi ki ankhon mein subah tak abhi the hamajis tarah rahe shabanam fool ke pyalon me~bashir_badr**

*har arajoo fisal gayi shabanam ki manindafir bhi ummid jagi hai sooraj ki tarah.vo yad aya kuchh yoonke laut aye sab silasilethandi hava…!!!shabanam..!!!aur disambar ki dhund…!!!
vo dil bhi jalate hain rakh dete hain maraham bhikya turfa tabiat hai shola bhi hain shabanam bhi**

*ek ajib thandak hai, us ke naram lahaje mein..lafz lafz shabanam hai, bat bat pyari hai**

**shafaq ho ,fool ho,shabanam ho, ki afatab ho tum,nahi javab tumhara ki lazavab ho tum ,,,,,,**

** shabnam shayari  in hindi shabanam ke ansoo fool par ye to vahi qissa huaankhen meri bhigi huin chehara tera utara hua..**

*rat yoon hi tham jaegi, rut ye hasin musakaegibandhi kali khil jaegi, aur shabanam sharamaegi**

**”kitane dinon ke pyase honge, yaron socho to;shabanam ka qatara bhi jinako dariya lagata hai!”

***ai hai subah kuchh bhi ahavale shab kahati hi nahinshabanam hi shabanam har taraf mujhako nazar ati hai.***

fool shabanam me doob jate hai jakhm maraham me doob jate haijab koi sahara nahi milata to ham tere gam me doob jate haichaman ke gunche-gunche se ye kahakar ud gayi shabanam..jo hansata hai khudi par apani,vo barabad hota hai…||***

shabnam shayari  in hindi rat ho to andhere ka bas bharam hokya karoon fir na kabhi shabanam hokhvab se lamhe hon aur ik nasha hoankhon mein subah ho na kabhi nam ho.

***jalane vale jalate hai sholon mein vo age nahinshabanam mein hai sholon ki jumbish , us ag pe hi rona aya hai!!**

*raton ke andhere aur sabhi gardishenkafi hai har subah bhula dene komeri zindagi aur usaki ummidenkafi hai shabanam ko sukha dene ko.**

*katara ashkon ka, bebasi hai kisi majaloom kilog inhen yoon hi shabanam kaha karate hain…**

*sookhe patton par jalati shabanam ke qatare,thanda sooraj sahama-sahama dekh raha tha!*

**jo foolon mein na mile voh cheharamil jaye shabanam ki boondon mein kabhi,,**

*mainne khushboo ki tarah tujh ko kiya hai mahasoosadil ne chheda hai teri yad ko shabanam ki tarah**

* shabnam shayari  in hindi  tumhari yad mein shabanam rat bharabarasati rahisard thandi rat thimain alav mein jalati rahisookha badan sulagata raharooh tapati rahi ..*

**tujhe ham dopahar ki dhoop mein dekhenge ai guncheabhi shabanam ke rone par hansi maloom hoti hai~shafiq_jaunapuri**

*juganoo shabanam taren banakar mere ansoo dhoondh rahe hainanevale too hi bata de mere hamadam kaise hain ,,

***yad-e-mazi ki shabanam barasati rahi,aur main der tak bhigata hi raha…!!!*

**ai daulat-e-sukoon ke talab-gar dekhanashabanam se jal gaya hai gulistan kabhi kabhi~qabil_ajmairi*

**shabanam ki boondon ki tarah barasate ho jab in labon par…kaise kahoon,ki ye bemausam barasat mujhe achchhi lagati hai…!*

**shabanam ne ro ke ji jara halka to kar liyagam usaka poochhie jo na ansoo baha sake~ salam sandelabi**

* shabnam shayari  in hindi foolon se hava bhi kabhi ghabarai hai dekhogunchon se bhi shabanam kabhi katarai hai dekhotere firaq mein jale to rooh ko thandak bhi miliuff ye bhi kya ag hai koi shabanam ki tarah~atishamizaj

 

 

 

 

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी
Phool Shayari in Hindi font फूलों पर शायरी

 

Phool Shayari in Hindi font

फूलों पर शायरी

दोस्तों पेश है फूलों पर कुछ खूबसूरत शेर ओ शायरी का संग्रह

Collections of Shayri in Hindi font on flower

list of Hindi font Shayari

********************************

 

वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए

खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए

#नरेश कुमार ‘शाद’

***

कांटों से घिरा रहता है चारों तरफ से फूल,

फिर भी खिला ही रहता है,क्या खुशमिज़ाज है !!

***

वो फूल तोड़े हमें कोई ऐतराज़ नहीं

मगर वो तोड़ के खुशबू निकाल लेता है

***

सूखे थे फूल तेरे जाने के बाद

अब तो ख़ुश्बू भी किताबों से गई

*** Phool Shayari in Hindi font

जिसकी ख़ुशबू से महक जाय पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का हर सिम्त खिलाया जाए #नीरज

***

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से

लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से

***

नहीं पूछता है मुझ को, कोई फूल इस चमन में

दिल-ए-दागदार होता तो गले का हार होता

#अमीर मीनाई

***

Phool Status Pictures – Phool dp Pictures – Phool Shayari Pictures

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Phool Status Pictures – Phool dp Pictures – Phool Shayari Pictures

खार भी ज़ीस्त-ए-गुलिस्ताँ हैं,

फूल ही हाँसिल-ए-बहार नहीं !!

*** Phool Shayari in Hindi font

फूल का अपना कोई रंग कोई रूप नहीं

उसके जूड़े में सजा हो तो भला लगता है

#क़तील शिफ़ाई

***

तू जिसे इतनी हसीं चीज़ समझता है वो फूल

सूख जाए तो निगाहों को बुरा लगता है

#क़तील शिफाई

***

छू लेंगे तेरा जिस्म तो खिलते रहेंगे फूल

शहर-ए-वफ़ा में इश्क़ के हम दस्तकार हैं

***

मैं जिसके हाथ में इक फूल देके आया था,

उसी के हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है

#कृष्ण बिहारी नूर

***

कभी दिन की धूप में झूम के कभी शब के फूल को चूम के

यूँ ही साथ साथ चलें सदा कभी ख़त्म अपना सफ़र न हो

***

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे

कभी वो फूल बन जाए तो कभी रुखसार बन जाए

*** Phool Shayari in Hindi font

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

तस्वीर मैंने मांगी थी शोख़ी तो देखिये,

इक फूल उसने भेज दिया है गुलाब का !! -शादानी

***

शाख़ पर लगा है गर उसका क्या बिगड़ना है,

फूल सूँघ लेने से ताज़गी नहीं जाती

***

उलझ पड़ूँ किसी के दामन से वह खार नहीं,

वह फूल हूँ जो किसी के गले का हार नहीं !!-चकबस्त लखनवी

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़िक्र करते हैं तेरा मुझ से बा-उन्वाने जफ़ा

चारागर फूल पिरो लाये हैं तलवारों में

***

कोई काँटा चुभा नहीं होता,

दिल अगर फूल सा नहीं होता !!

***

जिन की महक से रूह पे तारी है बे-ख़ुदी,

वो फूल चुन रहे हैं तेरे गुलिस्ताँ से हम !!

***

जिन्होंने काँटों पे चलना हमें सिखाया था

हमारी राह में वो फूल अब बिछाने लगे !!

*** Phool Shayari in Hindi font

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है,

फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है!!

***

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी

आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है !! -दुष्यंतकुमार

***

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखूं वही पैमाना हुआ है !!

***

चाहता है दिल किसी से राज़ की बातें करे,

फूल आधी रात का आँगन में है महका हुआ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

 

आज है वो बहार का मौसम,

फूल तोड़ूँ तो हाथ जाम आए !!

***

अब के हम बिछड़ें तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें,

जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !!

***

लफ्ज़ को फूल बनाना तो करिश्मा है फ़राज़…

हो ना हो कोई तो है तेरी निगारिश मैं शरीक़ !!

*** Phool Shayari in Hindi font

मौसम ने बनाया है निगाहों को शराबी,

जिस फूल को देखू वही पैमाना हुआ है …

***

मुझे मालूम है मैं फूल हूं झर जाऊंगा इक दिन

मगर ये हौसला मेरा है हरदम मुस्‍कुराता हूं.!!

***

रँग आँखों के लिये बू है दमागों के लिये

फूल को हाँथ लगाने की ज़रूरत क्या है

***

फूल बिखराता हुआ मैं तो चला जाऊँगा

आप काँटे मिरी राहों में बिछाते रहिये.!!

***

यूँ तो सैरे-गुलशन को कितने लोग आते हैं

फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं.!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कोई तितली हमारे पास आती तो क्या आती

सजाए उम्र भर कागज़ के फूल और पत्तियां हमने

***

मुझे यूँ लगा कि ख़ामोश ख़ुश्बू के होँठ तितली ने छू लिये

इन्ही ज़र्द पत्तों की ओट में कोई फूल सोया हुआ न हो

बशीर बद्र

*** Phool Shayari in Hindi font

ज़माना चाहता है क्यों,मेरी फ़ितरत बदल देना

इसे क्यों ज़िद है आख़िर,फूल को पत्थर बनाने की.!!

***

जिसकी खुश्बू से महक जाए,पड़ोसी का भी घर

फूल इस क़िस्म का,हर सिम्त खिलाया जाए.!!

***

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है

बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है.!!

***

कागज़ की कतरनों को भी कहते हैं लोग फूल

रंगों का ऐतबार हि क्या है सूंघ कर भी देख..!!

*** Phool Shayari in Hindi font

कौन से नाम से ताबीर करूँ इस रूत को।।

फूल मुरझाएं हैं ज़ख्मों पे बहार आई है..!!

***

 

Search Tags

Phool Shayari in Hindi font, Phool Shayari in Hindi, Phool Hindi Shayari, Phoolon par Shayari, Phool whatsapp status, Phool hindi Status, Hindi Shayari on Phool, Phool whatsapp status in hindi, Phool Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

 Flower Shayari, Flower Hindi Shayari, Flower Shayari, Flower whatsapp status, Flower hindi Status, Hindi Shayari on Flower, Flower whatsapp status in hindi, Flower Shayari in Hindi Font

फूल हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, फूल, फूल स्टेटस, फूल व्हाट्स अप स्टेटस, फूलों पर शायरी, फूल शायरी, फूल पर शेर, फूलों की शायरी,


 

Phool Shayari in Roman hinglish font

*kanton se ghira rahata hai charon taraf se phool,fir bhi khila hi rahata hai,kya khushamizaj hai !!**

*vo phool tode hamen koi aitaraz nahimmagar vo tod ke khushaboo nikal leta hai**

*sookhe the phool tere jane ke badab to khushboo bhi kitabon se gai***

phool shayari in hindi fontjisaki khushaboo se mahak jay padosi ka bhi gharaphool is qism ka har simt khilaya jae #niraj**

*svapn jhare phool se, mit chubhe shool selut gaye singar sabhi bag ke babool se**

*nahin poochhata hai mujh ko, koi phool is chaman mendil-e-dagadar hota to gale ka har hota#amir minai**

*khar bhi zist-e-gulistan hain,phool hi hansil-e-bahar nahin !!**

* phool shayari in hindi fontphool ka apana koi rang koi roop nahinusake joode mein saja ho to bhala lagata hai#qatil shifai**

*too jise itani hasin chiz samajhata hai vo phoolasookh jae to nigahon ko bura lagata hai#qatil shifai***

chhoo lenge tera jism to khilate rahenge phoolashahar-e-vafa mein ishq ke ham dastakar hain*

**main jisake hath mein ik phool deke aya tha,usi ke hath ka patthar meri talash mein hai#krshn bihari noor*

**kabhi din ki dhoop mein jhoom ke kabhi shab ke phool ko choom keyoon hi sath sath chalen sada kabhi khatm apana safar na ho

***nazar us husn par thahare to akhir kis tarah thaharekabhi vo phool ban jae to kabhi rukhasar ban jae***

phool shayari in hindi fontshiddat se baharon ke intezar mein sab haimpar phool mohabbat ke to khilane nahin dete*

**tasvir mainne mangi thi shokhi to dekhiye,ik phool usane bhej diya hai gulab ka !! -shadani**

*shakh par laga hai gar usaka kya bigadana hai,phool soongh lene se tazagi nahin jati***

ulajh padoon kisi ke daman se vah khar nahin,vah phool hoon jo kisi ke gale ka har nahin !!-chakabast lakhanavi***

phool shayari in hindi fontzikr karate hain tera mujh se ba-unvane jafacharagar phool piro laye hain talavaron mein**

*koi kanta chubha nahin hota,dil agar phool sa nahin hota !!*

**jin ki mahak se rooh pe tari hai be-khudi,vo phool chun rahe hain tere gulistan se ham !!**

*jinhonne kanton pe chalana hamen sikhaya thahamari rah mein vo phool ab bichhane lage !!*

** phool shayari in hindi fontaj tak us ki mohabbat ka nasha tari hai,phool baqi nahin khushboo ka safar jari hai!!*

**ek khandahar ke hrday-si, ek jangali phool-siadami ki pir goongi hi sahi, gati to hai !! -dushyantakumar*

**mausam ne banaya hai nigahon ko sharabi,jis phool ko dekhoon vahi paimana hua hai !!***

chahata hai dil kisi se raz ki baten kare,phool adhi rat ka angan mein hai mahaka hua !!*

** phool shayari in hindi fontaj hai vo bahar ka mausam,phool todoon to hath jam ae !!*

**ab ke ham bichhaden to shayad kabhi khvabon mein milen,jis tarah sookhe hue phool kitabon mein milen !!**

*lafz ko phool banana to karishma hai faraz…ho na ho koi to hai teri nigarish main shariq !!**

* phool shayari in hindi fontmausam ne banaya hai nigahon ko sharabi,jis phool ko dekhoo vahi paimana hua hai …

***mujhe maloom hai main phool hoon jhar jaoonga ik dinamagar ye hausala mera hai haradam mus‍kurata hoon.!!*

**rang ankhon ke liye boo hai damagon ke liyephool ko hanth lagane ki zaroorat kya hai*

**phool bikharata hua main to chala jaoongaap kante miri rahon mein bichhate rahiye.!!**

*yoon to saire-gulashan ko kitane log ate haimphool kaun todega daliyan samajhati hain.!!**

* phool shayari in hindi fontkoi titali hamare pas ati to kya atisajae umr bhar kagaz ke phool aur pattiyan hamane***

mujhe yoon laga ki khamosh khushboo ke honth titali ne chhoo liyeinhi zard patton ki ot mein koi phool soya hua na hobashir badr*

** phool shayari in hindi fontzamana chahata hai kyon,meri fitarat badal denaise kyon zid hai akhir,phool ko patthar banane ki.!!*

**jisaki khushboo se mahak jae,padosi ka bhi ghara phool is qism ka,har simt khilaya jae.!!*

**mohabbat se inayat se vafa se chot lagati haibikharata phool hoon mujhako hava se chot lagati hai.!!**

*kagaz ki kataranon ko bhi kahate hain log phoolarangon ka aitabar hi kya hai soongh kar bhi dekh..!!**

* phool shayari in hindi fontkaun se nam se tabir karoon is root ko..phool murajhaen hain zakhmon pe bahar ai hai..!!***

 

 

Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी

Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी
Muskurahat Hindi Shayari मुस्कुराहट पर शायरी

Muskurahat Hindi Shayari

मुस्कुराहट पर शायरी

 

दोस्तों आपके दिल में भी कोई चेहरा बसा होगा जो आप को देखकर प्यार से मुस्कुरा दिया था, पेश है मुस्कुराहट पर चाँद खूबसूरत शेर .

Hindi Shayari on Smiling,

List of all Hindi Shayari Topics

**********************************

धड़कने लगे दिल के तारों की दुनियाँ जो तुम मुस्कुरा दो

संवर जाये हम बेकरारों की दुनियाँ जो तुम मुस्कुरा दो – साहिर लुधियानवी

***

जो तुम मुस्कुरा दो बहारें हँसे, सितारों की उजली कतारें हँसे

जो तुम मुस्कुरा दो नज़ारें हँसे, जवां धड़कनों के इशारे हँसे

***

वही तो सब से ज़ियादा है नुक्ता-चीं मेरा,

जो मुस्कुरा के हमेशा गले लगाए मुझे !! ~QateelShifai

***

गुमाँ न क्यूँकि करूँ तुझ पे दिल चुराने का,

झुका के आँख सबब क्या है मुस्कुराने का !!

 

*** Muskurahat Hindi Shayari

जब दिल पे छा रही हों घटाएँ मलाल की,

उस वक़्त अपने दिल की तरफ़ मुस्कुरा के देख !! -सीमाब अकबराबादी

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Muskurahat Status Pictures – Muskurahat dp Pictures – Muskurahat Shayari Pictures

***

उन पे हंसिये शौक़ से जो माइल-ए-फ़रियाद हैं

उनसे डरिये जो सितम पर मुस्कुरा कर रह गए

~ असर लखनवी

***

मेरे दिल की राख़ क़ुरेद मत,इसे मुस्कुरा के हवा न दे

ये चराग़ फिर भी चराग़ है,कहीं तेरा हाँथ जला न दे

***

दिल की तरफ़ हिजाब-ए-तकल्लुफ़ उठा के देख,

आईना देख और ज़रा मुस्कुरा के देख !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

वो सुब्ह-ए-ईद का मंज़र तिरे तसव्वुर में,

वो दिल में आ के अदा तेरे मुस्कुराने की !!

***

शायद तिरे लबों की चटक से हो जी बहाल,

ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !!- अदम

****

क्या मुस्तक़िल इलाज किया दिल के दर्द का

वो मुस्कुरा दिए मुझे बीमार देख कर !! -अदम

***

मैं इक फकीर के होंठों की मुस्कुराहट हूँ

किसी से भी मेरी कीमत अदा नहीं होती – मुनव्वर राना

***

फ़ज़ा-ए-नम में सदाओं का शोर हो जाए,

वो मुस्कुरा दे ज़रा सा तो भोर हो जाए !!

***

न जाने कह गए क्या आप मुस्कुराने में,

है दिल को नाज़ कि जान आ गई फ़साने में !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

मस्त नज़रों से देख लेना था,गर तमन्ना थी आज़माने की

हम तो बेहोश यूँ भी हो जाते,क्या ज़रूरत थी मुस्कुराने की!!

***

सीख ली जिसने अदा गम में मुस्कुराने की,

उसे क्या मिटायेंगी गर्दिशे जमाने की !!

***

हौसले फिर बढ़ गये, टूटा हुआ दिल जुड़ गया,

उफ! ये जालिम मुस्कुरा देना, ख़फा होने के बाद !! – ‘आरज़ू’ लखनवी

***

हमारी बिगड़ी ये शायद यू ही संवर जाए,

तुम्हारा कुछ नहीं बिगड़ेगा मुस्कुराने में !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

सुनाई दे तेरे क़दमों की आहट,

ये रस्ता मुस्कुराना चाहता है !! -वसीम बरेलवी

***

लो, तबस्सुम भी शरीक-ए-निगह-ए-नाज़ हुआ..

आज कुछ और बढ़ा दी गई क़ीमत मेरी..

~FaniBadayuni

***

बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद

मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद.!!

***

हौसलों का सबूत देना था

ठोकरें खा के मुस्कुराना पड़ा.!!

*** Muskurahat Hindi Shayari

फ़स्ले-गुल के आने से,या खिज़ां के जाने से

काश मुस्कुरा सकते हम किसी बहाने से.!!

***

उदास छोड़ गया वो हर एक मौसम को

गुलाब खिलते थे कल जिसके मुस्कुराने से..!!

~इक़बाल अशहर

***

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है

।।

ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

***

तुम भले हि मुस्कुराओ सांथ बच्चों के मगर

बच्चों जैसा मुस्कुराना दोस्तों, आंसा नही..!!

*** Muskurahat Hindi Shayari

कभी कभी तेरा बेवज़ह मुस्कुराना अच्छा लगता है ….

मुझ पर आँखों ही आँखों से तेरा हक़ जताना अच्छा लगता है !!

***

मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है, दर्द-ए-इंतेहा भी मालूम है।

ज़िन्दगी भर मुस्कुराने की दुआ न देना, मुझे पल भर मुस्कुराने की सजा मालूम है।

***

न जाने कैसी “नज़र” लगी है “ज़माने” की… . .

कमब्खत “वजह” ही नही मिलती “मुस्कुराने” की…..!!!

***

जिसकी किस्मत मे लिखा हो रोना..!!

वो मुस्कुरा भी दे तो आँसू निकल आते है..!!

***

लाख समझाया उसको की दुनिया शक करती है..

मगर उसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की !!

*** Muskurahat Hindi Shayari

दिल्लगी कर जिंदगी से, दिल लगा के चल..

जिंदगी है थोड़ी सी, थोडा मुस्कुरा के चल .

***

तेरे ना होने से जिन्दगी मे बस इतनी सी कमी है

मै चाहे लाख मुस्कुरा लू पर आंखो में नमी है

***

यूँ तेरा मुस्कुरा कर मुझे देखना

मानो जैसे सब कुछ कुबूल है तुझे

***

खामोश बैठे हैं तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,

और ज़रा सा हंस लें तो लोग मुस्कुराने की वजह पूछ लेते है।

***

मेरी यही आदत तुम सब को सदा याद रहेगी,

न शिकवा, न कोई गिला, जब भी मिला, मुस्कुरा के मिला.

*** Muskurahat Hindi Shayari

मुस्कुराने के अब बहाने नहीं ढूँढने पड़ते,

तुझे याद करते हैं तमन्ना पूरी हो जाती हैं..

***

राहत भी अपनों से मिलती हे,चाहत भी अपनों से मिलती हे,

अपनों से कभी रूठना नही.क्यूकी,मुस्कुराहट”भी अपनों से मिलती हे

***

मुस्कुराहट भी कमाल की पहेली है,

जितना बताती है,उससे कहीं जायदा छुपाती है…

***

अपने दुःख में रोने वाले,मुस्कुराना सीख ले |

ओरों के दुःख में आँसू बहाना सीख ले

***

“चलो मुस्कुराने की वजह ढूंढते हैं… ऐ जिन्दगी,,,,

तुम हमें ढूंढो… हम तुम्हे ढूंढते हैं …!!!

***

फूल बनकर मुस्कुराना जिन्दगी है,

मुस्कुरा के गम भूलाना जिन्दगी है,

***

वो तो अपने दर्द रो-रो के सुनते रहे;

हमारी तन्हाइयों से आँख चुराते रहे;

और हमें बेवफा का नाम मिला क्योंकि

हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे

*** Muskurahat Hindi Shayari

खुद ही मुस्कुरा रहे हो साहिब

पागल हो या मोहब्बत की शुरूआत हुई है!!!!

***

ज़र्फ हो तोह गम भी नियामत हैं खुदा की।

जो सुकूं रोने में हैं,वो मुस्कुराने में कहां।

***

अपनी मुस्कुराहट को ज़रा काबू में रखिए,

दिल ए नादान इस पर कहीं शहीद ना हो जाए

***

फिर उसने मुस्कुरा के देखा मेरी तरफ़,

फिर एक ज़रा सी बात पर जीना पड़ा मुझे।

*** Muskurahat Hindi Shayari

दिल की हसरत जुबा पर आने लगी

आपको देखा तो जिंदगी मुस्कुराने लगी

**

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

क्या गम है जिसको छुपा रहे हो

***

हम इस निगाह-ए-नाज़ को समझे थे नेश्तर

तुमने तो मुस्कुरा के रग-ए-जाँ बना दिया!

*** Muskurahat Hindi Shayari

 

Search Tags

Muskurahat Shayari in Hindi, Muskurahat Hindi Shayari, Muskurahat par Shayari, Muskurahat whatsapp status, Muskurahat hindi Status, Hindi Shayari on Muskurahat, Muskurahat whatsapp status in hindi, Muskurahat Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Smile Shayari, Smile Hindi Shayari, Smile Shayari, Smile whatsapp status, Smile hindi Status, Hindi Shayari on Smiling, Smile whatsapp status in hindi, Smile Shayari in Hindi Font

मुस्कुराहट हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, मुस्कुराहट, मुस्कुराहट स्टेटस, मुस्कुराहट व्हाट्स अप स्टेटस, मुस्कुराने पर शायरी, मुस्कुराहट शायरी, मुस्कुराहट पर शेर, मुस्कुराने की शायरी, मुस्कुरान दो शायरी,


 

Muskurahat Hindi Shayari in hinglish font

muskurahat hindi shayari  muskurahat par shayari  doston apake dil mein bhi koi chehara basa hoga jo ap ko dekhakar pyar se muskura diya tha, pesh hai muskurahat par chand khoobasoorat sher . dhadakane lage dil ke taron ki duniyan jo tum muskura dosanvar jaye ham bekararon ki duniyan jo tum muskura do – sahir ludhiyanavi*

**
jo tum muskura do baharen hanse, sitaron ki ujali kataren hansejo tum muskura do nazaren hanse, javan dhadakanon ke ishare hanse**

*vahi to sab se ziyada hai nukta-chin mera,jo muskura ke hamesha gale lagae mujhe !! ~qataiailshifai*

**guman na kyoonki karoon tujh pe dil churane ka,jhuka ke ankh sabab kya hai muskurane ka !! **

* muskurahat hindi shayari jab dil pe chha rahi hon ghataen malal ki,us vaqt apane dil ki taraf muskura ke dekh !! -simab akabarabadi**

*un pe hansiye shauq se jo mail-e-fariyad hainunase dariye jo sitam par muskura kar rah gae~ asar lakhanavi***

mere dil ki rakh qured mat,ise muskura ke hava na deye charag fir bhi charag hai,kahin tera hanth jala na de*

**dil ki taraf hijab-e-takalluf utha ke dekh,aina dekh aur zara muskura ke dekh !!**

* muskurahat hindi shayari vo subh-e-id ka manzar tire tasavvur mein,vo dil mein a ke ada tere muskurane ki !!*

**shayad tire labon ki chatak se ho ji bahal,ai dost muskura ki tabiat udas hai !!- adam*

***kya mustaqil ilaj kiya dil ke dard kavo muskura die mujhe bimar dekh kar !! -adam***

main ik fakir ke honthon ki muskurahat hoonkisi se bhi meri kimat ada nahin hoti – munavvar rana*

**faza-e-nam mein sadaon ka shor ho jae,vo muskura de zara sa to bhor ho jae !!*

**na jane kah gae kya ap muskurane mein,hai dil ko naz ki jan a gai fasane mein !!*

** muskurahat hindi shayari mast nazaron se dekh lena tha,gar tamanna thi azamane kiham to behosh yoon bhi ho jate,kya zaroorat thi muskurane ki!!**

*sikh li jisane ada gam mein muskurane ki,use kya mitayengi gardishe jamane ki !!*

**hausale fir badh gaye, toota hua dil jud gaya,uf! ye jalim muskura dena, khafa hone ke bad !! – arazoo lakhanavi*

**hamari bigadi ye shayad yoo hi sanvar jae,tumhara kuchh nahin bigadega muskurane mein !!**

* muskurahat hindi shayari sunai de tere qadamon ki ahat,ye rasta muskurana chahata hai !! -vasim barelavi*

**lo, tabassum bhi sharik-e-nigah-e-naz hua..aj kuchh aur badha di gai qimat meri..~fanibadayuni*

**badi mushkil se bana hoon toot jane ke badamain aj bhi ro deta hoon muskurane ke bad.!!*

**hausalon ka saboot dena thathokaren kha ke muskurana pada.!!*

** muskurahat hindi shayari fasle-gul ke ane se,ya khizan ke jane sekash muskura sakate ham kisi bahane se.!!**

*udas chhod gaya vo har ek mausam kogulab khilate the kal jisake muskurane se..!!~iqabal ashahar**

*gamo ki dhoop mein bhi muskura kar chalana padata hai..ye duniya hai yahan chehara saja kar chalana padata hai*

**tum bhale hi muskurao santh bachchon ke magarabachchon jaisa muskurana doston, ansa nahi..!!*

** muskurahat hindi shayari kabhi kabhi tera bevazah muskurana achchha lagata hai ….mujh par ankhon hi ankhon se tera haq jatana achchha lagata hai !!**

*mujhe dard-e-ishq ka maza maloom hai, dard-e-inteha bhi maloom hai.zindagi bhar muskurane ki dua na dena, mujhe pal bhar muskurane ki saja maloom hai.

***na jane kaisi “nazar” lagi hai “zamane” ki… . .kamabkhat “vajah” hi nahi milati “muskurane” ki…..!!!***

jisaki kismat me likha ho rona..!!vo muskura bhi de to ansoo nikal ate hai..!!***lakh samajhaya usako ki duniya shak karati hai..magar usaki adat nahin gayi muskura kar gujarane ki !!*

** muskurahat hindi shayari dillagi kar jindagi se, dil laga ke chal..jindagi hai thodi si, thoda muskura ke chal .**

*tere na hone se jindagi me bas itani si kami haimai chahe lakh muskura loo par ankho mein nami hai**

*yoon tera muskura kar mujhe dekhanamano jaise sab kuchh kubool hai tujhe*

*khamosh baithe hain to log kahate hain udasi achchhi nahin,aur zara sa hans len to log muskurane ki vajah poochh lete hai.**

*meri yahi adat tum sab ko sada yad rahegi,na shikava, na koi gila, jab bhi mila, muskura ke mila.**

* muskurahat hindi shayari muskurane ke ab bahane nahin dhoondhane padate,tujhe yad karate hain tamanna poori ho jati hain..**

*rahat bhi apanon se milati he,chahat bhi apanon se milati he,apanon se kabhi roothana nahi.kyooki,muskurahat”bhi apanon se milati he**

*muskurahat bhi kamal ki paheli hai,jitana batati hai,usase kahin jayada chhupati hai…**

*apane duhkh mein rone vale,muskurana sikh le |oron ke duhkh mein ansoo bahana sikh le***

“chalo muskurane ki vajah dhoondhate hain… ai jindagi,,,,tum hamen dhoondho… ham tumhe dhoondhate hain …!!!***

fool banakar muskurana jindagi hai,muskura ke gam bhoolana jindagi hai,*

**vo to apane dard ro-ro ke sunate rahe;hamari tanhaiyon se ankh churate rahe;aur hamen bevafa ka nam mila kyonkiham har dard muskura kar chhupate rahe**

* muskurahat hindi shayari khud hi muskura rahe ho sahibapagal ho ya mohabbat ki shurooat hui hai!!!!**

*zarf ho toh gam bhi niyamat hain khuda ki.jo sukoon rone mein hain,vo muskurane mein kahan.**

*apani muskurahat ko zara kaboo mein rakhie,dil e nadan is par kahin shahid na ho jae**

*fir usane muskura ke dekha meri taraf,fir ek zara si bat par jina pada mujhe.**

* muskurahat hindi shayari dil ki hasarat juba par ane lagiapako dekha to jindagi muskurane lagi*

*tum itana jo muskura rahe hokya gam hai jisako chhupa rahe ho**

*ham is nigah-e-naz ko samajhe the neshtaratumane to muskura ke rag-e-jan bana diya!

 

 

Hindi Shayari on Face चेहरे पर हिंदी शायरी

Hindi Shayari on Face चेहरे पर हिंदी शायरी
Hindi Shayari on Face चेहरे पर हिंदी शायरी

Hindi Shayari on Face

चेहरे पर हिंदी शायरी

 

दोस्तों कोई चेहरा आइना होता है, कोई चेहरा फूल होता है, कोई चेहरा चाँद होता है, कोई चेहरा किताब होता है और कोई चेहरा क़यामत भी होता है, पेश है चेहरे पर कुछ खूबसूरत शायरी.

Hindi Shayari collection on Beautiful Face in Hindi font

*******************************************

 

मैं अपने साज़ के नग्मों की नर्म लहरों में

तुम्हारे चेहरे की अफ़्सुर्दगी डुबोता हूँ

~नरेश कुमार ‘शाद’

***

हुरूफ़-बीं तो सभी हैं मगर किसे ये शुऊर,

किताब पढ़ती है चेहरे किताब-ख़्वानों के !!

***

हर दफ़ा वही चेहरे बारहा वही बातें,

इन पुरानी यादों में कुछ नया नहीं रखा !!

***

चाँद सूरज मेरी चौखट पे कई सदियों से

रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं

*** Hindi Shayari on Face

आईने पर यक़ीन रखते हैं,

वो जो चेहरा हसीन रखते हैं

~दिनेश त्रिपाठी ‘शम्स’

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Chehra Status Pictures – Chehra dp Pictures – Chehra Shayari Pictures

सिर्फ चेहरा ही नहीं शख्सियत भी पहचानो ,

जिसमें दिखता हो वही आईना नहीं होता

***

यही चेहरा..यही आंखें..यही रंगत निकले,

जब कोई ख्वाब तराशूं..तेरी सूरत निकले

****

ताआज़्ज़ुब है तेरा चेहरा है के मैख़ाना

नज़र..लब..रुख़सार..पेशानी में जाम रक्खे हैं

**** Hindi Shayari on Face

हमारा हाले दिल चेहरे से अब दिलदार पढ़ लोगे

ज़ुबां आंखों की समझोगे,तो मेरा प्यार पढ़ लोगे

***

आपकी फ़ितरत के चेहरे थे कई समझे नहीं

जो था शाने पर उसे,चेहरा समझ बैठे थे हम

***

अपना चेहरा न बदला गया

आईने से ख़फ़ा हो गए…

*** Hindi Shayari on Face

वहीं कहीं नज़र आता है आप का चेहरा

तुलू चाँद फ़लक पर जहाँ से होता है

***

अक़्स उभरेगा ‘नफ़स’ गर्द हटा दे पहले,

धुंधले आईने में चेहरा नहीं देखा जाता

***

तेरा चेहरा मुकम्मल एक ग़ज़ल मतले से मकते तक

क़यामत है,क़यामत है,क़यामत है,क़यामत है

*** Hindi Shayari on Face

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर

बे-पिए भी तिरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ

***

हम फिर भी अपने चेहरे न देखें तो क्या इलाज,

आँखें भी हैं चराग़ भी है आइना भी है !!

***

अपने चेहरे को बदलना तो बहुत मुश्किल है

दिल बहल जाएगा आईना बदल कर देखो !!

***

अक़्स उभरेगा ‘नफ़स’ गर्द हटा दे पहले

धुंधले आईने में चेहरा नहीं देखा जाता

***

लक़ब हुस्ने-दो-आलम का उसे हरगिज़ नहीं मिलता

के जिसके चाँद से चेहरे पे कोई तिल नहीं आए

*** Hindi Shayari on Face

मैं बंद आंखों से पढ़ता हूं रोज़ वो चेहरा,

जो शायरी की सुहानी किताब जैसा है.!!

***

“अभी कुछ और हो इंसान का लहू पानी

अभी हयात के चेहरे पे आब-ओ-ताब नही ”

***

बेनकाब चेहरे हैं, दाग बड़े गहरे हैं

टूटता तिलिस्म आज सच से भय खाता हूं

*** Hindi Shayari on Face

अपने चेहरे से जो जाहिर है छुपाएँ कैसे

तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे.!!

***

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने

जो किताबों की किया करते हैं बातें अक़्सर.!!

***

चेहरे बदल-बदल के मुझे मिल रहे हैं लोग

ये क्या ज़ुल्म हो रहा है,मेरी सादगी के सांथ.!!

***

चेहरा पढ़ लेने से खुलता नहीं दिल का सब हाल

एक नॉवेल में कई बाब हुआ करते हैं.!!

*** Hindi Shayari on Face

आईने बे-सबब नहीं हैराँ

कोई चेहरा बदल रहा होगा..!!

***

रूह का क़र्ब भी चेहरे पे सजा लाए हैं

हम खदो-ख़ाल को आईना बना लाए हैं.!!

***

ना दिखा पायेगा तू ख्वाब मेरी आँखों के

अब भी कहता हूँ मुसव्विर मेरा चेहरा न बना.!!

*** Hindi Shayari on Face

हमें पढ़ाओ ना रिश्तों की कोई और क़िताब

पढ़ी है बाप के चेहरे की झुर्रियाँ मैंने.!!

***

सजा के चेहरे पे , सच्चाईयाँ निकलता है

वो जिसका झूट पे , सब क़ारोबार चलता है..!!

***

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है

ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

***

ख़ुद ख़ुशी लिखी थी एक बेवा के चेहरे पर मगर

फ़िर वो ज़िन्दा हो गई बच्चा बिलखता देख कर..!!

***

अपना चेहरा न बदला गया।।

आईने से खफ़ा हो गए…!!

*** Hindi Shayari on Face

सर-ए-महफ़िल निगाहें मुझ पे जिन लोगों की पड़ती है

निगाहों के हवाले से वो चेहरे याद रखता हूँ..!!

***

मेरी आवाज़ हि पर्दा है मेरे चेहरे का

मैं हूँ खामोश जहाँ मुझको वहाँ से सुनिये..!!

***

कितने चेहरे थे हमारे आस-पास

तुम हि तुम दिल में मगर बसते रहे..!!

***

चमक यूँ हि नही आती है, खुद्दारी के चेहरे पर

अना को हमने दो-दो वक़्त का फाका कराया है

***

Search Tags

Chehra Shayari in Hindi, Chehra Hindi Shayari, Chehre par Shayari, Chehra whatsapp status, Chehra hindi Status, Hindi Shayari on Chehra, Chehra whatsapp status in hindi, Chehra Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Face Shayari, Face Hindi Shayari, Face Shayari, Face whatsapp status, Face hindi Status, Hindi Shayari on Face, Face whatsapp status in hindi, Face Shayari in Hindi Font

 चेहरा हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, चेहरा, चेहरा स्टेटस, चेहरा व्हाट्स अप स्टेटस, चेहरे पर शायरी, चेहरा शायरी, चेहरे पर शेर, चेहरे की शायरी,


 

Hindi Shayari on beautiful Face Hinglish

hindi shayari on face chehare par hindi shayari doston koi chehara aina hota hai, koi chehara fool hota hai, koi chehara chand hota hai, koi chehara kitab hota hai aur koi chehara qayamat bhi hota hai, pesh hai chehare par kuchh khoobasoorat shayari. main apane saz ke nagmon ki narm laharon mentumhare chehare ki afsurdagi dubota hoon~naresh kumar shad**

*huroof-bin to sabhi hain magar kise ye shuoor,kitab padhati hai chehare kitab-khvanon ke !!*

**har dafa vahi chehare baraha vahi baten,in purani yadon mein kuchh naya nahin rakha !!**

*chand sooraj meri chaukhat pe kai sadiyon seroz likkhe hue chehare pe saval ate hain**

* hindi shayari on fachaiaine par yaqin rakhate hain,vo jo chehara hasin rakhate hain~dinesh tripathi shams*

**sirf chehara hi nahin shakhsiyat bhi pahachano ,jisamen dikhata ho vahi aina nahin hota**

*yahi chehara..yahi ankhen..yahi rangat nikale,jab koi khvab tarashoon..teri soorat nikale*

***taazzub hai tera chehara hai ke maikhananazar..lab..rukhasar..peshani mein jam rakkhe hain**

** hindi shayari on fachaihamara hale dil chehare se ab diladar padh logezuban ankhon ki samajhoge,to mera pyar padh loge*

**apaki fitarat ke chehare the kai samajhe nahinjo tha shane par use,chehara samajh baithe the ham**

*apana chehara na badala gayaine se khafa ho gae…**

* hindi shayari on fachaivahin kahin nazar ata hai ap ka cheharatuloo chand falak par jahan se hota hai*

**aqs ubharega nafas gard hata de pahale,dhundhale aine mein chehara nahin dekha jata***

tera chehara mukammal ek gazal matale se makate takaqayamat hai,qayamat hai,qayamat hai,qayamat hai**

* hindi shayari on fachaiavval avval ki mohabbat ke nashe yad to karabe-pie bhi tira chehara tha gulistan janan**

*ham fir bhi apane chehare na dekhen to kya ilaj,ankhen bhi hain charag bhi hai aina bhi hai !!*

**apane chehare ko badalana to bahut mushkil haidil bahal jaega aina badal kar dekho !!*

**aqs ubharega nafas gard hata de pahaledhundhale aine mein chehara nahin dekha jata**

*laqab husne-do-alam ka use haragiz nahin milatake jisake chand se chehare pe koi til nahin ae**

* hindi shayari on fachaimain band ankhon se padhata hoon roz vo chehara,jo shayari ki suhani kitab jaisa hai.!!

***”abhi kuchh aur ho insan ka lahoo paniabhi hayat ke chehare pe ab-o-tab nahi “*

**benakab chehare hain, dag bade gahare haintootata tilism aj sach se bhay khata hoon**

* hindi shayari on fachaiapane chehare se jo jahir hai chhupaen kaiseteri marzi ke mutabiq nazar aen kaise.!!*

**un se poochho kabhi chehare bhi padhe hain tum nejo kitabon ki kiya karate hain baten aqsar.!!**

*chehare badal-badal ke mujhe mil rahe hain logaye kya zulm ho raha hai,meri sadagi ke santh.!!*

**chehara padh lene se khulata nahin dil ka sab halek novel mein kai bab hua karate hain.!!**

* hindi shayari on fachaiaine be-sabab nahin hairankoi chehara badal raha hoga..!!*

**rooh ka qarb bhi chehare pe saja lae hainham khado-khal ko aina bana lae hain.!!**

*na dikha payega too khvab meri ankhon keab bhi kahata hoon musavvir mera chehara na bana.!!***

hindi shayari on fachaihamen padhao na rishton ki koi aur qitabapadhi hai bap ke chehare ki jhurriyan mainne.!!**

*saja ke chehare pe , sachchaiyan nikalata haivo jisaka jhoot pe , sab qarobar chalata hai..!!*

**gamo ki dhoop mein bhi muskura kar chalana padata haiye duniya hai yahan chehara saja kar chalana padata hai**

*khud khushi likhi thi ek beva ke chehare par magarafir vo zinda ho gai bachcha bilakhata dekh kar..!!*

**apana chehara na badala gaya..aine se khafa ho gae…!!**

* hindi shayari on fachaisar-e-mahafil nigahen mujh pe jin logon ki padati hainigahon ke havale se vo chehare yad rakhata hoon..!!**

*meri avaz hi parda hai mere chehare kamain hoon khamosh jahan mujhako vahan se suniye..!!*

**kitane chehare the hamare as-pasatum hi tum dil mein magar basate rahe..!!*

**chamak yoon hi nahi ati hai, khuddari ke chehare parana ko hamane do-do vaqt ka faka karaya hai

 

 

 

Intezaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी

Intzeaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी
Intezaar Shayari in Hindi इंतज़ार पर शायरी

Intezaar Shayari in Hindi

इंतज़ार पर शायरी

 

दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट पर आप के लिए प्रस्तुत है महबूब के इंतज़ार पर शेर ओ शायरी,

Intezaar Shayari in Hindi font, Hindi Shayari on Waiting of beloved.

List of all topics of Shayari

********************************

 

बजाय सीने के आँखों में दिल धड़कता है,

ये इंतज़ार के लम्हे अज़ीब होते हैं !!

***

मुझे मंज़ूर है इंतज़ार उम्र भर का लेकिन

मेरी आँखों से वस्ल का वही इक रोज़ तुम देखो

***

ता फिर ना इंतज़ार में नींद आये उम्र भर

आने का अहद कर गए आये जो ख्वाब में

~ग़ालिब

***

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता

अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता

~ग़ालिब

**** Intezaar Shayari in Hindi

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,

खामोशियों की अब आदत हो गयी है

***

अगर आप इन खुबसूरत टेक्स्ट मेसेजेस को pictures के रूप में डाउनलोड करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें.

Inteezar Status Pictures – Inteezar dp Pictures – Inteezar Shayari Pictures

तुम आये हो ना शब्-ए-इंतज़ार गुज़री है

तलाश में है सहर बार-बार गुज़री है

***

फिर बैठे बैठे वादा-ए-वस्ल उस ने कर लिया,

फिर उठ खड़ा हुआ वही रोग इंतज़ार का !!

***

टूटी जो आस जल गये पलकों पे सौ चिराग़,

निखरा कुछ और रंग शब-ए-इंतज़ार का !!- मुमताज़ मिर्ज़ा

*** Intezaar Shayari in Hindi

अब तो उठ सकता नहीं आँखों से बार-ए-इंतज़ार

किस तरह काटे कोई लैल-ओ-नहार-ए-इंतज़ार

***

उन के खत की आरज़ू है उन के आमद का ख़याल

किस क़दर फैला हुआ है कारोबार-ए-इंतज़ार

~हसरत मोहानी

***

उन की उल्फ़त का यकीं हो उन के आने की उम्मीद

हों ये दोनों सूरतें तब है बहार-ए-इंतज़ार

 

***Intezaar Shayari in Hindi

वही ख़्वाब ख़्वाब हैं रास्ते वही इंतज़ार सी शाम है

ये सफर है मेरे इश्क़ का,न दयार है न क़याम है !!-सुख़नवर

***

ग़म-ए-हयात से दिल को अभी निजात नहीं,

निगाह-ए-नाज़ से कह दो कि इंतज़ार करे !! -शकील बदायूनी

***

थक गये हम करते करते इंतज़ार,

इक क़यामत उन का आना हो गया !!

**

लूटे मज़े उसी ने तेरे इंतज़ार के

जो हद-ए-इंतज़ार से आगे निकल गया

*** Intzar Shayari in Hindi

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ मौसम-ए-बहार में है !!

***

सूरत दिखा के फिर मुझे बेताब कर दिया,

एक लुत्फ़ आ चला था ग़म-ए-इंतज़ार में !!

***

होंठ पे लिए हुए दिल की बात हम

जागते रहेंगे और कितनी रात हम

मुख़्तसर सी बात है तुम से प्यार है

तुम्हारा इंतज़ार है..

 

*** Intezaar Shayari in Hindi

गर इंतज़ार कठिन है तो जब तलक ऐ दिल,

किसी के वादा-ए-फ़र्दा की गुफ़्तगू ही सही !! -फैज़

****

शब-ए-इंतज़ार की कशमकश न पूछ कैसे सहर हुई

कभी इक चिराग़ जला दिया, कभी इक चिराग़ बुझा दिया !! -मजरूह सुल्तानपुरी

***

अपने लिए भी मौसमे गुल है बहार है,

जब से सुना है उनको मेरा इंतज़ार है ~रहबर

***

कहीं आके मिटा न दें इंतज़ार का लुत्फ

कहीं कुबूल न हो जाये इल्तज़ा तेरी

*** Intezaar Shayari in Hindi

वो मज़ा कहाँ वस्ल-ए-यार में

लुत्फ़ जो मिला है तुम्हें इंतज़ार में

 

****

तेरा ख़याल तेरा इंतेज़ार करते हैं

हम अपने आपको ख़ुद बेक़रार करते हैं

ये फ़ासला भी मोहब्बत में लुत्फ़ देता है

जब इंतेज़ार में हम इंतेज़ार करते हैं

***

तमाम उम्र तेरा इंतेज़ार कर लेंगे

मगर ये रंज रहेगा के ज़िन्दगी कम है

*** Intzar Shayari in Hindi

शिद्दत से बहारों के इंतेज़ार में सब हैं

पर फूल मोहब्बत के तो खिलने नहीं देते

***

मैनें तो इंतेज़ार में उसके ज़िंदगी गुज़ार दी

उसके लिए तो रास्ते भी दुश्वार बन गए

***

ज़िदंगी के सारे लम्हे रफ़्ता-रफ़्ता कट गए

इंतेज़ार, आस, खुशी और ग़म में बंट गए

***

मेरे पीठ पर जो ज़ख्म हैं,वो अपनों की निशानी है

वर्ना सीना तो आज भी दुश्मनों के इंतेज़ार में बैठा है

*** Intzar Shayari in Hindi

कोई वादा नहीं किया लेकिन, क्यों तेरा इंतजार रहता है !

बेवजह जब क़रार मिल जाए, दिल बड़ा बेकरार रहता है !! –गुलज़ार

 

अभी कुछ उनके आने का इंतज़ार बाक़ी है,

ऐ खुदा, उम्र इक और दे उन्हें भुलाने को

 

होंठ पे लिये हुए दिल की बात हम जागते रहेंगे और कितनी रात हम

मुख़्तसर सी बात है तुम से प्यार है तुम्हारा इन्तज़ार है, तुम पुकार लो

 

दिल बहल तो जायेगा इस ख़याल से

हाल मिल गया तुम्हारा अपने हाल से

रात ये क़रार की बेक़रार है

तुम्हारा इन्तज़ार है, तुम पुकार लो

 

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है

इसीसे इश्क़ का शोला जवां होता है

ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए

 

सुना गम जुदाई का, उठाते हैं लोग

जाने ज़िंदगी कैसे, बिताते हैं लोग

 

दिन भी यहाँ तो लगे, बरस के समान

हमें इंतज़ार कितना, ये हम नहीं जानते

मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना

 

अफ़साना लिख रही हूँ दिल-ए-बेक़रार का

आँखोँ में रंग भर के तेरे इंतज़ार का

शब-ए-इंतज़ार आखिर कभी होगी मुख़्तसर भी

ये चिराग बुझ रहे हैं मेरे साथ जलते जलते…

~कैफ़ी_आझमी

 

सदियों का इंतज़ार भी दो पल की बात है,

यादों का तेरी मौसम गर ख़ुश-गवार हो !!

 

थक गये हम करते करते इंतज़ार,

इक क़यामत उन का आना हो गया …

 

महव-ए-इंतेज़ार हुँ उस बेदर्द के जवाब का

इस मुतंज़िर का दर्द मगर वो समझे कैसे…

ये इंतज़ार भी एक इम्तिहां होता है

इसीसे इश्क़ का शोला जवां होता है

ये इंतज़ार सलामत हो और तू आए

 

हम इंतज़ार करेंगे तेरा क़यामत तक

खुदा करे कि क़यामत हो और तू आए

 

सर-ए-तूर हो सर-ए-हश्र हो, हमें इंतेज़ार क़बूल है,

वो कभी मिलें वो कहीं मिलें, वो कभी सही वो कहीं सही !!

Intezaar Shayari in Hindi

 

वही ख़्वाब ख़्वाब हैं रास्ते, वही इंतज़ार सी शाम है,

ये सफर है मेरे इश्क़ का, न दयार है न क़याम है !! –

 

हर लम्हा सुकूं का यूं इंतेजार किया है

नादां हूं नादां ही रहा बस प्यार किया है

 

 

Search Tags

Intezaar Shayari in Hindi, Intezaar Shayari, Intezaar Hindi Shayari, Intezaar Shayari, Intezaar whatsapp status, Intezaar hindi Status, Hindi Shayari on Intezaar, Intezaar whatsapp status in hindi, Intezaar Shayari in Hindi Font, Shayari in Hindi Font,

Waiting Shayari, Waiting Hindi Shayari, Waiting Shayari, Waiting whatsapp status, Waiting hindi Status, Hindi Shayari on Waiting, Waiting whatsapp status in hindi, Waiting Shayari in Hindi Font

 इंतज़ार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, इंतज़ार, इंतज़ार स्टेटस, इंतज़ार व्हाट्स अप स्टेटस, इंतज़ार पर शायरी, इंतज़ार शायरी, इंतज़ार पर शेर, इंतज़ार की शायरी,


Hinglish

Intezaar Shayari in hinglish font

aaj sine ke ankhon mein dil dhadakata hai,ye intezar ke lamhe azib hote hain !!***

mujhe manzoor hai intezar umr bhar ka lekinameri ankhon se vasl ka vahi ik roz tum dekho***

ta fir na intezar mein nind aye umr bharane ka ahad kar gae aye jo khvab mein~galib**

ye na thi hamari qismat ki visal-e-yar hotagar aur jite rahate yahi intezar hota~galib****

intezar shayari in hindi intezar ki arazoo ab kho gayi hai,khamoshiyon ki ab adat ho gayi hai***

tum aye ho na shab-e-intezar guzari haitalash mein hai sahar bar-bar guzari hai***

fir baithe baithe vada-e-vasl us ne kar liya,fir uth khada hua vahi rog intezar ka !!***

tooti jo as jal gaye palakon pe sau chirag,nikhara kuchh aur rang shab-e-intezar ka !!- mumataz mirza***

intezar shayari in hindiab to uth sakata nahin ankhon se bar-e-intezarakis tarah kate koi lail-o-nahar-e-intezar***

un ke khat ki arazoo hai un ke amad ka khayalakis qadar faila hua hai karobar-e-intezar~hasarat mohani***

un ki ulfat ka yakin ho un ke ane ki ummidahon ye donon sooraten tab hai bahar-e-intezar***

intezar shayari in hindivahi khvab khvab hain raste vahi intezar si sham haiye safar hai mere ishq ka,na dayar hai na qayam hai !!-sukhanavar***

gam-e-hayat se dil ko abhi nijat nahin,nigah-e-naz se kah do ki intezar kare !! -shakil badayooni***

thak gaye ham karate karate intezar,ik qayamat un ka ana ho gaya !!**

loote maze usi ne tere intezar kejo had-e-intezar se age nikal gaya***

intezar shayari in hindilutf jo us ke intezar mein haivo kahan mausam-e-bahar mein hai !!***

soorat dikha ke fir mujhe betab kar diya,ek lutf a chala tha gam-e-intezar mein !!***

honth pe lie hue dil ki bat hamajagate rahenge aur kitani rat hamamukhtasar si bat hai tum se pyar haitumhara intezar hai..***

intezar shayari in hindigar intezar kathin hai to jab talak ai dil,kisi ke vada-e-farda ki guftagoo hi sahi !! -faiz****

shab-e-intezar ki kashamakash na poochh kaise sahar huikabhi ik chirag jala diya, kabhi ik chirag bujha diya !! -majarooh sultanapuri***

apane lie bhi mausame gul hai bahar hai,jab se suna hai unako mera intezar hai ~rahabar***

kahin ake mita na den intezar ka lutfakahin kubool na ho jaye iltaza teri***

intezar shayari in hindivo maza kahan vasl-e-yar menlutf jo mila hai tumhen intezar mein****

tera khayal tera intezar karate hainham apane apako khud beqarar karate hainye fasala bhi mohabbat mein lutf deta haijab intezar mein ham intezar karate hain***

tamam umr tera intezar kar lengemagar ye ranj rahega ke zindagi kam hai***

intezar shayari in hindishiddat se baharon ke intezar mein sab haimpar fool mohabbat ke to khilane nahin dete***

mainen to intezar mein usake zindagi guzar diusake lie to raste bhi dushvar ban gae***

zidangi ke sare lamhe rafta-rafta kat gaeintezar, as, khushi aur gam mein bant gae***

mere pith par jo zakhm hain,vo apanon ki nishani haivarna sina to aj bhi dushmanon ke intezar mein baitha hai***

intezar shayari in hindikoi vada nahin kiya lekin, kyon tera intajar rahata hai !bevajah jab qarar mil jae, dil bada bekarar rahata hai !! –gulazar

 

Intezar Shayari in Hindi

 

dil bahal to jayega is khayal se
hal mil gaya tumhara apane hal se
rat ye qarar ki beqarar hai
tumhara intezar hai, tum pukar lo

ye intezar bhi ek imtihan hota hai
isise ishq ka shola javan hota hai
ye intezar salamat ho aur too ae

suna gam judai ka, uthate hain log
jane zindagi kaise, bitate hain log

din bhi yahan to lage, baras ke saman
hamen intezar kitana, ye ham nahin janate
magar ji nahin sakate tumhare bina

afasana likh rahi hoon dil-e-beqarar ka
ankhon mein rang bhar ke tere intezar ka

shab-e-intezar akhir kabhi hogi mukhtasar bhi
ye chirag bujh rahe hain mere sath jalate jalate…
~kaifi_azmi

sadiyon ka intezar bhi do pal ki bat hai,
yadon ka teri mausam gar khush-gavar ho !!

thak gaye ham karate karate intezar,
ik qayamat un ka ana ho gaya …

mahav-e-intezar hun us bedard ke javab ka
is mutanzir ka dard magar vo samajhe kaise…

ye intezar bhi ek imtihan hota hai
isise ishq ka shola javan hota hai
ye intezar salamat ho aur too ae

ham intezar karenge tera qayamat tak
khuda kare ki qayamat ho aur too ae

sar-e-toor ho sar-e-hashr ho, hamen intezar qabool hai,
vo kabhi milen vo kahin milen, vo kabhi sahi vo kahin sahi !!

vahi khvab khvab hain raste, vahi intezar si sham hai,
ye safar hai mere ishq ka, na dayar hai na qayam hai !! –

har lamha sukoon ka yoon intejar kiya hai
nadan hoon nadan hi raha bas pyar kiya hai