क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? keto diet effects on brain activity

Students and keto dite, keto dite side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,

क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? keto diet effects on mental health

क्या स्टूडेंट्स को कीटो डाइट लेना चाहिए? क्या लो कार्बोहाइड्रेट्स डाइट लेने से मस्तिष्क की क्रियाविधि कम हो जाती है?  शरीर की वसा कम करने के लिए और वजन कम करने के लिए keto dite लेने का चलन बढ़ गया है, इस प्रकार की विशेष डाइट में कार्बोहाइड्रेट लेना बंद कर दिया जाता है तथा अधिक मात्रा में वसा युक्त आहार लिया जाता है, प्रोटीन भी बहुत कम मात्रा में लिया जाता है.

क्या कम  कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट लेने से स्टूडेंट्स को नुकसान हो सकता है क्या स्टूडेंट्स कीटो डाइट ले सकते हैं, क्योंकि कार्बोहाइड्रेट ना लेने से रक्त में ग्लूकोस की मात्रा बहुत कम हो जाती है,  शरीर के दूसरे अंग तो वसा का उपयोग कर उर्जा प्राप्त कर लेते हैं परंतु मस्तिष्क को ऊर्जा प्राप्त करने के लिए ग्लूकोस की आवश्यकता होती है, जो की उसे कार्बोहाइड्रेट से ही मिलता है.

कीटो डाइट के कई फायदे और नुकसान है,  किसी भी व्यक्ति को चाहे वह स्टूडेंट हो या सामान्य व्यक्ति हो कीटो डाइट आवश्यकता होने पर ही लेना चाहिए, अधिक वजन होने, शरीर में अत्यधिक मात्रा में वासा संचित होने पर ही कीटो डाइट का सहारा लिया जाना चाहिए,  इसके पहले चिकित्सकों से परामर्श अवश्य किया जाना चाहिए.

कीटो डाइट के मस्तिष्क पर प्रभाव side effects of keto diet  

Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms

कीटो डाइट के कई फायदे और नुकसान हैं, कीटो डाइट लेना शुरू करने के बाद कई व्यक्तियों को सुस्ती और थकान का अनुभव होता है, उनके मस्तिष्क की क्रियाविधि कम हो जाती है इसे ब्रेन फोग का नाम दिया गया है, कीटो डाइट लेना प्रारंभ करने पर शुरुआत में  शरीर में सुस्ती, थकान और आलस्य रहता है ऐसा महसूस होता है मानो आपको फ्लू हो गया हो इसीलिए इस अवस्था को कीटो फ्लू भी नाम दिया गया है, चिकित्सकों द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह पाया गया कि कीटो डाइट लेने वाले विद्यार्थियों की याददाश्त में काफी कमी देखी गई,  जबकि जो व्यक्ति सामान्य आहार ले रहे थे उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया, जब विद्यार्थियों को कीटो डाइट बंद कर कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार दिया गया तो उनकी मेमोरी में काफी सुधार दिखाई दिया.

Loading...

इसके अलावा कीटो डाइट लेने वाले कई व्यक्तियों द्वारा  नींद ना आने की समस्या भी देखी गई है, मस्तिष्क को सेरोटोनिन बनाने के लिए भी कार्बोहाइड्रेट्स की आवश्यकता होती है, इस समस्या से बचने के लिए सोने से कुछ समय पहले आपको प्रोटीन और थोड़ा सा कार्बोहाइड्रेट युक्त हल्का नाश्ता करना चाहिए.

कीटो डाइट का लंबे समय अंतराल में जाकर मस्तिष्क पर अच्छे प्रभाव देखने को मिलते हैं, मस्तिष्क ऊर्जा के लिए कीटोन्स का इस्तेमाल करना प्रारंभ कर देता है जिससे कि कई अल्जाइमर आदि बीमारियों में लाभ होता है, लंबे समय के बाद  मस्तिष्क की कोशिकाओं की कॉग्निशन क्षमता में भी बढ़ोतरी देखने को मिलती है.

विद्यार्थियों को कीटो डाइट का प्रयोग नहीं करना चाहिए students and keto Diet

Students and keto dite, keto dite side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,

विद्यार्थियों को कीटो डाइट अत्यंत आवश्यकता पड़ने पर और चिकित्सक की सलाह पर ही लेना चाहिए इससे उनके मस्तिष्क की क्रियाशीलता और मेमोरी पावर में कमी हो सकती है जिससे  कि उनकी स्टडीज पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

keto dite and hairfall

Students and keto dite, keto dite side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,


English article

Should students take keto diet? keto

Should students take keto diet? keto diet effects on mental health
Should students take keto diet? Does taking low carbohydrate diets reduce the functioning of the brain? In order to reduce body fat and to lose weight the trend of taking keto dite has increased, in this type of special diet, the taking of carbohydrate is stopped and high amount of fat diet is taken, the protein is also very low Are taken in the quantity. Can a loss of the students by taking a low carbohydrate diet can be taken by the students, because the keto diet can not be taken because the carbohydrate is not taken. The amount of glucose in the stomach is greatly reduced, the second part of the body gets energy using fat, but the brain needs glucose to gain energy, which it only gets from carbohydrate. Kita Diet There are many advantages and disadvantages of any person, whether it is a student or a normal person should be taken only after getting the keto diet required, due to overweight, excessive body weight That amount should be taken of the keto diet is Vasa stored, must be consulted before physicians.

Effects on Kita Diet’s brain Side effects of keto diet

There are many benefits and disadvantages of keto diets, many people experience lethargy and fatigue after starting keto diet, their brain’s function decreases, it has been given the name of brain fog, on getting the keto diet In the beginning, there is lethargy, tiredness and laziness in the body. It feels as if you have become flu, so this condition has also been given the name of keto flu, by the doctors It was found in a study that there was considerable decrease in the memory of students taking kitto diathesis, while those who were taking normal diet did well, when the students were given a diet containing carbohydrate after turning on the keto diet, in their memory Many improvements have also been noticed. Apart from this, many people taking keto diets have also seen the problem of sleepiness, the brain To make serotonin, carbohydrates are also needed; To avoid this problem, you should take a small amount of protein and some lightly prepared breakfast with a little carbohydrate before sleeping. In the long intervals of Kita Diet, there is good effect on the brain. , Starts using ketones for brain energy, so that many Alzheimer’s diseases are beneficial. After long cognition ability of brain cells also observes growth.

Students should not use keto diet students and keto diet

Students should take keto diet very much on the advice of the doctor and on the advice of the doctor, it can reduce their brain function and memory power so that their studies can have a negative effect. side effects, keto dite and brain, keto flu in hindi, keto dite ki jankari, keto dite reduces brain activity,


Hinglish article

kya stoodents ko keeto dait lena chaahie?

kaito diait aiffaichts on brain achtivity kya stoodents ko keeto dait lena chaahie? kaito diait aiffaichts on maintal haialth kya stoodents ko keeto dait lena chaahie? kya lo kaarbohaidrets dait lene se mastishk kee kriyaavidhi kam ho jaatee hai?  shareer kee vasa kam karane ke lie aur vajan kam karane ke lie kaito ditai lene ka chalan badh gaya hai, is prakaar kee vishesh dait mein kaarbohaidret lena band kar diya jaata hai tatha adhik maatra mein vasa yukt aahaar liya jaata hai, proteen bhee bahut kam maatra mein liya jaata hai.kya kam  kaarbohaidret vaalee dait lene se stoodents ko nukasaan ho sakata hai kya stoodents keeto dait le sakate hain, kyonki kaarbohaidret na lene se rakt mein glookos kee maatra bahut kam ho jaatee hai,  shareer ke doosare ang to vasa ka upayog kar urja praapt kar lete hain parantu mastishk ko oorja praapt karane ke lie glookos kee aavashyakata hotee hai, jo kee use kaarbohaidret se hee milata hai.keeto dait ke kaee phaayade aur nukasaan hai,  kisee bhee vyakti ko chaahe vah stoodent ho ya saamaany vyakti ho keeto dait aavashyakata hone par hee lena chaahie, adhik vajan hone, shareer mein atyadhik maatra mein vaasa sanchit hone par hee keeto dait ka sahaara liya jaana chaahie,  isake pahale chikitsakon se paraamarsh avashy kiya jaana chaahie. keeto dait ke mastishk par prabhaav sidai aiffaichts of kaito diait   keeto dait ke kaee phaayade aur nukasaan hain, keeto dait lena shuroo karane ke baad kaee vyaktiyon ko sustee aur thakaan ka anubhav hota hai, unake mastishk kee kriyaavidhi kam ho jaatee hai ise bren phog ka naam diya gaya hai, keeto dait lena praarambh karane par shuruaat mein  shareer mein sustee, thakaan aur aalasy rahata hai aisa mahasoos hota hai maano aapako phloo ho gaya ho iseelie is avastha ko keeto phloo bhee naam diya gaya hai, chikitsakon dvaara kie gae ek adhyayan mein yah paaya gaya ki keeto dait lene vaale vidyaarthiyon kee yaadadaasht mein kaaphee kamee dekhee gaee,  jabaki jo vyakti saamaany aahaar le rahe the unhonne achchha pradarshan kiya, jab vidyaarthiyon ko keeto dait band kar kaarbohaidret yukt aahaar diya gaya to unakee memoree mein kaaphee sudhaar dikhaee diya.isake alaava keeto dait lene vaale kaee vyaktiyon dvaara  neend na aane kee samasya bhee dekhee gaee hai, mastishk ko serotonin banaane ke lie bhee kaarbohaidrets kee aavashyakata hotee hai, is samasya se bachane ke lie sone se kuchh samay pahale aapako proteen aur thoda sa kaarbohaidret yukt halka naashta karana chaahie.keeto dait ka lambe samay antaraal mein jaakar mastishk par achchhe prabhaav dekhane ko milate hain, mastishk oorja ke lie keetons ka istemaal karana praarambh kar deta hai jisase ki kaee aljaimar aadi beemaariyon mein laabh hota hai, lambe samay ke baad  mastishk kee koshikaon kee kognishan kshamata mein bhee badhotaree dekhane ko milatee hai. vidyaarthiyon ko keeto dait ka prayog nahin karana chaahie studaints and kaito diait vidyaarthiyon ko keeto dait atyant aavashyakata padane par aur chikitsak kee salaah par hee lena chaahie isase unake mastishk kee kriyaasheelata aur memoree paavar mein kamee ho sakatee hai jisase  ki unakee stadeej par nakaaraatmak prabhaav pad sakata hai.kaito ditai and hairfallstudaints and kaito ditai, kaito ditai sidai aiffaichts, kaito ditai and brain, kaito flu in hindi, kaito ditai ki jankari, kaito ditai raiduchais brain achtivity,

Ketoacidosis क्या होता है?  क्या Keto diet लेने से Ketoacidosis हो सकता है?

Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms

Ketoacidosis क्या होता है?  क्या कीटो डाइट लेने से Ketoacidosis हो सकता है?

Ketoacidosis ऐसी अवस्था है जिसमें की रक्त  मैं keytons की मात्रा बहुत अधिक हो जाती है, यह एक बहुत गंभीर अवस्था होती है जिसमें जान जाने का भी खतरा उत्पन्न हो जाता है, यह स्थिति  सामान्यतः डायबिटीज के कारण उत्पन्न होती है, इस अवस्था में रक्त अत्यधिक एसिटिक हो जाता है, जिससे कि शरीर के कई अंगों की कार्यप्रणाली पर नुकसानदायक प्रभाव पड़ता है,  इससे लीवर और किडनी दोनों को नुकसान होता है, इस अवस्था Ketoacidosis का तुरंत इलाज किया जाना बहुत आवश्यक होता है.

Ketoacidosis  बहुत तेजी से उत्पन्न हो सकता है, यह क्यों चौबीस घंटों में मरीज को ग्रसित कर सकता है.  ज्यादातर यह टाइप वन डायबिटीज के रोगियों में देखा जाता है, ऐसे रोगियों के शरीर में इंसुलिन बनना बंद हो जाता है जिससे कि उनका शरीर ग्लूकोस को ऊर्जा में नहीं बदल पाता और शरीर में ketons की मात्रा बढ़ जाती है

कीटो डाइट लेने से Ketoacidosis  हो सकता है?

Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms

अधिक समय तक कीटो डाइट लेने से Ketoacidosis होने की संभावना बढ़ जाती है,  अधिक समय तक भूखा रहने से भी Ketoacidosis हो जाता है, अगर आप बहुत लंबे समय तक कीटो डाइट ले रहे हैं और कार्बोहाइड्रेट का बिल्कुल भी सेवन नहीं कर रहे हैं तो आप को Ketoacidosis  होने का खतरा है, हालांकि इस प्रकार के केस बहुत रेयर ही देखे गए.

यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका इस प्रकार का एक केस दर्ज किया गया,  32 वर्ष की एक महिला ने कीटो आहार लेना शुरू किया जिसमें कि उसने कार्बोहाइड्रेट लेना बिल्कुल बंद कर दिया और अत्यधिक वसा वाला आहार लेना शुरू किया,  इस महिला के एक 10 महीने का बच्चा भी था जिसे वह स्तनपान कराती थी, कीटो आहार लेने के 10 दिन बाद ही इस महिला को Ketoacidosis  हो गया, उसे उल्टियां होने लगी और उसके रक्त का पीएच लेवल  7.20 हो गया,  उसे तुरंत ही अस्पताल में भर्ती किया गया यहां उसे  पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन और ग्लूकोस के द्वारा उपचार कर स्वस्थ किया गया.

Loading...

कीटो आहार लेने से Ketoacidosis हो सकता है, यही कारण है कि स्तनपान कराने वाली माताओं को कीटो आहार लेने से मना किया जाता है, इस प्रकार का आहार लेने से पहले चिकित्सकों का परामर्श अवश्य लेना चाहिए.

Ketoacidosis  के लक्षण क्या है?

Ketoacidosis होने पर शरीर में निम्न लक्षण दिखाई देते हैं,  अगर आप कीटो आहार ले रहे हैं और आपको यह लक्षण दिखाई दे तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें.

extreme thirst  अधिक प्यास लगना

frequent urination –  अधिक मात्रा में मूत्र आना

Dehydration –  पानी की कमी हो जाना

Nausea –  जी मिचलाना

Vomiting –  उल्टियां होना

stomach pain  पेट में दर्द होना

Tiredness  थकान का अनुभव होना

breath that smells fruity – सांसों से दुर्गंध आना

shortness of breath  सांस लेने में दिक्कत होना

feelings of confusion –  मति भ्रम होना

Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms


English article 

What is Ketoacidosis? What can Ketoacidosis be by taking keto diet?

Ketoacidosis is a condition in which blood volume of keytons is very high, it is a very serious condition in which there is a risk of knowing, this condition usually arises due to diabetes, in this condition the blood is excessive It becomes acetic, so that many body parts have a disadvantageous effect on the functioning, causing both liver and kidney damage, this condition is affected by Ketoacidosis Immediately be treated is very important. Ketoacidosis can be very quickly generated, why it can impair the patient in twenty-four hours. Most of these are seen in patients of type-one diabetes, making insulin stop in the body of such patients, so that their body does not convert glucose into energy and increases the amount of ketons in the body. Ketoacidosis can be caused by taking keto diets. ?

Increasing the likelihood of getting Ketoacidosis by taking keto diets for a long time, Ketoacidosis is also caused by hunger for long periods, if you are taking keto diets for a long time and you are not consuming carbohydrate at all There is a risk of Ketoacidosis, although these cases were seen very rarely. A similar case was registered to the United States of America, a 32-year-old woman started taking a keto diet in which she stopped taking carbohydrates completely and started taking a high-fat diet, a 10-month-old baby of this woman It was also that she used to breastfeed, 10 days after taking keto diet, this woman got Ketoacidosis, she started to vomit and her pH level of blood rose to 7.20 Ratant was admitted to the hospital here, he was treated with adequate healing by insulin and glucose. Ketoacidosis can be caused by eating keto diet, that is why breastfeeding mothers are forbidden to take keto diet, Prior to taking this type of diet, doctors should consult.

What is the symptoms of Ketoacidosis?

If Ketoacidosis occurs then you have low symptoms in the body, if you are taking keto diet and you see this symptom, contact the doctor immediately. Extreme thirst more thirsty frequent urination – excess urine coming Dehydration – Decrease of water Nausea – Jiggle Vomiting – Vomiting stomach pain Anxiety in the stomach Tiredness Be experiencing fatigue Laughing breaths smells fruity Shortness of breath Difficulty breathing Feeling of delusion Ona Ketoacidosis kya he, Ketoacidosis kya hota he, what is Ketoacidosis in hindi, keto dite se Ketoacidosis ho sakta, keto dite ke nuksan, Ketoacidosis ke lakshan, Ketoacidosis symptoms in hindi, Ketoacidosis ki jankari, Ketoacidosis ke symptoms


kaitoachidosis kya hota hai? kya keeto dait lene se kaitoachidosis ho sakata hai?

kaitoachidosis aisee avastha hai jisamen kee rakt main kaiytons kee maatra bahut adhik ho jaatee hai, yah ek bahut gambheer avastha hotee hai jisamen jaan jaane ka bhee khatara utpann ho jaata hai, yah sthiti saamaanyatah daayabiteej ke kaaran utpann hotee hai, is avastha mein rakt atyadhik esitik ho jaata hai, jisase ki shareer ke kaee angon kee kaaryapranaalee par nukasaanadaayak prabhaav padata hai, isase leevar aur kidanee donon ko nukasaan hota hai, is avastha kaitoachidosis ka turant ilaaj kiya jaana bahut aavashyak hota hai.kaitoachidosis bahut tejee se utpann ho sakata hai, yah kyon chaubees ghanton mein mareej ko grasit kar sakata hai. jyaadaatar yah taip van daayabiteej ke rogiyon mein dekha jaata hai, aise rogiyon ke shareer mein insulin banana band ho jaata hai jisase ki unaka shareer glookos ko oorja mein nahin badal paata aur shareer mein kaitons kee maatra badh jaatee haikeeto dait lene se kaitoachidosis ho sakata hai?adhik samay tak keeto dait lene se kaitoachidosis hone kee sambhaavana badh jaatee hai, adhik samay tak bhookha rahane se bhee kaitoachidosis ho jaata hai, agar aap bahut lambe samay tak keeto dait le rahe hain aur kaarbohaidret ka bilkul bhee sevan nahin kar rahe hain to aap ko kaitoachidosis hone ka khatara hai, haalaanki is prakaar ke kes bahut reyar hee dekhe gae. yoonaited stets oph amerika is prakaar ka ek kes darj kiya gaya, 32 varsh kee ek mahila ne keeto aahaar lena shuroo kiya jisamen ki usane kaarbohaidret lena bilkul band kar diya aur atyadhik vasa vaala aahaar lena shuroo kiya, is mahila ke ek 10 maheene ka bachcha bhee tha jise vah stanapaan karaatee thee, keeto aahaar lene ke 10 din baad hee is mahila ko kaitoachidosis ho gaya, use ultiyaan hone lagee aur usake rakt ka peeech leval 7.20 ho gaya, use turant hee aspataal mein bhartee kiya gaya yahaan use paryaapt maatra mein insulin aur glookos ke dvaara upachaar kar svasth kiya gaya.keeto aahaar lene se kaitoachidosis ho sakata hai, yahee kaaran hai ki stanapaan karaane vaalee maataon ko keeto aahaar lene se mana kiya jaata hai, is prakaar ka aahaar lene se pahale chikitsakon ka paraamarsh avashy lena chaahie.

kaitoachidosis ke lakshan kya hai?

kaitoachidosis hone par shareer mein nimn lakshan dikhaee dete hain, agar aap keeto aahaar le rahe hain aur aapako yah lakshan dikhaee de to turant chikitsak se sampark karen.aixtraimai thirst adhik pyaas laganaafraiquaint urination – adhik maatra mein mootr aanaadaihydration – paanee kee kamee ho jaanaanausai – jee michalaanaavomiting – ultiyaan honaastomachh pain pet mein dard honaatiraidnaiss thakaan ka anubhav honaabraiath that smaills fruity – saanson se durgandh aanaashortnaiss of braiath saans lene mein dikkat honaafaiailings of chonfusion – mati bhram hona

 

कीटो डाइट लेने के कितने दिन बाद वसा कम होने लगती है?

hair fall and keto diet hindi, hair fall due to keto diet hindi, kya keto diet lene se hair fall, keto diet ke nuksan, keto diet ki hani, keto diet ke side effects in hindi, side effects of keto diet in hindi, Keto diet hair fall problem, how to stop hair during keto diet hindi,

Ketosis क्या होता है? यह कितने समय में शुरू हौता है.

Ketosis एक सामान्य चयापचय की प्रक्रिया है, जब हमारे शरीर में पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोस नहीं होता तो ऊर्जा प्राप्त करने के लिए हमारा शरीर वसा का इस्तेमाल करने लगता है इसका परिणाम यह होता है कि शरीर में संचित वसा धीरे धीरे कम होने लगती है और रक्त में एक विशेष प्रकार के एसिड ketons की मात्रा बढ़ जाती है

कई लोग वजन कम करने के लिए और शरीर में जमा हो गई अतिरिक्त वसा को कम करने के लिए कीटोडाइट का प्रयोग करते हैं इसे केटोजेनिक डाइट और लो कार्बोहाइड्रेट डायट भी कहते हैं,  इस तरह का आहार लेने का मुख्य उद्देश्य शरीर में जमा हो गई अतिरिक्त वसा को ऊर्जा में बदल कर हटाना होता है, जब शरीर को कार्बोहाइड्रेट्स और ग्लूकोस प्राप्त नहीं होते हैं तो वह संचित वसा को जलाकर ऊर्जा में प्राप्त करता है.

कीटो डाइट लेने के कितने दिन बाद वसा कम होने लगती है? How Long Does It Take to Get Into Ketosis?

How many days fat starts burning in keto dite, keto dite and fat, food tracking app, keto dite app, ketosis, how many days ketosis, ketosis in hindi, keto dite kitne dino me,

जब शरीर  ऊर्जा प्राप्त करने के लिए संचित वसा का उपयोग करने लगता है तो हमारे रक्त में कीटोन की मात्रा बढ़ जाती है इस अवस्था को कीटॉसिस कहते हैं,  अक्सर लोग यह जानना चाहते हैं कि कीटो डाइट लेने के कितने दिन बाद यह अवस्था प्रारंभ होती है?

कीटॉसिस की प्रक्रिया का प्रारंभ होना हर व्यक्ति के लिए अलग अलग होता है, यह व्यक्ति के शरीर के भार, व्यक्ति की क्रियाशीलता तथा उसके आहार  पर निर्भर करता है, कुछ लोग अत्यधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स युक्त आहार ले रहे होते हैं, जबकि कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जिनके आहार में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा पहले से ही सामान्य होती है. ऐसे में अधिक कार्बोहाइड्रेट्स वाला आहार लेने वाले व्यक्ति में कीटॉसिस की प्रक्रिया शुरू होने में ज्यादा समय लगता है.

Loading...

कीटो डाइट लेना शुरू करने 2 से 4 दिन बाद  रक्त में ketons की मात्रा बढ़ जाती है वैज्ञानिकों के अनुसार यह कीटोंस मात्रा औसत रूप से ~1 – 2 mM होती है, इस तरह शरीर में कीटॉसिस की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाती है और शरीर की वसा धीरे-धीरे खत्म होने लगती है.

कई व्यक्तियों को इस अवस्था तक पहुंचने में काफी समय लग सकता है उन्हें अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट्स की  की मात्रा ज्यादा घटानी पड़ सकती है, किसी व्यक्ति में 20 ग्राम कार्बोहाइड्रेट प्रतिदिन लेने से किटोसिस की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाती है तो किसी व्यक्ति में यह 100 ग्राम कार्बोहाइड्रेट प्रति दिन लेने से भी शुरू हो सकती है यह व्यक्ति के आहार  और उसकी क्रियाशीलता पर निर्भर करता है,अगर आप ज्यादा सक्रीय रहते हैं, एक्सरसाइज करते हैं तथा आपकी दिनचर्या एक भागदौड़ युक्त है तो आप अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट लेकर भी किटोसिस की अवस्था तक पहुंच सकते हैं.

रक्त में ketons की मात्रा 

कीटो डाइट लेते  लेते हुए आपको रक्त में कीटोंस की मात्रा की चेकिंग करना बहुत अनिवार्य है, आप रक्त की जांच करवा कर भी कीटोंस की मात्रा पर नजर रख सकते हैं साथ ही साथ आप किसी “फूड एप” का उपयोग भी कर सकते हैं,  आजकल कई ऐसे फूड ऐप उपलब्ध है जोकि आपके द्वारा लिए गए आहार की जानकारी लेकर यह बता सकते हैं कि आपके रक्त में कीटॉसिस की प्रक्रिया कब प्रारंभ होगी, इन एप्स का इस्तेमाल करके आप अपना कीटो आहार और उसके असर पर नज़र रख सकते हैं,  माय फिटनेस पाल एक ऐसा ही फूड ट्रैकिंग एप है.

आहार में किसी भी प्रकार का परिवर्तन करने से पहले आपको एक चिकित्सक या न्यूट्रीशन की सलाह लेना अति आवश्यक होता है यह लेख केवल आपके ज्ञान वृद्धि के लिए है, आहार में किसी भी प्रकार का परिवर्तन आप चिकित्सक न्यूट्रिशन की देखरेख में ही करें.

How many days fat starts burning in keto dite, keto dite and fat, food tracking app, keto dite app, ketosis, how many days ketosis, ketosis in hindi, keto dite kitne dino me,


English article

How many days after taking keto diet does the fat decrease?

What is Ketosis? Ketosis is a normal metabolic process, when our body does not have enough glucose, then our body starts using fat to gain energy. The result is that the accumulated fat in the body Gradually decreases and the amount of acid ketons of a particular type increases in blood. Many people increase the weight of fat to accumulate in the body and to accumulate in the body. It is also called Ketogenic Diet and Low Carbohydrate Diet, which uses ketodite to do this. The main purpose of taking this type of diet is to remove the extra fat stored in the body by turning it into energy, when the body is removed from carbohydrates and glucose If they are not received then they get in energy by burning stored fat.

How many days after taking keto diet does the fat decrease? How Long Does It Take To Get Into Ketosis?

When the body starts using accumulated fat to gain energy then the amount of ketone in our blood increases. This condition is called ketosis, often people want to know how many days after the keto diet takes place ? The beginning of the process of kitosis is different for every person, it depends on the load of the person’s body, the activity of the person and its diet, some people are taking a high amount of carbohydrate diet, while some people like this In whose diet, the amount of carbohydrate is already normal. In such a way, the person taking a carbohydrate diet takes more time to start the process of ketosis. By the time it takes 2 to 4 days after taking the keto diet, the amount of ketons in the blood increases. According to scientists, – 2 mM, in this way the process of ketosis is started in the body and the body fat starts to slow down. Many people reach this stage Chana may take a lot of time, they may have to reduce the amount of carbohydrates in their diet, taking 20 grams of carbohydrate in a person every day, the process of ketosis begins, and even if it takes 100 grams of carbohydrate per day in a person It may start depending on the diet and activity of the person, if you are more active, Exercise And if you have a routine, then you can reach a state of ketosis by taking a high amount of carbohydrate.

By taking keto diets in the blood of ketons,

it is very important for you to check the amount of kitons in the blood, You can also keep an eye on the amount of kitons by examining it as well as you can use any “food app”, nowadays many such food app is available. You can tell about the diet that you have taken and when the process of ketosis will start in your blood, using these apps you can track your keto diet and its effect, my fitness pad is one such food tracking The app is

Before making any changes to the diet, you need to consult a doctor or a nutrition adviser. This article is for your knowledge growth only, any change in the diet should be done under the supervision of doctor nutrition.

How many days fat burns in the water, keto dite and fat, food tracking app, keto dite app, ketosis, how many days ketosis, ketosis in hindi, keto dite kitne dino me,


Hinglish article

keeto dait lene ke kitane din baad vasa kam hone lagatee hai?

kaitosis kya hota hai? yah kitane samay mein shuroo hauta hai.kaitosis ek saamaany chayaapachay kee prakriya hai, jab hamaare shareer mein paryaapt maatra mein glookos nahin hota to oorja praapt karane ke lie hamaara shareer vasa ka istemaal karane lagata hai isaka parinaam yah hota hai ki shareer mein sanchit vasa dheere dheere kam hone lagatee hai aur rakt mein ek vishesh prakaar ke esid kaitons kee maatra badh jaatee haikee log vajan kam karane ke lie aur shareer mein jama ho gaee atirikt vasa ko kam karane ke lie keetodait ka prayog karate hain ise ketojenik dait aur lo kaarbohaidret daayat bhee kahate hain,  is tarah ka aahaar lene ka mukhy uddeshy shareer mein jama ho gaee atirikt vasa ko oorja mein badal kar hataana hota hai, jab shareer ko kaarbohaidrets aur glookos praapt nahin hote hain to vah sanchit vasa ko jalaakar oorja mein praapt karata hai. keeto dait lene ke kitane din baad vasa kam hone lagatee hai? how long doais it takai to gait into kaitosis? jab shareer  oorja praapt karane ke lie sanchit vasa ka upayog karane lagata hai to hamaare rakt mein keeton kee maatra badh jaatee hai is avastha ko keetosis kahate hain,  aksar log yah jaanana chaahate hain ki keeto dait lene ke kitane din baad yah avastha praarambh hotee hai? keetosis kee prakriya ka praarambh hona har vyakti ke lie alag alag hota hai, yah vyakti ke shareer ke bhaar, vyakti kee kriyaasheelata tatha usake aahaar  par nirbhar karata hai, kuchh log atyadhik maatra mein kaarbohaidrets yukt aahaar le rahe hote hain, jabaki kuchh vyakti aise hote hain jinake aahaar mein kaarbohaidret kee maatra pahale se hee saamaany hotee hai. aise mein adhik kaarbohaidrets vaala aahaar lene vaale vyakti mein keetosis kee prakriya shuroo hone mein jyaada samay lagata hai.keeto dait lena shuroo karane 2 se 4 din baad  rakt mein kaitons kee maatra badh jaatee hai vaigyaanikon ke anusaar yah keetons maatra ausat roop se ~1 – 2 mm hotee hai, is tarah shareer mein keetosis kee prakriya praarambh ho jaatee hai aur shareer kee vasa dheere-dheere khatm hone lagatee hai.kaee vyaktiyon ko is avastha tak pahunchane mein kaaphee samay lag sakata hai unhen apane aahaar mein kaarbohaidrets kee  kee maatra jyaada ghataanee pad sakatee hai, kisee vyakti mein 20 graam kaarbohaidret pratidin lene se kitosis kee prakriya praarambh ho jaatee hai to kisee vyakti mein yah 100 graam kaarbohaidret prati din lene se bhee shuroo ho sakatee hai yah vyakti ke aahaar  aur usakee kriyaasheelata par nirbhar karata hai,agar aap jyaada sakreey rahate hain, eksarasaij karate hain tatha aapakee dinacharya ek bhaagadaud yukt hai to aap adhik maatra mein kaarbohaidret lekar bhee kitosis kee avastha tak pahunch sakate hain.

rakt mein kaitons kee maatra 

keeto dait lete  lete hue aapako rakt mein keetons kee maatra kee cheking karana bahut anivaary hai, aap rakt kee jaanch karava kar bhee keetons kee maatra par najar rakh sakate hain saath hee saath aap kisee “phood ep” ka upayog bhee kar sakate hain,  aajakal kaee aise phood aip upalabdh hai joki aapake dvaara lie gae aahaar kee jaanakaaree lekar yah bata sakate hain ki aapake rakt mein keetosis kee prakriya kab praarambh hogee, in eps ka istemaal karake aap apana keeto aahaar aur usake asar par nazar rakh sakate hain,  maay phitanes paal ek aisa hee phood traiking ep hai. aahaar mein kisee bhee prakaar ka parivartan karane se pahale aapako ek chikitsak ya nyootreeshan kee salaah lena ati aavashyak hota hai yah lekh keval aapake gyaan vrddhi ke lie hai, aahaar mein kisee bhee prakaar ka parivartan aap chikitsak nyootrishan kee dekharekh mein hee karen. how many days fat starts burning in kaito ditai, kaito ditai and fat, food trachking app, kaito ditai app, kaitosis, how many days kaitosis, kaitosis in hindi, kaito ditai kitnai dino mai,

कीटो डाइट से बाल गिरने की समस्या और उससे कैसे बचें  Keto diet hair fall problem

hair fall and keto diet hindi, hair fall due to keto diet hindi, kya keto diet lene se hair fall, keto diet ke nuksan, keto diet ki hani, keto diet ke side effects in hindi, side effects of keto diet in hindi, Keto diet hair fall problem, how to stop hair during keto diet hindi,

क्या कीटो डाइट लेने से बाल झड़ते हैं Keto diet and Hair fall in hindi

दोस्तों कीटो डाइट keto diet एक विशेष प्रकार की डाइट होती है जो कि वजन कम करने के लिए ली जाती है इस डाइट के अंतर्गत कार्बोहाइड्रेट्स लेना लगभग बंद कर दिया जाता है और पूरी तरह वासा से आहार की पूर्ति की जाती है, इस प्रकार की कीटो डाइट के कई प्रकार के  फायदे और नुकसान है. इस लेख में हम केवल कीटो डाइट से होने वाले हेयर फाल की समस्या और और उससे बचने के उपाय की बात करेंगे.

क्या कीटो डाइट लेने से हेयर फॉल होता है? do hair fall due to keto diet

 hair fall and keto diet hindi, hair fall due to keto diet hindi, kya keto diet lene se hair fall, keto diet ke nuksan, keto diet ki hani, keto diet ke side effects in hindi, side effects of keto diet in hindi, Keto diet hair fall problem, how to stop hair during keto diet hindi,

जी हाँ, कीटो डाइट लेना प्रारंभ करने से आपको हेयर फॉल की समस्या हो सकती है, आपको ऐसा महसूस होगा कि कीटो डाइट लेने के बाद आपके बाल ज्यादा झड़ रहे हैं,  कीटो डाइट लेने पर हेयर फॉल अक्सर देखा जाता है आहार में बदलाव के साथ साथ इसके कई कारण है, बाल झड़ने की समस्या के साथ-साथ लो कार्बोहाइड्रेट डाइट लेने से आपको बाल पतले और कमजोर होने की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है.

लेकिन अच्छी बात यह है कि यह एक अल्पकालिक समस्या है,  इस समस्या का सामना आपको कीटो डाइट लेना शुरू करने के 3 से  6 महीनों के बाद शुरू होती है तथा आपके केवल कुछ प्रतिशत बाल ही झड़ते हैं, और कुछ महीने बाद  बालों के follicles फिर से उगने होने लगते हैं, लेकिन इसके लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा….

कई रिसर्च इस बात को साबित करती है कि कम कार्बोहाइड्रेट वाला आहार लेने से आपके बाल कमजोर हो सकते हैं और झड सकते हैं, कीटो डाइट लेने के कारण आपको बाल झड़ने की समस्या हो सकती है, इसके निम्नलिखित प्रमुख प्रमुख कारण है

Loading...

कम कैलोरी वाला भोजन  hair loss during keto diet  

 hair fall and keto diet hindi, hair fall due to keto diet hindi, kya keto diet lene se hair fall, keto diet ke nuksan, keto diet ki hani, keto diet ke side effects in hindi, side effects of keto diet in hindi, Keto diet hair fall problem, how to stop hair during keto diet hindi,

कई रिसर्च ने साबित किया है कि वजन कम होने के साथ-साथ आपके बाल भी झड़ते हैं जब आप कम कैलोरी वाला भोजन लेते हैं तो आपका शरीर उस केलोरी को आप के प्रमुख अंगो की ओर ही भेजता है, तथा बालों और दूसरे कम जरूरी अंगों को बहुत कम पोषण प्राप्त होता है. कई लोग जो कीटो डाइट लेना शुरू करते हैं  वे वासा युक्त आहार के द्वारा उतनी कैलोरी नहीं लेते हैं जितनी कि पहले कार्बोहाइड्रेट द्वारा लेते थे, इससे शरीर में कैलोरी की कमी पड़ जाती है. इसीलिए आप को ध्यान रखना होगा की आप के नए आहार में पर्याप्त केलोरी हो.

विटामिन और मिनरल की कमी से बाल झाड़ना

आवश्यक विटामिन और मिनरल्स की कमी की वजह से भी बालों बाल पतले होना तथा गिरना शुरू हो जाते हैं जब कीटो डाइट ली जाती है तो कई बार व्यक्ति इस बात का ध्यान नहीं रखते हैं कि कार्बोहाइड्रेट  के साथ उन्हें जो विटामिन और मिनरल्स मिलते थे उसकी जगह अब वे ऐसे खाद्य पदार्थ नहीं लेते हैं जिससे कि विटामिंस और मिनरल्स की कमी पूरी हो सके.

जब आप कीटो डाइट keto diet लेते हैं तो आपका शरीर बहुत कम इनस्युलिन बनाता है और आपके शरीर के अंदर मौजूद ग्लाइकोजन धीरे-धीरे खत्म होने लगता है जब यह ग्लाइकोजन पूरी तरह खत्म हो जाता है तो आपके शरीर की किडनियां  पानी और सभी आवश्यक मिनरल्स को तेजी से बाहर निकलने लगती हैं जिससे कि शरीर में इनकी कमी हो जाती है, जिंक की कमी होने से बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है, इसलिए इस बात का ध्यान रखिये की आप के नए आहार में प्रयाप्त मात्रा में विटामिन और मिनरल्स हों.

तनाव की वजह से बाल झड़ना

जब आप आहार में इतना बड़ा परिवर्तन करते हैं तो आपका मन और मस्तिष्क भी एक प्रकार के तनाव में आ जाता है, शरीर को कार्बोहाइड्रेट ना मिलने से और पर्याप्त कैलोरीज ना मिलने से शरीर की क्रियाएं गड़बड़ा जाती है, जिससे की आपके मस्तिष्क  की कार्यप्रणाली पर भी असर पड़ता है, इससे उत्पन्न तनाव की वजह से बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है, इसीलिए आप को तनाव ख़त्म करने के लिए खुली हवा में घूमना, आपकी पसंदीदा एक्टिविट को करना, दोस्तों और अपनों के बीच वक्त गुज़ारना चाहिए.

बायोटीन की कमी से बाल झड़ना

जब आप कीटो डाइट keto diet लेते हैं तो आपके शरीर में बायोटीन की भी कमी हो जाती है जिससे कि आपके बाल झड़ने लगते हैं इससे बचने के लिए आपको बायोटीन सप्लीमेंट लेने चाहिए

प्रोटीन की कमी से बाल झड़ना

एक सामान्य कीटो डाइट keto diet में बहुत कम कार्बोहाइड्रेट, सामान्य मात्रा में प्रोटीन और उच्च मात्रा में वासा  ली जाती है, लेकिन कई बार वह लोग जो कीटो डाइट के बारे में कम जानते हैं वह बहुत कम मात्रा में प्रोटीन लेते हैं, इस इससे उनके शरीर में प्रोटीन की कमी हो जाती है और बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है, अपने आहार में प्रयाप्त मात्रा में प्रोटीन लें, कीटो डाइट के दौरान प्रोटीन की मात्रा पूरी तरह कम ना करें.

आंतों में अच्छे जीवाणुओं की कमी से बाल झड़ना

हमारी आँतों में कई प्रकार के अच्छे जीवाणु पाए जाते हैं, जो कि विभिन्न प्रकार की पाचन प्रक्रियाओं में सहयोग करते हैं जैसे कि प्रोटीन, वसा, बायोटीन आदि के अवशोषण में.  जब आप कीटो डाइट लेते हैं तो कुछ अच्छे जीवाणु की मात्रा कम हो सकती है, एक वैज्ञानिक अध्ययन में यह देखा गया कि बायोटिन के साथ साथ प्रोबायोटिक्स द्वारा अच्छे जीवाणुओं की संख्या में वृद्धि किए जाने पर बालों की समस्या दूर करने में काफी फायदा हुआ, केवल बायोटीन लेने से उतना फायदा नहीं हुआ था जितना की प्रोबायोटिक्स अच्छे जीवाणुओं के साथ  बायोटीन लेने पर, तो अगर आप कीटो डाइट ले रहे हैं तो आपको अपने पाचन तंत्र का भी ध्यान रखना आवश्यक होगा इसके लिए आप प्रोबायोटिक सप्लीमेंट्स और बायोटीन सप्लीमेंट्स ले सकते हैं.

आहार में किसी भी प्रकार का परिवर्तन करने से पहले आपको एक चिकित्सक या न्यूट्रीशन की सलाह लेना अति आवश्यक होता है यह लेख केवल आपके ज्ञान वृद्धि के लिए है, आहार में किसी भी प्रकार का परिवर्तन आप चिकित्सक न्यूट्रिशन की देखरेख में ही करें.

Tags : hair fall and keto diet hindi, hair fall due to keto diet hindi, kya keto diet lene se hair fall, keto diet ke nuksan, keto diet ki hani, keto diet ke side effects in hindi, side effects of keto diet in hindi, Keto diet hair fall problem, how to stop hair fall  during keto diet hindi,

लौंग के तेल के अनोखे उपयोग clove oil uses in Hindi

दांतों में दर्द के अलावा भी लौंग के तेल के हैं कई उपयोग

लोंग एक प्रकार का मसाला है जो कि विभिन्न प्रकार के व्यंजनों को बनाने के दौरान उपयोग में लिया जाता है, पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में लौंग का इस्तेमाल प्राचीन काल से किया जाता है, वर्तमान समय में लौंग के तेल का उपयोग औषधि के रूप में भी किया जाने लगा है, लौंग के तेल की कई बेहतरीन  उपयोग है. अक्सर आपने देखा होगा कि दांतों में दर्द होने पर लौंग और लौंग के तेल का उपयोग किया जाता है इससे दांतों में के दर्द में कमी आ जाती है लेकिन लौंग के तेल के और भी कई फायदे हैं,

लौंग का तेल कैसे प्राप्त किया जाता है

लौंग का तेल लौंग के  के पौधे से प्राप्त किया जाता है इस पौधे का वैज्ञानिक नाम Syzygium aromaticum, इस पौधे की पत्तियों से, डालियों से और लौंग के फल से अलग अलग प्रकार का लौंग का तेल प्राप्त किया जाता है, लौंग का तेल प्राप्त करने का यही एक प्राकृतिक स्रोत है, पौधे के अलग-अलग हिस्सों से प्राप्त लौंग के तेल की तीव्रता कम या ज्यादा होती है,  लौंग के तेल में मुख्य तत्व eugenol पाया जाता है

लौंग के तेल के विभिन्न उपयोग

लौंग के तेल का उपयोग दांतों का दर्द को दूर करने में किया जाता है, लौंग के तेल में eugenol तत्व पाया जाता है जो की  कीटाणुओं का नाश करता है तथा इसमें में एंटी इनफॉर्मेटरी गुण भी पाए जाते हैं

लौंग का तेल हमारी प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता है लौंग के तेल में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो कि फ्री रेडिकल्स को खत्म कर देते हैं यह हमारी सफेद कोशिकाओं की संख्या में भी वृधि करने में सहायक है

Loading...

लौंग के तेल में कई एंटीसेप्टिक गुण होते हैं इसीलिए इसका उपयोग त्वचा पर छोटे कट लग जानी है जख्म हो जाने पर किया जा सकता है, इसका उपयोग फंगल इनफेक्शन और कीड़ों के काटने पर भी किया जा सकता है, लौंग का तेल बहुत तेज होता है इसलिए से नारियल के तेल में लगाकर ही घाव पर लगाना चाहिए  

लौंग के तेल में anti-inflammatory गुण पाए जाते हैं,  इसीलिए लौंग का तेल गले की खराश और सर्दी जुखाम आदि बीमारियों में फायदेमंद हो सकता है.

लौंग के तेल में दर्द निवारक गुण पाए जाते हैं इसीलिए आप इसका उपयोग सर दर्द में भी कर सकते हैं थोड़े से लौंग के तेल को नारियल के तेल में मिलाकर पेशानी पर मालिश करने से सर दर्द में आराम मिल सकता है.

लौंग का तेल आपकी त्वचा के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है आजकल कई उत्पादों में लौंग का तेल होने का दावा किया जाता है लौंग का तेल एंटीबैक्टीरियल होता है जो की कील मुहांसों में फायदेमंद साबित हो सकता है.

लौंग के तेल का उपयोग बदहजमी में प्राचीन काल से किया जाता रहा है इससे गैस की समस्या में कमी आती है, लौंग के तेल से आप हिचकी चलने की बीमारी का इलाज भी कर सकते हैं

लौंग का तेल की  सिर में मालिश करने पर ब्लड सरकुलेशन बढ़ जाता है जिससे कि बालों की ग्रोथ में वृद्धि होती है लौंग के तेल उपयोग करने से सूखे और रूखे बालों में नई चमक आती है.

लौंग के तेल का उपयोग मिचली दूर करने के लिए भी किया जाता है, प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर महिलाएं मिचली दूर करने के लिए लौंग का इस्तेमाल करती है, इससे मुंह का स्वाद ठीक हो जाता है

लौंग के तेल का इस्तेमाल कान के दर्द में भी किया जा सकता है दो-तीन बूंद लौंग के तेल को कान में डालने से कान के दर्द में आराम मिलता है.

लौंग का तेल आपके रक्त की सफाई में भी काम आता है क्योंकि यह एक एंटी ऑक्सीडेंट पदार्थ है यह रक्त से फ्री रेडिकल्स कणों को दूर कर देता है साथ ही साथ की है ब्लड सरकुलेशन रक्त के प्रवाह में भी मदद करता है.

Uses of long oil hindi, long oil in hindi, long oil ke fayde, long oil ke use, clove oil use in hindi

 

 

गाजर एक सब्जी है या फल? गाजर के पोषक तत्व

Carrots in hindi, gajar fal he ya sabji, tamatar fal he ya sabji, tamatar fal kyo he, vitamins in carrots hindi,  

गाजर में कौन कौन से विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं?

Carrot is a Vegetable or Fruit in hindi

गाजर एक रूट वेजिटेबल है, जी हाँ गाजर एक फल नहीं बल्कि पौधे की जड़ में पाई जाने वाली सब्जी है, परंतु यह फलों की तरह ही स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होती है, गाजर का वैज्ञानिक नाम Daucus carota है ,  गाजर में फलों की तरह ही बहुत सारे विटामिंस और मिनरल्स पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी होते हैं इसीलिए गाजर को हेल्थ फूड स्वास्थ्यवर्धक खाने की श्रेणी में रखा जाता है.

ताजी रसीली गाजर ना केवल स्वादिष्ट होती है बल्कि काफी पोस्टिक भी होती है,  गाजर बीटा कैरोटीन फाइबर विटामिन k पोटेशियम और एंटीऑक्सीडेंट पदार्थों का एक अच्छा स्रोत है,  गाजर के कई स्वास्थ्य लाभ है, गाजर खाने से शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है, गाजर को वेट लॉस फूड भी कहा जाता है यह वजन कम करने में सहायक है, गाजर खाने से आंखों के स्वास्थ्य में भी बहुत लाभकारी असर होता है,  गाजर के अंदर पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट कैंसर की संभावना को कम करते हैं.

विश्व में कई प्रकार के रंगो में पाई जाती है सफेद गाजर पीली गाजर  नारंगी और पर्पल गाजर प्रमुख है, सबसे ज्यादा मिलने वाली गहरी नारंगी रंग की गाजर का रंग बीटा कैरोटीन तत्व की वजह से होता है, यह एक एंटी ऑक्सीडेंट तत्व होता है शरीर में जाकर यह विटामिन ए का निर्माण करता है.

सब्जी और फल में क्या अंतर है? Difference between fruit and vegetable

Carrots in hindi, gajar fal he ya sabji, tamatar fal he ya sabji, tamatar fal kyo he, vitamins in carrots hindi,  

सामान्य तौर पर टमाटर को एक सब्जी माना जाता है, परंतु लाल गोल रसीले टमाटर वास्तव में सब्जी नहीं बल्कि फल है, इससे आपको आश्चर्य होगा कि फल और सब्जी में क्या अंतर है, क्यों टमाटर को एक फल कहा जाता है तथा गाजर को एक सब्जी माना जाता है?

Loading...

कोई चीज सब्जी है या फल इसको जानने का सबसे आसान तरीका यह है कि यह पता लगाया जाए कि वह चीज उगती कैसे हैं हर वो चीज जो पौधों पर फूलों से उत्पन्न होती है तो उसे फल कहा जाएगा, तथा हर वो चीज जो कि पौधे कि दूसरे हिस्सों जिससे ताने पत्तियों और जड़ों से प्राप्त होती है उसे सब्जी कहा जाता है, लगभग सभी प्रकार की सब्जियां पौधों की पत्तियों से, पौधों के तनों से, पौधों की जड़ों और डालियों से प्राप्त की जाती है.

अगर आप गाजर को ध्यान से देखें तो पाएंगे की यह पौधे की जड़ से प्राप्त की जाती है इसीलिए इसे एक रूट वेजिटेबल कहा जाता है और टमाटर के पौधों पर पहले फूल उत्पन्न होते हैं फिर इन फूलों में परागण के बाद टमाटर के फल लगते हैं इसीलिए टमाटर को फलों की श्रेणी में रखा गया है और गाजर मूली इत्यादि को सब्जियों की श्रेणी में रखा जाता है.

गाजर में कौन कौन से विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं

गाजर में कई प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स पाए जाते हैं विशेष तौर पर विटामिन ए बीटा कैरोटीन, बायोटीन, विटामिन की पोटेशियम और विटामिन बी सिक्स आप इस से प्राप्त कर सकते हैं

विटामिन ए-  गाजर के अंदर beta-carotene नाम का तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो हमारे शरीर के अंदर जाकर विटामिन ए में बदल जाता है,  विटामिन ए हमारी आंखों के लिए बहुत उपयोगी पदार्थ है, यह हमारे शरीर के विकास के लिए और हमारे प्रतिरोधी तंत्र के लिए भी बहुत आवश्यक होता है.

बायोटीन-  बायोटिन एक प्रकार का बी विटामिन होता है जो की वसा और प्रोटीन के पाचन में सहायक होता है तथा हमारे शरीर के कई ऊतकों मैं बहुत काम आता है

विटामिन k1 –  विटामिन k1 को phylloquinone भी कहा जाता है, यह रक्त के कार्यों के लिए विशेष रूप से आवश्यक होता है तथा यह हमारी हड्डियों को भी मजबूत बनाता है.

विटामिन बी सिक्स –  विटामिन B6 हमारे शरीर में भोजन को ऊर्जा में बदलने में सहायक हौता है.

पोटेशियम –  गाजर में पोटेशियम भी  पाया जाता है यह हमारे ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने में सहायक होता है.

Carrots in hindi, gajar fal he ya sabji, tamatar fal he ya sabji, tamatar fal kyo he, vitamins in carrots hindi,  

 

 

सेहत और सुकून मिलता है बर्ड वाचिंग की हॉबी से

Bird Watching hindi, bird watcher hindi, bird watcher kon hote he, bird watching kya hota he, pakshi drashta, pakshi dekhna, birding in hindi, bird watching hobby hindi, benefits of bird watching

बर्ड वाचर किसे कहते हैं और बर्ड वाचिंग क्या होता है?

Who is a birdwatcher and what is bird watching

प्रकृति में पाए जाने वाले सुंदर पक्षियों को देखने के शौक को बर्ड वाचिंग कहते हैं,  जो व्यक्ति पक्षियों को अपने प्राकृतिक माहौल में देखना पसंद करते हैं उन्हें बर्ड वाचर कहते हैं.  कभी-कभी इस शौक को बार्डिंग नाम से भी जाना जाता है, पक्षी देखने वाले बर्ड वाचर जंगलों, पहाड़ों, झीलों, तालाबों, के निकट प्राकृतिक स्थल पर अलग-अलग प्रकार के पक्षियों को देखने और उनके व्यवहार का अध्ययन करने जाते हैं.

पक्षी दृष्टा या बर्ड वाचर क्या करते हैं? What bird watcher does

Bird Watching hindi, bird watcher hindi, bird watcher kon hote he, bird watching kya hota he, pakshi drashta, pakshi dekhna, birding in hindi, bird watching hobby hindi, benefits of bird watching

पृथ्वी पर लगभग 10,000 प्रकार के अलग-अलग सुंदर पक्षी पाए जाते हैं, हर पक्षी का रूप रंग व्यवहार बोली सब कुछ अलग होता है,  कई लोग इन खूबसूरत परिंदों को पसंद करते हैं तथा उनके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहते हैं, किसी एक प्राकृतिक स्थल पर आप कम से कम 100 तरह के पक्षी तो अवश्य देख सकते हैं, कोई अनजाना पक्षी देख कर मन में कौतूहल, एडवेंचर का भाव उत्पन्न होता है और आप सोचने लगते हैं कि यह रंग बिरंगा पक्षी कौन सा है?  यही वजह है कि कई लोग जंगलों में जाकर पक्षियों को निहारते हैं. पक्षियों को पसंद करने वाले लोग अक्सर अपनी दूरबीन और कैमरे लेकर जंगलों में जाते हैं ताकि वह नए-नए पक्षी पक्षियों को देख सकें और उनके सुंदर फोटोग्राफ्स ले पाए.

पक्षियों को देखने के लिए बर्डवाचर कहां जाते हैं where bird watcher goes

सुंदर पक्षियों को देखने के लिए आप आपके घर के आस पास पाए जाने वाले पार्क में भी जा सकते हैं यहां भी आपको 5 से 6  प्रकार के पक्षी तो अवश्य दिख जाएंगे, पक्षियों को देखने के लिए आपको पक्षी अभयारण्य, झीलों और तालाब के किनारे, तथा  जंगलों में जाना होगा. बर्ड वाचर अक्सर इन स्थानों पर पक्षियों को देखने के लिए जाते हैं.

Loading...

बर्ड वाचिंग का शौक किन लोगों को होता है? Hobby of bird watching hindi

पक्षी देखने का शौक किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है, यह विश्व में एक तेजी से बढ़ती हुई हॉबी है,  बच्चों से लेकर बड़ों तक सबको सुंदर पक्षियों को देखकर आश्चर्य एवं खुशी होती है. विकसित देशों में यह शौक बहुत ज्यादा है, केवल अमेरिका में ही 5 करोड़ 10 लाख व्यक्ति ऐसे हैं जो कि पक्षियों को देखना पसंद करते हैं, इनमें से ज्यादातर शोकिया बर्डवाचर हैं, ये  नोसिखिये बर्डवाचर हैं जो कि अपनी छुट्टियों में यह एक्टिविटी पसंद करते हैं.

भारत और दूसरे विकासशील देशों में पक्षी देखने और बर्ड वाचिंग का शौक इतना प्रसिद्ध नहीं है इसका कारण इन देशों में विज्ञान के प्रति कम दिलचस्पी तथा दूसरे विषयों में अधिक दिलचस्पी होना  तथा छुट्टियों के लिए बहुत कम समय मिल पाना मुख्य कारण है, इन देशों के लोगों का अधिकतम समय आजीविका प्राप्त करने में लगा होता है.

बर्ड वाचिंग के क्या-क्या फायदे हैं? Benefits of Bird watching hindi

Bird Watching hindi, bird watcher hindi, bird watcher kon hote he, bird watching kya hota he, pakshi drashta, pakshi dekhna, birding in hindi, bird watching hobby hindi, benefits of bird watching

प्राकृतिक आनंद और कोतुहल की प्राप्ति :-  बर्ड वाचिंग के शौक से आपको रंग बिरंगे पक्षीयों को देखकर एक विशेष प्रकार का कौतूहल उत्पन्न होता है, इससे आप प्रकृति से जुड़ पाते हैं. आप अपने द्वारा खिचे गए पक्षियों के फोटोग्राफ्स को शान से दुसरे लोगों को दिखा सकते है.

आत्म संतोष की प्राप्ति – वैज्ञानिक कहते हैं कि मनुष्य के अंदर कई मौलिक भावनाएं हैं,  उनमें से एक शिकार करने की भावना भी है, जब वर्ड वाचर घने जंगलों में मेहनत करके सुंदर पक्षियों को खोजते हैं तथा उनका फोटोग्राफ्स लेते हैं तो उनके अंदर यह शिकार करने की भावना जो आदिकाल से विद्यमान है उसका संतुष्टिकरण फुल्फिल्मेंट होता है और इस प्रक्रिया में पक्षियों और नेचर का कोई नुकसान भी नहीं होता.

स्वास्थ्य की प्राप्ति :-  बर्ड वाचर बनने का एक फायदा यह भी है कि आपका स्वास्थ्य बेहतर से बेहतर होता जाता है क्योंकि पक्षियों को देखने के लिए आपको शुद्ध वायु वाले जंगलों में और प्राकृतिक स्थानों में घूमने का मौका मिलता है, पैदल चलने से, गहरी सांस लेने से, खुली धूप मैं घूमने से, तथा पर्याप्त मात्रा में पानी पीने और शरीर से पसीना निकलने से, इन सब वजहों से आपका स्वास्थ्य में निरंतर सुधार होता है.  सुंदर पक्षियों को खोजने के काम में जब आप लगते हैं तो आप के नकारात्मक विचार गायब हो जाते हैं, आपके मस्तिष्क से तनाव और चिंता खत्म हो जाती है यह कारक भी है आपके स्वास्थ्य में बहुत प्रभाव डालते हैं.

सामाजिक मेलजोल:-  बर्ड वाचिंग के शौक से आप समाज में कई और प्रकृति प्रेमियों से मिलजुल पाते हैं, एक दूसरे के साथ अपने अनुभव को बांटकर तथा अपने द्वारा खींचे गए सुंदर पक्षियों के फोटोग्राफ्स को दिखाकर  आप एक अच्छे सामाजिक माहौल में समय गुजारते हैं जहां आपकी कई नए दोस्त बनते हैं.

मन की शांति :-  प्रकृति के सानिध्य में रहने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि मनुष्य के मन को शांति मिलती है,  नकारात्मक विचार आना बंद हो जाते हैं, शहर की प्रदूषित वायु से मनुष्य का बचाव हो जाता है, शहर की दूसरी नकारात्मक और अस्वस्थ गतिविधियों से आप बाच जाते हैं,  जैसे कि घंटों टीवी देखना या मोबाइल चलाना, पार्टियों में देर रात तक फास्ट फूड खाना और शराब पीना, इत्यादि.

क्या बर्ड वाचिंग से विज्ञान को फायदा होता है? Benefit of Bird watching for science

मनुष्य की प्रकृति में एक मौलिक गुण  जिज्ञासा और ज्ञान प्राप्त करना है, बर्ड वाचर जब प्राकृतिक स्थलों पर जाकर नए नए पक्षियों और उनके व्यहवार आदि के बारे में जानते हैं, इससे विज्ञान का विकास होता है, आज विज्ञान की किताबों में जितने भी पक्षियों की प्रजातियों की जानकारी है वह जानकारी पक्षी दृष्टाओं के अध्ययन से ही प्राप्त हुई सोचिए अगर यह बर्डवाचर प्रकृति में जाकर पक्षियों का अध्ययन ना करते तो दूसरे करोड़ों लोग कभी नहीं जान पाते कि विश्व में कौन कौन से पक्षी होते हैं इस तरह मनुष्य के विज्ञान का कभी भी विस्तार नहीं हो पाता. बर्ड वाचिंग का शौक  रखने वाले बर्ड वाचर पक्षीदृष्टा विज्ञान और प्रकृति के लिए के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

Tags :- Bird Watching hindi, bird watcher hindi, bird watcher kon hote he, bird watching kya hota he, pakshi drashta, pakshi dekhna, birding in hindi, bird watching hobby hindi, benefits of bird watching

 

एस्पिरिन क्या हौती है और किन बिमारियों में काम आती है

Aspirin in hindi, Aspirin hindi, daily aspirin therapy hindi, aspirin side effects hindi, daily aspirin hindi, aspirin with other medicine hindi, who discovered aspirin hindi, aspirin ki khoj, 

एस्पिरिन क्या हौती है? Aspirin introduction

एस्पिरिन एक दवाई है जो कि बुखार, दर्द और सूजन आदि रोगों में उपयोग में ली जाती है, इसका पूरा नाम Acetylsalicylic acid (ASA) है,  एस्प्रिन सबसे ज्यादा उपयोग होने वाली दवाओं में से एक है. सूजन संबंधित सभी बीमारियों में इसका उपयोग होता है, जैसे की वात ज्वर. कावासाकी डिजीज, वात रोग आदि. हार्ट अटैक के तुरंत बाद एस्पिरिन दी जाती है जिससे की मृत्यु का खतरा कम हो जाता है. एस्पिरिन एक ऐसी दवाई है जो कि ब्लड क्लॉट्स को खत्म करती है तथा खून को पतला करती है.

एस्पिरिन कुछ खास किस्म के कैंसर की संभावना को भी कम करती है जैसे की आंतों का कैंसर, एस्प्रिन एक अच्छी दर्द निवारक दवा है और यह 30 मिनट में काम करना शुरू करती हैं, एस्पिरिन एक  Nonasterodial anti inflammatory durg (NSAID) है.

एस्पिरिन की खोज किसने की? Discovery of Aspirin hindi

Aspirin in hindi, Aspirin hindi, daily aspirin therapy hindi, aspirin side effects hindi, daily aspirin hindi, aspirin with other medicine hindi, who discovered aspirin hindi, aspirin ki khoj, 

एस्पिरिन बनाने वाला एक यौगिक विलो ट्री Willo tree की पत्तियों में पाया जाता है,  इस पेड़ की पत्तियों और इस रसायन का उपयोग ओषधिय रूप में लगभग 2400 सालों से किया जा रहा है, सन 1853 में चार्ल्स फेडरिक Charles frederic Gerhardt ने पहली बार Sodium salicylate और acetyl chloride को मिलाकर Acetylsalicylic acid एस्पिरिन तैयार किया, सन 1799 में बियर नाम की कंपनी ने इस रसायन को एस्प्रिन नाम से बनाना और दुनिया भर में बेचना शुरू किया एस्पिरिन की लोकप्रियता 20 वीं सदी में दिन-ब-दिन बढ़ती गई.

एस्प्रिन एक बहुत लोकप्रिय दवाई है, इसका दुनिया भर में इस्तेमाल किया जाता है प्रतिवर्ष  40000 टन एस्पिरिन का उपयोग किया जाता है वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने अपनी जरूरी दवाइयों की सूची में एस्पिरिन शामिल किया है.

Loading...

एस्पिरिन किन बिमारियों में काम आती है Aspirin in which diseases

एस्पिरिन मुख्यतः बुखार, दर्द तथा सूजन में काम आती है, यह वाट ज्वर, जोड़ों की सूजन आदि में भी इसका उपयोग किया जाता है, तथा शरीर में रक्त को पतला करने के लिए तथा रक्त के थक्के को घोलने  के लिए भी एस्पिरिन का उपयोग किया जाता है, इसी वजह से एस्पिरिन को हार्ट अटैक के बाद दिया जाता है तथा ताकि रोगी के शरीर में जमे हुए रक्त के थक्के घुल जाएं और रक्त पतला होकर आसानी से बहने लगे.

निम्न प्रकार के रोगों में एस्प्रिन का उपयोग किया जाता है.  

  • दर्द
  • बुखार
  • जोड़ों की सूजन
  • रक्त में थक्के की रोकथाम Blood Clot Prevention
  • रक्त के थक्के को मष्तिष्क में जाने से रोकने
  • संधिशोथ Rheumatoid Arthritis
  • दिल के बीमारियाँ
  • ह्रदय आघात heart attack
  • Transient Ischemic Attack
  • सिने में दर्द
  • आघात
  • सूजन
  • वात ज्वर Rheumatic Fever
  • दिल की सुजन
  • Kawasaki बीमारी
  • जोड़ों की सूजन

एस्पिरिन के साइड इफेक्ट्स क्या क्या हैं Aspirin ke side effects

एस्प्रिन का सबसे मुख्य साइड इफेक्ट पाचन क्रिया का गड़बड़ हो जाना है, इससे पेट दर्द भी उत्पन्न हो जाता है,  एस्पिरिन के ज्यादा नुकसान से पेट में अल्सर तथा आंतों में रक्त स्त्राव आदि साइड इफैक्ट्स हो सकते हैं,  एस्प्रिन रक्त को पतला कर देता है जिससे कि चोट लगने पर रक्त नहीं जम पाता और व्यक्ति रक्तस्त्राव से पीड़ित हो जाता है, यह खतरा वृद्धजनों और उन रोगियों को अधिक रहता है जो अन्य NSAID दवाइयां लेते हैं.

एस्पिरिन के साथ दूसरी दवाइयां  Aspirin and combiflam

एस्पिरिन को केवल डॉक्टर की सलाह पर ही लेना चाहिए,  अक्सर पूछा जाता है कि क्या एस्प्रिन को अन्य दर्द निवारक गोलियों के साथ लिया जा सकता है? इस प्रश्न का सही सही उत्तर आप का डॉक्टर ही आपको बता सकता है क्योंकि कई बार दर्द निवारक गोलियों का ओवरडोज ले लेने से आपको हानि हो सकती है इसलिए एस्प्रिन लेने या एस्पिरिन के साथ और कोई दवाई है जैसे कॉन्बिफ्लेम आदि साथ में लेने से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य पूछें.

पेट दर्द में एस्पिरिन Aspirin in stomach pain

क्या पेट दर्द में एस्प्रिन लिया जा सकता है? पेट दर्द में एस्पिरिन नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि एस्पिरिन का साइड इफेक्ट ही पेट में दर्द उत्पन्न होना है, ऐसी स्थिति में आपका रोग बढ़ सकता है इसलिए केवल डॉक्टर की सलाह पर ही पेट दर्द में या किसी और बीमारी में आप एस्पिरिन का उपयोग कीजिए.

डेली एस्पिरिन थेरेपी Daily Aspirin Therapy

डेली एस्पिरिन थेरेपी कई रोगियों की जान बचा सकती है, पर यह थेरेपी  हर व्यक्ति के लिए नहीं है बिना सोचे समझे एस्पिरिन को रोज़ लेने पर नुकसान भी हो सकता है

यदि किसी रोगी को हार्टअटैक या हृदयाघात होता है तो डॉक्टर उसे प्रतिदिन एस्प्रिन लेने की सलाह दे सकते हैं अगर किसी रोगी को हार्ट अटैक होने की प्रबल संभावना है तब भी डॉक्टर उस रोगी को डेली एस्प्रिन लेने की सलाह देते हैं.

कई बार लोग अपनी मर्जी से ही स्वयं प्रतिदिन एस्प्रिन खाना शुरू कर देते हैं जो कि गलत है, कभी कभी सर दर्द जुकाम वगैरह में एस्पिरिन लेना ठीक है, परन्तु रोज़ एस्पिरिन लेने से इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं यहां तक कि आंतरिक रक्तस्राव भी हो सकता है.

एस्पिरिन हार्ट अटैक को कैसे रोकता है?

एस्प्रिन रक्त के जमने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है जब आपको चोट लगती है और खून निकलने लगता है तो आप की कोशिकायें जिन्हें प्लेटलेट्स कहते हैं खून का थक्का जमा देती है और खून बहना बंद हो जाता है.

हृदय की रक्त वाहिकाओं में भी ब्लड का थक्का जम जाता है, जिससे की हार्टअटैक की संभावना उत्पन्न हो जाती है, एस्प्रिन इस रक्त के थक्के को घोल देता है तथा रक्त को जमने नहीं देता इससे हार्ट अटैक की संभावना कम हो जाती है.

क्या आपको हर रोज एक एस्प्रिन लेनी चाहिए?

डेली एस्पिरिन लेना शुरू करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से अवश्य सलाह लेनी चाहिए,  डॉक्टर डेली एस्पिरिन थेरेपी केवल उन्ही मरीजों को देतें हैं जिन्हें पहले हार्ट अटैक आ चूका हो या  बायपास सर्जरी हो चुकी है या हार्ट अटैक आने की प्रबल संभावना हो.

प्रतिदिन एस्पिरिन लेने के कई नुकसान हैं, इसलिए डॉक्टर भी से सिर्फ उन मरीजों को ही इसकी सलाह देते हैं जिनको इसकी सख्त आवश्यकता होती है.

Tags : Aspirin in hindi, Aspirin hindi, daily aspirin therapy hindi, aspirin side effects hindi, daily aspirin hindi, aspirin with other medicine hindi, who discovered aspirin hindi, aspirin ki khoj, 

 

 

रक्त की सम्पूर्ण जानकारी

blood in hindi, rakt kya hota hai? blood composition hindi, functions of blood hindi, blood glucose level hindi, wbc kahan banti he, rbc kahan bandi he, wbc hindi, rbc hindi,

रक्त क्या होता है तथा यह किस से बना हौता है?

What is blood hindi

रक्त शरीर में पाए जाने वाला एक अनिवार्य तरल पदार्थ है, जो कि पोषक तत्व और ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक पहुंचाता है तथा अपशिष्ट पदार्थों को कोशिकाओं से ले जाकर शरीर के बाहर निकालने में मदद करता है. मनुष्य और जानवरों में रक्त की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है. रक्त अलग-अलग तरह की कोशिकाओं से मिलकर बना होता है जो कि रक्त प्लाज्मा में तैरती रहती हैं.

प्लाज्मा एक तरल पदार्थ होता है जिसका 92% भाग पानी होता है तथा प्लाज्मा में प्रोटीन, ग्लूकोस मिनरल, हारमोंस, कार्बन डाइऑक्साइड आदि तत्व भी होते हैं, रक्त का 55 प्रतिशत भाग प्लाज्मा का बना होता है.

रक्त के प्लाज्मा में एल्ब्यूमिन प्रधान प्रोटीन होता है, रक्त  के अंदर लाल रक्त कोशिकाएं जिन्हें आरबीसी कहा जाता है, श्वेत रक्त कोशिकाएं जिन्हें, डब्ल्यूबीसी कहा जाता है तथा प्लाटलेट्स कोशिकाएं होती है.

blood in hindi, rakt kya hota hai? blood composition hindi, functions of blood hindi, blood glucose level hindi, wbc kahan banti he, rbc kahan bandi he, wbc hindi, rbc hindi,

Loading...

रीड धारी जंतुओं के रक्त में लाल रक्त कोशिकाएं अत्यधिक मात्रा में पाई जाती है, यह लाल रक्त कोशिकाएं शरीर में ऑक्सीजन परिवहन का कार्य करती है, दूसरी तरफ कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन रक्त के प्लाज्मा द्वारा होता है.  रीड धारी जंतुओं का रक्त लाल होता है, ऐसा लाल रक्त कोशिकाओं में पाए जाने वाले हिमोग्लोबिन और आयरन तत्व की वजह से होता है.

मानव शरीर के भार का 7% भाग रक्त हौता है, रक्त का औसत घनत्व 1060 किलो/ मीटर क्यूब होता है जो कि पानी के लगभग समान है.

रक्त में क्या क्या हौता है? रक्त किन चीजों से मिलकर बना है?

Composition of blood, what is blood made of?

रक्त में अलग-अलग कोशिकाएं पाई जाती हैं जो कि प्लाज्मा के तरल पदार्थ में तैरती रहती है.

1 माइक्रोलीटर रक्त में निम्न संख्या में कोशिकाएं पाई जाती हैं

लाल रक्त कोशिकाएं:  1 माइक्रोलीटर रक्त में पुरुषों में 4.7 से 6.1 मिलियन तथा महिलाओं में में 4.2 से लेकर 5.4 मिलियन तक की संख्या में रेड ब्लड सेल्स होती है इन लाल रक्त कोशिकाओं को Erttgricttes  कहा जाता है,.

श्वेत रक्त कोशिकाएं:  1 माइक्रोलीटर रक्त में रक्त में 4000 से 11000 की संख्या में श्वेत रक्त कोशिकाएं पाई जाती हैं, यह बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने का काम करती हैं तथा शरीर को इंफेक्शन और बीमारियों से बचाती है इन कोशिकाओं को leukocytes  कहा जाता है.

प्लेटलेट्स platelets कोशिकाएं :  1 माइक्रोलीटर रक्त में 200000 से 500000 तक की संख्या में प्लेटलेट्स कोशिकाएं पाई जाती है, इन्हें thrombocytes  कोशिकाएं कहते हैं यह कोशिकाएं रक्त का थक्का जमने में मदद करती हैं.

प्लाज्मा: रक्त का 55% हिस्सा प्लाज्मा नमक तरल से बना होता है जिस का रंग हल्का पीला होता है,  प्लाज्मा का 90 प्रतिशत पानी तथा बाकी हिस्सा प्रोटीन, अमीनो एसिड, फेटि एसिड आदि का बना होता है.

इन चार प्रमुख तत्वों के अलावा रक्त में कई और घटक भी होते हैं जैसे

सिरम एल्बुमिन serum albumin

ब्लड क्लोटिंग बनाने वाले तत्व

लिपॉप्रोटीन पार्टिकल्स

कई तरह के प्रोटीन anu

कई तरह के इलेक्ट्रोलाइट सोडियम क्लोराइड

रक्त का पीएच लेवल क्या होता है ph level of blood hindi

अक्सर यह प्रश्न पुछा जाता है की हमारा रक्त अम्लीय हौता है या क्षारीय? रक्त क्षारीय होता है इसका पीएच लेवल 7.35 से 7.45  के बीच रहता है, शरीर रक्त का पीएच लेवल बनाए रखता है.

रक्त का संचार blood transportation

शरीर में हृदय वह अंग है जो कि पूरे शरीर में रक्त का संचार करता है इसे ब्लड ट्रांसपोर्टेशन कहते हैं

रक्त की कोशिकाएं कहां बनती है where rbc and wbc forms

लाल रक्त कोशिकाएं, श्वेत रक्त कोशिकाएंऔर प्लेटलेट्स अस्थि मज्जा के अंदर बनती हैं, यह हड्डी के अंदर एक वसायुक्त पदार्थ होता है अस्थि मज्जा के अंदर स्टेम सेल नाम की कोशिका होती है, यह कोशिकाएं विभाजित होकर प्राथमिक लाल रक्त कोशिकाएं, श्वेत रक्त कोशिकाएं और प्लेटलेट्स का निर्माण करती हैं, यह प्राथमिक कोशिकाएं विभाजित होकर पूर्ण रूप से विकसित लाल रक्त कोशिकाएं, श्वेत रक्त कोशिकाएं, और प्लेटलेट्स का निर्माण करती है.

रक्त की  कोशिकाएं बनती और नष्ट होती रहती हैं, उनका स्थान नयी रक्त कोशिकाएं ले लेती हैं, श्वेत रक्त कोशिकाएं कुछ घंटों से कुछ दिन तक जीवित रहती हैं,  प्लेटलेट्स कोशिकाएं कुछ घंटों से 10 दिन तक जीवित रहती हैं तथा लाल रक्त कोशिकाएं कुछ घंटों से लेकर 120 दिन तक जीवित रह सकती हैं हमारा शरीर लगातार नई रक्त कोशिकाएं बनाता रहता है तथा पुरानी रक्त कोशिकाएं मरती रहती हैं.

रक्त के कार्य क्या है Functions of blood hindi

रक्त के शरीर में कई प्रमुख कार्य होते हैं

* रक्त शरीर में कोशिकाओं तक ऑक्सीजन पहुंचाता है

* रक्त शरीर की कोशिकाओं तक ग्लूकोज अमीनो एसिड एसिटिक एसिड आदि कई पोषक तत्व   पहुंचाता है

* रक्त शरीर से कई अपशिष्ट पदार्थ जैसे कि कार्बन डाइऑक्साइड यूरिया और लैक्टिक एसिड आता   है

* रक्त में प्रतिरक्षा तंत्र होता है  बाहर से आने वाले बैक्टीरिया और वायरस को खत्म करने के लिए ब्लड सेल्स का इस्तेमाल करता है

* रक्त विभिन्न अंगों तक हार्मोन और हार्मोन सिग्नल पहुंचाता है

*रक्त स्त्राव होने पर जम जाता है तथा घाव को भर देता है

* रक्त शरीर के तापमान को नियंत्रित रखता है

रक्त का सामान्य ग्लूकोस लेवल Blood glucose normal level hindi

शरीर को स्वस्थ रहने के लिए रक्त में ग्लूकोस की मात्रा निश्चित होनी चाहिए, ग्लूकोज की मात्रा कम या ज्यादा होने से शरीर अस्वस्थ हो जाता है,  रक्त में सामान्य ग्लूकोस का लेवल इस प्रकार.

Random ब्लड शुगर लेवल – 200 mg/ dl

भूखे पेट य Fasting  ब्लड शुगर लेवल – 100 mg/dl

खाना खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल – 140 mg/dl

Tags : – blood in hindi, rakt kya hota hai? blood composition hindi, functions of blood hindi, blood glucose level hindi, wbc kahan banti he, rbc kahan bandi he, wbc hindi, rbc hindi,

ब्लड ग्रुप्स, एंटीबॉडीज और एंटीजेन की उपयोगी जानकारी

rakt samuh kya he, blood groups ki jankari, blood groups details in hindi, sarvatra grahi blood, Antibody hindi, Antigen hindi, Blood groups information in Hindi, Blood groups ki jankari, Blood groups details hindi

कितने प्रकार के रक्त समूह होते हैं?

How many blood groups hindi

हमारे शरीर के रक्त के प्रमुख चार समूह पाए जाते हैं यह चार समूह  बी ए बी और ओ है, किसी व्यक्ति के रक्त समूह का निर्धारण उसके जींस से होता है, उसे अपने माता पिता से जो जींस मिले हैं उन के आधार पर ही किसी व्यक्ति का रक्त समूह बी ए बी होता है.

अगर हम और गहराई से देखें तो इन चारों रक्त समूह में से प्रत्येक आरएसडी पॉजिटिव ओर नेगेटिव हो सकता है इस प्रकार हमें आठ अलग-अलग प्रकार के रक्त समूह प्राप्त होते हैं.

इसीलिए यह कहा जा सकता है कि मनुष्य में आठ प्रकार के अलग-अलग रक्त समूह होते हैं.

एंटीबॉडीज और एंटीजेन  क्या होते हैं?

हमारा रक्त लाल रक्त कोशिकाओं, श्वेत रक्त कोशिकाओं, और प्लेटलेट्स कोशिकाओं से मिलकर बना है यह कोशिकाएं प्लाज्मा नाम के तरल पदार्थ में तैरती रहती हैं, इस तरल पदार्थ में एंटीबॉडीज और एंटीजेन भी पाए जाते हैं, एंटीबॉडीज वह प्रोटीन होते हैं जोकि बैक्टीरिया वायरस से लड़ने में मदद करते हैं, यह प्रोटीन एंटीबॉडीज  बाहरी तत्वों बैक्टीरिया और वायरस की पहचान करके शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को सूचित करते हैं हमारे शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र इन बाहरी तत्वों को नष्ट कर देता है.

Loading...

एंटीजेन भी प्रोटीन होते हैं जो कि लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाए जाते हैं.

एंटीबॉडीज और एंटीजेन से भी रक्त समूह का निर्धारण होता है

रक्त समूह निर्धारण में दो व्यवस्थाएं प्रचलित है एक ABO System तथा दूसरा RhD System

ABO System  ए बी ओ सिस्टम

ABO System के अनुसार रक्त चार प्रकार का होता है.

ब्लड ग्रुप A :-  ब्लड ग्रुप A में A प्रकार का एंटीजेन लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाया जाता है तथा Anti-B एंटीबॉडी प्लाज्मा में पाया जाता है.

ब्लड ग्रुप B :-  ब्लड ग्रुप B में B प्रकार का एंटीजेन लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर जाता है तथा Anti-A एंटीबॉडी plazma में पाया जाता है.

ब्लड ग्रुप O:-  ब्लड ग्रुप O में कोई भी एंटीजेन लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर नहीं पाया जाता तथा Anti-A aur Anti-B दोनों  प्लाज्मा में पाए जाते हैं

ब्लड ग्रुप AB : ब्लड ग्रुप AB में A और B दोनों प्रकार के एंटीजेन लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाए जाते हैं परंतु प्लाजामा  में कोई भी एंटीबॉडी नहीं पाया जाता

ब्लड ग्रुप O  सबसे ज्यादा पाया जाने वाला ब्लड ग्रुप है, गलत समूह का रक्त दिए जाने पर रोगी की मृत्यु तक हो सकती है, उदाहरण के लिए एक रोगी जिसका रक्त समूह B है उसे अगर A  ब्लड ग्रुप दे दिया जाए तो उसके अंदर मौजूद anti a एंटीबॉडीज ग्रुप A की कोशिकाओं पर हमला कर देते हैं यही वजह है कि A रक्त समूह वाले को B और B रक्त समूह वाले रोगी को A समूह का रक्त नहीं दिया जाना चाहिए.

O रक्त समूह में कोई भी एंटीजन नहीं होता है इसलिए इसे किसी भी रक्त समूह वाले रोगी को दिया जा सकता है.

रक्त समूह निर्धारण का Rh सिस्टम

लाल रक्त कोशिकाओं में कभी कभी एक विशेष प्रकार का एंटीजन पाया जाता है जिसे Rhd  एंटीजन कहते हैं अगर यह एंटीजन पाया जाता है तो आपका रक्त समूह RhD पॉजिटिव हो जाता है अगर यह नहीं है तो आपका रक्त समूह RhD नेगेटिव हो जाता है.

इस प्रकार अगर हम देखें तो आठ प्रकार के रक्त समूह बन जाते हैं

A RhD positive (A+)

A RhD negative (A-)

B RhD positive (B+)

B RhD negative (B-)

O RhD positive (O+)

O RhD negative (O-)

AB RhD positive (AB+)

AB RhD negative (AB-)

rakt samuh kya he, blood groups ki jankari, blood groups details in hindi, sarvatra grahi blood, Antibody hindi, Antigen hindi, Blood groups information in Hindi, Blood groups ki jankari, Blood groups details hindi

ऐसा देखा जाता है कि O RhD Negative ब्लड सामान्यता सुरक्षित रूप से किसी को भी दिया जा सकता है, जब कभी रोगी के रक्त समूह का पता नहीं होता है, और उसे तुरंत रक्त की आवश्यकता होती है तो उसे O RhD negative (O-) समूह का ही रक्त दिया जाता है, यह सबके लिए सुरक्षित इसलिए होता है क्योंकि इसके अंदर A, B और  RhD एंटीजेंस नहीं होते.

Tags : – rakt samuh kya he, blood groups ki jankari, blood groups details in hindi, sarvatra grahi blood, Antibody hindi, Antigen hindi, Blood groups information in Hindi, Blood groups ki jankari, Blood groups details hindi